मेरी दीदी लैला -1

(Meri Didi Laila-1)

This story is part of a series:

नमस्ते दोस्तो, मैं रजत हूँ, मेरी उमर 18 साल है, पँजाब का रहने वाला हूँ। मेरे परिवार में हम कुल पाँच लोग हैं- पापा, मम्मी मेरी बड़ी बहन लैला, मैं और मेरी छोटी बहन रिमझिम !

लैला दीदी मुझसे सात साल बड़ी हैं और रिमझिम मुझसे 2 साल छोटी है। मम्मी, पापा दोनो केंद्र सरकार के महकमों में नौकरी करते हैं और अपनी नौकरी के सिलसिले में अकसर उनको दिल्ली या दूसरे शहरों में आना जाना पड़ता है। कभी-कभी तो दोनो एक ही समय शहर से बाहर होते हैं।

दोस्तो, यहाँ मैं कुछ बातें स्पष्ट कर देना चाहता हूँ। पहली भले ही यह गाथा मेरी बहनों के बारे में है परन्तु यह पारिवारिक यौन गाथा नहीं है। दूसरे यह कोई कहानी नहीं है बल्कि आपको मैं वो बताने जा रहा हूँ जो मैंने बहुत बार अपनी आँखों देखा है।

बात तब की है जब लैला दीदी 18 साल की नवयौवना हो चुकी थी। बला की खूबसूरत तो लैला दीदी थी ही, ऊपर से कुदरत ने दीदी को यौवन के कटाव और उठान भी भरपूर दिये थे, मतलब दीदी की छाती और कूल्हे अपनी हमजोलियों के मुकाबले ज्यादा ही बड़े थे। लैला दीदी उन दिनों दो ही जगह मिलती थी, या तो शीशे के सामने या घर के मेन गेट पर।

बहुत से आवारा किस्म के लड़के हमारे घर के चक्कर लगाने लगे थे, उनमें से कुछ लड़के दीदी को कमेंट भी देते थे जोकि दीदी को अच्छा लगता था।

धीरे-धीरे मम्मी को यह बात पता चल गई और वो दीदी को बात बात पर डाँटने लगी। मम्मी ने दीदी के घर से बाहर अकेले जाने पर भी पाबंदी लगा दी।

दीदी जब भी घर से बाहर जाती तो मम्मी मुझे दीदी के साथ भेजने लगी। थोड़े दिन तो सब ठीक चलता रहा। धीरे-धीरे दीदी को हर जगह मुझे साथ ले जाना चुभने लगा। खासकर जहाँ लड़के दीदी का पीछा करते वहाँ दीदी मुझे डाँटने लगती।

ऐसे ही एक दिन दीदी मम्मी से अपनी एक सहेली के घर जाने का बोल कर मुझे साथ लेकर घर से निकली। घर से थोड़ा आगे जाकर दीदी ने मुझसे कहा- अगर तू मेरी बातें मम्मी को नहीं बताएगा तो तुझे रोज एक बढ़िया वाला चॉकलेट लेकर दिया करुँगी और आज से ही महीने में दो बार बड़ा गिफ़्ट जो भी तू माँगेगा लेकर दिया करुँगी।

मैं खुश होते हुये बोला- ठीक है दीदी ! आज से जैसा तुम कहोगी, वैसा ही करुँगा, पर यह चॉकलेट और गिफ़्ट वाली बात भूलना मत।

फ़िर दीदी ने मुझसे कहा- हम डौली (दीदी की सहेली) के घर मालगोदाम (पुराने बंद पड़े फ़सल रखने के सरकारी गोदाम का क्षेत्र जो अब रास्ते के तौर पर इस्तेमाल किया जाता है) वाले रास्ते से जायेंगे पर वहाँ पे कुछ आवारा लड़के बैठे होते हैं तो तू एक काम कर, तू यहीं पर पंद्रह मिनट रुकने के बाद आना ताकि अगर वो लड़के मेरे को तंग कर रहे हों तो मैं उनसे लड़ झगड़ के उनको भगा दूँ नहीं तो वो तुझे भी तंग करेंगे।

मैंने कहा- ठीक है दीदी !

और दीदी मुझे वहाँ छोड़ कर मालगोदाम में चली गई।

उन दिनों मेरे पास घड़ी तो थी नहीं जो मैं 15 मिनट इन्तज़ार करता रहता। शायद मैंने 4-5 मिनट इन्तज़ार की और मैं भी मालगोदाम में चला गया। थोड़ा आगे जा के मैंने देखा कि चार लड़कों ने लैला दीदी को पकड़ा हुआ था और दीदी को लेकर वो सभी एक गोदाम में जा रहे थे। पहले तो मैं दीदी को उनसे छुड़ाने के लिये जाने लगा था, फ़िर मुझे दीदी की बात याद आई कि जब तक मैं उनको भगा ना दूँ, तुम मत आना, नहीं तो वो तुमको मारेंगे।

तो मैंने सोचा कि मैं छिप कर देखता हूँ, जब दीदी उनको भगा देगी तो मैं दीदी के पास चला जाऊँगा, और मैं छिप कर उनको देखने लगा।

मैंने देखा सभी लड़कों के लण्ड उनकी पैंट से बाहर थे, वो लड़के लैला दीदी की छाती को और उनके चूतड़ों को दबा रहे थे और दीदी उनके लंड दबा रही थी। थोड़ी देर बाद वो लड़के वहाँ से चले गये। उनके जाने के बाद मैं भाग कर दीदी के पास गया।

दीदी बोली- भाग गये साले।

मैंने पूछा- दीदी, उन्होंने तुम्हारे दुद्दू और चूतड़ क्यों पकड़े हुये थे?

तो दीदी बोली- पकड़े थोड़े थे, वो तो मिलकर मुझे मार रहे थे।

तो मैंने पूछा- और तुमने उनकी नुन्नियाँ क्युँ पकड़ रखी थी?

तो दीदी बोली- पकड़ नहीं रखी थी बुद्धू ! मैं भी उनकी नुन्नी पे मार रही थी क्यूंकि लड़कों की नुन्नी पे मारो तो बहुत दर्द होता है।

फ़िर दीदी ने कहा- तुम मम्मी को यह लड़ाई वाली बात मत बताना, तुमने कसम खाई है कि चॉकलेट और गिफ़्ट के बदले मेरी बातें तुम मम्मी को नहीं बताओगे।

मैंने कहा- ठीक है दीदी, नहीं बताऊँगा पर एक चॉकलेट और लेकर दो।

दीदी और मैं डौली दीदी के घर गये, वहाँ कुछ देर बिताने के बाद हम घर वापिस आ गये।

रास्ते में दीदी ने मुझे एक और चॉकलेट लेकर दी।

इसके बाद यह रोज की बात हो गई। दीदी किसी न किसी बहाने से मुझे साथ लेकर घर से निकलती और मुझे बाहर खड़ा करके मालगोदाम में चली जाती, वहाँ खेल चलता रहता, जिसे मैं छिप के देखता रहता।

मैं दीदी को पूछता कि दीदी आपको रोज़ इन लड़कों के साथ लड़ना पड़ता है तो आप क्यों इस रास्ते आने की ज़िद करती हो?

तो दीदी बोली- रज्जू, यह रास्ता छोटा है और बुद्धू ! तू लड़ने की चिंता न कर ! अगर तू कहे तो मैं आज ही इनको दोस्त बना सकती हूँ।

मैंने कहा- दीदी अगर ये दोस्त बन गये तो अच्छा ही होगा। फ़िर हमसे कोई भी पंगा लेने की हिम्मत नहीं करेगा।

दीदी बोली- सोच ले, अगर ये दोस्त बन गये तो फ़िर इनके घर भी आना जाना पड़ेगा।

मैंने कहा- दीदी, उसमें क्या है, हम चले जाया करेंगे इनके घर।

तो दीदी बोली- चल ठीक है, तू यहीं रुक, मैं इनको दोस्त बना कर आती हूँ।

फ़िर दीदी थोड़ी देर में वापिस आई और बोली- रज्जू, वो हमारे दोस्त बनने को तैयार हैं पर हमको इन में से एक लड़के के घर जाकर चाय पीनी पड़ेगी।

मैंने कहा- ठीक है दीदी, चलो चाय पी आते हैं।

फ़िर हम सब वहाँ से चल पड़े। उस लड़के के घर में कोई नहीं था, वो अकेला रहता था। उसके घर में दो कमरे थे। एक कमरे में वीडियो गेम पड़ी थी, उसने मुझे 3-4 चॉकलेट दिये और कहा- रज्जू, तू चोकलेट खा, वीडियो गेम खेल और मस्ती कर ! हम तब तक दूसरे कमरे में चाय पीते हैं और तेरी बहन के साथ बातें करते हैं।

मैंने कहा- ठीक है !

तो उसने पूछा- देख रज्जू, तू और तेरी बहन अब हमारे दोस्त हो, इसलिये चाय पीने के बाद हम लोग तेरी बहन के साथ थोड़ी दोस्तों वाली मस्ती करेंगे, और तू चोकलेट की चिंता मत कर, वहाँ अलमारी में और भी पड़े हैं, ले लेना जितने खाने हों।

मैंने कहा- ठीक है।

फ़िर वो बोला- तू उस रूम में आयेगा तो तेरी बहन के साथ हमारी मस्ती खराब हो जायेगी और फ़िर हमारी दोस्ती खत्म।

मैंने कहा- ठीक है, मैं नहीं आऊँगा पर अगर मुझे कुछ चहिये होगा तो क्या करुँ?

तो वो बोला- हम खिड़की खुली रखेंगे, तू आवाज़ दे देना अगर कुछ चहिये हो तो।

मैंने कहा- अगर मैं आपकी मस्ती खराब ना करुँ फ़िर तो उस कमरे में आ सकता हूँ?

तो उसने कहा- इस बारे में बाद में सोचेंगे, फ़िलहाल तू इधर अपनी मस्ती कर और दूसरे कमरे में हमें मस्ती करने दे तेरी बहन के साथ ।

मैंने कहा- ठीक है !

और वो दूसरे कमरे में चला गया। मैं वहाँ बैठ कर वीडियो गेम खेलने लगा।

15-20 मिनट बीत गये, मैंने सोचा- किसी और गेम की कैसेट मांगता हूँ।

मैं खिड़की पर गया उसको आवाज़ देने के लिये तो क्या देखा कि मेरी बहन की शर्ट ऊपर उठी हुई थी और उसके दुद्धू नंगे थे और उन सभी के लन्ड पैंट की ज़िप से बाहर थे, सभी लैला दीदी के साथ गुथ्थम-गुथ्था थे, लड़के लैला दीदी के दुधू के साथ और लैला दीदी उन के लन्ड के साथ खेल रही थी।

यह देख कर मुझे बहुत अजीब सा लगने लगा।

फ़िर मेरे को याद आया कि मुझे और गेम की कैसेट लेनी थी तो मैं उस कमरे के दरवाजे पर गया, मैंने दरवाजे को धक्का दिया तो दरवाजा खुल गया।

मैं अंदर गया और बोला- आप लोग तो मस्ती करने वाले थे पर ये क्या कर रहे हो मेरी दीदी के दुधू के साथ?

तो वो बोले- हम मस्ती करने वाले थे पर इतने दिन लड़ाई में हमने तेरी दीदी के दुद्धू पर मारा है ना और तेरी दीदी ने हमारे लण्ड पर तो हमने सोचा कि हम तेरी दीदी के दुद्दू सहला कर और तेरी दीदी हमारे लण्ड सहला के एक दूसरे का दर्द दूर करते हैं पहले, और रज्जू ये भी तो एक तरह की मस्ती ही तो है।

और बोले- रज्जू, अब तो हम सब दोस्त हैं ना तो दोस्ती में मस्ती के साथ-साथ एक दूसरे का दर्द भी दूर हो जाये तो इसमें बुरा क्या है?

तो मैं बोला- ठीक है।

तो वो बोले- तेरे को कहा था न कि तू गेम खेल और चोकलेट खा के मस्ती कर ! फ़िर तू यहाँ क्यूं आया?

मैंने कहा- मेरे को और कोई गेम की कैसेट चाहिये।

तो वो बोले- और कैसेट तो है नहीं।

मैंने कहा तो फ़िर मेरे को भी यहाँ बैठने दो। यह कहानी आप अन्तर्वासना.कॉम पर पढ़ रहे हैं।

उन्होंने कहा- चल ठीक है बैठ जा पर देख जब तूने मस्ती की तो हमने तेरी मस्ती खराब नहीं की ना? तो अब तू भी हमारी मस्ती खराब मत करना। तेरे को कुछ और खाने का है तो ये ले पैसे और अपने लिये चीज़ ले आ।

मैंने पैसे ले लिये और कहा- मैं बाद में चीज़ ले लूँगा। आप अपनी मस्ती करो मैं आपको तंग नहीं करुंगा।

और मैं कोने में रखे स्टूल पर बैठ गया। वो लोग अपनी मस्ती करते रहे। कभी वो लड़के दीदी के दुद्धू दबाते-सहलाते कभी चूसने लगते, ऐसे ही दीदी बारी बारी से उनके लण्ड कभी सहलाती और कभी चूसने लगती।

फ़िर मैंने देखा कि उन सभी के लण्ड से सफ़ेद सा पानी निकला जो दीदी पी गई। फ़िर दीदी ने अपने दुद्धू शर्ट में डाले और उन लड़कों ने अपने लण्ड पैंट के अंदर किये और फ़िर दीदी और मैं घर वापिस आ गये।

कहानी जारी रहेगी।
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top