याराना का तीसरा दौर-5

(Yarana Ka Teesra Daur- Part 5)

This story is part of a series:

पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मेरे छोटे भाई विक्रम और उसकी बीवी ने मेरे साथ ही गजब का खेल कर दिया जिसके बारे में मैं अंदाजा भी नहीं लगा सकता था. वो दोनों भी अदला-बदली की चुदाई का आनंद लेना चाहते थे और जब मैंने हम चारों के साथ चुदाई का आनंद लेने के लिये हामी भर दी तो वो दोनों खुशी से उछल पड़े.
अब आगे:

अगली सुबह हम नाश्ते की मेज पर तीनों मिले। तीनों के चेहरे पर एक अजीब सी मुस्कुराहट थी। इधर वीणा और विक्रम दोनों जानना चाहते थे कि अदला-बदली संपन्न करने के लिए मेरे दिमाग में क्या चल रहा है?
मैंने दोनों के सामने ही रीना को फोन लगाया और बात करने लगा। उधर रीना को पता नहीं था कि हम दोनों की बातें विक्रम और वीणा भी सुन रहे हैं. इधर मैंने अपना फोन स्पीकर पर लगा दिया, रीना ने फोन उठाया.

मैं- हैलो जान, कैसी हो? 
रीना- मैं ठीक हूं, आप कैसे हो राज! यहां भेजने के बाद आप तो मुझे भूल ही गए।
मैं- ऐसा कैसे हो सकता है कि मैं तुम्हें भूल जाऊं रीना। अपने भाई श्लोक के पास तो तुम गई हो और वहां पर शायद थ्रीसम चुदाई का आनंद भी ले रही हो। मैं तो यहां अकेला हूं।

रीना- जोर से हंसते हुए- हाहाहा … तुम्हें इतनी जलन हो रही है तो तुम भी आ जाओ राज। थ्रीसम क्या हम फोरसम कर लेंगे!
मैं- हां, विचार तो यही है, लेकिन सीमा और श्लोक के साथ नहीं। कल तुम्हारा जन्मदिन है और मैंने तुम्हारे लिए यहां एक सरप्राइज़ रखा है। तुम्हें सब कुछ छोड़-छाड़ कर आज ही जयपुर आना है।
रीना- अरे यार, आज एकदम से क्या हो गया? यहां श्लोक और सीमा ने भी मेरे लिए पार्टी रखी है। वे भी मेरे जन्मदिन की तैयारी कर रहे हैं। ऐसे एकदम से कैसे आ जाऊं?

मैं- ऐसे एकदम से इसलिए आ जाओ क्योंकि मैं तुम्हारा पति हूं। तुम्हारे जन्मदिन को मनाने का पहला अधिकार मेरा है। पहले मेरा मन इस तरह का कार्यक्रम करने का नहीं था, लेकिन अब मेरे दिमाग में एक विचार आया है जिससे कि मैं तुम्हारा यह जन्मदिन सबसे ज्यादा यादगार बना दूंगा, इसलिए तुम्हें आज आना ही होगा।
रीना- ऐसा क्या यादगार देने वाले हो प्रिय राज? जरा हमें भी तो बताइए।

मैं- तो सुनो, मैं तुम्हें वही देने जा रहा हूं जो हम दोनों को अपने जीवन में सबसे ज्यादा लजीज है।
रीना- और वो क्या?
मैं- पति बदल कर चुदाई।
रीना आश्चर्यचकित होते हुए- ओ गॉड और वह किसके साथ? सीमा और श्लोक तो यहां हैं, तो फिर तुम मुझे वहां क्यों बुला रहे हो? 

मैं- सीमा और श्लोक के साथ तो तुम थ्रीसम चुदाई कर ही रही हो, उसमें क्या सरप्राइज़ है। मेरे पास यहाँ तुम्हारे लिए यहां एक नया जोड़ा है।
रीना- क्या? कौन सा नया जोड़ा?
मैं- सुनो मेरी बात। विक्रम और वीणा घूमने के लिए शिमला चले गए हैं। यहां मैं अकेला हूं और शाम तक तुम आ जाओ। रात में मैंने एक नए जोड़े का इंतजाम किया है जिसके साथ मिलकर हम अदला-बदली की चुदाई करके तुम्हारा जन्मदिन मनाएंगे।

रीना- अच्छा विक्रम और वीणा दोनों घूमने चले गए हैं, तो कहीं तुमने रणवीर और प्रिया को तो नहीं बुला लिया?
मैं- नहीं यार, मैंने कहा न जोड़ा नया है। जिसके साथ हमने पहले कभी चुदाई नहीं की है।
रीना- यार किसको बुला लिया आपने राज? वह भी अपने घर पर! कल को यह बात दूसरे लोगों को पता चली तो कहीं दिक्कत तो नहीं हो जाएगी? आप मुझे बताइए पहले कि वह कौन है? पता नहीं कोई अनजान जोड़ा हमारी इज्जत के लिए खतरा न बन जाए।

मैं- क्या यार जानू, तुम्हें मुझ पर इतना भी भरोसा नहीं? सारी चिंताएं अपने दिमाग से निकाल दो और केवल मजे पर ध्यान दो कि आज रात जब तुम्हारा जन्मदिन शुरू हो तब हम किसी नए जोड़े के साथ बीवियां और पति बदलकर चुदाई कर रहे होंगे। क्या तुम्हारे लिए उत्तेजना की बात नहीं है? 

रीना- जी, उत्तेजना की बात तो है, चलो ठीक है. सारी चिंता मैं आपके जिम्मे छोड़कर केवल अदला-बदली की चुदाई के आनंद के बारे में सोचती हूं। आशा है आपका सरप्राइज उतना ही बेहतर होगा जितना कि मैं सोच रही हूं और थैंक्यू राज! इस तोहफे के बारे में तो मैंने नहीं सोचा था अब देखते हैं कि आपका तोहफा कितना मजेदार है!

मैं- तो ठीक है रीना। श्लोक और सीमा को इस चुदाई के बारे में अभी पता नहीं चले। उनसे बस यह कह देना कि राजवीर ने मेरे लिए कोई सरप्राइज़ रखा है इसलिए वह मुझे आज रात जयपुर में चाहते हैं। श्लोक से बोलो कि वह दोपहर की फ्लाइट पकड़ा दे. इस तरह तुम शाम को यहां पहुंच जाओगी.
रीना- ठीक है जानू जी, शाम को मिलते हैं. बाय … आई लव यू!
मैं- आई लव यू टू रीना!

जैसे ही फोन काटा विक्रम और वीणा दोनों जोर से चिल्लाकर मेरे करीब आए और मुझे गले लगा लिया और ‘शाम को क्या करना है’ इसके बारे में पूछने लगे।
मैंने वीणा से कहा- तुम घर को अच्छी तरह से सजा दो। खुशबू का माहौल बना दो। शाम 7:00 बजे तक रीना यहां आ जाएगी, अतः तुम्हें यहां से निकलना होगा। विक्रम तुम्हें रीना के आने से पहले यहां से होटल ले जाएगा, वहां तुम दोनों तैयार होकर करीब रात 11:30 बजे घर पर आ जाना।
अभी विक्रम और मैं दोनों ऑफिस जा रहे हैं. रात को 11:30 बजे आकर तुम्हें क्या करना है वह मैं विक्रम को समझा दूंगा और विक्रम तुम्हें शाम को होटल में सब समझा देगा।

नाश्ता करने के बाद मैं और विक्रम दोनों ऑफिस के लिए निकल गए और फ्लैट को सुंदर और संवारने की जिम्मेदारी वीणा पर छोड़ गए।

ऑफिस में:

विक्रम- तो भैया, आपने भाभी से झूठ क्यों बोला कि हम दोनों घूमने चले गए हैं।
मैं- अगर ऐसा नहीं कहता विक्रम, तो रीना समझ जाती कि वह दूसरा जोड़ा और कोई नहीं, तुम ही हो। उसके दिमाग में तरह-तरह के सवाल और ख्याल आते कि ऐसा कैसे संभव हो गया और क्या पता आज की रात का मजा किरकिरा हो जाता। अब उसे मुझ पर विश्वास है अतः अब वह केवल मजे पर ध्यान देगी। आज रात 11:30 बजे आकर तुम्हें क्या करना है वह मैं तुम्हें बताता हूं और तुम होटल में जाकर वीणा को सब समझा देना।

मैंने विक्रम को रात के प्लान के बारे में बताया। विक्रम करीब 6:00 बजे ऑफिस से घर की तरफ चला गया और वहां से वीणा को लेते हुए होटल चला गया। शाम 7:00 बजे एयरपोर्ट जा कर मैंने रीना को रिसीव किया और दोनों घर की तरफ गए।

रास्ते में:

रीना- ओ जानू, प्लीज बताओ ना वह दूसरा जोड़ा कौन है जो आज हमारे साथ अदला-बदली करने वाला है? कौन है वह खुशनसीब जो आज मुझे चोदेगा? 
मैं- जानू अगर बता दिया तो सरप्राइज़ का मजा कैसे आएगा? पहले तुम यह बताओ कि अहमदाबाद में तुम्हारी सीमा और श्लोक के साथ थ्रीसम चुदाई का अनुभव कैसा रहा?
रीना- ओ मेरे प्यारे राज, यह एक लंबी कहानी है जिसे मैं तुम्हें बाद में सुनाऊंगी। पहले वह याराना तो पूरा कर लें जिसके बारे में सोच-सोच कर आज पूरे दिन से मेरी चूत गीली हो रही है।

इन बातों को करते हुए हम घर पहुंचे.

जैसे ही रीना ने फ्लैट का दरवाजा खोला वह बोली- वाह राज, क्या बात है! इस चुदाई मंच को तो तुमने बड़ा ही मनमोहक बना रखा है, शानदार खुशबू और क्या सफाई है, रंग बिरंगी रोशनी। बिल्कुल वैसा ही जैसा कि हमने सीमा और श्लोक के साथ सामूहिक अदला-बदली करते वक़्त सजाया था।
मैं- जी रीना जी, बातों को एक तरफ रखिए. फ्रेश हो लीजिए। सज लीजिए और चुदाई के लिए जरा संवर लीजिए। धमाकेदार जन्मदिन की शुरुआत के लिए बिल्कुल तैयार हो जाएं अब आप। तैयार हो जाइए, हम खाना वाना खाते हैं उसके बाद तुम्हें सरप्राइज देते हैं।

रीना मुस्कुराती हुई बाथरूम में चली गई और थोड़ी देर में पानी गिरने के साथ उसके नहाने की आवाज आने लगी।
मैं भी दूसरे बाथरूम में आ गया और नहाते-नहाते आज जो होने वाला था उस घमासान के बारे में सोचने लगा।

मैं आपका राजवीर, आप सब मुझसे तो परिचित हैं ही। आकर्षक छवि और ठीक-ठाक सूरत वाला व्यक्ति हूं जो लड़कियो को पसंद है. उनके लिए करीब 7 इन्च का सामान्य लिंग है जो मोटाई में सामान्यतः और व्यक्तियों के लिंग से मोटा है।

रीना ‘याराना’ की पुरानी खिलाड़ी और पात्र है। इसलिये आप उससे परिचित होंगे। अदा खान के जैसे चहरे और तमन्ना भाटिया के जैसी शरीर की मालकिन है रीना। लंबाई में और कमर व पेट से बिल्कुल जैसे तमन्ना भाटिया ही है। उसके आकर्षक पेट के नीचे शानदार आकार लिए हुए फैली हुई गांड आंखों से लेकर लंड तक सुरसुरी पैदा कर देती है। बिल्कुल गोरा रंग और गुलाबी स्तन। मेरी रानी की ग़ुलाबी चूत है और उसकी चूत की दरार भी गुलाबी है। सांचे में ढली हुई काम की देवी है रीना। 34-26-34 कुछ यूं ही उसके शरीर का माप है।

विक्रम यूं तो दिखने में वरुण सोबती के जैसा लगता है. उसने भी अपने शरीर को काफी संभाला हुआ है। पतली कमर और वी शेप के सीने के कारण वह किसी मॉडल से कम नहीं लगता जैसा कि वीणा ने बताया था, उसके लिंग की लंबाई साढ़े सात इंच थी जो कि मेरे लिंग से थोड़ी ज्यादा है. इसका मतलब यह था कि रीना को आज नया स्वाद मिलने वाला है।

दोस्तो, अगर वीणा के शरीर और सुंदरता के बारे में जानना है तो आप टेलीविजन अभिनेत्री रश्मि देसाई की कल्पना कर सकते हैं। वीणा केवल शरीर से ही नहीं बल्कि अपने चेहरे से भी रश्मि की तरह लगती है। गोल भरा हुआ चेहरा, भारी स्तन, भारी गांड और पतली कमर। आज से कुछ साल पहले जब वीणा और विक्रम की शादी हुई थी तब वीणा ऐसे शरीर की मालकिन नहीं थी। लेकिन चढ़ती जवानी और विक्रम के स्तन और गांड इस्तेमाल से वीणा का वर्तमान शरीर 35-27-36 हो गया था।
ऐसी अप्सरा मेरे लंड की दीवानी थी इस बात को सोच-सोच कर मुझे घमंड होने लगा था।

इसमें कोई शक नहीं कि आज विक्रम रीना की चुदाई करके उसकी हालत खराब कर देगा क्योंकि वह रीना के लिए भरा पड़ा है। एक तो रीना गुजरे हुए समय में उसकी प्रेमिका थी तथा दूसरा कारण यह था कि उसके अलावा वह रणवीर और श्लोक से चुदी थी। यह बातें उसे उत्तेजित करने के लिए काफी थीं। वह अपनी भड़ास रीना पर निकालना चाहता था। यह बात मैं अच्छी तरह समझ सकता था।

फिर मैं भी कहां कमी रखने वाला था. रीना के जन्मदिन के मौके पर मुझे भी वीणा जैसे शरीर की मालकिन की चुदाई करने का भरपूर मौका मिल रहा था। मैंने भी मन ही मन ठान लिया था कि आज वीणा को जब उसका पसंदीदा लंड मिलेगा तब उसे चोद-चोद कर उसका बुरा हाल कर दूंगा।
 
बाथरूम से बाहर निकलकर रीना और मैंने खाना खाया। करीब 11:30 बज गए थे. अतः मैं अपने प्लान का शुभारंभ करते हुए रीना को हमारे शयनकक्ष में लेकर गया। रीना ने बहुत उत्तेजित करने वाली नाइटी पहन रखी थी जिसे कि मैंने उतरवा दिया और कहा- मेरे पास इससे भी ज्यादा कुछ नया है।
रीना को पता नहीं था कि मैं क्या करने वाला हूं।

मैंने उससे उसकी नाइटी खोलने की गुजारिश की. इस पर रीना ने मुझसे इंकार किया कि अदला-बदली वाले जोड़े को मैं पहले देखना चाहूंगी और इस तरह सीधे ही ब्रा और पेंटी में उन्हें नजर नहीं आना चाहती।
इस पर मैंने रीना से कहा- प्लीज मेरी जान, मेरी बात मानो. मैं जो करने जा रहा हूं वह बहुत ही उत्तेजित, उत्साहित करने वाला और रोमांच से भरपूर है। अतः अपने कपड़े उतार कर पूर्ण रूप से नंगी हो जाओ।

इस पर रीना ने मुझे कहा- प्लीज यार राज, पूर्ण रूप से नंगी नहीं। ब्रा और पेंटी में ठीक रहेगा.
लेकिन मेरे दिमाग में करामाती विचार थे। अतः मैंने ब्रा और पेंटी के लिए हामी भर दी। मैंने रीना को बेड पर लेटने के लिए कहा इस पर रीना ने अपनी नाइटी उतारी और लाल रंग की खूबसूरत ब्रा और पेंटी में पलंग पर सीधी पीठ के बल लेट गई और इंतजार करने लगी कि मैं क्या करने वाला हूं।

मैंने अपने लैपटॉप बैग से रबड़ वाली वह रस्सियां निकाली जो कि आज मैंने इस मौके के लिए खरीदी थीं।

जैसे ही रीना ने यह देखा तो वह समझ गई कि मैं उसे बांधने वाला हूं।
इस पर वह उठ बैठी और बोली- नहीं नहीं … जब तक मैं दूसरे जोड़े को देख ना लूं, मैं तुम्हारे जाल में बंधने वाली नहीं हूं।
मैंने रीना से कहा- यार जान … तुम बार-बार यह सवाल करके जन्मदिन का पूरा मजा खराब करने वाली हो। देखो 12:00 बजने वाले हैं और तुम्हारा जन्मदिन शुरू होने वाला है और मैं चाहता हूं कि तुम्हें तुम्हारा जन्मदिन शुरू होने का पता कुछ नए अंदाज में चले। जब आज 12:00 बजें और तुम्हारा जन्मदिन शुरू हो तो यह सबसे नई और खास बात से शुरू होना चाहिए जैसा किसी ने पहले नहीं किया हो।

इस पर रीना ने मुझ पर विश्वास करते हुए हामी भर दी। मैंने पहले रीना की टांगें बेड के दोनों सिरों से इस तरह बांधीं कि रीना की टांगें पूर्ण रूप से चौड़ी हों और उसकी गुलाबी चूत के खुले दर्शन आसानी से हो सकें।
जैसे-जैसे मेरी रीना को मैं बांध रहा था तब वह बोल रही थी- मुझे तो सोच-सोच कर ही उत्तेजना हो रही है कि आज मैं किसके सामने इस तरह नंगी लेटने जा रही हूँ। कोई आते ही मुझे इस रूप में देखेगा! यह सोच-सोच कर ही मेरी चूत पानी छोड़ने लगी है।

इस तरह मैंने रीना के हाथ भी बेड के दोनों सिरों से बांध दिए। अतः रीना के दोनों हाथ और पांव खुली फैली हुई अवस्था में बंधे हुए थे। एक प्रकार से देखो तो रीना पूर्ण रूप से असहाय थी कि कोई भी उसके साथ कुछ भी कर सकता है किंतु यह सब तो रीना की मर्जी से ही हो रहा था, यह किसी प्रकार की जबरदस्ती नहीं थी।

वह इस अवस्था में बंधी थी कि कोई सामने से आकर रीना की चूत को चाट सकता है, चोद सकता है, उसके स्तन चूस सकता है, दबा सकता है, उसके कंधों के नीचे वाली जगह, हम अंग्रेजी में जिसे अंडर आर्म कहते हैं, वहां चुम्बन कर सकता है, उनकी भीनी-भीनी खुशबू ले सकता है।

यह वास्तव में एक गजब ही उत्तेजक करने वाला दृश्य था।

अब मैंने अपने लैपटॉप बैग में से आंखों की एक पट्टी निकाली तथा उसे रीना की आंखों पर बांध दिया। 

राजवीर के शब्दों में (अन्तर्वासना पाठकों के लिये)
दोस्तो, मैं समझ सकता हूँ कि मैं अपनी बीवी को अपने ही भाई से चुदवाने का जो प्लान बना रहा हूँ वह मेरे मर्द भाइयों और गर्म चूतों में गीलापन लाने के लिए शुरुआत कर चुका होगा.
मुझे अपनी प्यारी कामुक पत्नी रीना को अपने से बड़े लंड से चुदते हुए देखने का नजारा प्राप्त होने वाला है. मेरी हालत भी आप जैसी ही है. बल्कि वीणा की चूत के बारे में सोच कर तो और ज्यादा बुरी हो रही है.

अगले भाग में आपका और मेरा यह इंतजार खत्म हो जायेगा. उस आनंद के लिए आप तैयार रहें जो आपको याराना के अगले भाग में आने वाला है.
अपने जोश को बचाकर रखें क्योंकि कहानी अभी बाकी है.

जुड़े रहिये याराना की वापसी के साथ.
अगर कहानी के विषय में अपने विचार और राय रखना चाहते हैं तो आपका स्वागत है.
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top