अदल बदल कर मस्ती-4

(Adal Badal Kar Masti- Part 4)

This story is part of a series:

उधर नायरा के कॉटेज की डोरबेल धीरज ने बजाई … धीरज तो मजनू है आज उसकी लैला बनी थी नायरा …
नायरा ने अपने कॉटेज में लाल रंग की मद्धिम रोशनी कर रखी थी और नीचे गुलाब की पंखुड़ियां फैला रखी थीं.

डोरबेल बजते ही दरवाजा खुला और अंदर से नायरा की आवाज आई- आ जाओ जानी!
धीरज अंदर आया, उसे नायरा कहीं दिखाई नहीं दी … उसने दरवाजा जैसे ही बंद किया, दरवाजे के पीछे खड़ी नायरा ने उसे पीछे से जकड़ लिया.

नायरा ने लाल रंग की झीनी फ्रॉक स्टाइल ड्रेस पहने थी जिसमें कुछ छिप भी नहीं रहा था और सब कुछ दिख भी नहीं रहा था. एक तो रोशनी बहुत कम, ऊपर से समा बेहद रोमांटिक … फिजा में रोमानी खुशबू फैली थी … हल्का हल्का सेंसुअल म्यूजिक चल रहा था.

नायरा के पीछे से चिपटते ही धीरज ने उसे आगे घुमाया और दोनों के होंठ चिपक गए. नायरा के भारी भारी मम्मे ड्रेस से बाहर आने को बेताब थे. धीरज ने अपनी आदत के हिसाब से जब उसकी फ्रॉक को नीचे से उठाया, तो फ्रॉक नायरा के चिकने चूतड़ों से उठती हुई कमर तक आ गयी.

धीरज ने उसके मम्मों को ऊपर जाली से ही चूसना शुरू कर दिया और नायरा ने भी उसका लंड उसके बरमूडा से बाहर निकाल दिया और मसलने लगी. दोनों ही चुदाई के लिए बेताब थे.

नायरा ने धीरज की सुविधा के लिए अपने हाथों से अपने मम्मे ड्रेस से बाहर निकाल दिए और अपने हाथों से उन्हें नीचे से सपोर्ट देकर धीरज के मुँह के पास कर दिया.
धीरज ने ज्यादा वक़्त न लगते हुए नायरा की फ्रॉक और अपने कपड़े उतार दिए और नायरा को लेकर बेड की ओर चला.

नायरा ने बेड के पास ड्रिंक्स रखी थीं. धीरज ने वाइन की बोतल खोल के गिलास में किया और नायरा के मम्मों पर टपकाते हुए मम्मे चूसने लगा. थोड़ी देर मम्मों को चुसवाने के बाद नायरा ने धीरज को नीचे जमीन पर घुटनों पर बिठाया और अपना एक पैर पास रखी कुर्सी पर रख और वाइन का गिलास लेकर ऊपर से धार बना कर अपनी चूत में डालने लगी.

नीचे धीरज ने उसकी चूत के नीचे अपना मुँह इसे सेट किया कि वाइन नायरा कि चूत से होती हुई सीधे धीरज के मुँह में गिरे.

धीरज को वाइन पिलाने का ये अंदाज ऐसा भाया कि उसने नायरा की चूत चाट चाट कर लाल कर दी.

अब नायरा ने धीरज को खड़ा किया और खुद नीचे बैठी और वाइन का गिलास भरा. फिर उसमें धीरज का लंड डुबो दिया और लगी उसे चूसने. वो बार बार धीरज के लंड को वाइन में डुबोती, फिर उसे टोपे तक चूसती.
उसने धीरज का वो बुरा हाल कर दिया कि धीरज को उससे रिक्वेस्ट करनी पड़ी- छोड़ दो नायरा … वर्ना मेरा काम तुम्हारे मुँह में ही हो जाएगा.

नायरा ने उसे छोड़ दिया और फिर वो और धीरज हल्के हल्के डांस करने लगे. पर नंगे जिस्म डांस कैसे कर सकते हैं, धीरज का लंड बार बार नायरा की चूत के मुहाने पर टकराता और अंदर घुसने की खुशामद सी करता. नायरा की चूत भी नए लंड से चुदने को बेताब थी.

अब दोनों बिस्तर पर आ गए. धीरज ने बिना देर किये अब नायरा को नीचे लिटाया और उसकी टांगें चौड़ी करके ऊपर करीं और अपना फनफनाता औज़ार नायरा की गुफा में डाल दिया. धीरज का लंड बहुत मोटा था और शायद राहुल से बड़ा भी था, कुल मिला कर धीरज ने नायरा की चीख निकाल दी.

पर ये तो सेक्स का शुरूआती दर्द था. अब जो चुदाई एक्सप्रेस ने रफ़्तार पकड़ी तो आगरा कानपुर सब चुदते चले गए. नायरा भी चुदाई में पूरा साथ दे रही थी … दोनों के होंठ बार बार मिल जाते.
अब नायरा ने धीरज को नीचे आने को कहा और वो धीरज के लंड की घुड़सवारी करने लगी. अब उसकी चूत खासी चिकनी हो गयी थी. तो चुदाई एक्सप्रेस दौड़ती चली गयी … धीरज के लंड में पूरी जान बाकी थी … पिंकी क्यों इतनी मस्त रहती है, ये बात नायरा को अब समझ आई कि जिसकी रोज एसी चुदाई होती हो, उसे सेक्स के अलावा और नजर भी क्या आएगा.

धीरज ने नायरा को बेड पर ही डौगी स्टाइल में खड़ा किया और पीछे से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया. नायरा के बड़े बडे फुटबाल से मम्मे झूल रहे थे तो धीरज ने हाथ बढ़ा कर उन्हें लपका. अब धीरज पीछे से धक्के लगा रहा था और आगे अपने हाथों से नायरा के मम्मे मसल रहा था.

नायरा ने अपना मुँह पीछे किया और धीरज के होंठों से उन्हें मिलाया. थोड़ी देर की धक्का मुक्की में धीरज ने अपना सारा माल निकाल दिया नायरा की पीठ पर. नायरा ने पास रखा तौलिया उसे दिया ताकि वो किये धरे को साफ़ कर सके.

अभी नायरा की चूत की प्यास बुझी नहीं थी. वो धीरज से बोली- तुम्हें चूत में ही निकालना चाहिए था.
धीरज बोला- देखती जाओ मेरी जान … अभी पूरी रात बाकी है, चूत का तो भोसड़ा बना कर ही छोडूंगा आज रात को.

नायरा लंड चूसने में परफेक्ट थी. उसने धीरज के लंड को मुँह में ले लिया और चाट चाट कर उसे साफ़ कर दिया.

धीरज ने उससे पेग बनाने के लिए कहा इस वादे के साथ कि एक पेग लगाने के बाद उसकी चूत की खुजली मिटा देगा.

अब पिंकी की कॉटेज में देखते हैं क्या हुआ.

राहुल ने जैसे ही डोर बेल बजानी चाही … दरवाजा अपने आप खुल गया. कमरे में बिल्कुल अँधेरा था. दरवाजा खुलते ही बाहर की लाईट भी बंद हो गयी. चारों ओर अँधेरा था.
अंदर से पिंकी बाहर आई और आते ही राहुल से लिपट गयी.

अब राहुल को समझ आया कि अँधेरा क्यों किया था पिंकी ने … पिंकी बिल्कुल नंगी थी, उसने कुछ नहीं पहना था.
और राहुल से लिपटते ही उसने राहुल का बरमुडा भी नीचे कर दिया.

अब बाहर दोनों नंगे ही चिपटे खड़े एक दूसरे के होंठ चूस रहे थे.

कैसा भी अँधेरा हो, था तो खुले में ही, इसलिए राहुल ने पिंकी का हाथ पकड़ा और अंदर ले गया और डोर लॉक किया. अंदर राहुल ने पीछे से पिंकी के गर्दन को चूमना शुरू किया और अचानक पिंकी के कान अपने होंठों से चाटने लगा.

उसके ऐसा करने से पिंकी बिलबिला गयी … उसने अब तक तो धीरज का लंड अपने हाथ से पकड़ा हुआ था, अब वो अपना कान राहुल के होंठों से हटाने के लिए नीचे झुक कर हँसती हुई अलग हुई.
अब दोनों आगे से चिपटे. अबकी बार राहुल ने पहले सीधे उसके मम्मे चूसे फिर उसकी चूत में उंगली कर दी.

पर ये क्या, पिंकी की चूत में कुछ गाढ़ा सा भरा हुआ था.
राहुल ने कहा- ये क्या है जानू?
पिंकी ने कोई जवाब न देते हुए राहुल को नीचे बिठाया और अपनी चूत उसके मुँह के आगे कर दी.

राहुल ने सकुचाते हुए जैसे ही उसकी चूत में जीभ लगाई तो उसे मजा आ गया. पिंकी की चूत में चोकलेट भरी हुई थी.

राहुल ने चूत चाट चाट करके चोकलेट अपने मुँह में ली और खड़ा होकर पिंकी के मुँह से मुँह लगा दिया.

अब चूत चोकलेट को दोनों ने खाया. पिंकी ने अपने मम्मों पर और धीरज के लंड पर एक शीशी से कुछ लगाया और धीरज के मुँह में अपने मम्मा दे दिया. उसने शहद लगाया था तो धीरज को दोबारा एक सरप्राइज मिला.

अब बारी थी पिंकी के चूसने की … तो उसने शहद में लिप्त लंड अपने मुँह में लिया और जैसे गन्ना चूसते हैं वैसे टोपे तक चूसा. उसके चूसने में खिंचाव इतना तेज था कि राहुल को लंड चुसवाने का ऐसा अनुभव कभी नहीं हुआ था.

थोड़ी देर तक चूसने के बाद पिंकी खड़ी हुई और खड़े खड़े ही उसने राहुल का लंड अपनी चूत के मुहाने पार रखा और जोर से राहुल से चिपटी. उसने अपना एक पैर राहुल की कमर से लिपटाया और राहुल ने अपना एक पैर पास रखी कुर्सी पर रखा.
अब चूत और लंड का मिलन आसान हो गया.

राहुल ने एक धक्का लगाते हुए अपने लंड को पिंकी की चूत में घुसेड़ दिया और अब दोनों ही एक दूसरे से ताल मिलाते हुए चुदाई करने लगे. जब कामवासना पूरी जल उठी तो राहुल ने पिंकी को बेड पर लिटाया और उसके ऊपर चढ़ गया.

पिंकी भी चुदासी ज्यादा ही हो रही थी. दोनों ही तूफ़ान मेल की स्पीड से चुदाई का मजा लेने लगे.

पिंकी तो बकवास बहुत करती थी चुदाई के समय … वो राहुल से बोली- अच्छे से चोद राहुल, ऐसी चिकनी और मस्त चूत नायरा की नहीं होगी. तूने नायरा के मम्मे ही चूसे हैं. आज तुझे जो मजा दिया है वो साले तू भूलेगा नहीं … बस आज फाड़ दे मेरी चूत … अरे स्पीड बढ़ा मेरे राजा … और तेज और तेज!

राहुल को पूरा मजा आ रहा था. निश्चित ही नायरा के मम्मे पिंकी से बड़े थे पर जिस स्टाइल से पिंकी ने चुसाई की और करवाई है वो अदा अनोखी थी.

अब पिंकी राहुल को लिटा कर उसके ऊपर चढ़ गयी और अपने हाथों से उसका लंड अपनी चूत के दाने पर सेट करके अंदर किया और चुदाई की घोड़ी दौड़ा दी.
राहुल का होने वाला था और पिंकी तो पागल हो गयी थी … अचानक एक झटके के बाद पिंकी की चूत ने पानी छोड़ दिया और वो राहुल के मुँह पर अपना मुँह लगा कर शांत हुई.

तभी राहुल ने भी नीचे से दो तीन जोर से धक्के मारे तो उसके लंड ने भी लावा पिंकी की चूत में छोड़ दिया. पिंकी ने झट से उतर कर पास रखे टॉवल से अपनी चूत से निकलते सफ़ेद लावे को पौंछा और वही टॉवल राहुल के लंड पर डाल कर वाशरूम की ओर चल दी.

वाश रूम में उसे टॉयलेट जाना था. उसने वहीं वाश बेसिन पर रखी सिगरेट सुलगाई और धुंआ छोड़ती बाहर आई.

तब तक राहुल ने एक पेग बना लिया था.

पिंकी बोली- चलो बाहर चलते हैं.
राहुल बोला- ऐसे ही बिना कपड़ों के?
पिंकी हंसती हुई बोली- हाँ मैं तो चल सकती हूँ.

फिर भी उसने राहुल के कहने पर टॉवल लिया. वो और राहुल दोनों ही टॉवल लपेट कर कॉटेज से बाहर खड़े हो गए. राहुल अपना ड्रिंक फिनिश कर रहा था और पिंकी अपनी सिगरेट. पिंकी सिगरेट की डिब्बी और लाइटर साथ लाई थी.

तभी पिंकी ने नीचे बैठ आकर राहुल का टॉवल हल्का सा हटाया और उसका लंड मुँह में ले लिया. असल में पिंकी फिर चुदासी हो गयी थी. जल्दी ही उसने चूस कर राहुल का लंड दोबारा खड़ा कर दिया. अब राहुल ने शबनम को कॉटेज की मुंडेर के पास हाथों का सहारा लेकर घोड़ी बनाया और उसका टॉवल सरका कर पीछे से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया और पहले धीरे फिर तेजी से उसकी चूत चुदाई करने लगा.

बाहर खुले में चूत चुदाई की हिम्मत पिंकी के अलावा किसी की नहीं हो सकती थी.

जल्दी ही राहुल ने अपना काम पूरा किया और पिंकी की चूत दोबारा अपने माल से भर दी.

पिंकी बहुत खुश थी … वो अब सीधी खड़ी हो गयी और राहुल को आश्चर्यचकित करते हुए अंदर नहीं गयी. उसने दूसरी सिगरेट सुलगा ली … नीचे उसकी चूत से राहुल का वीर्य टपक टपक कर टॉवल के नीचे से जमीन पर गिर रहा था … पिंकी इस सबसे बेखबर अपनी मस्ती में थी.

ऐसा नजारा राहुल ने पहली बार देखा था, वर्ना नायरा तो तुरंत ही अपनी चूत को साफ़ करती थी.

अगले दिन जैसा कि तय था, सभी लड़के ठीक 9 बजे अपने अपने कॉटेज में पहुँच गए. सबको अब यह मालूम था कि सभी ने सभी के साथ मस्ती कर ली है. पर किसी को यह नहीं मालूम था कि चुदाई किसने किसके साथ की है.

उस दोपहर को सभी सुइट में लंच के लिए इकट्ठे हुए तो सीमा राजीव ने सभी को अपने इस नए अनुभव की बधाई दी और सभी ने एक वायदा किया कि कभी कोई अपने पार्टनर से कुछ नहीं कुरेदकर पूछेगा. और कभी कोई अलग से पार्टनर बदलकर सेक्स नहीं करेगा.

सबका मन संतुष्ट था.

हालाँकि सीमा राजीव ने सबसे पूछा कि अगर सब चाहें तो आज रात को ग्रुप सेक्स एक साथ करें … पर फिर सभी का ये जवाब रहा कि हम सबने मस्ती भरपूर की है और अभी तक एक पर्दा पड़ा हुआ है … हालाँकि सब जानते हैं कि उन्होंने किसके साथ क्या क्या किया है, पर फिर भी ओट तो है ना. इसे बने रहने देना चाहिए.
हंसी ख़ुशी के माहौल में सब अगले दिन वापिस आ गए.

दोस्तो, मुझे लिखियेगा कैसी लगी आपको यह मस्ती भरी पति बीवी की अदला बदली की कहानी?
आप में से अनेक पाठकों ने मुझे अपने सेक्स अनुभव और फंतासी शेयर की हैं कि मैं उस पर कहानी लिखूं.
मेरा प्रयास होगा कि अपने पाठकों का मन भी इस बात से पूरा करूं.

तो मुझसे अपनी बातों को शेयर करें. मुझे मेल भेजें:
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top