बीवी से पहले उसकी सहेली की चुदाई

(Bivi Se Pahle Uski Saheli Ki Chudai)

हाय दोस्तो.. मेरा नाम आशु है। मैं ग्वालियर का रहने वाला हूँ और आज मैं अपनी कहानी अन्तर्वासना के जरिए भेज रहा हूँ.. मजा लीजिए।

मेरी शादी को 3 साल हो चुके हैं मेरी लव मैरिज हुई है।

मैं और मेरी गर्ल-फ्रेंड.. जो बाद में मेरी बीवी बनी, उसकी सहेली के घर हमारी शादी का कार्ड देने गए। जब उसकी सहेली ने दरवाजा खोला.. तो मेरे तो होश उड़ गए।

माय गॉड.. क्या पटाखा माल थी, उसने ब्लैक कलर की साड़ी पहनी हुई थी, उसके मम्मों के बीच की दरार बहुत ही मस्त दिख रही थी।

मेरी नजर तो उसके मम्मों पर टिक गई, उसने यह बात नोटिस कर ली और वो भी मेरे आकर्षक जिस्म पर फ़िदा हो गई थी।

मैंने बातों बातों में उसका नंबर ले लिया और उसको अपना नम्बर भी दे दिया।

मैंने दो दिन के बाद उसको कॉल किया, कहा- हैलो, रजनी जी?
वो बोली- हाँ जीजाजी.. मैं रजनी ही बोल रही हूँ। मैं कब से आपके फोन का इंतजार कर रही थी.. मुझे पता था कि आपका फोन आएगा।

उसके बाद हम सामान्य बातें करने लगे।
उसने हँस कर कहा- आप बड़े गौर से मुझे देख रहे थे.. क्या बात थी जीजाजी?

मैंने उसका कहा- आप उस दिन बहुत सेक्सी लग रही थीं।
तो छूटते ही बिंदास बोली- तभी आपकी नजर मेरे मम्मों पर थी।
मैं उसकी बात से एकदम चौंक गया कि सामने से उसने ऐसी खुल्लम-खुल्ला बात की।

फिर क्या था.. मुझे तो मौका चाहिए था, मैंने भी उसको कहा- रजनी यार.. मुझे आपसे मिलना है।
बोली- कल दोपहर में मेरे घर पर 2 बजे आ जाना.. मेरा पति उस वक्त जॉब पर रहेगा… पर तब भी मुझे कॉल करके आना।

मैं ठीक दो बजे उसके घर पर पहुँच गया।

वो बहुत सेक्सी लग रही थी, मैंने जाते ही उसको सीने से लगा लिया।

उसने पहले तो मुझे मना किया, कहा- जीजाजी.. आप रिश्ते में मेरे जीजू लगते हो।
तो मैंने कहा- साली आधी घरवाली होती है।

मैंने टाइम वेस्ट न करते हुए उसके होंठों पर किस कर लिया।
वो भी मदहोश हो गई।

उसके मम्मों का साइज़ 36 रहा होगा।
मैंने उसके चूचों को बहुत जोर से दबाया तो वो अपना कंट्रोल खो बैठी और उसका हाथ मेरे लौड़े पर चला गया।
उसने मेरा बेल्ट खोल दिया और जींस उतारने लगी।

मैंने भी उसके मम्मों को उसकी ब्रा से आजाद कर दिया और पैन्टी उतारने की जगह फाड़ डाली।
अब वो मेरे सामने पूरी नंगी थी और मैं भी कुश्ती के लिए तैयार था।

हम दोनों बिस्तर पर आ गए, मैं उसकी चूत में अपना लंड पेलने को रेडी था।
वो बोली- जीजू.. पहले मेरी चूत तो चाटो.. तब तक मैं आपका लंड चूसती हूँ।

हम दोनों ने 69 की पोजीशन बना ली अब वो मेरा लण्ड चूस रही थी और मैं उसकी चूत चाट रहा था।

वो बोली- आशु मेरी जान.. प्लीज़.. मुझे हमेशा तुम ही चोदना.. मेरा पति मुझे मजा नहीं देता है।
मैंने रजनी की चूत में लौड़ा पेल दिया और उसकी संपूर्ण चुदाई की।

उसके बाद मेरी शादी हो गई.. पर आज भी जब भी में ग्वालियर जाता हूँ.. उसकी चुदाई जरूर करता हूँ।

यह थी मेरी पहली कहानी थी। मेरी चुदाई की कहानियाँ और भी हैं.. आगे जरूर लिखूंगा।

आपको मेरी कहानी कैसी लगी.. मुझे मेल जरूर करें।
मुझे आपके मेल का इंतजार रहेगा।
आपका आशू
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! बीवी से पहले उसकी सहेली की चुदाई