टैक्सी ड्राईवर को मिली सेक्सी गर्म चूत

मैं टूर टैक्सी ड्राइवर हूँ. मुझे एक पंजाबी परिवार को राजस्थान घुमाने का काम मिला. उनमें एक सेक्सी लड़की थी करीब 19 साल की… उसकी चूत काफी गर्म थी, उसने पहल करके मुझसे अपनी चूत चुदवाई. कैसे? पढ़ें!

दीदी के ससुर ने मेरी मम्मी को चोदा

यह कहानी काल्पनिक है. मैं सारा दिन चुदाई, सेक्स के बारे में सोचती रहती हूँ. इस कहानी में मैंने अपनी सेक्स भरी कल्पना से, जो कुछ मेरे दिमाग में आया लिख दिया. इस लिए लॉजिक को एक तरफ डाल कर कहानी पढ़ें!

ब्रदर सेक्स कहानी: घर की लाड़ली-4

भाई अपनी बहन मयूरी की नंगी चिकनी जांघें और खुली चुत के दर्शन होते ही अवाक्-सा रह गया. उसने देखा कि उसके बड़ी-बहन की चुत एकदम गुलाबी है.

शादी का मंडप और चुदाई

राजस्थान के गाँव में मैंने एक अंजान आदमी से कई बार सेक्स किया। मेरा सबसे यादगार सेक्स तब हुआ जब मंडप में लड़की फेरे ले रही थी, इधर मैं अपनी चुदाई करवा रही थी, उसी गैर मर्द से। कैसे? लीजिये पढ़िये:

ट्रेन में सेक्स का मजा

मैंने ट्रेन में सेक्स का मजा कैसे लिया जब मैं भीड़ से ठसाठस भरी पैसेन्जर ट्रेन से सहारनपुर से गाज़ियाबाद जा रही थी. इस भीड़ का फायदा मेरे पीछे खड़े आदमी ने उठाया. उसने क्या किया मेरे साथ और कैसे किया?

गाँव की गोरियाँ देसी छोरियां

मैं गाँव में रहता था. वहां मैंने बहुत सारी देसी गर्ल की खूब चुदाई की, खूब मजा लिया देसी सेक्स का! ग्रुप सेक्स भी किया. कुछ छोटी छोटी चुदाई कहानियों का मजा लें!

मीठा मीठा मौसम

जब से बाइक लिया था मैं सोचा करता था कि कभी तो कोई लड़की मेरे साथ भी मेरी बाइक पे बैठेगी, मुझे कस के पकड़ेगी और मुझे भी कुछ सिंगल लड़कों को जलाने का मौका मिलेगा जैसे तब तक मैं जला करता था!

ट्रेन सेक्स स्टोरी: सीट वेटिंग और चुदाई कन्फर्म

मेरी कहानी ट्रेन में सेक्स की है. मैं ट्रेन से लखनऊ से गोरखपुर वापस जा रहा था. सामने वाली सीट पर एकदम मस्त लड़की बैठी थी. उसके साथ कैसे सेटिंग हुई और क्या क्या हुआ? पढ़ें!

चुत की खुजली और मौसाजी का खीरा-4

अंकल ने कैसे हमारी जवान नौकरानी को चोदा, पढ़ें इस भाग में… साथ ही पढ़ें कि कैसे बारिश में अंकल ने मेरे साथ सेक्स से भरा मजा लिया.

शादी में चूत चुदवा कर आई मैं-3

मैं एक गाँव में शादी में आई तो मेरी चूत मुझे जीने नहीं दे रही थी. मैं वहीं एक रिटायर्ड फौजी को पटा रही थी. इतना तो तय था कि आज नहीं तो कल उससे मैं चुदने वाली थी।

वासना के पंख-10

माँ रोज़ बेटे बहु की चुदाई देखती थी और जब कभी मन करता तो रात को बेटे के बेडरूम में जाकर खुद बेटे से चुदवा आती थी. उधर बहू अपना एक और राज खोल रही है शादी से पहले का!

मामी की गांड चोद कर सुहागरात मनायी-2

मामी छत की बाउंड्री पर हाथ रख कर घोड़ी बन कर अपनी गांड पीछे को निकाल दी, मैंने अपने हाथों से मामी के मुलायम चूतड़ फैलाये और लंड का सुपारा उनकी गांड के छेद पर टिका दिया.

वासना के पंख-6

दो दोस्त अपनी बीवी की अदला बदली करके की जुगत में हैं. एक की बीवी तो एकदम से तैयार है लेकिन दूसरी तो अपने पति के अलावा दूसरे लंड के नाम से ही तौबा करती है.

मामी की गांड चोद कर सुहागरात मनायी-1

मैं अपनी मामी की चूत को चोद चुका था. वो मुझे अपना चोदू पति मानती थी. मामी के चूतड़ बड़े शानदार थे, मैंने मामी की गांड कैसे मारी, ये इस कहानी में पढ़िए.

वासना के पंख-5

स्टेज पर चुदाई शुरू हो गई थी और कमरे के दूसरे कोने में बैठा युगल भी पीछे नहीं था। वो अपनी महिला साथी को टेबल पर झुका कर पीछे से चोद रहा था। म्यूजिक की धुन भी ऐसी थी कि लग रहा था चुदाई के लिए ही बनी थी।

नंगी कहानी: वासना के पंख-4

इस नंगी कहानी में पढ़ें कि कैसे पति ने अपनी बीवी को पेरिस में समुद्रतट पर नंगी करके पानी में खड़ी करके चोदा, समंदर की लहरों में दोनों की चुदाई के झटके कहीं खो गए, देखने वालों को लगता कि कोई अपनी बीवी के साथ लहरों का आनंद ले रहा है।

हवस बदसूरत लड़की की

यह कहानी है मेरे अंदर भरी हवस की … मैं 29 साल की हो गई थी. पर मैं बिल्कुल कुंवारी थी क्योंकि मैं बदसूरत थी. मेरा भी मन करता था कि कोई मेरे बड़े बड़े मम्मों को दबाए, मेरे होंठ चूमे, मुझे जी भर के चोदे.

सर्दी की रात का गरम अहसास

मैं और मेरी स्टूडेंट एक दूसरे के बहुत करीब आ चुके थे, हम कई बार एक दूसरे की प्यास बुझा चुके थे, लेकिन प्यास थी कि बुझने की बजाय भड़कती ही जा रही थी। एक शादी में हमने कैसे प्यार किया.

पराई नार की चूत चुदाई का मजा-2

उसका लौड़ा मेरे मुँह में था और उसके होंठ मेरी पेंटी पर थे. वो मेरी चूत को पेंटी के ऊपर से ही चूस रहा था, चाट रहा था. मैं कभी उसके लौड़े को चूसती, तो कभी उसकी गांड के छेद में जीभ घुमाती.

पराई नार की चूत चुदाई का मजा-1

हमारी पहचान फेसबुक पर हुई, व्हॉट्सैप पर देर रात तक बातें होने लगी. धीरे धीरे हमारी बातों में सेक्स आ गया . हम दोनों मिलने का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे और वो दिन आ ही गया.