अठारह वर्षीया कमसिन बुर का लुत्फ़-1

(Atharah Varshiya Kamsin Bur Ka Lutf- Part 1)

This story is part of a series:

पाठकों को चूत निवास का नमस्कार और पाठिकाओं की चूतों के लिए लौड़े के 31 तुनके!

मैंने अपनी पत्नी जूसी रानी की भतीजी रीना रानी की चुदाई के विषय में दो कहानियाँ
भांजी ने घर में नथ खुलवाई
एक लौड़े से दो चूतों की चुदाई
लिखीं थीं जो यदि आप लोग पढ़ लें तो यह कहानी समझने में अधिक मज़ा आयगा।

ये दोनों कहानियाँ आप अन्तर्वासना पर पढ़ सकते हैं।

कहानी में बताया गया था कि नथ खुलवाने के उपरांत रीना रानी गर्मी की छुट्टियों में हमारे घर ही आ गई थी ताकि रोज़ रोज़ चुद सके। इसी बीच मेरी साली रेखा रानी भी कुछ दिन चुदने आ गई थी।

रेखा रानी से मेरे चुदाई के सम्बन्ध बहुत पुराने हैं। जब मेरी शादी हुई थी उसके तीन या चार महीनों के भीतर ही वो मुझ से पट गई थी और जब भी मौका लगता था, चुदाई हो जाती थी।

कुछ दिन के उपरांत हमारा अजमेर जाने का प्रोग्राम बन गया।
अजमेर में मेरे चाचाजी रहते हैं जो काफी दिनों से ख़राब सेहत से परेशान थे, सोचा कि चलो उनसे मिल आते हैं।

तो मैं, जूसी रानी और रीना रानी तीन दिन का अजमेर विजिट का प्लान बना कर अपनी कार से अजमेर के लिए निकल पड़े।

सुबह करीब नौ बजे निकल कर शाम पांच बजे अजमेर चाचाजी के घर पहुँच गए।

चाचाजी का बहुत बड़ा फर्नीचर का बिज़नेस है, उनके दो बेटे हैं और दोनों उनके साथ मिलकर कारोबार सँभालते हैं।
अजमेर में उनका बहुत बड़ा बंगला है, जिसमें वे सब साथ रहते हैं।

बड़ा बेटा सचिन लगभग मेरी ही उम्र का है या शायद एक आध साल बड़ा या छोटा होगा।
सचिन से तीन साल छोटा बेटा राहुल भी बिज़नस में साथ है।
दोनों भाइयों के अपने अपने शोरूम हैं जहाँ उनकी पत्नियाँ भी उनके साथ जाती हैं।

नीचे ग्राउंड फ्लोर पर ड्राइंग रूम, डाइनिंग रूम, लिविंग रूम और एक बैडरूम है जिसमें चाचाजी और चाचीजी रहते हैं, फर्स्ट फ्लोर और सेकंड फ्लोर पर तीन तीन बैडरूम हैं।

सचिन और गायत्री फर्स्ट फ्लोर पर एक बैडरूम में और सचिन की किशोर बेटी ऐश्वर्या दूसरे बैडरूम में है।
सेकंड फ्लोर पर राहुल और रमा एक बैडरूम में और उनका बेटा राघव दूसरे बैडरूम में रहते हैं।
दोनों मंज़िलों में एक एक बैडरूम खाली है मेहमानों के लिए।

हुआ यह कि मुझे और जूसी रानी को फर्स्ट फ्लोर पर खाली वाला बैडरूम दे दिया गया और रीना रानी को ऐश्वर्याके साथ उसके बैडरूम में एडजस्ट कर दिया गया।

जैसे ही मेरी निगाह ऐश्वर्या पर पड़ी मेरा दिल धक से रह गया, लौड़े ने फौरन एक उछाल लगाई।
साली ने एक बहुत ही छोटा सा निकर पहन रखा था, निकर मुश्किल से चूत से चार या पांच इंच नीचे तक ही था।
हरामज़ादी की नंगी टाँगें बहुत ही चिकनी, एकदम मलाई जैसी थीं।

कमसिन जवानी में अभी रोयें भी नहीं आए थे। बहनचोद खा जाने के लिए दिल मचल उठा। कुतिया के हसीन से पांव भी नंगे थे।

टाँगें बड़े ही उम्दा फिगर के साथ छोटे से दो सुन्दर पैरों पर समाप्त होती थीं।
पैरों की एक उंगली अंगूठे से ज़रा सी बड़ी, नाख़ून भी ज़रा ज़रा से बढ़े हुए, कोई नेल पोलिश नहीं।
सुडौल खूबसूरत उंगलियाँ, बेहद हसीन टखने और गुलाबी गुलाबी से पांवों के तलवे।

ऊपर उसने एक झक सफ़ेद टॉप पहन रखा था, ब्रा भी सफ़ेद थी जो टॉप के पीछे से झांक रही थी।
बहुत छोटे छोटे से चुचूक थे, शायद अभी ताज़े ताज़े उगने आरम्भ हुए थे।
अभी उनका आकार एक बड़े निम्बू जितना था।

कोई नहीं बहनचोद जब जम के चूसे जायेंगे तो हो जाएंगे खूब बड़े… चूचियाँ तो चूसने के बाद ही अच्छे से बढ़ती हैं।
जिनकी पहले से ही बड़ी होती हैं उनकी चूसने पर और भी अधिक बड़ी हो जाती हैं।

चलो अच्छा है ये मम्मे पूरे पूरे मुंह में तो आ जायेंगे अन्यथा अभी तक किसी भी रानी का दूध पूरा पूरा मुंह में नहीं आ पाता।

चश्मा लगाती थी जो उसके चेहरे पर खूब फ़ब रहा था।

मैंने रीना रानी से कहा- मेरा दिल आ गया है इस चूत पर और अब यह तेरा काम है इसको पटा के देने का! तू इसके ही कमरे में है तो बहुत टाइम मिलेगा कमीनी को पटाने का!

रीना रानी टेंशन में आ गई और बोली- बहनचोद, मैं कैसे पटाऊँगी?
मैंने कहा- यह तू जाने… मुझे तो यह चूत नथ खुलवाने को पटी हुई चाहिए। यदि मैं यहाँ से खाली हाथ गया तो मादरचोद रंडी तू भी साली अपनी चुदाई भूल ही जा। अगर भविष्य में मेरा लण्ड चाहए तो इस चूत को पेश कर मुझे।

रीना रानी रुआँसी सी होकर बोली- ठीक है बहन के लौड़े, कोशिश करूंगी। परन्तु यह तेरी ज़्यादती है कि अगर इसको न फंसा सकी तो मुझे भी नहीं चोदा करेगा। वो फंसे या न फंसे यह क्या मेरे हाथ में है?

मैं बोला- हाँ है तेरे हाथ में… मेरा लण्ड इसको एक निगाह मारते ही फुनक उठा, यह ज़रूर बहुत गरम चूत वाली है। जल्दी ही काबू आ जाएगी। तुझको भी तो जूही रानी ने मेरे लिए पटाया था। जैसे उस रंडी ने पटाया वैसे ही तू भी पटा.. अब तू जा और जाकर इस बुर को फांसने के काम पर लग जा… वक़्त न बर्बाद कर… जा अब!

कह कर मैंने रीना रानी के मस्त चूतड़ों पर एक ज़ोर से चपत लगाई।
रीना रानी चिहुंक कर इतरा कर बोली- बहनचोद राजे अब तेरी नई चूत को पटाऊँ या पहले झड़ जाऊँ?

मैंने हँसते हुए कहा- जा जा हरामज़ादी, पहले उस नई चूत को मेरे फंदे में लेकर आ। तुझे इनाम दूंगा ऐसी चुदाई का कि साली तू तीन दिन तक हिल भी न पायेगी।

रीना रानी उस होने वाली धाकड़ चुदाई के मेरे वादे को सुनकर मस्ता के भाग गई।

उसके बाद मैं अपने चचेरे भाई, चाचाजी और चाचीजी के साथ बातचीत में व्यस्त हो गया।
काफी दिनों के बाद मिले थे तो खूब सारी बातें थीं करने को।

उन दोनों को क्या खबर थी कि चूतनिवास उनकी ऐश्वर्या के मक्खनी बदन पर नज़रें लगाए बैठा है और उसको फंसाने के लिए जाल बुन रहा है।

कुछ समय के बाद मेरे मोबाइल पर रीना रानी का एक मैसेज आया कि वो मेरा लैपटॉप उठाकर अपने कमरे में ले गई है इसलिए यदि मैं अपने रूम में जाऊँ तो लैपटॉप वहाँ न देखकर परेशान न होऊँ।
‘लैपटॉप क्या करने ले गई?’
उसने जवाब भेजा- जब मिलूँगी तो बता दूँगी..

दो घंटे के बाद डिनर लगा दिया गया और हम सब उठकर डाइनिंग रूम में चले गए।
रीना रानी और ऐश्वर्या भी आ गए।
दोनों लड़कियाँ नाईट ड्रेस में थीं।

रीना रानी ने नाइटी के ऊपर नाईट गाउन पहन रखा था जबकि ऐश्वर्या ने पजामा और टॉप… दोनों चूतें चोदने लायक लगती हुई गज़ब ढा रही थीं।

खाना खाने के बाद मैंने रीना रानी को आँख मारी और कहा- मैंने खाना कुछ ज़्यादा खा लिया है इसलिए मैं थोड़ा बाहर टहलने जाऊँगा।
रीना रानी बोली- फूफाजी, जाना तो मुझे भी था लेकिन मैं इन कपड़ों में बाहर नहीं जा सकती, चल के छत पर घूम लेते हैं न? ऐश्वर्या कह रही है कि छत काफी बड़ी है और आराम से टहला जा सकता है। ऊपर चलो तो मैं भी थोड़ा टहल लूंगी, मैंने भी थोड़ा सा ओवर ईट कर लिया है।

मैं मान गया और सब लोगों से पूछा कि और कोई मेरा साथ देगा तो वो भी चले।

मगर सबने मना कर दिया तो मैं और रीना रानी छत पर चले गए।

काफी बड़ी छत थी।
ऊपर जाते ही मैंने रीना रानी को भींच के ज़ोर ज़ोर से उसके चूचियाँ दबाईं और कस के उसके होंठों के कई चुम्बन ले डाले।

रानी ने मस्ती में डूबकर मेरी छाती पर कई मुक्के जड़े और बोली- हरामी, अब सुनेगा भी या शैतानी ही किये जायेगा। भोसड़ी वाले, मैं कहीं दौड़ी जा रही हूँ जो यूँ मसल रहा है?

मैं बोला- अच्छा बता क्या किया तूने ऐश्वर्या रानी के साथ?
रीना रानी ने कहा- अभी वो रानी कहाँ बनी है कुत्ते… जब बन जाये तब कहियो न ऐश्वर्या रानी!

मैं- अरे बन ही जाएगी रानी भी… तू लगी तो है उसको पटाने में… मैं तो उसको ऐशु रानी कहूंगा… ऐश्वर्या रानी कुछ ज़ुबान पर ठीक से चढ़ता नहीं है कमीनी रंडी!

रीना रानी- यार जो तेरी जी में आए तू कहेगा तो वही लेकिन अब सुन तो ले मैंने क्या किया है इन दो घंटों में!

कहकर रीना रानी थोड़ी देर तक मेरी तरफ आँखें तरेर के देखती रही।
कहानी जारी रहेगी।
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top