बहू ससुर चुदाई

Incest Sex Stories ससुर द्वारा अपनी बहू, बेटे की बीवी को नंगी देखना, देख कर मुठ मारना, चोदना

मैंने ससुर जी से चुत चुदवा ली

मैं कमसिन उम्र से ही स्कूल कॉलेज में चुदने लगी थी, शादी के बाद पति कनाडा चला गया तो घर में रह गये मैं और मेरे ससुर जी… मेरे अन्तर्वासना कैसे बुझे?

अनोखी चूत चुदाई के बाद-5

'अदिति बेटी, गांड में भी चूत जैसा ही मस्त मस्त मज़ा आता है लंड जाने से, तू एक बार गांड मरवा के तो देख, मज़ा न आये तो कहना!' 'न बाबा, बहुत दर्द होगा मुझे वहाँ!

अनोखी चूत चुदाई के बाद-4

लड़की जब पूरी गर्म हो जाए, अपने पे आ जाए तो फिर वो चूत में लंड लेने के लिए कुछ भी कर सकती है। 'उफ्फ पापा जी, मेरी चूत में पेल दो अपना लंड मुझे जल्दी से!' बहूरानी बेसब्री से बोली।

अनोखी चूत चुदाई के बाद-3

पहली बार तो अनजाने में अँधेरे में गलती से बहूरानी मुझसे चुद गई थी लेकिन आज तो मेरे आग्रह पर वो मेरे लिए बल्कि यों कहें कि अपने यौनानन्द के लिए मेरे पास आने को तैयार थी.

अनोखी चूत चुदाई के बाद-2

मैंने कितना प्रयास किया था उन सब बातों से बचने का… लेकिन तू तो पूरी निर्वस्त्र होकर मुझसे लिपटी जा रही थी और तो और मेरा लिंग भी तूने अपने मुंह में भर के चूसा और न जाने क्या क्या...

अनोखी चूत चुदाई के बाद-1

हाथों में चाय की ट्रे थामे वो मेरी गजगामिनी बहू नयन झुकाये मेरी ओर चली आ रही थी, मेरी नज़र रह रह कर उसके वक्ष के उभार निहारती और फिर उसकी जांघों के मध्य जा कर ठहर जाती!

लागी लंड की लगन, मैं चुदी सभी के संग- 53

कोलकाता के टूअर में अपने ससुर से चुद कर मेरे और मेरे परिवार के बीच एक नया रिश्ता जन्म ले चुका था, जो जब चाहता मुझे अपनी बीवी बना कर चोदता।

लागी लंड की लगन, मैं चुदी सभी के संग- 52

मोहिनी ने अपनी स्कर्ट ऊपर की और अपनी जांघें फैलाते हुए बोली- आपने मैम की चूत का तो मजा ले लिया है सर, आईये अब मेरी इस चिकनी चूत को मजा दीजिये।

लागी लंड की लगन, मैं चुदी सभी के संग- 47

पापा जी ने वेटर को सबसे गंदी ब्लू मूवी लाने को कहा। ब्लू फ़िल्म देखते हुए मैंने सोचा कि वेटर को भी ईनाम मिलना चाहिए तो पापा ने उसे बुला लिया। मैं पापा का लंड चूस रही थी।

अनोखी चूत चुदाई की वो रात-2

यह यक्ष प्रश्न मुझे बार बार कचोट रहा था और अदिति पर आश्चर्य भी हो रहा था कि कोई स्त्री ऐसी कैसे हो सकती है कि चुद जाए और यह भी न पहचान सके कि चोदने वाला उसका पति ही है या कोई और!!

लागी लंड की लगन, मैं चुदी सभी के संग- 46

मुझे शरारत सूझी तो मैंने हल्के से पापा जी को देखा, वो मेरी तरफ नहीं देख रहे थे तो मैं मौके का फायदा उठाते हुए वेटर को दिखाते हुए अपनी चूत को खुजलाने लगी।

अनोखी चूत चुदाई की वो रात-1

यह हिन्दी सेक्स स्टोरी है एक ऐसे ससुर की जिसके पास उसकी बहू आधी रात के बाद अंधेरे में उसे अपना पति समझ कर आ गई और यौनक्रियाओं से रिझाने लगी। ससुर बेचारा…

लागी लंड की लगन, मैं चुदी सभी के संग- 45

रितेश बोला- यार, मेरे लंड की मेरी चूत रानी, तेरी चूत का क्या हाल चाल है? मैं पापा जी की बांहों में ही बिंदास बोली- बस तेरे लौड़े की याद आ रही है तो उसका पानी टप टप कर रहा है।

लागी लंड की लगन, मैं चुदी सभी के संग-44

ससुर जी का लम्बा मोटा लंड देख कर मेरी चूत ललचा गई और उनका लंड मांगने लगी। लेकिन ससुर बहू की आपस की शर्म और हिचक तो बाकी थी। कहानी पढ़ कर देखें कि मैंने कैसे ससुर जी को पटाया।

लागी लंड की लगन, मैं चुदी सभी के संग-43 HOT!

हावड़ा पहुँच कर हम होटल में गए, पापा जी सोफ़े पर, मैं बेड पर लेट गई, मेरा बुखार तेज हो रहा था। सुबह मेरी नींद खुली तो मेरी नजर बाथरूम में पेशाब कर रहे पापाजी पर पड़ी।

वो सात दिन फूफाजी के साथ

उन्होंने कमर के नीचे एक तकिया रखा और मेरी जाँघों को खोल दिया। मेरी बुर पर थूक लगा दिया और अपने लिंग से चूत को रगड़ने लगे, फ़िर वे झुके और मुझे कस कर पकड़ लिया।

मैं अपने जेठ की पत्नी बन कर चुदी -13

मैं पति से जानबूझ कर थोड़ा गुस्सा होकर बोली- मैं यहाँ चुदने आई थी.. पर यहाँ तो परिन्दा भी नहीं है, जो मेरी चुदाई कर सके.. शायद मेरी किस्मत में आज चुदाई लिखी ही नहीं है।

औरत की चूत की कामुकता-3

मैं बाबूजी के खाने के बर्तन उठा रही थी तो उनको मेरे मम्मे के दर्शन हुये थे। मैं तो शर्मा कर भाग गई लेकिन मुझे लगा कि अब बाबूजी मुझे बाथरूम में नंगी देखते हैं, मेरे बदन को छूने की कोशिश करते हैं। एक दिन जब हम दोनों घर मे अकेले थे तो…

फरवरी 2015 की लोकप्रिय कहानियाँ

प्रिय अन्तर्वासना पाठको फरवरी महीने में प्रकाशित कहानियों में से पाठकों की पसंद की पांच कहानियां आपके समक्ष प्रस्तुत हैं… साली ने खुद चूत चुदवाने की पहल की … मैं बोला- साली जी, वो तो हर पति का कर्तव्य है और वैसे भी बीवी की सेवा नहीं करेंगे तो मेवा कैसे मिलेगा। मेरे इस जवाब […]

कामना की कामवासना -4

मेरे खुले मुख को देख कर ससुरजी मुस्करा पड़े और उन्होंने बड़े ही आराम से अपने लिंग को उसके अंदर धकेल दिया तथा आहिस्ता आहिस्ता धक्के देकर अंदर बाहर करने लगे। मुख-मैथुन की क्रिया करते हुए लगभग पांच मिनट ही हुए थे जब मुझे उनके लिंग में से नमकीन पूर्व-रस निकलने का स्वाद आया तब […]

सबसे ऊपर जाएँ