गांव की देसी लड़की ने मज़े से चूत चुदवाई

(gaanv Village desi Girl Ne Maze Se Choot Chudwai)

दोस्तो, मैं मनीष आपका अपना… पहले मैं आप सभी को धन्यवाद देना चाहता हूँ। आपने मेरी पहली कहानी
पड़ोस की लड़की की कुँवारी चूत ली
को इतना प्रोत्साहित किया।

अब मैं अपनी अगली कहानी लिखने जा रहा हूँ, उम्मीद करता हूँ जैसे मेरी पिछली कहानी को आपका प्रोत्साहन मिला वैसे ही इसे भी मिलेगा।

अब ज्यादा बोर ना करते हुए अपनी बात पर आता हूँ।

बात तब की है जब मैं जयपुर मैं था। मैं और मेरा कजिन दोनों रूम लेकर साथ में रहते थे। गाँव में मेरे कजिन की एक गर्लफ्रेंड थी वो रोजाना उससे बात करता था।
मैंने उससे कहा- गाँव में मेरी भी किसी देसी लड़की से सेटिंग करा दे!
तब उसने मुझे कहा- ठीक है।

हमारे गांव की एक देसी लड़की पटाई

फिर कुछ दिन बाद उसने एक लड़की के बारे में बताया और कहा- तू इसे जानता होगा!
मुझे सही से याद नहीं था… वैसे भी मुझे क्या करना था, मुझे तो चूत चाहिए थी, बहुत दिनों से लंड परेशान कर रहा था चूत के लिए!
मेरे कजिन ने मुझे बताया था कि वो थोड़ी रांड टाइप की लड़की है। उसका नाम संगीता है।
मैंने उससे बात कराने के लिए कहा।

फ़ोन सेक्स

मेरे कजिन की मदद से मुझे नंबर भी मिल गये और हमारी बात शुरू हुई, कुछ दिनों में हमारी सही से सारी बात होने लग गई।

वो लड़की काफी सेक्सी बातें किया करती थी जैसे- आपका कितना लम्बा है, ये वो… बहुत कुछ!
मुझे मजा आने लगा था, मस्त माल चोदने को मिलने वाला है।

फिर एक दिन मेरे कजिन ने कहा- गाँव चल!
हम दोनों सुबह निकले शाम तक गाँव आ गये।

गाँव में उसका और मेरा दोनों का घर अलग अलग था। मेरे घर वाले सब मध्यप्रदेश रहते हैं तो मेरा घर खाली पड़ा था।
उसके घर खाना खाकर हम दोनों मेरे घर आ गये और फिर वो नाईट में खुद की गर्लफ्रेंड से मिलने चला गया और मैं उस लड़की को फ़ोन लगाकर बात करने लग गया।

उस लड़की का सांवला रंग छोटी कद काठी 30-26-30 का फिगर होगा।
मैंने उसे बताया- मैं गाँव आ गया हूँ।

वो बहुत खुश थी, उस रात हम दोनों से फ़ोन सेक्स किया, अगले दिन हम दोनों मिलने वाले थे। उस बात को लेकर मैं पूरी रात सो नहीं पाया।
मेरा कजिन रात को काफ़ी देर से आया और फिर हम दोनों सो गये।

चूत चुदाई का दिन भी आ गया

सुबह उठकर कजिन के घर गये और वहाँ से जल्दी से तैयार होकर मेरे घर आ गये।
मैंने मेरे कजिन को कहकर संगीता को बुलाने के लिए कहा, मेरे लंड तड़प रहा था बहुत ज्यादा!

मेरा कजिन उस लड़की को घर के अंदर तक सबसे छुपकर लेकर आया।

मैं उस लड़की को आराम से चोदना चाहता था तो मैंने मेरे कजिन को वहाँ से भेज दिया और बाहर ताला लगाने को कहा।
मेरा कजिन ताला लगाकर चला गया।

मैं जयपुर से एक वियाग्रा की गोली और कंडोम के पैकेट लेकर गया था, पानी पीकर गोली ली और संगीता के पास बैठकर उससे बात करने लगा।
वो उस दिन सलवार सूट में थी, मस्त लग रही थी, मगर उससे मुझे क्या… वो कपड़े कुछ ही समय में उतरने वाले थे, धीरे धीरे मैं उसके पास जाकर उसको लबों पर किस करने लगा और मैंने उसका हाथ मेरे लंड पर रख दिया।
वो मेरा लंड सहलाने, दबाने लगी।
मैं उसकी गर्दन पर किस करता और वो मेरा लंड जोर से दबाती! मुझे और उसे मजा आने लगा था।

Comments

सबसे ऊपर जाएँ