अंकल की बेटी की गर्म चूत

(Uncle Ki Beti Ki Garam Chut)

प्रिय दोस्तो, मैं रसिया बालम एक बार फिर हाजिर हूं आपकी खिदमत में!
दोस्तो, जवानी भी बहुत बुरी चीज है, हर किसी का ईमान डिगा देती है या फिर मैं यह कहूं कि जवानी पर किसी का जोर नहीं है। मेरी यह नई कहानी एक इसी बात का नमूना है।

बात उस समय की है जब मैं आगरा अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने के लिए पहुंचा। जब मैं आगरा पहुंचा तो वहां पर मेरे रहने की व्यवस्था पहले से ही थी। मेरे पिताजी के एक मित्र आगरा में रहते थे और उन्हीं ने अपने यहां पर नीचे एक कमरा मेरे लिए व्यवस्थित करा दिया था। वो फस्ट फ्लोर पर रहते थे। वह कमरा तो सिर्फ मेरे लिए एक नाम मात्र का था क्योंकि अंकल और आंटी मुझे अपने परिवार का एक सदस्य के रूप में मानते थे। मेरे लिए किसी भी चीज की कोई रोक-टोक नहीं थी। मैं उनके बाथरूम से लेकर बेडरूम तक सभी चीजें उपयोग में लेता था। मतलब कि नीचे का कमरा मेरे लिए एक स्टडी रूम की तरह था।

मकान मालिक के परिवार में मियां बीवी और दो बेटे और दो बेटियां थी। बड़ी बेटी की शादी हो गई थी। बड़े बेटे का नाम विकास छोटे का नाम आकाश, बड़ी बेटी का नाम शीला और छोटी बेटी का नाम रश्मि था। विकास चेन्नई में जॉब करता था और रश्मि ने इसी वर्ष बी एस सी के लिए गाजियाबाद में एडमिशन लिया था और छोटा बेटा घर पर ही रहता था।

उनकी छोटी बेटी रश्मि मेरी हम उम्र थी। दिखने में एकदम आकर्षक थी… लम्बाई 5’7″ शरीर एकदम स्लिम… गोल चेहरा… कजरारी आंखें मतलब कोई उसे देखकर दीवाना हो जाए। हम दोनों एक दूसरे को पहले से जानते थे क्योंकि वह मेरे पिताजी के मित्र की बेटी थी। हम लोग घंटों एक दूसरे से बातें करते रहते थे। कभी वह मेरे रूम में आ जाती थी और कभी मैं उसके बेडरूम में चला जाता था, परंतु ना तो कभी मेरे मन में गलत विचार आये और नहीं कभी किसी को आपत्ति हुई।

मेरे आगरा पहुंचने के करीब 6 महीने बाद दिसंबर के महीने में बड़े बेटे की शादी हुई। शादी के बाद नई बहू घर में आई परंतु रश्मि के फर्स्ट सेमेस्टर के एग्जाम होने की वजह से उसे शादी के तुरंत बाद गाजियाबाद जाना पड़ा। मेरा भी ऊपर जाना कम हो गया क्योंकि मुझे नई भाभी के सामने जाने में शर्म लगती थी।

एक दिन अंकल ने मुझे ऊपर बुला कर पूछा- क्या बात है आजकल तुम दिखाई नहीं दे रहे हो? कोई परेशानी तो नहीं है?
तो मैंने कहा- ऐसी कोई बात नहीं है अंकल, नई भाभी आई हैं तो कहीं मेरे बार-बार ऊपर आने से उन्हें अनकंफर्टेबल फील हो।
यह बात सुनकर अंकल ने मुझ में डांट लगाई और कहा- तुम भी इस घर के एक सदस्य हो!
और उन्होंने नई भाभी अंजू को आवाज़ लगाई और मेरा परिचय करवाया कि यह भी इस घर का सदस्य है।

इसके बाद मेरा ऊपर आना एक मजबूरी बन गया। अब मैं कॉलेज से आने के बाद और शाम को ऊपर जाने लगा। धीरे धीरे मेरी भाभी से बात होने लगी। उनका स्वभाव भी बहुत अच्छा था और उनके साथ जल्द ही घुल मिल गया।
उधर दो हफ्ते बाद रश्मि के एग्जाम खत्म हो गए और वह भी वापस आगरा आ गई।

कुछ दिन बाद एक दिन मैं अपने रूम में बैठकर पढ़ाई कर रहा था तभी रश्मि अपनी बुक्स लेकर नीचे मेरे रूम में आ गई और बोली- मैं भी यहीं बैठ कर स्टडी करूंगी क्योंकि ऊपर ज्यादा डिस्टर्ब होता है।
मैंने ऐसे ही उससे पूछ लिया- ऊपर डिस्टर्ब क्यों होता है?
तो उसने मुझे अजीब से नजरों से देखा।

मैं कुछ समझ नहीं पाया तो मैंने उससे दोबारा पूछा- ऐसे क्यों रिएक्ट कर रही हो?
तो उसने कहा- नई भाभी को भी एकान्त चाहिए।
मैंने पूछा- उन्हें एकांत की क्या जरूरत है?
तो उसने कहा- भैया की 3 दिन की छुट्टी बची है इसलिए उन्हें एकांत की जरूरत है।

यह सुनकर मुझे हंसी आ गयी परंतु मैं मुस्कराकर रह गया। मेरी मुस्कुराहट से वह शरमा गई तो मैंने उससे शरारती अंदाज में पूछा- वे एकांत में क्या करेंगे?
यह सुनकर वह बुरी तरह से शर्मा गई और अपनी किताब लेकर ऊपर भाग गई।

मेरे और उसके बीच में इस तरह की घटना पहली बार हुई थी। मैं समझ नहीं पाया कि वह क्यों भाग गई। मैं वापस अपनी पढ़ाई में व्यस्त हो गया।

शाम को जब मैं ऊपर गया तो वह मुझे देख कर मुस्करायी और वहां से चली गई। यह मुझे कुछ अजीब लगा और मैं भी अपने कमरे में नीचे आकर लेट गया। थोड़ी देर बाद रश्मि नीचे आई और बोली- तुम वापस क्यों चले आये?
तो मैंने उससे पूछा- तुम मेरे आने के बाद वहां से क्यों चली गई थी?
उसने कहा- ऐसी कोई बात नहीं थी.

मैंने उससे पूछा- तुम दोपहर में जब स्टडी करने नीचे आई थी तो ऊपर क्यों चली गई थी?
यह सवाल सुनकर वह शरमा गई और ऊपर जाने लगी परंतु मैंने उसे पकड़ कर बैठा दिया।
वह बोली- तुमने बात ही ऐसी पूछी थी।
मैंने कहा- तो इसमें भागने की क्या जरूरत थी… हर मियां बीवी यह काम करते हैं।
यह सुनकर वह बोली- तुम बहुत बदतमीज हो गए हो!
और ऊपर चली गई।

पहली बार मुझे उसको लेकर गलत विचार आए और पूरे दिन की बातें दिमाग में घूमने लगी। धीरे धीरे मेरा मूड बन गया और फिर बाथरूम में जाकर मुठ्ठी मारी और सो गया।

अगले दिन जब मैं कॉलेज से आया तो अंकल ने आवाज लगाई और कहा- शाम को हम सभी डिनर पर जाएंगे, तैयार हो जाना।

हम सभी रात को डिनर पर गए। डिनर करते समय रश्मि मेरे दाएं तरफ बैठी थी। डिनर लगभग आधा हुआ था कि रश्मि का पैर मेरे पैर से टकराया और तुरंत अलग हो गया।
मैंने उसको नजरअंदाज कर दिया, मुझे लगा कि पैर ऐसे ही टकरा गया होगा।
परंतु थोड़ी देर बाद पुनः उसका पैर मेरे पैर से टकराया लेकिन इस बार अलग नहीं हुआ। मैंने थोड़ा इंतजार किया लेकिन उसका पैर अलग नहीं हुआ तो मैंने भी उसके पैर को अपने पैर के नीचे दबा दिया।
उसने तिरछी नजर से मेरी तरफ देखा और खाना खाना शुरू कर दिया।

यह घटना मेरे लिए बहुत ही आश्चर्यजनक थी। जिस लड़की के बारे में सोच कर पिछली रात मैंने मुट्ठी मारी हो वही लड़की मुझे लाइन दे रही थी।

मैंने खुद पर कंट्रोल करते हुए जल्दी खाना खत्म किया और हाथ टेबल के नीचे कर लिए। मैंने अपना दाहिना हाथ उसकी जांघ पर रख दिया. उसने धीरे से मेरे हाथ को हटा दिया और मेरी बगल को नोच लिया। उसके बाद मैंने कोई और हरकत नहीं की।
अब मुझे यकीन हो गया था कि यह जल्द ही मेरे लंड को मजा देगी।

घर आकर मैं अपने रूम में पढ़ने लगा क्योंकि मेरी भी परीक्षा नजदीक आ रही थी।

रात को करीब 11:00 बजे मेरे दरवाजे पर दस्तक हुई। मैंने दरवाजा खोला तो सामने रश्मि अपनी किताबें लेकर खड़ी हुई थी। दरवाजा खोलते ही वह मुस्कुरायी और बोली- मैं अपना प्रोजेक्ट तैयार करूंगी… प्लीज मेरी हेल्प कर देना।
मैं समझ गया कि वह कौन सा प्रोजेक्ट बनाएगी। मैंने उसे कमरे के अंदर बुलाया और दरवाजा खुला छोड़ दिया। खुला दरवाजा देख कर वह खुद खड़ी हुई और बंद कर दिया।

अब सिर्फ औपचारिकता ही बाकी रह गई थी। यहां उसकी तरफ से खुला आमंत्रण था कि मैं उसे चोद दूं। परंतु मैंने औपचारिकताओं को पूरा करना उचित समझा क्योंकि मेरे सामने एक नवयौवना बैठी हुई थी। मैं उसकी प्रतिक्रिया का इंतजार करने लगा।
परंतु वह अपनी किताबें खोलकर पढ़ने लगी तो मैंने पहल करते हुए उससे पूछा- तुमने डिनर पर मुझे क्यों नोचा था?
तो वह बोली- अगर मेरी जांघ पर तुम्हारा हाथ कोई देख लेता तो क्या होता?
उसकी यह बात सुनकर मैंने उसे खींच कर अपनी गोदी में बिठा लिया और कहा- कुछ नहीं होता क्योंकि तुम मेरे साथ हो।

वह मेरी गोदी से उठने की कोशिश करने लगी और बोली- कोई देख लेगा।
मैंने कहा- दरवाजा तुमने खुद बंद किया है तो कोई देखने के लिए कहां से आएगा।
यह सुनकर वह शरमा गई और मेरे सीने से लिपट गई।

उसने अपने दोनों हाथ मेरी गर्दन से लपेट कर अपना सर मेरे सीने में छुपा लिया। उस समय मुझे पता चला कि शर्म को औरत का गहना क्यों कहा जाता है।
मैंने अपने दोनों हाथों से उसके चेहरे को ऊपर किया तो उसके दोनों गाल शर्म से सुर्ख लाल हो गए थे… उसकी आंखें एकदम नशीली हो गई थी… ऐसा लग रहा था कि वह पूरी बोतल पीकर आई है। उसकी सांस धीरे-धीरे तेज होती जा रही थी।

मैंने भी वक्त की नजाकत समझते हुए अपने होंठ उसके सुलगते हुए होंठों पर रख दिए। उसने तुरंत मेरे होंठों से अपने दोनों गर्म और नाजुक होंठों की गिरफ्त में ले लिया। मेरे होंठों के रस से वह अपने होंठों की तृष्णा को शांत करने लगी।
जिस तरह से वह मेरे होंठों को चूस रही थी, ऐसा लग रहा था कि मानो मधु पान हो रहा है।

मेरे हाथ खुद ब खुद उसके जिस्म पर थिरकने लगे। मैंने अपना एक हाथ उसके गर्दन से होता हुआ चूची तक पहुंचा दिया और धीरे-धीरे हाथ से सहलाने लगा। वह इस कदर जवानी के मजे में खोई हुई थी कि जैसे ही मैंने उसकी चूची पर हाथ रखा तो उसने अपने आप को सीधा करते हुए अपनी पूरी छाती सामने कर दी।

बस इसी का तो मुझे इंतजार था। मैंने उसे गोदी में उठाया और बैड पर लिटा दिया। मैं उसके ऊपर लेट कर उसे निहारने लगा। उसका अंडाकार चेहरा चांद के समान खिला हुआ था… उसकी आंखें शर्म से लाल हो रही थी… उसके होंठ गुलाब की पंखुड़ियों के समान प्रतीत हो रहे थे।
मैंने उसके चांद जैसे चेहरे को अपने दोनों हथेलियों में लेकर उसके माथे को चूम लिया और उसके बाद उसकी आंखों को और फिर उसके होंठों पर अपने होंठ टिका दिए।

वह एक जवानी की प्यासी मेरे होंठों को ऐसे चूसने लगी कि ऐसा लग रहा था कि मुझे जन्नत मिल गई हो।

करीब 5 मिनट तक होंठों को चूसने के बाद मैं उसके ऊपर से हटा और उसके टॉप में मैंने अपना हाथ डालकर उसकी चूचियों को सहलाने लगा। धीरे धीरे वह मदहोश होने लगी और मुझसे लिपट गई। मैंने उसे एक प्यारा सा हग किया और फिर उसका टॉप उतार दिया। टॉप के साथ साथ मैंने उसकी ब्रा को भी उतार दिया।
क्या नजारा था… उसकी चूचियां मध्यम आकार की थी परंतु एकदम गुम्म्द की तरह सीधी खड़ी हुई।

उन्हें देखते ही मैं एकदम वहशी बन गया और उसकी चूचियों पर टूट पड़ा, एक चूची को मुंह में लेकर चूसने लगा और दूसरी को हाथ से मसलने लगा।
वह भी मजे में सिसकारियां ले रही थी। जब उसे मैं काट लेता तो उसे दर्द होता और वह कराहने लगती जिससे मैं और ज्यादा तड़पाने लगता। वह भी पूरी तरह से आनंद ले रही थी और मेरा साथ दे रही थी।

करीब 15 मिनट की हैवानियत के बाद मैंने उसे निहारा तो उसकी दोनों चूची बुरी तरह से लाल हो रही थी और जगह जगह मेरे दांतों के निशान पड़े हुए थे। जब उसने अपनी हालत देखी तो मैंने उसे सॉरी कहा तो वह बोली- जानू, यह तो तुम्हारी तरफ से पहला तोहफा है।
उसकी यह बात सुनकर मुझे हंसी आ गई और वो शरमा गई।

मैंने उसे अपनी बांहों में लेकर सहलाना शुरू किया। वह धीरे-धीरे गर्म होने लगी। मैंने उसके लोअर को पेंटी सहित उतार दिया। अब वह मेरी बांहों में पूर्ण नग्न रूप में समाई हुई थी। मैंने उसे बिस्तर पर सीधी लिटा दिया और उसे निहारने लगा।
मैंने उससे कहा- जानू, तुम्हारा जिस्म खुदा ने बड़ी फुर्सत से बनाया है।
उसने अपनी आंखें खोली औरबड़े ही कातिलाना अंदाज में कहा- जानेमन यह जिस्म खुदा ने सिर्फ तुम्हारे लिए बनाया है, जैसे चाहो वैसे इससे खेलो, यह तुम्हारी ही अमानत है।

यह सुन कर मेरा लंड सलामी देने लगा और मैंने उससे कहा- डार्लिंग, एक बार जन्नत के दरवाजे का दीदार तो करवा दो.
वह बोली- मेरे राजा, पहले अपने कपड़े तो उतार लो, फिर उसके बाद दीदार ही नहीं जन्नत की सैर करवा दूंगी।
उसकी यह बात सुनकर मैंने उससे कहा- तुम खुद ही उतार दो।

वह तुरंत ही बैठ गई और उसने सबसे पहले मेरी टी-शर्ट उतारी, उसके बाद मेरी बनियान उतारी और फिर अंडरवियर सहित मेरा लोवर भी उतार दिया। जैसे ही उसने मेरा लंड देखा तो वह बोली-जानू इतना बड़ा लंड चूत में कैसे जाएगा। मेरी तो जान ही निकल जाएगी।
मैंने उसे लंड पकड़ाते हुए समझाया- मेरी रानी, जब इस चूत में से पूरा बच्चा निकल आता है तो लंड क्या चीज़ है।

यह बात सुनकर वह शर्मा गई और अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिये।
दोस्तो, यह जो अहसास होता है बहुत ही आनंददायक होता है, इसका वर्णन शब्दों में नहीं किया जा सकता। जब दो जवान जिस्म आपस में चिपकते हैं तो ज्वालामुखी की तपिश भी हल्की पड़ जाती है।

उसके होंठ मेरे होंठों पर थे और उसके हाथ में मेरा लंड था और धीरे-धीरे वह मेरे लंड को सहला रही थी।
मैंने धीरे से उसके कान में कहा- मेरी जान, अब तो जन्नत के दरवाजे का दर्शन करवा दो?
तो वह तुरंत खड़ी हो गई और मेरे चेहरे के सामने अपनी दोनों टांगें फैला दी।

कसम से क्या नजारा था… चूत एकदम साफ थी। प्रतीत हो रहा था कि वह मेरे पास आने से पहले अपनी झांटें साफ करके आई हो। मेरी आंखों के सामने बहुत ही मदहोश करने वाला नजारा था।
उसकी दोनों जांघों के बीच में 1 लंबी सी दरार और उस दरार में 1 गुलाबी रंग छोटा सा छेदऔर इसी दरार और गुलाबी छेद के पीछे पूरी दुनिया पागल रहती है।

मैं अपने आप पर काबू नहीं कर सका और उसकी चूत को चूमने लगा। उसकी चूत से बहुत ही मादक खुशबू आ रही थी। जैसे ही मैंने उसकी चूत पर जीभ फिरानी शुरू की तो वह लड़खड़ाकर गिर गई और लेट कर मेरे बिना कहे अपने दोनों टांगें फैला दी।
मैं भी बिना देर किए उसके चूत पर अपना मुंह ले गया और उसकी चूत के ऊपर भाग को अपनी जीभ से सहलाने लगा। धीरे धीरे मैं उसकी चूत के अंदर अपनी जीभ को ले गया और सहलाने लगा।
उसके लिए जिंदगी का पहला अनुभव था और वह उसका पूरा आनंद ले रही थी। उसकी सिसकारियां यह बयान कर रही थी कि वह अपनी जवानी का पहला यौन सुख प्राप्त कर रही थी। करीब पांच मिनट के बाद उसका शरीर अकड़नेलगा और उसने अपने जीवन के पहले स्लखन का सुख प्राप्त कर लिया।

वह कहने लगी- जानम मेरा तो दम निकल गया।
मैंने कहा- मेरी जान, अभी तो कुछ हुआ ही नहीं है, अभी तो बहुत कुछ होना बाकी है।
वह बोली- थोड़ा सा आराम करने दो… अभी तो पूरी रात अपनी है।
मैंने उसे कहा- चलो आराम करते करते तुम अपने काम पर लग जाओ।

वह कुछ समझ पाती… तब तक मैंने अपना लंड उसके होंठों पर लगा दिया और उसने भी तुरंत अपना मुंह खोलकर लॉलीपॉप की तरह चूसना शुरु कर दिया। मैं धीरे-धीरे एक हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा और उसकी एक चूची को मुंह में लेकर चूसने लगा।
पांच मिनट में वह फिर से गर्म हो गयी और बोली- जानू मुझे अपनी जान बना लो… मुझ में समा जाओ।

मैं उसकी हालत समझ गया, मैंने बिना देर किए उसे सीधा लिटा दिया और अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया।
वह बोली- मेरे प्रियतम मेरा ख्याल रखना।
मैं उसके ऊपर झुका और उसके माथे को चूम कर बोला- रानी, बस 1 मिनट दर्द सहन कर लेना उसके बाद तुम्हें जन्नत हासिल हो जाएगी।
वह मुस्कुराई और बोली- मुझे पता है, तुम डाल दो।

मेरा लंड उसके अस्तित्व में समाने के लिए बेकरार हो रहा था। मैंने लंड पर हल्का सा दबाव बनाया तो लंड के सुपारे ने फक्क से उसकी चूत में प्रवेश किया। वह एकदम सिहर गई और बोली- जानू डर लग रहा है।
मैंने कहा- क्यों?
तो वह बोली- पहली बार चूत में कोई चीज जा रही है।
मैंने कहा- मेरी जान, आज के बाद तुम इसकी दीवानी हो जाओगी, बस 1 मिनट सहन कर लेना।
उसने सहमति में सिर्फ सिर ही हिला दिया।

मैंने अपने लंड को थोड़ा सा और अंदर खिसकाया और वहीं पर हिलाने लगा। करीब 2 मिनट हिलाने पर उसे मज़ा आने लगा और वह बोली- मेरे बालम… मेरे साजन… पूरा अंदर डाल दो।
मैंने उसे कहा- दर्द होगा…
वह बोली- मैं सहन कर लूंगी।
मैं अपनी दोनों बाजू उसके गर्दन के दोनों ओर टिका कर उसके ऊपर झुक गया और एक झटके में 7 इंच का लोड़ा नाजुक हसीना के जिस्म में घुसा दिया। वह दर्द से छटपटा गई।
मैंने तुरंत अपने होंठ उसके होंठों पर चिपका दिए और अपना पूरा वजन उसके ऊपर छोड़ दिया। मेरा लंड उसकी चूत में फँस गया। गर्म गर्म खून लण्ड के ऊपर बहने लगा।

एक मिनट बाद मैंने उसके होंठों को आजाद किया। उसकी आंखों से आंसू बह रहे थे… मैंने उसके आंसू पोंछे और कहा- मेरी रानी, आज मैं सदा के लिए तुम्हारा हो गया।
उसने मेरे चेहरे को अपने दोनों हाथों में लेकर मेरे माथे को चूमा और कराहते हुए बोली-आज से मैं तुम्हारी दासी हूं।

करीब 5 मिनट तक मैं उसी मुद्रा में उसके ऊपर लेटा रहा। उसके बाद मैंने धीरे धीरे हिलना शुरू किया। वह अपनी आंखें बंद करके लेटी रही।
मैंने पूछा- रानी दर्द हो रहा है?
तो उसने कहा- राजा, अब दर्द बहुत कम है।

मैंने धीरे-धीरे लंड की स्पीड बढ़ानी शुरू कर दी। जैसे जैसे लंड की स्पीड तेज होती गई, वैसे-वैसे उसे मजा आना शुरू हो गया और थोड़ी देर में वह खुलकर मजा लेने लगी। उसकी सिसकियां मजे वाली सिसकारियों में बदल गई, वह भी नीचे से साथ देने लगी।
उसके मुंह से तरह तरह की आवाज आने लगी- मेरे राजा… अह्ह्ह्ह ऊऊऊऊं मेरे साजन… उईईई उउउऊ मर गयी ईईई ओह्ह्ह्हो मेरे जानू आआह्ह उऊऊ ऊह्ह्ह ऊऊह्ह्ह मेरी जान लंड और तेज पेल दे उईई उऊह्ह हआअह्ह… और तेज करो… मजा आ रहा है… उउह्ह् आअह रज्जज़्ज़ा मेरे स्वामी मेरी चूत को फाड़ दें उउईई आअह्ह् ह्ह्ह्म्म्म्म और तेज और तेज मेरे राजा… उउह्ह्ह उउउईईई ह्ह्ह्हआ आआह्ह और तेज… अपने लंड को मेरी चूत में हमेशा के लिए सेट कर दो… बहुत मजा आ रहा है।

उसकी ये बातें मुझे उत्तेजित कर रही थी और मैं लगातार अपने लंड की स्पीड बढ़ा रहा था। मेरे हर झटके के साथ वह कराह उठती। अब मैं उसे एक औरत की तरह चोद रहा था। मैं अपना लंड पूरा बाहर निकालता और एक झटके में अंदर डाल देता। मुझे महसूस हो रहा था कि लन्ड अंदर जाकर किसी चीज से टकरा रहा है।

करीब 20 मिनट की चुदाई के बाद वह बोली- मेरे साजन, मेरा शरीर अकड़ रहा है।
मैंने कहा- मेरी जान बस 2 मिनट सब्र करो… दोनों एक साथ परम यौन सुख को प्राप्त करेंगे।

मैंने अपनी स्पीड तेज कर दी और मेरा भी लंड पानी छोड़ने के लिए तैयार हो गया। मैंने उससे कहा- मेरी जान, पानी कहां निकालूं?
वह बोली- मेरे राजा, जहां एक पति अपनी पत्नी को चोदते वक्त निकालता है।
उसकी यह बात सुनकर मैंने कहा- गर्भवती हो जाओगी.
तो उसने कहा- बाद में सोचेंगे यह बात… तुम अपने रस से मेरे शरीर की गर्मी को शांत कर दो।
यह कहकर वह मुझसे लिपट गई। अपने दोनों पैरों से मेरी कमर को जकड़ लिया।

मैंने अपना लंड उसके गर्भ तक पहुंचा कर पूरा पानी उसकी चूत में निकाल दिया और उससे लिपटकर लेट गया।
करीब आधा घंटा हम दोनों ऐसे ही लेटे रहे। उसके बाद उसने मुझे चूमना शुरू किया। उसने मेरे शरीर के हर हिस्से को… हर अंग को चूमा। मैंने उसे अपने आगोश में ले लिया। मैंने उसके बालों में हाथ फिराते हुए पूछा- जानू, एक बात बताओ कि अचानक यह जवानी कैसे छा गई?

मेरी बात सुनकर वह शरमा गई और बोली- मैंने परसों भाभी से उनकी सुहागरात के बारे में पूछा तो उन्होंने चुदाई के बारे में बताया कि कितना मजा आता है। और कल दिन में जब तुम्हारे पास आई थी तो भैया भाभी की चुदाई देख कर आई थी। तभी से मेरा मन चुदने को कर रहा था।
मैंने पूछा- मेरे साथ ही क्यों?
वह बोली- मैं तुम्हें शुरू से ही पसंद करती हूं. जब तुम हमारे यहां रहने आए हो, तभी से मैं तुमसे दोस्ती करना चाह रही थी। इसीलिए मैंने तुम्हें अपना सब कुछ लुटा दिया।
यह बात सुनकर मैंने उसे अपने सीने से लगा लिया।

उस रात मैंने उसकी तीन बार भयंकर चुदाई की। सुबह जब वह मेरे कमरे से जा रही थी तो मेरे लंड को पकड़कर बोली- इसने मेरा प्रोजेक्ट पूरा किया है।
उसके बाद मैं 4 साल उसके यहां रहा और 4 साल तक जब भी वह कॉलेज से छुट्टी लेकर आती तो रोज मेरे लंड का भोग लगाकर अपनी जवानी को संतुष्ट करती।

उसके और मेरे बारे में नई भाभी को भी पता चल गया था जिसके बाद मैंने उन्हें भी अपने लंड का प्रसाद दिया। यह मैं आपको अपनी अगली कहानी में बताऊंगा।

मेरी कहानी आपको कैसी लगी आप मुझे मेल करके जरूर बताएं मेरी ईमेल है
[email protected]
आप मेरी सभी कहानियाँ कहानी के शीर्षक के नीचे दिए गए मेरे नाम पर क्लिक करके पढ़े सकते हैं.