सहेली की सुहागसेज पर दूल्हे ने मुझे चोदा-2

(Saheli Ki Suhagsej Par Dulhe Ne Mujhe Choda- Part 2)

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है:

अब तक आपने पढ़ा..
साक्षी जिसकी सुहागरात मन ही नहीं पाई थी क्योंकि वो मासिक धर्म से गुजर रही थी.. और उसके पति यानि जीजू मुझे चोदने के चक्कर में थे।
अब आगे..

मैं बोली- सच बोल रहे या मेरे साथ मजाक कर रहे हो?
हालांकि मैं तो सब कुछ जानती थी, फिर भी जीजू को तड़पा रही थी।
जीजू बोले- अगर मेरी बात पर यकीन नहीं हो तो साक्षी से पूछ लो।

फिर मुझे एक शरारत सूझी। मैं उठी और जीजू के पास गई और उनके गाल को उमेठते हुए अफसोस जताते हुए बोली- मेरे प्याले बेचारे जीजू..

मैंने झुक कर उन्हें अपनी चूचियों के दीदार करवा दिए और मैं जाने लगी।
जीजू भी कहाँ पीछे रहने वाले थे, उन्होंने मुझे खींचते हुए अपने गोद में बिठा लिया और बोले- मेरी ड्रीम गर्ल.. अपने आशिक को छोड़ कर कहाँ जा रही हो?
यह बोलकर उन्होंने मुझे कसकर गोद में तेजी से दबा लिया।

मैं कसमसाते हुए बोली- छोड़ो जीजू.. यह क्या कर रहे हो?
हालांकि मुझे भी मजा आ रहा था।
जीजू बोले- यार सोफे पर तुम बैठोगी ही.. इससे बढ़िया है कि मेरी गोद में ही बैठो.. कम से कम किसी का तो भला होगा।
फिर मैं बोली- अच्छा जी किसी का भला करने के चक्कर में कहीं मेरे साथ कुछ बुरा ना हो जाए।

जीजू मेरी जांघों को सहला रहे थे, वो मेरी गर्दन पर गर्म साँस छोड़ते हुए बोले- मेरी रानी.. इस प्यासे को एक बार अपनी इस गर्म जवानी का रस पीने का मौका दे दो।

जीजू अब पूरी तरीके से गर्मा गए थे, मेरी गर्दन पर गर्म-गर्म साँसें छोड़ रहे थे.. जिससे मैं भी मदहोश होने लगी थी।

अब जीजू का का लंड नीचे एकदम टाईट हो चुका था और उनका सख्त हो चुका लंड मेरी गांड में चुभ रहा था। मैं भी अब चुदने के लिए अन्दर से एकदम तैयार हो गई थी लेकिन मैंने अपने आपको संभाला और जीजू से जबरदस्ती अलग हो गई।

जीजू बोले- क्या हुआ मेरी जान.. कितना ज्यादा मजा आ रहा था।
फिर मैं एक्टिंग करते हुए बोली- नहीं जीजू.. ये गलत है.. मैं यह सब नहीं करवा सकती।
जीजू बोले- इसमें गलत क्या है? यार साली तो वैसे भी आधी घरवाली होती है।
मैं बोली- हाँ पर आधी होती है.. पूरी नहीं।

इस पर जीजू बोले- यार जीजू समझ कर ना सही.. ब्वॉयफ्रेंड समझ कर ही चुदवा लो। वैसे भी जब से तुम्हें देखा है.. मैं तुम्हारा दीवाना हो गया हूँ। बस एक बार मुझे चोदने का मौका दो। यह बोल कर वह बहुत ज्यादा गिड़गिड़ाने लगे।

मैं बोली- ठीक है.. लेकिन इससे मेरा क्या फायदा होगा?
जीजू बोले- तुम बोलो.. तुम्हें क्या चाहिए.. गाड़ी, बंगला, रूपए, डायमंड सैट.. बोलो क्या चाहिए?
मैं बोली- यह सब मेरे पास पहले से ही है।
जीजू बोले- फिर क्या चाहिए मेरी रानी..
ये बोलकर उन्होंने मेरे गालों का एक चुम्बन ले लिया।

मैं बोली- चूत के बदले चूत।
जीजू बोले- मैं कुछ समझा नहीं.. खुल कर बताओ और जल्दी बताओ।
मैं बोली- मैं तुमसे एक शर्त पर चूदूंगी। कि साक्षी को भी किसी और से चुदना पड़ेगा।

जीजू ने बिना समय गंवाए ‘हाँ..’ कर दिया और बोले- तुम जिससे चाहो साक्षी को चुदवा लेना.. मैं कभी नहीं रोकूंगा।

मैं तो बस जीजू को टेस्ट कर रही थी। लेकिन जीजू तो मेरे हुस्न के चक्कर में बिल्कुल पागल हो गए थे, वे अपनी बीवी को दूसरों से चुदवाने के लिए भी तैयार हो गए थे।

जीजू बोले- बस अब तुम मेरे से चुदवा लो।
मैं बोली- ठीक है.. लेकिन कहाँ?
तो जीजू बोले- इसी सुहाग-सेज पर रानी।
मैं बोली- यहाँ नहीं.. कोई आ जाएगा।
जीजू बोले- कोई नहीं आएगा रानी.. सब जानते हैं कि ये ‘न्यू-कपल’ का कमरा है।

मैं बोली- साक्षी तो बाथरूम में है.. वह आ गई तो?
जीजू झट से उठे.. उन्होंने बाथरूम की कुण्डी को बाहर से लगा दी और बोले- वह एक घंटे से पहले नहीं आने वाली है। तब तक हम निपट लेंगे।
मैं बोली- ठीक है.. लेकिन जो करना है.. जल्दी करो.. मुझे भी जल्दी घर जाना है।

जीजू अब बिना समय गंवाए मुझे अपनी बाँहों की गिरफ्त में लेकर बेताहाशा मेरे गालों को चूमने लगे.. मेरे होंठों को ऐसे चूस रहे थे.. जैसे कि होंठ ना हों.. कोई लेमनचूस की गोली हों।

फिर जीजू ने बिना समय गंवाए मेरे टॉप और ब्रा को उतार दिया। मेरी बड़ी सी दूधिया चूचियों को देखकर बिल्कुल बेकाबू हो गए। मेरी चूचियों पर अभी भी अंकल के दाँतों के निशान थे.. जो मेरी चूचियों पर चार चाँद लगा रहे थे।

जीजू मेरी एक चूची को दाँतों से काटे जा रहे थे और एक चूची को बुरी तरह से मसले जा रहे थे। मुझे दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था।

फिर मैं कराहते हुए जीजू से बोली- जीजू काटो मत यार.. निशान पड़ जाएगा।
जीजू बोले- साली रण्डी.. पूरी चूची तो पहले से ही कटवा कर आई है, अब मेरे काटने से दिक्कत हो रही है? साली छिनाल.. चुदक्कड़ ना जाने कहाँ-कहाँ से चुदवा कर आई हो और मेरे सामने नखरे कर रही हो।

मुझे ऐसी गाली पहले किसी ने नहीं दी थी पर इस समय सुनकर अच्छी लग रही थी।
अब जीजू उठे और मेरी जींस खोलने लगे।

मैं बोली- जीजू अपने कपड़े भी तो उतारो।

यह सुनते ही उन्होंने झट से अपने कपड़े उतार दिए। जैसे ही मैंने उनका लंड देखा.. मैं तो देखकर ही पागल हो गई कि किसी भारतीय का इतना भयानक लंड कैसे हो सकता है।
जीजू का लंड करीब 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा होगा।

जीजू मुझसे लंड चूसने के लिए बोले.. पर मैंने मना कर दिया। फिर उन्होंने मेरी जीन्स उतार दी और मेरी नंगी चूत को देखकर उनके भी होश उड़ गए।

वह सब कुछ भूलकर मेरी चूत खाने लगे। मुझे जीजू के दाँत चुभ रहे थे लेकिन उस समय मैं बिल्कुल मदहोश थी। करीब 10 मिनट तक वह मेरी गुलाबी चूत को चाटते ही रहे।
अब मैं झड़ने वाली थी और मैं बड़बड़ाने लगी थी- आह्ह.. और तेज जीजू..

तभी जीजू उठकर खड़े हुए और मेरी चूत में ढेर सारी क्रीम लगा कर उंगली चूत के अन्दर-बाहर करने लगे और मैं उसी वक्त झड़ गई।

अब जीजू ने मुझे उठाकर बिठा दिया और वे अब भी एक हाथ से मेरी चूत में उंगली कर रहे थे। साथ ही वो एक हाथ से मेरी चूची से दूध निकालने की कोशिश कर रहे थे।

वे अपने होंठों से मेरे होंठों का रस चूस रहे थे। मुझे जीजू का ये अंदाज बहुत पंसद आया। मैं फिर से गर्माने लगी थी। अब जीजू ने मुझे फिर से लिटा दिया और अपने लंड पर ढेर सारी क्रीम लगा कर लंड को हिलाने लगे और उन्होंने मेरी चूत पर निशाना लगा दिया।

अब वो बड़े प्यार से सुपारा मेरी चूत में अन्दर करने लगे। सुपारे के चूत में अन्दर जाते ही मुझे फिर से दर्द होने लगा.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… मैं दर्द से कराहने लगी।

जीजू ने बड़े प्यार से एक तेज झटका मारा और पूरा लंड एक बार में मेरी चूत में अन्दर कर दिया।

अब दर्द असहनीय हो रहा था मगर चिल्ला भी नहीं सकती थी। जीजू मेरे होंठों को अपने होंठों से लॉक किए हुए थे और मेरी चूचियों को बेदर्दी से मसल रहे थे। साथ ही वो अपने भीमकाय लंड को मेरी चूत में आगे-पीछे किए जा रहे थे।

थोड़ी देर बाद दर्द कम हुआ और धीरे-धीरे मुझे मजा आने लगा।
यह हिन्दी सेक्स कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

अब जीजू ने अपनी स्पीड बढ़ा दी, मैं भी चुदाई की मस्ती के सागर में गोते लगा रही थी और जीजू का जमकर साथ दे रही थी।
मुझे काफी मजा आने लगा था, मेरे मुँह से अपने आप कामुक आवाजें निकलने लगी थीं ‘आहह.. आओहहह..’

मैं सातवें आसमान पर थी। पहली बार मुझे चुदाई में इतनी ज्यादा मजा आ रहा था।
मैं जीजू से बोली- आह्ह.. फाड़ दो मेरी चूत को.. आह्ह.. भोसड़ा बना दो।
जीजू हचक कर मेरी चूत का भुरता बनाते रहे।

कुछ देर बाद मैं झड़ने को आ गई तो मैंने जीजू से बोला- और तेज जान.. और तेज.. अपनी साली को अपनी रंडी बना लो.. आह्ह.. मैं गई..।
यह बोलते-बोलते ही मैं झड़ गई।

मैंने झड़ते ही जीजू से बोला- आह्ह.. जीजू बस भी करो.. कितना चोदोगे।
उन्होंने मेरी बात को अनसुना करते हुए अपनी स्पीड और बढा़ दी।

अब मेरी चूत में जलन होने लगी थी। लेकिन जीजू रूक ही नहीं रहे थे। करीब 10-15 मिनट बाद उन्होंने मेरी चूत में गर्मा-गर्म ज्वालामुखी छोड़ दिया और मेरे ऊपर ऐसे ढेर हो गए जैसे मानो पड़ोसी देश की माँ चोद कर आए हों।

कुछ पल बाद मैंने जीजू को उठाया और अपने-आप को देखा, अभी भी मेरी चूत से वीर्य गिर रहा था।

मैं सोचने लगी कि अभी 12 घंटे पहले तक मैं अनछुई कन्या थी और अभी तक 3 अलग-अलग लंड ले चुकी हूँ। मैं पिछले 12 घंटों में पक्की चुदक्कड़ बन गई थी या यूँ कहें कि एक चालू रण्डी बन चुकी थी।

अब मैं उठी.. अपनी चूत साफ करके कपड़े पहन लिए। फिर जीजू उठे और बोले- सॉरी डार्लिंग.. मैं तुम्हारी चूत में ही झड़ गया.. लेकिन मैं भी क्या करता.. तुम हो ही इतनी हॉट कि मैं अपने आपको संभाल नहीं पाया और तुम्हारी चूत में ही झड़ गया।

फिर जीजू मुझे एक टैबलेट का पैकेट दिया और बोले- यह रात को खा लेना कुछ नहीं होगा।
मैं बोली- अब मैं जा रही हूँ.. नहीं तो मॉम टेंशन में आ जाएंगी।

जीजू नंगे ही खड़े हो गए और मुझे गले से लगाकर बोले- यार तुम्हारा ये अहसान मैं जिन्दगी भर नहीं भूलूँगा.. तुमने इस सुहागसेज को खाली न रहने दिया और मुझे तुम जैसी हॉट लड़की के साथ सुहागदिन मनाने का मौका मिला।

मैं मन ही मन सोच रही थी कि शायद यह सुहागसेज मेरी चूत के लिए ही सजाई गई थी। इसलिए सुहागरात अंकल के साथ और सुहागसेज अपनी दोस्त के पति के साथ साझा कर ली।

जीजू ने मुझे लम्बा किस किया और मैं वहाँ से चल दी।

दोस्तो, मुझे उम्मीद है कि आप को मेरी यह सत्य कथा अच्छी लगी होगी।

अब आगे मैं किस-किस के साथ चुदी.. यह मैं अगली कहानी में बताऊँगी। आप लोगों को यह कहानी कैसी लगी.. मुझे मेल कर के जरूर बताएं।

आप लोगों की प्यारी आपकी मधु
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! सहेली की सुहागसेज पर दूल्हे ने मुझे चोदा-2