गर्लफ्रेंड की सहेली की चूत चुदाई की सेक्सी कहानी

दोस्तो, मेरा नाम मोहित है मैं दिल्ली के एक कॉलेज में पढ़ता हूँ. मेरी एक गर्लफ्रेंड है जो बहुत चुदासी है, वो अक्सर मुझसे चुदने आती है या यूँ कहो कि रोज ही चुदती है. मैं यहाँ एक फ्लैट में अकेला रहेता हूँ इसलिए वो अक्सर चुदने आ जाती है. दोस्तो वो इतनी चुदासी है की रात को चुट में उंगली करे बिना उससे नींद भी नहीं आती इसलिए रात को हम डेली फोन सेक्स चैट भी करते हैं.

मैं रात को उसके सारे कपड़े उतरवा कर उसे खूब मजे दिलवाता हूँ. उसकी चुत में तेल लगवा कर उसकी चुत में उंगली डलवाता हूँ, वो खूब मजे से चुदती है, उसकी उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज़ मुझे और जोश दिलवाती थी. यह बात उसकी रूममेट को पता चल गई और वो भी धीरे धीरे गर्म होने लगी.

एक बार आधी रात को मेरी गर्लफ्रेंड का फोन आया और उसने मुझे दुबारा फोन सेक्स चैट करवाने को बोला.
लेकिन वो दरअसल मेरी गर्लफ्रेंड नहीं, उसकी रूममेट थी. उसने नींद में होने का नाटक किया ताकि मैं उसे पहचान ना सकूँ लेकिन मैं उसे पहचान गया लेकिन अनजान बना रहा.
फिर मैंने उसके सारे कपड़े उतरवा दिए और उससे तेल की बोतल और 2 पेन लाने को कहा. उसने ऐसा ही किया. फिर मैंने उसके हाथ से उसके दोनों बूब्स और एक हाथ से चुत मसलने को कहा. वो ऐसा ही करती रही.
फिर मैंने एक पेन को तेल में डुबो कर उसकी चूत में डलवा दिया. उसकी चूत एकदम कुंवारी थी. उसको पेन डालने मैं थोड़ा टाइम लगा लेकिन गर्म होने के कारण उसने पेन अंदर लिया और झटके देने लगी.

लेकिन मैंने उसे रोक दिया. उसकी चुदास बढ़ती जा रही थी उसकी ‘अहहा अहहा…’ की आवाज़ फोन में गूँज रही थी.

मैंने अब उसको दूसरा पेन उसकी गांड में डालने को कहा. उसने बिना देर किए पें अपनी गांड में डाल लिया. अब मैंने उसको दोनों जगह झटके देने को कहा और दो मिनट में उसका पानी निकल गया और मैंने भी मुठ मार ली.

अगले दिन जब मैं अपनी गर्लफ्रेंड से मिला तो वो भी उसके साथ थी, वो मुझे वासना की नज़र से देख रही थी कि जैसे अभी खा जाए.
मैंने भी उसे कुछ ऐसा ही इशारा दिया.
उस अगली रात को वही हुआ जिसका मुझे इंतज़ार था. रात को गर्लफ्रेंड की चुत झड़वाने के 1 घण्टे बाद मुझे फिर फोन आया.

लेकिन दोस्तो, आज उसने मुझे अपने नंबर से फोन किया, पहले तो इधर उधर की बातें करने लगी लेकिन थोड़ी ही देर में उसने मुझे बोल दिया- मुझे तुमसे चुदना है. और कल रात 2 बजे मैंने ही तुम्हें कॉल किया था.
मैंने भी उसे बता दिया कि मुझे तभी पता लग गया था.
दोस्तो, मेरी गर्लफ्रेंड की रूममेट एकदम माल है, गोरा चिट्टा रंग, भूरी आँखें, देख कर लंड खड़ा हो जाए!

हमने सेक्स का प्रोग्राम अगले दिन का ही रख लिया क्योंकि मैं भी उसे चोदने के लिए बेताब था क्योंकि मेरी गर्लफ्रेंड की भी डेट चल रही थी, मैंने 2 दिन से चुदाई नहीं की थी.

अगले दिन वो शाम 5 बजे मेरे फ्लेट पे आ गई. हमने पहले थोड़ी बातें की और कुछ खाया पिया. फिर समझ नहीं आ रहा था कि कहाँ से शुरू करें तो मैंने उसे पॉर्न यानि ब्लू फिल्म देखने के लिए पूछा.
उसने हाँ कर दी तो मैंने एक हॉट मूवी लगा ली. उसको देख कर वो गर्म हो गई और अब हम दोनों तैयार थे.

हमने पहले 15 मिनट तक एक दूसरे के होंठों को चूमा, हम एक दूसरे में खो गये थे. कब मेरे हाथ उसकी चुची पर चले गये, पता ही नहीं चला… इतनी नर्म मुलायम चुची थी उसकी… जन्नत का अहसास दिला रही थी.
अब उसका भी एक हाथ मेरे लंड पर था और वो मेरे लंड को दबा रही थी. अब हम दोनों के जिस्म से हमारे कपड़े अलग हो गये थे.

जब उसने मेरा लंड देखा तो वो डर गई और कहने लगी कि ये तो ब्लू फिल्म वाले से भी बड़ा है, ये मेरी चुत फाड़ देगा.
मैंने उसको बताया कि जितना लंबा लंड होगा तुम्हें उतना ही मजा आएगा. तो उसका डर दूर हुआ और उसने मेरा लंड मुंह में ले लिया.

दोस्तो वो मेरा लंड ऐसे चूस रही थी जैसे एक छोटा बच्चा लोलीपोप चूसता है. उस समय तो मैं जन्नत में था.

फिर हम 69 की पोज़िशन में आ गये. उसकी चुत पर एक भी बाल नहीं था, वो पूरी चुदने की तैयारी से आई थी.
मैंने उसकी चुत चाट कर उसका पानी निकाला!

उसके बाद मैंने उसके हाथ बेड के कोनों से बाँध दिए. मैं वैसा ही करने जा रहा था जैसा मैंने उस ब्लू फिल्म में देखा था और वो भी ऐसा ही चाहती थी.
उसके बाद में फ्रिज से आइस क्यूब लाया और अपने मुंह में रख कर पहले उसके होंठों पर चूमा और होंठों से गर्दन पर आया उसके बाद उसके निप्पल पर… जब मैं उसके निप्पल पर बर्फ लगा रहा था तो वो पागलों की तरह तडप रही थी.

उसके बाद पेट से होते हुए मैं उसकी चूत तक आया. जब मैंने उसकी चूत पर बर्फ लगाई तो मानो वो पागल हो गई और ‘अहहा अहहा…’ की आवाज़ उसके मुख से निकलने लगी.
उसकी चुत इतनी गर्म हो चुकी थी कि बर्फ को पिंघलने में ज़रा भी टाइम ना लगा.

अब वो एकदम तैयार थी अपनी चुत का रिबन कटवाने के लिए… यह उसका पहली बार था इसलिए मैंने उसे पूरा गर्म कर दिया था.
अब मैंने पास रखा हुआ तेल उसकी चूत में अच्छे से भर दिया और मेरा लंड तो उसने चूस कर पहले ही काफ़ी चिकना कर दिया था. मैंने अपना लंड उसकी चुत पर रखा और हल्का सा अंदर धकेला, अभी तो मेरा लंड अंदर भी नहीं गया था लेकिन उसकी चूत की गर्मी ने असर दिखा दिया था. उतनी गर्म चुत तो मेरी गर्लफ्रेंड की भी नहीं है.
उसकी चुत की गर्मी ने मेरे अंदर जोश बढ़ा दिया और मैंने एक ज़ोरदार धक्का दे दिया.

मैं चुत की गर्मी में भूल गया था कि मैं कुंवारी चुत को चोद रहा हूँ. मेरे उस धक्के से मेरा आधा लंड अंदर चला गया और उसकी बहुत ज़ोर से चीख निकल गई, वो रोने लगी, उसके बाद मैंने उसके होंठों को चूमा और उसे शांत किया और नीचे हल्के से झटके देने लगा.

कुछ देर में मुझे एहसास हुआ कि वो भी अब मेरा साथ दे रही है.
यह हिंदी चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!
फिर मैंने अपना काम शुरू कर दिया, अब मैं झटके देने लगा और हर झटके के साथ मैं अपना लंड और अंदर घुसाता चला गया. अब हम दोनों पूरे जोश में थे, उसकी वासना भारी सिसकारियों से कमरा गूँज रहा था अहहा अहहा… अहहा अओ… फक मी… जो मुझे और जोश दिला रहा था.
अभी चुदाई को शुरू हुए 5 ही मिनट ही हुए थे कि उसका शरीर अकड़ने लगा. मैं समझ गया कि वो झड़ने वाली है.

मैं एकदम रुक गया क्योंकि मुझे अभी चुदाई का पूरा मजा लेना था. उसकी तडप और बढ़ गई. फिर दो मिनट रुकने के बाद मैंने फिर चुदाई चालू कर दी.
उसके कुछ देर बाद हम दोनों का पानी निकल गया.

फिर हम दोनों एक साथ नहाए और नहाते हुए भी मैंने उसकी चुदाई की.
मैंने रात को उसे अपने पास ही रोक लिया और रात को भी उसकी 4 बार चुदाई की.

मेरी सेक्सी कहानी आपको कैसी लगी, मुझे ज़रूर मेल कीजिएगा.
[email protected]

गर्लफ्रेंड और उस की सहेली के साथ थ्रीसम चुदाई की सेक्सी कहानी

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! गर्लफ्रेंड की सहेली की चूत चुदाई की सेक्सी कहानी