गलियां दे दे कर चुदाई करने की कहानियाँ

चूत चुदाई करते समय मज़ा आता है तो लड़के या लड़की के मुख से गालियाँ निकलती हैं, गालियां दे दे कर चुदाई करने की गन्दी कहानियाँ

Gandi Galiyaa de de kar chudai karne ki gandi kahaniya

stories related to using bad words during fucking

टीचर की यौन वासना की तृप्ति-5

वो घोड़ी बन गयी, उसने अपने सिर और छाती को बिस्तर से टिका दिया. इससे उसकी गांड और उठ गयी. मैंने गांड की ऊंचाई तक खड़ा होकर लंड को उसकी गांड के अन्दर पेल दिया.

चुदक्कड़ टीचर ने पढ़ाए चुदाई के पाठ-4

मेरी टीचर इस वक्त पूरी सेक्स गुरु बनी हुई थी, मुझे एक के बाद एक सेक्स के तरीके बता रही थी और अपनी कामुकता भी शांत कर रही थी. उन्होंने मुझसे क्या क्या करवाया? पढ़ कर मजा लें!

मेरा पहला प्यार सच्चा प्यार-10

मैं अपने प्रेमी से चुदवाने आई थी. लेकिन उसने गांड में लंड घुसा दिया. मुझे दर्द हुआ तो मैंने उसे निकालने को कहा. उसने मेरी गांड में से लंड निकाल कर मेरी चूत में डाला तो ...

चाची को उनके भाई से चुदते देखा

मैं चाची की बेटी की शादी में गया था. दो दिन बाद शादी थी. मेरी चाची बहुत सेक्सी थी. मैं उसे वासना भरी नजर से देखता था. लें उस दिन मैंने चाची को और उनके भाई को स्टोर में जाते देखा तो!

कामवासना पीड़िता के जीवन में बहार-1

मेरे पति विदेश में हैं तो मेरी कामवासना पूर्ति नहीं होती थी. मगर फिर मेरे प्यासे जीवन में बहार आई, मगर कौन था वो जो मेरे इस नीरस जीवन में बहार लाया।

लंड के मजे के लिये बस का सफर-6

मेरी कम्पनी की दो लड़कियां मेरे साथ थी. दोनों के अलग अलग टेस्ट थे सेक्स में! मैंने दोनों को एक साथ होटल के कमरे में कैसे चोदा, पढ़ें इस हॉट सेक्स स्टोरी में!

फेसबुक वाली शादीशुदा गर्लफ्रेंड की चुदाई

फेसबुक पर एक शादीशुदा लड़की की रिक्वेस्ट आई और हमारी दोस्ती हो गयी. मैं समझ रहा था कि उसने सेक्स के लिए ही दोस्ती की है. बात आगे कैसे बढ़ी और क्या हुआ... पढ़ें मेरी सेक्स कहानी में!

नंगी आरज़ू-10

"उफ.. मादरचोद.. ऐसा लग रहा है जैसे मेरी गांड फट गयी हो.. अबे वाकई फाड़ दी है क्या भड़वे।" वह बिलबिलाती हुई बोली थी.. उसकी आँखों में छलक आये आंसू हम भी देख सकते थे।

चिकने बदन-2

अब चूत तो मैंने भी बहुत चटवाई है, मगर हमेशा मर्दों से। किसी औरत से और वो भी अपनी सगी बहन से चूत चटवाने का यह पहला मौका था। वो जैसे सेक्स की भूख से मरी जा रही थी.

नंगी आरज़ू-6

सेक्स को एन्जॉय करने के लिये ज़रूरी है कि उसे खुल के किया जाये। इन ख़ास लम्हों में कोई शर्म नहीं ... चोदन के वक्त भूल जाओ कि तुम क्या हो और जो भी जी में आये वह करो।

प्यासी जवानी के अकेलेपन का इलाज़-4

मुझे चुत की सीटी सुनना बहुत अच्छा लगता है. मैं अक्सर बाथरूम के बाहर से अपनी माँ बहन की चुत की सीटी सुनता था. चलो आज मैं तुम्हारे सामने बैठ कर तुम्हारी चुत की सीटी सुनूँगा.

दो आंटियों की चुत चुदवाने की चाहत

मॉडलिंग में जाने के लिए मैं अपनी बॉडी को फिट रखता हूँ, सुबह को 7 बजे छत पर व्यायाम करता हूँ. एक दिन मैंने देखा कि दो औरतें मुझे घूर रही थीं.. साली रंडी ही लगती थीं.

मेरी कमसिन जवानी की आग-11

मेरा मौसेरा भाई इतनी तेजी से अपना लंड मेरी चूत में डाल रहा था कि 5 मिनट में ही उसने मेरी चूत को और मुझे बेहाल कर दिया. मुझे कुछ होश नहीं था.. मैं हवश और चुदाई में मदहोश हो गई.

पड़ोसन दीदी की पोर्न कलेक्शन और चुदाई

मेरी दोस्ती पड़ोस की दीदी से थी. एक बार मैंने उनका फोन देखा तो उसमें मुझे काफी पोर्न वीडियो मिली. मैं समझ गया कि दीदी की वासना को शांत करने का मौक़ा मुझे मिल सकता है.

बेटे ने बीवी बना कर बेटी के सामने चोदा

मेरे बेटे ने मुझे कुतिया बनाकर झट से मेरी गांड में अपना मोटा मूसल लंड पेल दिया. मैं दर्द से चीख पड़ी लेकिन वो हाथों से मेरे कंधे को पकड़ के मेरी गांड कस कस के चोद रहा था. मेरा अपना बेटा मेरी गांड मार रहा था.

फोन सेक्स चैट अपनी बीवी के साथ

इस कहानी में जो फोन सेक्स चैट गालियाँ, वार्तालाप है, वो हम दोनों पति पत्नी के बीच का है. अक्सर ये सब उस वक्त होता है, जब मैं बाहर गांव जाता हूँ तो उससे करता हूँ.

दीदी के देवर से चुद गई

मेरे यारो, आज मैं अपनी रियल चुदाई स्टोरी में बताऊंगी कि कैसे मैं अपनी दीदी के देवर से चुदी. मेरी जान पहचान उससे कुछ ज्यादा ही हो गयी थी. एक बार उसने मेरी चूची को मसल दिया तो...

कामुकता की इन्तेहा-5

मेरे यार ने मुझे छोटी सी निक्कर और ज़रा सा टॉप पहनाया और भरी सर्दी में मुझे मेला दिखाने ले गया. असल में वो अपने दोस्तों के सामने मेरे सेक्सी बदन की नुमाइश करने ले गया था.

किरायेदार ने दोस्तों से मिल कर मुझे चोद डाला-2

देख कर मन हुआ, खा जाऊँ उसका लंड ... मगर कोई रांड तो थी नहीं मैं, एक शरीफ खानदान की शरीफ बहू थी। तो मैंने उठ कर जाने का बहाना किया पर उसने मुझे मेरा हाथ पकड़ कर बैठा लिया.

साठा पे पाठा मेरे चाचा ससुर-4

मैंने कहा- पापा, खुश करते हैं, उनके प्यार में कोई कमी नहीं है, उन्हें काम की टेंशन है तो हफ्ते में एक दो बार ही करते हैं, पर मेरी ही भूख ज़्यादा है, मुझे तो हर रोज़ चाहिए, इसलिए मुझे हर वक्त सेक्स की चाहत रहती है।

Scroll To Top