चचेरी बहन को नंगी नहाते देखता हूँ

मेरा नाम जुल्फ़ीकार है, मेरठ में रहता हूँ। मैं शादीशुदा हूँ, खूबसूरत हसीन बीवी है मेरी।

हमारे घर के साथ वाला घर मेरे चचाजान है। बीच में बस 6 फ़ीट ऊंची दीवार है, दीवार के साथ ही सीढ़ियाँ हैं।

मेरा कमरा ऊपर की मंजिल पर है।

गर्मियों के दिन थे, उस रोज मुझे थोड़ा जल्दी ऑफिस जाना था तो मैं जाने के लिये सीढ़ी से उतर रहा था कि कदम अचानक रुक गए जब मेरी नजर चचाजान के घर में ग्राउंड फ्लोर पर बाथरूम की खिड़की पर गई।

बाथरूम की खिड़की आधी से ज्यादा खुली हुई थी और अन्दर मेरी चचेरी बहन फ़रज़ाना नहा रही थी।

उस वक्त शायद बिजली नहीं थी तो उसने रोशनी के लिये खिड़की खोल ली होगी।

अपनी चचेरी बहन को बाथरूम में नंगी खड़ी नहाते देख मैं ऑफिस भूल ही गया और दस मिनट तक चुपके से उसे देखता रहा।

फ़रज़ाना मुझसे 4 साल छोटी है, बी ए में पढ़ रही है, रोज मेरे साथ साथ ही वो कॉलेज के लिये निकलती है।

उस दिन के बाद से मैं उसे कई बार नहाते हुए देख चुका हूँ, मैं जानबूझ कर उसी वक्त सीढ़ियाँ उतरता हूँ, तो कई बार खिड़की खुली मिल जाती है।
घर में मेरी बीवी अपने काम में लगी होती है, मेरे बच्चे तब तक स्कूल जा चुके होते हैं तो पकड़े जाने का कोई डर नहीं।

मैं ऐसा करना नहीं चाहता लेकिन चाहकर भी खुद को रोक भी नहीं पाता।

क्या ऐसा करना सही है? समझ नहीं आ रहा कि मैं ऽपनी इस बुरी आदत को कैसे छुड़वाऊँ?

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! चचेरी बहन को नंगी नहाते देखता हूँ

प्रातिक्रिया दे