मकान मालकिन की लड़की ने चूत चुदवाई

(Makan Malik Jawan ladki Ne Choot Chudwai)

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है:

दोस्तो, मैं फहमिना एक बार फिर से आप सबके सामने एक और कहानी लेकर आई हूँ।
लेकिन यह कहानी मेरी नहीं है, यह कहानी मेरे एक प्रशंसक की है।
तो पेश है कहानी उसी की जुबानी:

मेरा नाम जय है, मैं 28 साल का हूँ।

बात उस टाइम की है जब मैं 19 साल का था।
मैं ग्रेजुएशन फाइनल ईयर का एग्जाम देकर मेडिकल की तैयारी के लिए लखनऊ आ गया।

मैं अभी नया नया वहाँ गया था, डेली रूम से कोचिंग और कोचिंग से रूम आना जाना… यही मेरी रूटीन था।

मैं बहुत सीधा सादा लड़का था, मेरे पड़ोस में एक परिवार रहता था, फॅमिली में दो लड़कियाँ, एक तमन्ना 24 साल की दूसरी छोटी वाली रूही 18 साल की थी, अपनी अम्मी के साथ रहती थी।
इन लड़कियों के अब्बू विदेश में रहते थे जो 6 माह में एक बार भारत आते थे।

मेरा रूम उनके बगल में होने के कारण धीरे धीरे मेरा उस फॅमिली में आना जाना शुरू हो गया।
उन लड़कियों की अम्मी जिनका नाम शबनम था, वो बहुत खूबसूरत थी।

शायद बेटियां अपने मम्मी पर गई थी, तमन्ना जिसको प्यार से सब तनु बुलाते थे, गोरा बदन भरा हुआ कसी हुई चूचियां, मोटी जांघें, उठी हुई गांड… कसम से माल थी वो!

छोटी बेटी भी काम नहीं थी, वो भी बहुत खूबसूरत थी, उसके बारे में आपको बाद में बताऊंगा।

अब कहानी पर आते हैं।

एक दिन की बात है, मैं तनु और आंटी उनके घर चाय पी रहे थे, तब आंटी ने कहा- तुम अकेले उस घर में कैसे रहते हो? आओ हम लोगों के साथ पेइंग गेस्ट बनकर रहो!

फिर तनु ने कहा- हाँ अम्मी, ये अच्छा रहेगा! वैसे भी हम लोग तीन ही लोग रहते हैं।
मैंने कहा- आंटी, सोच कर बताता हूँ।

मैं चला आया।

दूसरे दिन सुबह सुबह तनु ने पूछा- क्या हुआ? क्या सोचा? आ जा ना यार… साथ साथ रहते हैं।
मैंने सोचा- चलो ठीक है।
और मैं उसी दिन शिफ्ट हो गया।

फिर हम लोग साथ ही रहने लगे तो हमारी फीलिंग फॅमिली जैसी हो गई।
एक बार दो दिन की छुट्टी हुई तो आंटी रूही को लेकर अपने भाई के घर गई और जाते समय बोली- हम लोग सोमवार को आएंगे, तुम लोग ठीक से रहना, घर से न निकलना!

आंटी के जाने के बाद हम लोगों ने दिन भर टीवी देखा, रात में खाना खाया और वहीं हाल में बिस्तर पर नींद आने लगी तो मैं सो गया।

उसके बाद अचानक रात में मुझे महसूस हुआ कि कोई मेरा हाथ पकड़े हुए है, मेरी नींद खुली लेकिन मैं कुछ बोला नहीं!

वो तनु थी।
वो उस टाइम हॉट पैंट और ब्रा में थी, उसने अपनी टॉप निकाली हुई थी।
हाल में नीले रंग की हल्की रोशनी थी, उसने मेरा हाथ अपनी ब्रा पर रख दिया, मेरे हाथ से अपनी चूची पर दबाव डालने लगी। मेरे पुरे जिस्म में सिहरन दौड़ गई।

थोड़ी देर बाद मैंने खुद उसकी चूचियां दबानी शुरू कर दी तो तनु ने उठकर अपनी ब्रा निकाल दी।

हम लोग आपस में बात नहीं कर रहे थे।

फिर मैं उसकी चूचियों को दबाकर आंखें बंद कर आनन्द लेने लगा।
अचानक मैंने उसकी एक चूची को अपने मुँह में ले लिया और दांतों से काटने लगा तो वो पहली बार बोली- जय, दांत से नहीं प्लीज!

मैं रुक गया और उसकी चूची जीभ से चाटने और चूसने लगा।
फिर मैंने उसकी हॉट पैंट निकाल दी लेकिन उसने पैंटी नहीं निकालने दी।

Comments

सबसे ऊपर जाएँ