भाई की साली की चूत बरसात ने दिलवाई

(Bhai Ki Sali Ki Choot Barsat Ne dilwai)

प्रिय पाठको, मैं आपका दोस्त देवेन्द्र कुमार एक बार फिर अपने जीवन की सच्ची घटना लेकर आया हूँ।

आपने मेरी पहली हिन्दी सेक्स स्टोरी
चूतिये ने चूत फाड़ी
को बेहद पसंद किया, इसके लिए में आपको धन्यवाद देता हूँ।

दोस्तो, मैं अपने जीवन में डॉक्टर बनना चाहता था, इसके लिए मैंने कई वर्षों तक तैयारी भी की, इसी दौरान मुझे अक्सर कानपुर जाना पड़ता था, मेरे बड़े भाई वहां एक सरकारी विभाग में काम करते थे, उनकी ससुराल भी वहीं पर थी।

उनकी एक साली थी उसका नाम प्रिया (परिवर्तित) था, प्रिया देखने में सांवली, सुन्दर नैन नक्श और भरे बदन की मालकिन थी। वह भी परीक्षा की तैयारी किया करती थी और डॉक्टर बनना चाहती थी।
प्रिया मेरे मन में बसी हुई थी और मैं अक्सर उसे चोदने के सपने देखा करता था।

एक बार भगवन ने मेरी यह मुराद पूरी कर दी।

मैं पेपर देने की लिए अगस्त के माह में कानपुर गया था, प्रिया से मेरी अच्छी दोस्ती थी और वह मेरे साथ ही पेपर देने जाया करती थी। हम दोनों अक्सर मजाक में एक दूसरे को खूब छेड़ते थे, वो भी अक्सर मेरे बदन से लिपट कर मुझे गर्म कर देती और अचानक मुझसे अलग होकर हिरनी की तरह छिटककर भाग जाती थी।
उसकी यह अदा मुझे बहुत पसंद थी।

मुझे याद है उस दिन काफी बारिश हो रही थी, मैं और प्रिया दोनों भीगते हुए घर तक आये, देखा तो वहाँ पर ताला लगा हुआ था। चाबी नीचे मकान मालकिन के पास थी। पता चला कि सभी लोग प्रिया के एक चाचा के अचानक के बीमार पड़ने के कारण उन्हें देखने के लिए लखनऊ गए थे।

बारिश अधिक होने के कारण उनकी सुबह से पहले लौटने की कोई उम्मीद नहीं थी।
मैं मन ही मन में बहुत खुश हुआ कि शायद आज गीता की तरह मुझे प्रिया की भी चूत मारने मिल जाये।

रात नौ बजे तक हम दोनों ने खाना खा लिया और अपने अपने कमरों में चले गए। मैं बहुत थका हुआ था और मुझे लेटते ही नींद आ गयी।
रात मैं साढ़े बारह बजे करीब मैं पेशाब करने के लिए गया। जब मैं लौटा तो प्रिया के कमरे की लाइट जल रही थी।

मैंने उत्सुकतावश खिड़की से झांक कर देखा तो वो बेधड़क सो रही थी जैसे बहुत थकी हो!
जैसे ही मैं प्रिया के कमरे के अन्दर पहुँचा मेरा खून गर्म हो गया।
वह बेड पर सो रही थी और उसका गाउन गहरी नींद में होने के कारण जांघों तक उठा हुआ था।

मेरा लंड झटके खाने लगा, मैंने सोचा ट्राई करने में क्या हर्ज़ है।
मैं बेड पर उसके पास बैठ गया। उसकी सांवली रंग की गदराई हुई जांघें बहुत सेक्सी लग रही थी।

मैंने उसके गाउन को सरका कर कमर तक कर दिया, वह काले रंग की पेंटी पहने थी जो बहुत टाइट लग रही थी। मैंने उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाना शुरू कर दिया।

एक मिनट बाद ही उसकी पेंटी गीली होने लगी।
मैं समझ गया कि वह सोने का नाटक कर रही है और लेटकर मज़ा ले रही है।

मैंने धीरे धीरे नीचे खिसका कर उसकी पेंटी उतार दी। उसने अपना शरीर ढीला छोड़ दिया था।

क्या गजब की गुलाबी चूत थी उसकी… जिस पर छोटे छोटे बाल थे। मैंने उसकी चूत को सहलाना शुरू किया तो उसने अपनी टाँगें फैला दी।
मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया।

अब प्रिया भी मेरा साथ देने लगी थी, उसने मेरा लंड सहलाना शुरू कर दिया, अब हम दोनों से कंट्रोल नहीं हो रहा था, मैंने प्रिया के कपड़े उतार दिए और खुद भी नंगा हो गया।
मेरा 6 इंच लम्बा लंड देख कर वह बोली- मुझे टेस्ट करना है।

मैं समझ गया कि वह पूरी चुदक्कड़ है, मैंने 69 की पोजीशन में आकर उसे लंड चूसने का मौका दिया। मैंने उसकी चूत कस कर चाटना शुरू कर दिया।
एक बार फिर उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया मैंने वो भी चाट लिया।

वह बोली- तुम्हारा तो निकला ही नहीं?
मैंने उसके होठों पर होंठ रखते हुए कहा- अब यह तुम्हारी फाड़ कर ही दम लेगा।
प्रिया की चूचियाँ बहुत ही कसी हुई थी, उसके निप्पल गुलाबी थे और ऊपर को उठे हुए थे, बहुत ही कामुक नज़ारा था।

मैं प्रिया के ऊपर आकर उसके होंठों को डीप किस करने लगा, उसने भी अपनी जीभ मेरे मुँह के अन्दर डाल दी और मेरा बराबर साथ देने लगी।
वह बहुत सेक्सी और चुदक्कड़ लड़की निकली।

मैंने उसके निप्पल को चूसना शुरु किया तो वह जोर की सिसकारियाँ लेने लगी और बोली- प्लीज़ मैं मरी जा रही हूँ, जल्दी कुछ करो न!
मैं समझ गया कि वह बहुत गर्म हो गई है और अब देर करना ठीक नहीं है। मैं उसकी टांगों को फैलाकर बीच में आ गया और अपने लंड का हेड वाला भाग उसकी चूत पर घिसना शुरू कर दिया।

उसकी उत्तेजना चरम सीमा पर आने लगी थी, उसके मुख से बेहद कामुक आवाजें आने लगी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’
मैंने तुरंत उसकी चूत में अपना लंड घुसा दिया, उसकी चूत बहुत टाइट और चिकनी भी थी।

जैसे पूरा लंड उसकी चूत में गया, वह अपने चूतड़ ऊपर उठाने लगी। मैंने भी देर न करते हुए तेज़ रफ़्तार में चूत चुदाई शुरु कर दी। उसके मुह से आह… आह… उह… की आवाजें आ रही थी और चूत बुरी तरह पानी छोड़ रही थी।

वह बोली- मैं मरी जा रही हूँ, प्लीज़ धीरे करो न!
मैं उसके बात अनसुनी करते हुए और तेज़ स्पीड में चुदाई करने लगा, उसकी चूत तीन बार पानी छोड़ चुकी थी।
अब उसे बेहद मज़ा आने लगा था और वह लगातार अपने गांड ऊपर को उठा रही थी।

मैंने उसे घोड़ी बनाने के लिए कहा तो वह मेरी तरफ गांड करके बिस्तर पर बैठ गई, मैंने तुरंत उसकी चूत में लंड घुसकर टॉप गियर में चुदाई करना शुरू कर दिया।
करीब पांच मिनट उसकी चूत ने फिर पानी छोड़ दिया।

उसकी चूत सिकुड़ने लगी थे और मुँह से आहें निकल रही थी। मैं समझ गया कि उसे चुदवाने में दिक्कत हो रही है।

मैंने पास की अलमारी से हेयर आयल निकालकर उसकी चूत पर लगा दिया और चुदाई को जारी रखा।
अब उसे फिर चुदाई में ज्यादा मज़ा आने और उसके मुँह से जोर जोर से सिसकारियाँ निकलने लगी।

चुदाई करते करते मेरा भी शरीर पसीने से लथपथ हो गया था। उसकी चूत एक बार फिर पानी छोड़कर सिकुड़ने लगी। वह बोली और कितनी देर करोगे? मैं मर जाऊंगी प्लीज़ अब निकाल लो न!

मैंने उसकी हालत समझते हुए उसे बेड पर लिटा दिया और उसकी चूत पर अच्छी तरह तेल लगा दिया। अब मैं उसकी टांगों के बीच में आकर जबर्दस्त चुदाई करने लगा जिससे कि मैं भी झड़ जाऊँ।

मगर मैं इतना उत्तेजित हो गया था कि मेरी हवस शांत ही नहीं हो रही थी।
यह चुदाई करीब दस मिनट से चल रही थी मगर कुल मिलकर डेढ़ घंटे से ज्यादा हो गया था और मैं भी झाड़ना चाह रहा था लेकिन झड़ नहीं पा रहा था।

उसकी हालत बहुत खराब थी, मैंने पूरी ताकत से धक्के लगाने शुरू कर दिया था, उसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था। काफ़ी देर तक इसी पोजीशन में चुदाई करके मैं उसकी चूत में जोरदार झटके लगाते हुए झड़ गया।

हम दोनों को बहुत मज़ा आया था, दोनों सारी रात नंगे लिपट कर सोये।
यह मेरे जीवन का यादगार दिन था।
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! भाई की साली की चूत बरसात ने दिलवाई