दोस्त की दीदी की क्सक्सक्स मूवी से चुदाई-4

(Real Sex Story : Dost Ki Didi Ki xxx Movie Se Chudai- Part 4)

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है:

2 मिनट बाद ही मुझे लगा कि मेरा काम होने वाला है और मैंने जल्दी से लंड को चूत से निकाला और लंड ने चूत से निकलते ही दीदी की पीठ पर पानी की तेज-2 पिचकारियाँ मारना शुरू कर दिया और दीदी की पूरी पीठ मेरे स्पर्म से भर गई, मैं साइड पर गिर गया और तेज तेज साँसें लेने लगा. मैंने दीदी की तरफ देखा तो उनकी आँखों में आँसू थे लेकिन चेहरे पर एक राहत भरी झलक भी नज़र आ रही थी.

कुछ देर बाद दीदी उठी और बाथरूम में चली गई और 5 मिनट बाद वापिस बेड पर आ गई, दीदी ने अपने नंगे बदन पर एक तौलिया लपेटा हुआ था.

दीदी- हो गई तेरे मन को शांति, कर ली अपनी मनमानी तूने, चल अब जल्दी से मेरी वीडियो डेलीट कर और दफ़ा हो जा यहाँ से!
मैं- अरे दीदी, इतनी भी क्या जल्दी है, अभी तो एक बार ही हुआ है.
दीदी- जितना हुआ है तेरे लिए काफ़ी है कमीने, अब मेरी वीडियो डेलीट कर और दफ़ा हो जा यहाँ से!
मैं- अब इतनी भी क्या बेरूख़ी दीदी, अभी तो इतने प्यार से चुदाई करवा रही थी और अभी इतना गुस्सा?
दीदी- गुस्सा नहीं करूँ तो क्या करूँ, मेरा तो दिल करता है तुझे जान से मार दूं, एक तो मेरी और अमित की ऐसी गंदी वीडियो बनाता है ऊपर से मुझे ब्लॅकमेल करता है और लंड चुसवाने के नाम पर पूरा खेल खेलता है मेरे साथ वो भी इतनी बेरेहमी से, ज़रा भी तरस नहीं आया तुझे मेरे पे? ऐसे जानवरों की तरह चुदाई की, मेरी चूत में अभी तक दर्द हो रहा है.
मैं- सॉरी दीदी, मैं छूटने ही वाला था लेकिन अब रुकने को बोल रही थी, ऐसी हालत में रुकना मुश्किल था, मैंने तो लंड ही चुसवाना था लेकिन आपका गोरा और भरा हुआ एकदम मस्त बदन देख कर मेरे से रहा नहीं गया और कौन पागल होता जो ऐसा मौका हाथ से जाने देता, मेरी तो कब से नज़र थी आप पर लेकिन कभी मौका ही नहीं मिला!
दीदी- मौक़ा नहीं मिला इसलिए इतनी घटिया हरकत की तूने, मेरी ऐसी वीडियो बनाई और मुझे ब्लॅकमेल करके ये सब किया मेरे साथ?
मैं- सॉरी दीदी जो मैंने आपको ब्लॅकमेल किया, लेकिन ये वीडियो मैंने नहीं बनाई, किसी और ने बनाई है.

मेरी बात सुनकर दीदी के होश उड़ गये- क्या किसी और ने? क्या कोई और भी शामिल है तेरी इस हरकत में, कौन है वो जल्दी बता?
दीदी गुस्से में बोल रही थी.
मैं- वही कमीना इस हरकत के लिए ज़िम्मेदार है जिस पे आपको हद से ज़्यादा यकीन है दीदी!
दीदी- कौन है वो, पहेलियाँ मत बुझा सन्नी, सीधी तरह बता कौन है वो?
मैं- वही है दीदी जिसके झूठे प्यार के जाल में फंसी हुई हो आप… अमित!
दीदी- झूठ मत बोलो सन्नी, अपना क़सूर छुपाने के लिए किसी और पर इल्ज़ाम मत लगाओ, खुद ऐसी घटिया हरकत करते हो और इल्ज़ाम लगाते हो बेचारे अमित पर? कुछ तो शरम करो सन्नी!

मैं- मुझे पता है दीदी आप ऐसे मेरी बात का यकीन नहीं करोगी, यहाँ बैठो दीदी, मैं अभी आपको सब कुछ साफ़ साफ़ बताता हूँ… सॉरी खुद नहीं बताऊँगा बल्कि जिसने ये हरकत की है वो खुद ही
क़बूल करेगा इस घटिया हरकत को, आप बस मुझे अमित का मोबाइल नंबर दो बस…
मैं- दीदी आप प्लीज मुझे अमित का मोबाइल नंबर दो, मैं अभी 2 मिनट में साबित कर देता हूँ कि मैं और करण ग़लत हैं या आपका अमित!

दीदी कुछ देर चुप रही, फिर मुझे अमित का नंबर दिया… 9==5==36==
मैंने नंबर मिला कर फोन को हैण्ड फ्री पर लगा दिया… दीदी आप चुप रहना बस, कुछ देर फिर आपको सब पता चल जाना है कौन कितने पानी में है.
अमित कॉल पिक करता है- हेलो
सन्नी- हेलो…
अमित- जी, कौन बोल रहा है?
सन्नी- अमित सर मैं सन्नी बोल रहा हूँ… आपके कॉलेज से!
अमित- कौन सन्नी?
सन्नी- जी, आपके जूनियर क्लास वाला.
अमित- हाँ बोलो सन्नी, क्या काम है… कैसे याद किया मुझे?
सन्नी- सर मुझे आपकी हेल्प चाहिए, अगर आप कर सकें तो बड़ी मेहरबानी होगी आपकी!
अमित- क्या हेल्प चाहिए… कहीं तुम फिर से अपने दोस्त करण को बास्केटबॉल टीम में लेने की बात तो नहीं करना चाहते… अगर वो बात करनी है तो मैं अभी कॉल कट कर देता हूँ.
सन्नी- नहीं सर, वो बात नहीं करनी… और दफ़ा करो उस करण को, अब मेरा कोई दोस्त नहीं करण नाम का… मेरा कोई रिश्ता नहीं उसके साथ, साला जहाँ मरता है मरे, अच्छा किया जो आपने उसको अपनी टीम में नहीं लिया, और मैं सॉरी बोलना चाहता हूँ कि मैंने उस हरामी करण की वजह से आप लोगों से झगड़ा किया था, सॉरी सर.

अमित- इट्स ओके सन्नी, अच्छा बोलो क्या काम है तुमको?
सन्नी- सर, मैं एक लड़की को लाइक करता हूँ, लेकिन बात कैसे करूँ, नहीं जानता, डर लगता है.
अमित- तो मैं क्या हेल्प कर सकता हूँ इसमें?
सन्नी- सर आप तो माहिर हो इस काम में… हर रोज नई गर्लफ्रेंड होती है आपकी. कुछ राज की बातें हमें भी बता दो… आपके छोटे भाई का भला हो जाएगा.

अमित- अरे लड़की से कभी दिल की बात करते हुए डरो नहीं… मना ही कर देगी ना… लड़कियों की कभी टेन्शन मत लो… साली एक जाती है तो सामने से साली 10 और आती हैं.
ये बात सुन के ही दीदी ने अमित को फोन पर गुस्से में कुछ बोलना चाहा लेकिन मैंने अपने लिप्स पर उंगली रख के दीदी को चुप होने को बोला.

सन्नी- सर यही तो पंगा है, मैं लड़की की बहुत टेन्शन लेता हूँ… आइ रीयली लाइक हर अमित भाई… लेकिन बात करने से डरता हूँ.
अमित- अच्छा तू उसको बहुत ज़्यादा लव करता है इसके मतलब उससे शादी करना चाहता है… या बस टाइम पास करना है उसके साथ?
सन्नी- मैं समझा नहीं अमित सर!
अमित- अरे शादी करके वाइफ बनाना चाहता है या टाइम पास करना चाहता है, खा पी के ऐश करना चाहता है?
सन्नी- कैसे बात कर रहे हो अमित सर, मुझे उसके पास जाने से डर लगता है बाकी बात तो दूर की बात है.

अमित- क्या कुछ ज़्यादा ही शरीफ लड़की है वो?
सन्नी- जी अमित भाई… तभी तो डर लगता है… अगर चालू होती तो कब से सेट कर लेता उसको।
अमित- साला यही पंगा होता है शरीफ लड़कियों का… पहले बात करने से डरती है और फिर खाने पीने में भी बहुत टाइम लग जाता है.
सन्नी- क्या भाई, आपको भी कोई शरीफ लड़की तंग कर रही है क्या?
अमित- हाँ सन्नी एक है, साली बहुत भाव खा रही है… लेकिन तू टेन्शन मत ले, एक ना एक दिन साली को तब तक ख़ाता रहूँगा जब तक दिल नहीं भरेगा… और फिर छोड़ दूँगा.
सन्नी- कॉन है अमित सर वो…
अमित- तू उसकी टेन्शन छोड़, तू बता तेरे वाली कौन है?

मैं सोचने लगा कि अब किसका नाम लूँ… तभी मेरे दिमाग़ में हमारी क्लास की एक लड़की जिसका नाम सपना था… बहुत ज़्यादा शरीफ और स्टडी में सबसे आगे.
सन्नी- सर वही सपना जो क्लास में फर्स्ट आती है.
अमित- अरे बापू, क्या मस्त आइटम पे नज़र है तेरी… सही जा रहा है तू.
सन्नी- अच्छा भाई, अब आप भी बताओ ना आपके वाली शरीफ आइटम कौन है… जो आपको तंग कर रही है?
अमित- किसी को बताएगा तो नहीं तू?
सन्नी- सर मुझे आपकी हेल्प चाहिए तो भला मैं आपकी बात किसी को कैसे बता सकता हूँ?

अमित- तो ठीक है… वो तेरे उसी हरामी दोस्त करण की बहन है शिखा… जो अपने कॉलेज की कुछ बेहतरीन लड़कियों में गिनी जाती थी.
सन्नी- सच में सर… वो आपको तंग कर रही है क्या लेकिन मैंने तो आपको कई बार देखा है उसके साथ घूमते हुए!
अमित- हाँ यार बस घूमना फिरना ही होता है… साली कभी कुछ करने का मौक़ा ही नहीं देती. यहाँ तक कि मूवी देखने जाती है तो भी कॉर्नर सीट पर नहीं बैठती… दुखी किया हुआ है साली ने.
सन्नी- सर ऐसी लड़की को कैसे सेट किया जाता है मुझे भी बता दो प्लीज… मुझे भी सपना के साथ सेट्टिंग करनी है.मेरी हेल्प करो ना अमित सर!
अमित- ऐसी लड़कियों के साथ प्यार से पेश आओ. हमेशा उनकी बात सुनो, उसकी इज़्ज़त करो, झूठ मूठ ही सही, और जिस दिन पिटारी में बंद हो जाए जी भर के खाओ.

सन्नी- लेकिन सर अगर वो नहीं माने तो?
अमित- उसका एक ही इलाज है… जब भी उसके साथ हल्का फुल्का कुछ करो तो मोबाइल पर उसकी क्सक्सक्स वीडियो बना लो. बाद में कुछ भी कर सकते हो उसके साथ, उसी वीडियो के दम पर.
सन्नी- सर अगर वो मोबाइल पर वीडियो नहीं बनाने दे तो क्या करना चाहिए.
अमित- तू तो सच में बच्चा है सन्नी… अगर मोबाइल पर वीडियो नहीं बनाने देती तो मोबाइल को कहीं ऐसी जगह छुपा दो जहाँ उसको पता नहीं चले, या कोई छोटा हॅंडीकॅम यूज़ करो इस काम के लिए, फिर सब ठीक हो जाता है.

सन्नी- सर आप भी ऐसा करते हो क्या?
अमित- हाँ करता हूँ ना… तुझे तो पता है इसी काम के लिए तो बदनाम हूँ मैं कॉलेज में, लेकिन फिर भी लड़कियाँ मेरा यकीन कर लेती है, जैसे अभी शिखा ने किया है, वो भी साली कुछ ज़्यादा ही शरीफ बनती है, एक दिन ऐसी शराफ़त निकालूँगा उसकी याद रखेगी.
सन्नी- वो कैसे सर?
अमित- बस कुछ ऐसा किया है मैंने जिस से मैंने उसको पूरी तरह बॉटल में बंद कर लिया है.
सन्नी- क्या किया है अमित सर, मुझे भी बता दो मेरी कुछ हेल्प हो जाएगी, मुझे भी किसी तरह से सपना के साथ वो सब करना है.

अमित- आ गया ना तू भी लाइन पर, तो तुझे भी प्यार व्यार नहीं है तुझे भी मज़ा लेना है बस…
सन्नी- बताओ ना क्या करूँ मैं अमित सर…
अमित- देख मैं तेरी हेल्प कर दूँगा, लेकिन एक शर्त पर!
सन्नी- क्या शर्त अमित सर…
अमित- यही शर्त कि जब तू उसको थोड़ा चख लेगा तो बाद में मुझे भी मौक़ा देगा उसको चखने का!
सन्नी- लेकिन वो कैसे सर… सपना नहीं मानेगी इसके लिए.
अमित- वो मान जाएगी, लेकिन तू बता तू तैयार है क्या इसके लिए… जो मैं बोलूं करेगा तू?
सन्नी- जी अमित सर उसके साथ सेक्स करने के लिए मैं कुछ भी कर सकता हूँ.

अमित- ठीक है तो पहले उस से दोस्ती कर और जब दोस्ती हो जाए तो मौक़ा देख कर दिल की बात बोल देना, अगर गुस्सा हो गई तो जाने देना, और अगर मान गई तो उसको कहीं लेके जाना, किसी रूम में उसके घर या अपने घर, और जब उसके साथ सेक्स करने लगे तो पहले से एक जगह पर कैमरा छुपा देना और उसकी xxx वीडियो बना लेना, एक बार वीडियो बन गई उसके बाद तू कुछ भी कर सकता है, और अपने किसी दोस्त को भी चूत दिलवा सकता है उसकी…
सन्नी- क्या ऐसा हो सकता है सर.
अमित- हाँ हो सकता है सन्नी, मैंने भी तो किया है कई बार, और अब भी किया है शिखा के साथ…

सन्नी- क्या किया उसके साथ अमित सर?
अमित- मैंने उसकी एक ऐसी ही वीडियो बना ली है जिस से मैं उसको ब्लॅकमेल कर सकता हूँ… फिर जो दिल करे कर सकता हूँ,… वो मना नहीं कर सकती.

इतना सुन कर शिखा मेरे हाथ से फोन लेकर अमित को गुस्से में गाली देना चाह रही थी लेकिन मैंने मोबाइल को दूर कर लिया और जल्दी से शिखा के मुँह पर हाथ रख दिया ताकि वो कुछ बोल नहीं सके.
सन्नी- सच में सर, आपने वीडियो बना ली उसकी?
अमित- हाँ बना ली है, अब वो पिटारी में बंद हो चुकी है.

सन्नी- सर क्या आप मुझे भी शिखा की चूत दिलवा सकते हो.

शिखा दीदी अब तक पूरे गुस्से में थी, अगर अमित अभी उनके सामने होता तो दीदी सच में उसका खून कर देती!
अमित- हाँ क्यों नहीं, वैसे मेरे और भी 2 दोस्त हैं जो उसकी चूत लेने को बेकरार है, तेरा भी नंबर लगवा दूँगा, लेकिन पहले तू सपना से मेरा काम करवाना उसके बाद तेरी बारी आएगी…
सन्नी- ठीक है सर मैं कोशिश करता हूँ, और जैसे ही कुछ होता है मैं आपको फोन करता हूँ.
मैंने फोन कट कर दिया.

मैंने दीदी की तरफ़ देखा तो उनके चेहरे पर गुस्सा और आँखों में आँसू थे- मैं इस अमित को नहीं छोड़ने वाली, जान से मार दूँगी इसको, खून पी जाऊंगी अमित का, मैंने उस पे इतना यकीन किया और वो हरामी ऐसा निकला!
दीदी रोते हुए गुस्से में अमित को गालियाँ दे रही थी.

रियल सेक्स स्टोरी जारी है, कहानी पर अपने विचार दे सकते हैं।
मेरा ईमेल है- [email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! दोस्त की दीदी की क्सक्सक्स मूवी से चुदाई-4