रैगिंग ने रंडी बना दिया-16

(Ragging Ne Randi Bana Diya- Part 16)

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है:

अब तक आपने मेरी इस सेक्स स्टोरी में पढ़ा था कि संजय और टीना समेत सभी दोस्त शाम को पार्टी में फ्लॉरा का इन्तजार कर रहे थे।
अब आगे..

संजय चुपचाप उन सबकी बातें सुन रहा था मगर टीना से रहा नहीं गया- पागल हो गए हो क्या? ज़बरदस्ती से काम बिगड़ जाएगा.. संजय तुम इनको कुछ बोलते क्यों नहीं?
संजय- अरे ख्याली पुलाव हैं.. पका लेने दो.. साले को कौन सा ये सच में उसका बलात्कार करेगा हा हा हा हा।
वीरू- क्या यार, तूने ही तो कहा था कि आज चुत का इंतजाम हो गया।
संजय- साले मैंने आज का नहीं कहा था, बस इंतजाम हो गया ये कहा था, अब उसको पटाने तो दो.. तुम सब ऐसे वहशी बनोगे तब तो समझो स्कीम फेल ही हो गई।

साहिल- यार सब लोग चुप हो जाओ.. संजय ने कुछ तो सोचा होगा, ऐसे तो उसने हमें यहाँ बुलाया नहीं है।
संजय- देखो सिर्फ़ ये अकेला समझदार है.. बाकी सब चूतियापने की बातें कर रहे हो। अब तुमको स्कीम बताने का टाइम आ गया।
अजय- जल्दी बता यार.. मेरा लंड तो उसकी गांड मारने को बेताब हो रहा है।
टीना- अबे साले उसकी गांड देखी है तूने.. तेरी मूँगफली कहीं खो ना जाए उसमें हा हा हा हा..

टीना के साथ सब हंसने लगे और अजय चिढ़ गया और गुस्से में उसने लंड पेंट के बाहर निकाल लिया।

अजय- क्या मूँगफली बोलती है साली.. देख लो नाप ले ले.. पूरे 5″ का है.. ये तो अभी नॉर्मल साइज़ है, अब ये बाकी सबका 7″ 8″ का है तो मेरा तुझे छोटा हे लगेगा ना।
संजय- अबे साले बंद कर.. वो आ जाएगी तो सारा गेम ओवर हो जाएगा।
साहिल- तुम स्कीम बताओ यार, ये तो ऐसे ही करेगा.. साला आदत से मजबूर है ये!
संजय- सुनो उस साली को मैंने सुबह ही ताड़ लिया था, अच्छी तरह चुदी चुदाई है.. मगर हमारे सामने नाटक कर रही थी। अब उसके मुँह से हम उगलवा लेंगे कि वो चुदी हुई है, उसके बाद उसको बातों में फँसा लेंगे और साली खुद ब खुद चुदने को तैयार हो जाएगी। मगर तुम सब सुन लो, सालों ज़ज्बात में जल्दी आ जाते हो.. जरा कंट्रोल में रहना।
साहिल- बात तो समझ में आ गई मगर वो खुद कैसे बोलेगी उसका क्या प्लान है?

संजय ने विस्तार से सबको अपनी स्कीम बताई और कैसे सबको एक्टिंग करनी है.. ये समझा दिया।

वीरू- वाह यार अब सब समझ में आ गया.. अब तो साली चुदेगी ही चुदेगी।

फिर 15 मिनट तक सब नॉर्मल बातें करते रहे.. तभी गेट पर नॉक हुई तो संजय खड़ा हुआ और गेट खोलने चला गया। गेट खोला तो सामने फ्लॉरा ही थी, उसने पिंक कलर का शॉर्ट टॉप और नीचे ब्लू जींस की कॅप्री पहनी हुई थी। वो सेक्स की जीती जागती देवी लग रही थी। जब वो अन्दर आई सबके होश उड़ गए। उसके भारी भरकम चूचे टॉप को फाड़ कर बाहर आने को बेताब थे। उसका गोरा पेट साफ दिख रहा था और कॅप्री में उसकी गांड की कसावट कुछ अलग ही दिख रही थी।

फ्लॉरा- हे गाइस.. हाउ आर यू.. मैं लेट तो नहीं हुई ना!
सबने फ्लॉरा को हाय कहा और संजय ने कहा कि वो बिल्कुल टाइम पे आई है।

फ्लॉरा- वैसे आप ही सब यहाँ हो.. बाकी कोई नहीं दिखाई दे रहा और पार्टी जैसा माहौल भी नहीं है एवेरीथिंग इस फाइन ना..!
संजय- अरे सब ठीक है.. तुम समझी नहीं, पार्टी तो बस एक बहाना था.. असल तो हम सब अच्छे से आपस में मिल लें, इसलिए छोटी सी पार्टी रखी है और हाँ सुबह के लिए सॉरी यार.. वो रैंगिंग वाली बात तुम सीनियर्स की कैटेगरी में आती हो।
फ्लॉरा- ओह कोई बात नहीं.. ये तो चलता रहता है, सुबह आप जैसे रैंगिंग कर रहे थे.. मैं तभी समझ गई थी आप बुरे नहीं हो, वरना असली रैंगिंग तो.. ओह गॉड… जाने दो और बताओ क्या प्रोग्राम है?
संजय- अरे क्या हुआ बताओ ना, असली रैगिंग क्या होती है?
फ्लॉरा- अरे अभी तो आई हूँ.. बाद में बता दूँगी, पहले पार्टी शुरू करें, वैसे खाने में क्या है.. और कोई भी प्रोग्राम है क्या?

संजय- ओह सॉरी आओ ना फ्लॉरा बैठो.. खाना तो होटल से मँगवाया है मिक्स है.. वेज भी और नॉनवेज भी है, मगर खाने से पहले थोड़ी ड्रिंकिंग हो जाए तो पार्टी का मज़ा आएगा.. तुम ड्रिंक करती हो या नहीं?
फ्लॉरा- ओह वाउ इट्स टू गुड.. या ऑफ कोर्स यार.. पार्टी बिना ड्रिंक के अच्छी नहीं लगती और हमारे गोवा में तो नॉर्मली ही ड्रिंक कर लेते हैं।
वीरू- आप तो बिल्कुल हमारे टाइप की हो.. खाने के बाद थोड़ा डांस का भी प्रोग्राम है.. वो आपको पसंद है क्या?
विक्की- कैसी बात करता है तू.. बिना डांस के पार्टी का क्या मज़ा.. क्यों फ्लॉरा?
फ्लॉरा- हाँ सही है.. डांस का अपना मज़ा है और टीना तुम कुछ नहीं बोल रही हो?

टीना- क्या बोलूँ यार.. तुम सबने जो डिसाइड किया, वही ठीक है।
फ्लॉरा- अरे क्या हुआ.. पार्टी के माहौल में तुम इतनी रूखी-रूखी क्यों हो?
संजय- अरे कुछ नहीं ऐसे ही.. अब चलो सब बैठ जाओ, नहीं तो बियर गर्म हो जाएगी।

सब वही गोल घेरे में बैठ गए। संजय ने शाम को टेबल कुर्सी का बंदोबस्त कर लिया था। अब पार्टी शुरू हो गई थी.. सब मज़े से बियर गटक रहे थे।

संजय ने अजय को इशारा किया कि वो प्लान को शुरू करे।

अजय- अरे यार सब ऐसे चुप क्यों हो.. बात करो फ्लॉरा नई है.. इसे अपने बारे में बताओ और फ्लॉरा तुम भी हमें अपने बारे में बताओ.. गोवा में क्या करती थी घर के बारे में दोस्तों के बारे में!
संजय- हाँ सही है.. अब हम सब दोस्त हैं तो ये जानकारी होनी ही चाहिए।
फ्लॉरा- ओके ठीक है.. मगर ये जानकारी की बात लास्ट में करेंगे.. अभी बस बियर का मज़ा लो.. वो एक और देना वीरू और प्लीज़ वो साथ में फ्रेंच फ्राइ भी देना।

सब एक-दूसरे से हँसी-मजाक कर रहे थे और बियर पी रहे थे। अब फ्लॉरा पे भी नशा चढ़ने लगा था.. उसकी आँखें नशीली हो रही थीं.. इसी मौके का फायदा उठा कर टीना ने पासा फेंका जो निशाने पे लगा।

टीना- कहाँ से लाया है ये बियर.. इसका टेस्ट ही अजीब लग रहा है।
साहिल- अरे इतनी पीने के बाद तुझे टेस्ट खराब लगा क्या?
संजय- अरे जाने दे उसका मूड सही नहीं है.. इसलिए वो जो बोले सब सही है।
फ्लॉरा- क्या हुआ टीना.. मैं जब से आई हूँ तुम उदास लग रही हो.. सब ठीक है ना?
टीना- नहीं ऐसी कोई बात नहीं है.. वो दरअसल आज मेरे पीरियड शुरू हुए ना तो बस सब बकवास लग रहा है।

सबका ध्यान फ्लॉरा की तरफ़ था.. वो इस बात को सुनकर कैसे रिएक्ट करती है।

फ्लॉरा- अरे क्या यार ये तो नॉर्मल है सबको पीरियड आते हैं.. अब इसका मतलब ये थोड़े ही है कि पार्टी एंजाय ना करें।
संजय- यही तो इसको मैं कब से समझा रहा हूँ मगर ये समझती ही नहीं।
टीना- तुम तो चुप ही रहो.. तुम लोगों को नहीं आते ना.. इसलिए पता नहीं हम लड़कियों की क्या हालत होती है।
विक्की- ये क्या बात हुई यार.. तुमको तो महीने में एक बार आते तो तुम्हारा मूड खराब होता है.. साला यहाँ तो हफ्ते में 2 बार मूड खराब होता है।
टीना- क्या बकवास कर रहे हो.. तुम्हें कौन से पीरियड आते हैं.. जो ऐसा होता है?
अजय- तुम समझी नहीं टीना.. ये साला सपनों में फेल होता है.. उसकी बात कर रहा है हा हा हा हा हा हा..

अजय के साथ सभी हंसने लगे और फ्लॉरा तो कुछ ज़्यादा ही हंस रही थी।

टीना- चुप करो सालों.. हवस के पुजारी हर वक़्त बस यही सूझता है।
वीरू- अब इसमें इनकी क्या ग़लती है यार.. तू टाइम पर दे दे तो ये नौबत ही ना आए।
संजय- ये क्या बकवास कर रहे हो सबके सब.. फ्लॉरा क्या सोचेगी कुछ अक़ल है कि नहीं तुम लोगों में? और टीना तू भी इनके साथ शुरू हो गई?
टीना- अरे मैंने क्या किया है.. ये साले विक्की ने पहले शुरू किया था।
फ्लॉरा- प्लीज़ यार तुम झगड़ो मत.. दोस्तों की पार्टी में ऐसे हँसी मजाक होता है।
संजय- मजाक अलग बात है.. ये कुछ ज़्यादा वलगर हो रहा है।
फ्लॉरा- कोई बात नहीं यार सच कहूँ तो ऐसी वलगर बातें पार्टी में होती हैं तो उसका अलग ही मज़ा आता है।

सबकी नज़रे बस फ्लॉरा को घूर रही थीं.. यानि संजय की स्कीम काम करने लगी थी कि पहले बकवास सी बातें करो.. फिर धीरे-धीरे बातों को सेक्स की तरफ़ मोड़ दो। अगर ये चुदी हुई है तो इसको कुछ बुरा नहीं लगेगा और अभी तक तो सब प्लान के हिसाब से हो रहा था।

अजय- देख ये फ्लॉरा कितनी समझदार है और तू बस नाटक करती है। कल मान जाती तो मज़ा आता ना.. अब आज रेड सिग्नल देके बैठी है।
फ्लॉरा- हे हैलो.. तुम सीनियर्स हो मैं समझी तुम सब मजाक कर रहे हो।
टीना- नहीं यार ये मजाक नहीं सच है.. हम सबने एक साथ मस्ती करने का प्लान बनाया था मगर लास्ट मोमेंट मेरे पीरियड की वजह से सब चौपट हो गया।
संजय- टीना हद है यार.. ऐसे सारी बातें बोलना ठीक है क्या?
टीना- इट्स ओके यार.. संजय फ्लॉरा अब हमारी दोस्त है.. आज नहीं तो कल इसे सब पता लगना ही है। यहाँ नहीं तो कॉलेज में मालूम हो जाएगा.. तो इससे अच्छा हम ही इसको बता देते हैं।

टीना की बात सुनकर फ्लॉरा चौंक गई। उसने अपने मुँह पर हाथ लगा लिया था।

साहिल- प्लीज़ यार टीना.. रहने दो अब जो हुआ उसको भूल जाओ पार्टी का मज़ा लो ना।
फ्लॉरा- वेट वेट.. मुझे थोड़ा कन्फ्यूजन है.. प्लीज़ टीना बुरा मत मानना मगर तुम संजय की गर्लफ्रेंड हो किसी और की?
टीना- गर्लफ्रेंड तो मैं संजय की हूँ मगर हम सब अच्छे दोस्त भी हैं तो सभी मेरे ब्वॉयफ्रेंड हैं.. इसमें कन्फ्यूजन कैसा?
फ्लॉरा- नो नो अभी तुमने कहा था सबने मिलकर मस्ती का प्रोग्राम बनाया था.. मीन्स सेक्स का ना?
टीना- हाँ फ्लॉरा कुछ ऐसा ही समझो।
फ्लॉरा- ओ माय गॉड 5 लड़कों के साथ तुम अकेली.. ये कैसे हो सकता है?
टीना- क्यों इसमें प्राब्लम क्या है.. जब सतयुग में 5 भाइयों की एक ही बीवी हो सकती है.. तो ये तो कलयुग है यार.. इसमें 10 भी हो तो बड़ी बात नहीं।

मेरे प्यारे साथियो, आप मुझे मेरी इस सेक्स स्टोरी पर कमेंट्स कर सकते हैं.. पर आपसे एक इल्तिजा है कि आप मर्यादित भाषा में ही कमेंट्स करें क्योंकि मैं एक सेक्स स्टोरी की लेखिका हूँ, बस इस बात का ख्याल करते हुए ही सेक्स स्टोरी का आनन्द लें और कमेंट्स करें।
[email protected]
कहानी जारी है।

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! रैगिंग ने रंडी बना दिया-16