क्या वो चूत चुदाई के लिए आई थी

(Kya Vo Chut Chudai Ke Liye Aai Thi)

यारो, मैं हूँ दीप… मैं अपनी पंजाबी सेक्सी कहानी लै के आया वां! उम्मीद करदां कि सबनूँ पसंद आवेगी.

मेरी स्टोरी पढ़न तों बाद सारी पंजाबी कुड़ियां, भाबियाँ, दीदियाँ, आंटियां मैन्नुं मेल कर सकदी हो!

मैं पटियाले दी पंजाबी युनिबास्टी च पढ़दा सी. इक दिन मैं आपणे दोस्त नूँ काल करण लगया सी ते मेरा फोन किस्सी कुड़ी नूँ लग्ग ग्या.
ओस कुड़ी दी मिनतां कर कर के मैं ओंनु दोस्त बना लया. अस्सी फोन उत्ते गलां बातां करण लग्ग पये. ओहदा नां सी परमजीत कौर!
कुछ दिनां बाद ओहदा फोन आया, कहन लग्गी- मेरी अंगेजमेंट हो रयी ऐ!
ओह कुड़ी कुछ उदास जई लग्गी मैन्नू!
मैं ओन्नू पूछया- कि गल्ल.. तूं खुश नईं?
ओ कुछ नी बोली.
मैं फेर पूछया ते कैन लगी- मैं तैन्नूँ मिलना चाऊँदी आँ!

अस्सी फ्राई डे दा दिन फिक्स कर लित्ता, मेरे इस दोस्त दा घर खाली सी, मैं ओन्नूँ सवेरे दस वज्जे दोस्त दे घर लै गया. मेरा दोस्त वी सानूं घर छड के चला गया.
परम जीत दा फीगर 34-30-36 सी… देखन विच ताँ पूछो नां.. राह चलदे लोकां दे लन छालां मारण लग पैण…

अस्सी दोनों सोफे ते बै गए..
इकदम ओ मेरे गले लाग के रोण लग पई!

मैं ओन्नूँ पूछ्या- कि होया?
ताँ ओ दस्सण लग्गी- मैं इक गरीब घर दी कुड़ी आँ! मेरे घर आले मेरी मैरिज इक हैंडीकैप मुंडे नाल करवाना चाहुंदे ने!
मैं ओस नूँ होंसला दित्ता- कोई गल्ल नी… जेड़ा रब्ब नू मंजूर है ओही होवेगा!

फेर मैं कॉफ़ी बनान किचन च गया.
जदों मैं कॉफ़ी लै के आया ते मेरियाँ अखां खुल्लियाँ रह गईयाँ…
ओ माई गॉड!
उसने अपना सूट उतार के शॉर्ट्स ते टॉप पहन लया सी.
वाओ… किन्नी सेक्सी लुक दी उसदी!
मैं ते उसदे मोम्मे ते गांड देखदा रह गया.

मैं ओन्नूँ कॉफ़ी दित्ती, अस्सी दोवां ने कॉफ़ी पित्ती..

फेर ओ कहन लग्गी- तुस्सी आज्ज मैनूं अपना बणा लओ.. मैं होर किस्से दी णी होणा!
इन्नी गल सुनदे ई मैंनूँ ते ग्रीन सिग्नल मिल गया.. मैं उसदे बुल्लाँ ते अपने बुल्ल रख दित्ते!

अस्सी दोवें 5 मिंट किसिंग कित्ती… इससे विच मैं ओहदे मोम्मे वी पटने शुरू कर दित्ते सी. मजा आ गया सी.
फेर मैं ओहदी टॉप उतार के ओदे मम्मे चुस्सन लग पया.
ओह सिसकियाँ भर रई सी… मैंनूँ ते ऐवें लग्ग रया सी जिवें मैं सातवें असमान ते पौंच गया होवां!
मैं ओदी शोर्ट वी लाह दिती, नाले कच्छी वी…

मैं ओदी फुद्दी विच ऊँगल पाई ते ओ होंकीया भरण लगी, कैण लगी- मैं मर जावांगी प्लीज मैंनूँ होर ना तड़पाओ!
ताँ मैं वी दे ना करदे होए अपना लन ओदी फुद्दी उत्ते रखया ते ओन्ने चीक मारी- आह…

मैं देर ना लाओंदे होए ओदे बुल्लाँ उत्ते अपने बुल्ल रखे ते अपना लन ओदी फुद्दी विच धक्क दित्ता. ओन्ने फेर चीक मारी- रब्बा मैं मर गई!
होले होले मैं लन अंदर बाहर करण लग पया. ओन्नूँ मजा आ रया सी.

हूँ मैं ओदियाँ लत्तां चक्कियां ते अपना पूरा लन ओदी फुद्दी विच बाड़ के ओहदी फुद्दी मारण लग्ग पया. मैं बड़े तेज तेज घस्से मार रया सी.

परमजीत बोल रई सी- आह… हम्म.. हम्म… उम्म्ह… अहह… हय… याह… उम्म.. होली होली कर!
मैं बोल्या- तूं मजे लै मजे!

मैं अपनी स्पीड होर चक दित्ती. ओह होर आवाजां कड्डण लग्ग पई- हाय मर गई. होले होले चोद मरजानया!
दस मिंट ओन्नूँ चोदण दे बाद मेरा काम्म हो चलाया सी ते मैं ओन्नूँ कया- परम, मेरा होण आला ऐ.. कित्थे कडाँ?
परमजीत कहन लग्गी- मेरे अंदर ना पायो… बाहर कड लयो!

मैं अपना लन बाहर कड लित्ता ते मैं ओन्नू कया- ले ऐन्नु चूप के मेरा माल कडा दे!
ओ ना नुकुर जी करण लग्गी ते मैं ओढे वाल फाडे ते अपना लन ओढे मुँह विच वाड़ दित्ता ते घस्से मारण लग पया.

परमजीत मेरे लन नूँ बाहर कडण दी कोशिश कर रई सी लेकिन मैं ओन्नू कडण नी दिता ते अपना सारा माल ओदे मुँह विच ई कडया!
हुन्न ओन्नूँ मेरा सारा माल अंदर लंघाना पै गया.

फेर मैं ओन्नूँ वाशरूम च लै गया ते ओन्ने अपना मुँह धोया ते फुद्दी साफ़ कित्ती!

वापस आके मैं फेर ओन्नूँ चुम्मण चट्टण लगा पया.
फेर अस्सी अपने कपड़े पाए ते मैं अपने दोस्त नूँ फोन करके बुला लया.

ते अस्सी ओत्थों आ गए. बाजार आके मैं ओन्नू छोले भठूरे खुआये नाल लस्सी पिलाई.
फेर ओ अपणे घर ते मैं अपणे घर!

ओदे बाद ते परमजीत कई वारी मेरे तों चुदी ऐ. हर वारी अस्सी मजे लै लै के चुदाई करदे आँ!

[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! क्या वो चूत चुदाई के लिए आई थी