तीन पत्ती गुलाब-10

(Teen Patti Gulab- Part 10)

सुबह के लगभग 8 बजे हैं। रात को थोड़ी बारिश हुई थी इस वजह से मौसम आज थोड़ा खुशगवार (सुहावना) सा लग रहा है। अक्सर ऐसे मौसम में मधुर नाश्ते में चाय के साथ पकोड़े बनाया करती है। पर आजकल तो मधुर के पास मेरे लिए जैसे समय ही नहीं है। मधुर तो कब की स्कूल जा चुकी है.

और गौरी रसोई में चाय बनाते हुए कोई गाना गुनगुना रही है…
“मेरे रश्के कमर तूने पहली नज़र…!
नज़र से मिलाई मज़ा आ गया…!!”

साली यह गौरी भी बात करते समय तो तुतला सी जाती है और शब्दों का उच्चारण ठीक से नहीं कर पाती पर गाना गाते समय तो कमाल करती है। अगर वह थोड़ी कोशिश और रियाज़ (अभ्यास) करे तो बहुत अच्छा गा सकती है।

थोड़ी देर में गौरी चाय लेकर आती दिखाई दी। आज कोई 7-8 दिनों बाद गौरी को देखा था।

आज उसने हल्के पिस्ता रंग की हाफ बाजू की शर्ट और पायजामा पहन रखा था। शर्ट के ऊपर के दो बटन खुले थे। लगता है आज उसने शर्ट के अन्दर ब्रा के बजाय समीज पहनी है। उसने अपने खुले बाल एक रिबन से बाँध कर चोटी के रूप में गर्दन के पास से होते हुए एक तरफ छाती पर डाल रखे थे। दोनों भोंहों के बीच एक छोटी सी बिंदी। लगता है आज उसने पहली बार सलीके से आई ब्रो बनाई है। मुझे तो लगता है यह सब मधुर का कमाल रहा होगा।

कुछ भी कहो, उसकी आँखें और भवें आज किसी कटार से कम नहीं लग रही है। मुझे लगता है आई ब्रो के साथ-साथ उसने अपनी सु-सु को भी जरूर चिकना बनाया होगा।
मेरा लड्डू (लंड) तो उसे देखते ही फड़फड़ाने लग गया है।

मैंने अपने पप्पू को पायजामें में सेट किया ताकि बेचारे को कम से कम अपनी गर्दन तो सीधी रखने में परेशानी ना हो। मैंने देखा गौरी ने तिरछी नज़रों से मेरी इस हरकत को नोटिस कर लिया था इसलिए वो मंद-मंद मुस्कुरा रही थी।

जैसे ही वह ट्रे रखने के लिए थोड़ा सा झुकी, खुले बटनों वाली शर्ट में कंगूरों के अलावा गोल गुलाबी नारंगियाँ पूरी दिखने लगी थी।
उसने चाय की ट्रे टेबल पर रख दी।

मुझे आश्चर्य हुआ आज गौरी चाय के लिए एक ही गिलास लाई थी।

“अरे गौरी आज एक ही गिलास क्यों? क्या तुम नहीं पिओगी?” मैंने पूछा।
“आज मैंने दीदी के साथ चाय पी ली थी।”
“ठीक है भई! तुम्हारे लिए तो तुम्हारी दीदी ही सर्वोपरि है।”
“आप ऐसा त्यों बोलते हैं?”
“तुम्हें तो पता है मैं अकेला चाय नहीं पीता?”
“ओह… पल मैंने तो एत ही तप चाय बनाई है?”
“तो क्या हुआ इसी में से आधी-आधी पीते हैं? जाओ एक खाली गिलास और ले आओ.”
“हओ”
गौरी रसोई से खाली गिलास ले आई और पास वाले सोफे पर बैठ गई।

मैं टूअर से आते समय गौरी के लिए सोनाटा की एक सुनहरे रंग की कलाई घड़ी और इम्पोर्टेड चोकलेट खरीद कर गिफ्ट पेपर में पैक करवा ली थी। मैंने जानकर इसे अपने बगल में सोफे पर रखा था ताकि इसपर गौरी की नज़र पहले ना पड़े।

अब मैंने वो दोनों पैकेट निकाल कर टेबल पर रखते हुए कहा- देखो तो गौरी यह क्या है?
“त्या है?” उसने हैरानी से मेरी ओर देखा।
“पता है … मैं यह गिफ्ट तुम्हारे लिए स्पेशल आगरा से लेकर आया हूँ.”
“सच्ची?” गौरी की आँखें ख़ुशी के मारे चमक उठी।
“त्या है इसमें?” गौरी ने दोनों गिफ्ट हाथ में पकड़ लिए।

उसे शायद विश्वास ही नहीं हो रहा था कि मैं उसके लिए गिफ्ट लेकर आउंगा।
“गिफ्ट कोई बता कर थोड़े ही दी जाती है। अभी तो तुम अंदाज़ा लगाओ बाद में खोल देख लेना और मुझे भी दिखा देना।” कहकर मैं हंसने लगा।
अब गौरी थोड़ा उलझन में थी।

“पहले इसे अपने कमरे में रखकर आओ फिर हम दोनों चाय पीते हैं।”
“हओ”
“गौरी, यह बात मधुर को मत बताना प्लीज.”
“हओ थीत है।” गौरी रहस्यमई मुस्कान के साथ फटाफट उन दोनों पैकेट्स को अपने कमरे की अलमारी रख आई और फिर से बगल वाले सोफे पर बैठ गई। आज तो उसकी आँखों की चमक और ख़ुशी देखने लायक थी।

“गौरी! आज तो चाय में चीनी मिलाई है या फिर से भूल गई?” मैंने थर्मस से थोड़ी-थोड़ी चाय दोनों गिलासों में डालते हुए पूछा।
“तोई लोज-लोज थोड़े ही भूलती हूँ?” उसने हँसते हुए कहा।
“अगर भूल भी जाओ तो कोई बात नहीं उस दिन की तरह अपने बस होंठ लगा देना? अपने आप मीठी हो जायेगी।” कह कर मैं जोर जोर से हंसने लगा।
“हट!” गौरी तो गुलज़ार ही हो गई।

हे भगवान्! आज तो उसके पतले-पतले गुलाबी होंठ बहुत ही कातिल लग रहे हैं। इन होंठों से अगर वह मेरा पप्पू चूस ले तो खुदा कसम मज़ा आ जाए। पप्पू मियाँ तो लगता है आज ख़ुदकुशी करने पर आमादा है। वह जोर-जोर से ठुमके लगा रहा है और उसने प्री-कम के कई तुपके छोड़ दिए हैं।

“अच्छा गौरी एक बात बताओ?” मैंने चाय का सुड़का लगाते हुए पूछा।
“हुम्?”
“वो उस दिन तुम्हें कैसा लगा था?”
“तब?” गौरी ने हैरानी से मेरी ओर देखा। या… अलाह… उसके कमान सी तनी भोंहों के नीचे किसी हिरनी जैसी चंचल आँखें ऐसे लग रही थी जैसे कामदेव ने अपने तरकस के सारे बाण एक साथ छोड़ दिए हों।
“अरे वो… हमारा खूबसूरत अधर मिलन?”
“अध…ल मिन…ल?” उसने कुछ याद करने की कोशिश करते हुए मेरे शब्द दोहराए।

“अरे बाबा मैं उस दिन के चुम्बन की बात कर रहा था?”
“ओह… वो… हट!” गौरी जिस प्रकार शरमाई थी मुझे लगा मैं गश खाकर गिर पडूंगा। शर्माते हुए जब वो अपनी मुंडी नीचे झुकाती है तो खुले बटनों वाली शर्ट में छिपे दोनों गुलाबी परिंदों की चहलकदमी देखकर मन फड़फड़ाने लगता है। पता नहीं इनकी नज़दीक से देखने, छूने, मसलने और इनका रस पीने का मौक़ा कब आएगा। मैं तो बस अपनी जीभ अपने होंठों पर फिरा कर ही रह जाता हूँ।

“क्या हट?”
“मुझे ऐसी बातों से शल्म आती है?”
“इसमें भला शर्माने वाली क्या बात हो गई?”
“शल्म तो आती ही है ना?”
“अच्छा शर्म की बात छोड़ो तुम्हें अच्छा तो लगा ना?”
“किच्च… मुझे नहीं मालूम!” कह कर गौरी ने फिर अपनी मुंडी नीचे झुका ली।

मैं गौरी के मन के भावों को अच्छी तरह समझ सकता था। उसकी साँसें बहुत तेज़ हो रही थी और दिल की धड़कन भी बढ़ गई थी। वो अपने चहरे पर आई रोमांचभरी मुस्कान को छिपाने की नाहक कोशिश कर रही थी। मैं जानता हूँ उसे यकीनन यह सब अच्छा तो जरूर लगा होगा पर वह जाहिर तौर पर (प्रकट रूप में) नारी सुलभ लज्जा के कारण इसे मुखर शब्दों में स्वीकारने में अपने आप को असमर्थ पा रही होगी। वह कुछ असहज सा महसूस कर रही थी इसलिए अब बातों का विषय बदलने की जरूरत थी।

“अरे गौरी! अब वो तुम्हारी मदर की तबियत कैसी हैं?”
“ह… हाँ.. अब ठीत है.”
“थैंक गोड! जल्दी ठीक हो गई वरना तुम्हारे तो दीदार ही मुश्किल हो जाते.”
“तैसे?”
“तुमने तो हमें याद ही नहीं किया इन 7-8 दिनों में?”
“मैंने तो आपको तित्ता याद किया मालूम?”
“हट! झूठी?”
“सच्ची?”
“तो फिर फ़ोन क्यों नहीं किया?”
“आपने भी तो नहीं तिया?”

साली कितनी स्मार्ट बन गई है आजकल झट से पलटकर जवाब दे देती है।
“हाँ…. पर मैं मधुर से जरूर तुम्हारे बारे में पूछता रहता था.”
“पल दीदी ने तो बताया ही नहीं?”
“हा … हा … हा … उसे मेरे से ज्यादा चिंता तुम्हारी रही होगी ना!”
फिर हम दोनों इस बात पर खिलखिला कर हंस पड़े।

“गौरी! वो… अनार या अंगूर नहीं आई क्या?”
“बस एत बाल (एक बार) अस्पताल में मिलने आई थी फिल चली गई।”
“कमाल है?”
“सब मेली ही जान ते दुश्मन बने हैं?”
“और वो तुम्हारी भाभी?”
“वो पेट फुलाए बैठी है.” उसने अपने दोनों हाथों को अपने पेट पर करते हुए भाभी के प्रेग्नेंट होने का इशारा किया।

“अच्छा है तुम बुआ बन जाओगी?” मैंने हँसते हुए कहा।
“हओ! नौवाँ महीना चल लहा है। शायद अगले महीने के शुरू में बच्चा हो जाए।
“गौरी वो… अनार के क्या हाल हैं?”
“उस बेचाली ते तो भाग ही फूट गए हैं?”
“अरे… क्यों? ऐसा क्या हुआ?”
“टीटू लोज दालू पीतल माल-पिटाई तलता है।” (टीटू रोज दारु पीकर मार-पिटाई करता है।)
“क… कौन टीटू?”
“अले वो नितम्मा जीजू?”
“ओह…”
“बेचाली ते तीन बच्चे हो गए हैं और अब चौथे ती तैयाली है।”
“ओह …”

ये अनपढ़ निम्नवर्गीय परिवारों में लोग बस बच्चे ही पैदा करने में लगे रहते हैं। औरतें बेचारी 4-4, 6-6 बच्चे पैदा करती हैं और बाहर घरों में काम या मजदूरी करके घर चलाती हैं। पति की मार भी खाती खाती हैं और उनको को दारु पीने के पैसे भी देती हैं। सच में अनार के बारे में जानकार बहुत दुःख हुआ।

“और अंगूर के क्या हाल हैं?”
“वो तो खाय-खाय ते गुम्बी होय गई है.” गौरी ने अपने दोनों हाथों की मुठ्ठियाँ भींचकर अपनी कोहनियाँ उठाते हुए मोटे आदमी के नक़ल उतारते हुए कहा और फिर हम दोनों हँसने लगे।
“हा… हा…”
“वो भी घरवालों से मिलने नहीं आती क्या?”
“अले उसते नखरे तो बस लहने ही दो?”
“क… क्यों?… कैसे?”
“पता है … आजतल वो चाय नहीं पेशल तोफी (कॉफ़ी) पीती है और खाने में लोज बल्गल, पिज़्ज़ा, विदेशी चोतलेट पता नहीं त्या-त्या खाती है। औल लोज नए-नए डिजाइन ते सूट पहनती है।”
शायद गौरी के मन में कहीं ना कहीं अंगूर के लिए कुछ खटास और ईर्ष्या जरूर रही होगी। मैं तो सोचता था गौरी के मन में अंगूर के लिए उसके प्रोढ़ और लंगड़े पति (मुन्ने लाल) को लेकर सहानुभूति होगी पर यहाँ तो मामला ही उलटा लग रहा है।

“अच्छा?” मैंने हैरानी जताई।
“औल पता है उसने नई एटीवा की फटफटी (एक्टिवा स्कूटर) ली है तिसी तो हाथ भी नहीं लगाने देती। मेमसाब बनी घूमती लहटी है।”
“गौरी तुम्हारा भी स्कूटी चलाने का मन करता है क्या?”
“हओ! मेला तो बहुत मन कलता है। दीदी बोलती हैं उनते व्रत ख़त्म होने ते बाद मुझे भी फटफटी चलाना सिखाएंगी.”
“हुम्म”

“अम्मीजॉन (अमेजोन) से उसने सोनाटा ती घड़ी औल म्यूजित सिस्टम भी मंगवाया है। उसके तो मज़े ही मज़े हैं। औल सोलह हजाल ता तो नया मोबाइल लिया है साले दिन फेस बुत और यू-ट्यूब देखती लहती है।”
“तो फिर घर का काम कौन करता है?”
“घल ता साला ताम तो उसती पहले वाली लड़तियाँ तलती है और वो महालानी ती तलह लाज तल लही है। तितनी बढ़िया तिस्मत पाई है।” (घर का काम तो उसकी पहले वाली लड़कियां करती हैं और वो महारानी की तरह राज कर रही है। कितनी बढ़िया किस्मत पाई है।)
“अच्छा?”
“हओ”

“अच्छा गौरी एक बात तो बताओ?”
“त्या?”
“वो… अंगूर के कोई बच्चा-वच्चा हुआ या नहीं?”
“वा हलामजादी जीजू तो देवेई नाई तो बच्चो खां से होगो? बोलो?” शायद उसने फैजाबाद की क्षेत्रीय भाषा में बोला था। लगता है आज गौरी को अंगूर पर बहुत गुस्सा आ रहा है।
“क… क्या मतलब? क्या नहीं देती? खाने को नहीं देती क्या?”
“अले… आप समझे नहीं… वो… वो…” कहते कहते गौरी रुक गई।
“बोलो ना? क्या नहीं देती?”

अब उसे अपनी गलती का अहसास हुआ कि अनजाने गुस्से में कुछ अनचाहा बोल गई है। उसने मारे शर्म के अपनी मुंडी झुका ली थी। कोई और मौक़ा होता तो गौरी शर्म के मारे रसोई में भाग जाती पर आज वो शर्म से गडी अपनी मुंडी नीचे झुकाए बैठी रही।

ईईईस्स्स … हे लिंग देव! गौरी शर्माते हुए कितनी खूबसूरत लगती है तुम क्या जानो। शर्माने की यह अदा और उसके गालों पर पड़ने वाले गड्ढे तो किसी दिन मेरे कलेजे का चीरहरण ही कर डालेंगे। मेरा लड्डू तो अपना माथा ही फोड़ने लगा था। मन कर रहा था अभी गौरी को बांहों में लेकर 15-20 चुम्बन उसके गालों और होंठों पर ले लूं।

“हा… हा… इसमें शर्माने वाली क्या बात है?” मैंने हंसते हुए गौरी की ओर देखा।
“आप हल बाल मुझे बातों में फंसा लेते हो? अब मैं आपसे तोई बात नहीं तलूंगी.” गौरी ने मुंह फुलाते हुए उलाहना सा दिया।
“गौरी एक तरफ तुम मुझे अपना मित्र मानती हो और फिर बात-बात में शर्माती भी हो।”

“ऐसी बातों में शल्म नहीं आएगी क्या?”
“तो क्या हुआ? शर्म आएगी तो कौन सी यहाँ रुकने वाली है आकर अपने आप चली जायेगी तुम बेकार क्यों चिंता करती हो?”
फिर हम दोनों हंस पड़े।
अचानक गौरी ने नाक से कुछ सूंघने का सा उपक्रम किया। मैंने भी कुछ जलने की दुर्गन्ध सी महसूस की।
“हे भगवान् … मेला दूध…” कहते हुए गौरी रसोई की ओर भागी। शायद धीमी गैस पर उबलने के लिए रखा दूध किसी दिलजले आशिक की तरह जल गया था।

आज का सबक पूरा हो गया था।

अगले 2-3 दिन भरतपुर में बहुत जोरों की बारिश होती रही। बारिश इंतनी भयंकर थी कि प्रशासन को स्कूल बंद करने के आदेश देने पड़े। अब मधुर की घर रुकने की और मेरी गौरी से बात करने की प्रबल इच्छा होते हुए भी बात ना कर सकने की मजबूरी थी। अलबत्ता हम दोनों इशारों में जरूर एक दूसरे को अपनी मजबूरी दर्शाते रहे।

कई बार मन में आया गौरी से मोबाइल पर ही बात कर लूं पर फिर सोचा कहीं मधुर को इसकी भनक भी लग गई तो इस बार लौड़े नहीं लगेंगे अलबत्ता वो हम दोनों को काटकर कच्चा ही चबा जायेगी।

मेरा सामना जब भी गौरी से होता तो उसकी आँखों में आई चमक और नितम्बों की लचक से मैं इस बात का अंदाज़ा तो लगा ही सकता हूँ कि गौरी भी बात करने के लिए बहुत उत्सुक है पर मधुर के सामने वह ज्यादा बात करने से संकोच कर रही है।

आज 3-4 दिनों के बाद बच्चों के स्कूल दुबारा खुल गए हैं और मधुर स्कूल चली गई है। पिछले 3-4 दिनों में मधुर मुझे भी जल्दी उठा देती है।

सावन के महीने में सुबह-सुबह कितनी प्यारी नींद आती है और देर तक सोने में कितना मज़ा आता है आप समझ सकते हैं पर मधुर को कौन समझाए। वो कहती है ‘आप सुबह जल्दी उठकर योगा और प्राणायाम किया करो।’ साले इस योनिस्वरूपम (चुतिया) योग बाबा की तो माँ की…

आज भी मैं थोड़ा जल्दी उठ गया था। मधुर ने बेडरूम में ही चाय पकड़ा दी थी। आज मैंने कई दिनों बाद पप्पू का मुंडन किया था और तेल लगाकर मालिश भी की थी। बाथरूम से फारिग होकर जब तक मैं बाहर आया तब तक मधुर स्कूल जा चुकी थी।

गौरी तो जैसे मेरा इंतज़ार ही कर रही थी।

कहानी जारी रहेगी.
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top