खुले स्थान पर चुदाई की कहानियाँ

खुले स्थान पर जैसे छत पर, समुद्र तट या बाग बगीचे में चुदाई की कहानियाँ

Khuli jagah par jaise garden, beech, road side, chhat par chudai ki kahaniyan

Stroies about sex fucking in the garden, at the beech, or on the roof

लोहपथगामिनी में एक यादगार सफर

मेरे भतीजे की शादी थी. पति काम में व्यस्त थे. उन्होंने ट्रेन में रिजर्वेशन करा दी पर टिकट कंफर्म नहीं हुई. किंतु जाना तो था. उसी यादगार सफर की एक कामुक याद!

मेरा पहला प्यार सच्चा प्यार-4

मुझे दो लड़कों के साथ कुछ लोगों ने देख लिया तो मैं वहां से आ गयी लेकिन मेरी कच्छी वहीं पर रह गयी. वो लोग मेरी कच्छी उठा कर ले आये और मुझे कच्छी लौटने के बहाने बाहर ले गए.

दूध वाली देसी आंटी की मस्त चुदाई

मैं अपने गाँव में चाचा-चाची के घर पर रहा रहा था. वहाँ एक आंटी दूध देने आती थी. उनके दूध जन्नत लगते थे मुझे. मैंने आंटी के सेक्सी बदन को पाने के लिए क्या किया?

गांड मराने की चाहत ट्रेन में पूरी की

मैं शादीशुदा हूँ और हमारी सेक्स लाइफ मजेदार है. लेकिन मुझे गांड मरवाने का शौक है. काफी दिन से मैं गांड में लंड लेने के लिए बेचैन था. मैंने अपनी इच्छा कैसे पूरी की.

कोटा की स्टूडेंट की कुंवारी चूत-2

कोटा में एक मस्त लड़की जो यहाँ पढ़ने आई थी, से दोस्ती के बाद अब मै उसे चोदना चाहता था. चुम्बन आदि से आगे बढ़ने के लिए मैं उसे मूवी ले गया. वहां मैंने क्या किया?

दीदी चुदी अपने यार से

एक दिन हमारे पड़ोस में शादी थी. बारातियों में से कुछ लड़के मेरी दोनों बहनों पर लाइन मारने लगे. उसके बाद जो हुआ वह देखकर मैं खुद को रोक न सका. कहानी पढ़ कर मजा लें!

मेरे मामा की लड़की मेरी दिलबर-2

मैं अपने मामा की बेटी के साथ सेक्स कर चुका था. एक बार मेरा दोस्त अपनी गर्लफ्रेंड के साथ आउटिंग पर जाने लगा. उसने मुझसे गर्लफ्रेंड को साथ ले चलने को कहा. मैं अपनी ममेरी बहन को ले गया.

अतृप्त वासना का भंवर-4

मैंने कुछ पल सोचा कि कम से कम ये चाट कर ही मुझे झड़ने में मदद करे, तो कुछ राहत मिले. तो मैंने उसकी बात मान ली और अपनी साड़ी कमर तक उठा कर पैंटी निकाल दी.

जीजा से साली पहली बार ट्रेन में चुद गयी

एक बार मैं, मेरी बहन और मेरे जीजाजी ट्रेन में गोवा जा रहे थे. ट्रेन में हालात कुछ ऐसे बने कि मैं अपने जीजा से चुद गयी. कैसे चुदी, कैसे मेरे जीजा ने मेरी चूत की सील तोड़ी, पढ़ें ओर मजा लें!

ट्रेन में मिले हैंडसम लड़के से चुद गई

मैं ट्रेन से दिल्ली से बंगलौर जा रही थी. मेरे सामने वाली सीट पर एक हैंडसम लड़का था. वो मुझे अच्छा लगा. उससे कैसे मेरी दोस्ती हुई और हम दोनों ने ट्रेन में क्या क्या किया? पढ़ें.

बीमारी ने दिलायी प्यासी भाभी की चूत-6

उसे उठा कर मैं खिड़की के पास ले गया. खिड़की खोल कर उसे उस पर झुका दिया और पीछे से उसकी साड़ी उठा कर अपना लंड उसकी चुत में घुसा दिया. खिड़की के बाहर लोग आ जा रहे थे.

ठंडी रात में बस में मिली चूत की गर्मी

नमस्ते दोस्तो, मैं राजीव खंडेलवाल जालना महाराष्ट्र में रहता हूँ. मेरी उम्र 40 साल है और शादीशुदा हूँ. मेरी हाइट 5 फुट 3 इंच और हथियार 6 इंच का है. मेरी सेक्स लाइफ अच्छी चल रही है. आज मैं अपने साथ घटी एक घटना बता रहा हूं. बात है दिसंबर 2016 की है, उस समय […]

चलती ट्रेन में चूत चुदाई का पहला अनुभव

मैंने कभी चुदाई नहीं की थी. अम्बाला से जोधपुर जाते हुए ट्रेन में मुझे एक आंटी मिली और मुझे अपने जीवन की पहली चूत चुदाई करने को मिली. आप पढ़ें और आनन्द लें कि ये सब कैसे हुआ.

हुस्न की जलन बनी चूत की अगन-2

जब हुस्न की दो परियाँ एक जगह इकट्ठी हो जाएँ तो उनमें आपस में इर्ष्या स्वभाविक है. मेरे पड़ोस में दो खूबसूरत भाभियाँ इस जलन के कारण क्या क्या कर गुजरने पर उतारू हो गयी. पढ़ें इस कहानी में!

बीमारी ने दिलायी प्यासी भाभी की चूत-5

हैदराबाद में अचानक एक महिला से मिला और रात उसके साथ बिताई. अगले दिन उसके घर गया. घर में मुझे एक 22-24 साल की लड़की के साथ मज़े किए. उसके बाद उब दोनों ने मेरे साथ क्या किया?

सिनेमा हॉल में मैडम की चुदाई

मैं एक दिन कम्पनी मैं एक कम्प्यूटर को ठीक करने गया. वहाँ मुझे एक लड़की चोदने लायक माल लगी. मैंने उसको चोदने के लिए कैसे प्लान बनाया इस सेक्सी स्टोरी में पढ़कर मज़ा लें।

कमसिन जवानी की चुदाई के वो पन्द्रह दिन-13

मुझे थोड़ी खुशी हुई कि चूत की खुजली मिटाने वाले मिल गए. इस वक्त मैं बिना लंड के रह ही नहीं पा रही थी. क्योंकि अभी थोड़ी देर पहले ही मुझे अधूरा चोद के छोड़ दिया गया था.

कमसिन जवानी की चुदाई के वो पन्द्रह दिन-11

मम्मी ने मुझे जगाया पर मम्मी मुझसे नजरें नहीं मिला पा रही थीं, ना मुझसे बात कर पा रही थीं. मुझे भी संकोच लग रहा था. आखिर रात में मैंने मम्मी को चुदवाते जो देखा था.

बस में मिली प्यासी चूत वाली भाभी

मैं दिल्ली से रात में स्लीपर बस में बैठा तो मेरे साथ एक आकर्षक भाभी बैठ गयी. उससे बातें हुयी. फिर उसने एक चार्द ओढ़ ली और मेरे कंधे पर सर रख लिया. आगे क्या हुआ?

बस स्टॉप के पीछे गर्लफ्रेंड को चोदा

मेरे काल सेण्टर में काम करने वाली एक लड़की मुझे पसंद करने लगी, उससे मेरी दोस्ती हो गयी. एक बार सिनेमा हाल में हम दोनों आपस में चूमाचाटी से गर्म हो गए और ...

Scroll To Top