सच का सामना करिए राहुल जी

(Sach Ka Samna Karo Rahul Ji)

हालांकि मेरे दिमाग में
‘हाय राम! कितनी खुशनुमा रात’
कहानी चल रही थी और मैं वही लिखना चाहती थी, लेकिन कल हुई एक घटना ने मेरे दिल को कहा कि ‘नहीं नहीं, नंदिनी जी! आप उस कहानी को बाद में सुनाना, पहले राहुल की कहानी लिखो।’ दिमाग और दिल की जंग में सदा दिल ही जीतता है तो मेरा नन्हा दिल जीत गया और मैं आपके लिए लाई हूँ यह कहानी ‘सच का सामना करो राहुल जी’
उम्मीद करती हूँ कि इसको भी आप अपने प्यार और प्रशंसा का उतना ही उपहर देंगे, जितना आपने मेरी पहली कथा ‘कुंवारी लड़की की कहानी: थेंक यू धर्मेन्द्र जी
को दिया है।

आप मुझे पहचान तो गए हैं ना … मैं हूँ आपकी नंदिनी जी! बी.एससी. में पढ़ती हूँ, नीट की तैयारी कर रही हूँ, डॉक्टर बनना चाहती हूँ। मैं अपने डॉक्टर पापा और एडवोकेट मम्मा की इकलौती संतान हूँ। उम्र का उन्नीसवाँ बसंत चल रहा है। पूरी तरह से खिल चुकी हूँ, शानदार बूब्स … बड़े बड़े हिप्स … गुलाबी होंठ, खूब खूब गोरा रंग, सुनहरे बालों वाली उभरी हुई चूत, काले घने बाल।
जब मैं जूड़ा बांधकर निकलती हूँ तो लोगों के कमेन्ट्स सुनने को मिलते हैं-
वो देखो दीपिका पादुकोण जा रही है।
हाय दीपिका!
हेलो दीपिका!

कहाँ खो गए आप सब?
दीपिका हो गई है रणवीर की .. आप वापस कहानी पर आ जाओ।

जब से अन्तर्वासना के संपादक जी ने मेरी कहानी आप सभी तक पहुंचाई है तभी से मेरे पास हजारों ईमेल और हेंगआउट्स मेसेजेस आ रहे हैं। जैसे ही ऑनलाइन होती हूँ तो संदेश वैसे ही बरसने लगते हैं, जिस तरह उष्णकटिबंधीय क्षेत्र में रोज वर्षा होती है। एक के बाद एक।
यह कहानी ऐसे ही मेसेजेस से जन्मी है।

रात के करीब दस बजे थे, जी-मेल लोग इन किया, पाँच सेकंड भी नहीं बीते होंगे कि मेरे प्रशंसक हाजिर हो गये। निन्यानवे प्रतिशत मेल और संदेश मुझसे एक ही चीज चाहते हैं और वो है मेरी चूत।
बहुत से लोग मेरे बूब्स सहलाना, दबाना, मसलना चाहते हैं, इनका दूध पीना चाहते हैं और कुछ ऐसे भी हैं जो मेरी गांड पर अपना लंड साफ करना चाहते हैं।

नहीं नहीं … सब ऐसे नहीं होते हैं। निन्यानवे प्रतिशत तो कहा बाबा मैंने!
एक प्रतिशत में हैं वास्तविक दुनिया में धर्मेन्द्र जी और आभासी दुनिया में रवि जी। धर्मेन्द्र जी की जेंटलनेस को तो मैं वास्तविकता में भी देख चुकी हूँ। रवि जी हैंगआउट्स की बातचीत में तो सौम्य हैं. लेकिन जब सामने आएंगे और मैं नग्न हो जाऊँगी तो क्या अपने आपको संभाल पाएंगे।
देखेंगे भविष्य में!
क्यों रवि जी? क्या कहते हो आप?

तो ऐसे ही मेसेजेस में राहुल का मेसेज आया- हाय!
मैं- हाय!
राहुल- पिक भेजो अपनी जानेमन!
मैं- नो पिक, नो मोबाइल नंबर, नो एड्रेस, नो विडियो चेट।
राहुल- ओके! लोगी मेरा?
मैं- क्या?
राहुल- लंड, और क्या?
मैं- …
राहुल- लो देखो मेरा लंड!

और एक के बाद एक लंड की इमेजेस मेसेज बॉक्स में आने लगीं। खड़ा लंड भी और नॉर्मल लंड भी। धीरे धीरे इस तरह की इमेजेस की आदत हो रही है मगर राहुल के लंड को देखकर मेरी धड़कनें बढ़ गईं। बहुत लंबा और बहुत मोटा … खड़ा लंड नौ इंच से कम नहीं था। पैंतीस डिग्री का कोण बना रहा था वह लंड अपनी धूरी से।
मैं तो देखती ही रह गई … पलकें झपकाना भूल गई। टकटकी लगाकर ऐसे देखने लगी जैसे बिल्ली चूहे को देखती है।
अगर राहुल सामने होता तो मैं लपक कर अपनी चूत अड़ा देती उसके सामने और बोलती- मारो धक्का!
अगर वह चूत में घुसा देता तो पक्का गांड फाड़कर बाहर निकल जाता। इतना बड़ा लंड … एकदम गोरा चिट्टा … चिकना … लंड की जड़ के सारे बाल साफ।

और राहुल का नॉर्मल लंड भी छह इंच से कम नहीं होगा। पके हुये केले की तरह मोटा और गुलाबी रंग का। जब उस पर मेरी नजर पड़ी तो मैं सब कुछ भूल गई। मैं उस नॉर्मल लंड के हर हिस्से को मन भरकर देखने लगी।
बैचेन हो रही थी मैं … कल सुबह ही मैं पहुँच जाऊँगी राहुल की बांहों में और इसके नॉर्मल लंड को केले की तरह खा जाऊँगी अपने मुंह से। आँख बंद करके कल्पना में चूसने लगी राहुल का लंड।
सॉरी धर्मेन्द्र जी, अब नहीं बचा पाऊँगी अपने आपको। ऐसा सोचती भी जा रही थी।

आँखें खोलीं और आँखें फाड़फाड़ कर मैं लंड देखने लगी। कभी खड़े लंड को देखूँ तो कभी नॉर्मल लंड को।
राहुल- क्यों जानू! पसंद आया कि नहीं मेरा हथियार?
मैं क्या बोलती? मैं तो मर मिटी थी उन लंडो पर। अभी के अभी चाहिए मुझे बस! मेरे दिल की धड़कनें इतनी बढ़ गई थीं कि अगर मेरे डॉक्टर पापा अपना स्टेथोस्कोप मेरे सीने पर रखते तो घबरा जाते और जरूर ईसीजी करवा देते।

राहुल- बोलो ना जान मेरी … कहाँ चली गई? क्या मेरे लंड को देखकर चूत में उंगली कर रही हो या अपने बोबे अपने ही हाथों से मसल रही हो?
मैं उसकी इमेजेस से गर्म हो चुकी थी और उसकी बातें आग में घी डालने का काम कर रही थीं। मैं अपने कमरे में अकेली थी, दरवाजा बंद था। मैंने लोवर घुटनों के नीचे खिसका दिया और अपनी चूत पर धीरे धीरे हाथ फेरने लगी।

इसी बीच रवि जी के बहुत सारे मेसेजेस आ गये थे। मैंने उन पर निगाह डाली, वो अपने हर मेसेज में समझा रहे थे कि सोशल मीडिया पर किसी को दोस्त बनाओ तो सोच समझकर बनाना दोस्त नंदिनी जी।
उन्होंने बताया कि उनकी शादी की सालगिरह है।
मैंने उन्हें कहा- मैं अपनी तरफ से गिफ्ट देना चाहती हूँ।
उन्होंने पूछा- क्या दोगी?
मैंने कहा- आपको मैं छूट देती हूँ कि आज आप मुझसे चाहे जो कह सकते हो, कैसी भी बात कर सकते हो!

उन्होंने अपनी और अपनी पत्नी की पिक भेजी। दोनों बहुत ही सुंदर और समझदार लग रहे थे। मेरी तरफ दो तरह की ऊर्जा प्रवाहित हो रही थी। राहुल की तरफ से अश्लीलता की गर्म लपटें आ रही थीं तो रवि जी की तरफ से संस्कार की शीतल पवन।
दुनिया में कितनी वेरायटी है ना?

मैंने दोनों लंड की इमेजेस को सेव किया और कम्प्यूटर में देखने लगी। दोनों को मैंने एक साथ पेस्ट किया और एकटक देखने लगी। तभी मुझे लगा कि दोनों लंड अलग अलग हैं। नॉर्मल लंड की मोटाई खड़े लंड से अधिक दिखाई दी।
बायोलॉजी की छात्रा हूँ। मेडिकम की तैयारी कर रही हूँ। इतना तो समझती हूँ कि खड़ा हुआ लंड नॉर्मल लंड से अधिक मोटा होता है।

मुझे संदेह हुआ तो मैंने दोनों इमेजेस गूगल सर्च में डाल दी। गूगल से क्या छिपा है भला आज के दौर में। गूगलदेव ने दुनिया को कितना छोटा कर दिया है ना!
एक ही पल में पोल खुल गई।
ये दोनों ही लंड राहुल के नहीं थे … ये नेट पर थे।

मुझे पहले गुस्सा आया और फिर हंसी आई। ये लड़के भी ना! लड़कियों को इम्प्रेस करने के चक्कर में बेमौत मारे जाते हैं।

मैंने रवि जी को बताया कि मेरे पास गंदी गंदी इमेजेस और मेसेजेस आ रहे हैं। रवि जी मुझसे भावनात्मक रूप से जुड़ गये थे, दुखी होकर बोले- क्यों नहीं आएंगे नंदू! तुमने ही तो कहानी लिखी और तुमने ही तो कहा कि तुम यह अनुभव लेना चाहती हो?
उनके शब्दों के पीछे मेरे लिए छिपी चिंता ने मुझे अंदर तक भिगो दिया। भले लोग सदा भली बात करते हैं। मैंने उनसे अनुमति लेकर उन्हें राहुल द्वार भेजी लंड की इमेजेस सेंड की और अपनी जासूसी के निष्कर्ष भी बताये।
रविजी ने पुष्टि की और कहा- यह राहुल का लंड नहीं है।

इस बीच राहुल के मेसेजेस थम नहीं रहे थे- बोलो! कब दे रही हो अपनी चूत और कब ले रही हो मेरा लंड?
मैं- सोचकर बताती हूँ।
राहुल- सोचने में जवानी बर्बाद मत करो मेरे जाने-जिगर। ऐसे चोदूँगा कि धर्मेंद्र को भूल जाओगी। अरे उस धर्मेंद्र में क्या रखा है? वो तो हिजड़ा है हिजड़ा! अगर वो मर्द होता तो तुम्हें प्रेगनेंट करके ही घर से निकलने देता।

अब तो मैं गुस्से में भर उठी। धर्मेन्द्र जी मेरे निगाह में देवता हैं। रितिक रोशन की तरह सुंदर और एकदम मर्द आदमी। जो भी लड़की उनकी बीवी बनेगी वह अपने सौभाग्य पर आखिरी सांस तक इतराएगी और यह झूठा इंसान इतना गंदा बोल रहा है मेरे आदर्श मर्द के बारे में।

मैंने रवि जी से पूछा- अब मैं इन्हें आईना दिखा दूँ क्या?
रवि जी ने समझाया- रहने दो। उसे सही पता चलेगा तो वह निराश हो जाएगा और हो सकता है कि कुछ कदम उठा ले।
मुझे बात ठीक लगी।

मगर मैं राहुल को सबक तो सिखाना चाहती थी। मुझे मेरे पापा याद आए, पापा बहुत सफल डॉक्टर हैं। वो अपने हर पेशेंट को दो चीजों से ठीक करते हैं। एक सटीक दवाओं से और एक आशा से ओतप्रोत बातों से।
मैंने रवि जी को यकीन दिलाया कि मैं राहुल को अपमानित नहीं करूंगी और उसे सही रास्ते पर लाऊँगी।
रविजी ने कहा- अगर ऐसा है तो गो अहेड नंदू।

राहुल- कुछ तो जवाब दो।
मैं- तुम्हें झूठ बोलने में शर्म नहीं आई?
राहुल- मैंने कब झूठ बोला। मैं झूठ नहीं बोलता?

मैं मुस्कुरा दी। इस देश में कितने बड़े सत्य के अनुयायी हुये। सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र की कहानी तो दुनिया जानती है। कितने ही देवता हुये जिनने सतपथ का अनुगमन करने का उपदेश दिया। महात्मा गांधी तो पूरी ज़िंदगी सत्य के साथ प्रयोग करते रहे। और यहाँ पर ही दुनिया के सबसे अधिक झूठे लोग हैं।

मैं- अच्छा तो ये दोनों बड़े और सुंदर लंड आपके हैं?
राहुल- हाँ बिल्कुल और किसके हैं? मैंने भेजे हैं तो मेरे हैं। तुम लोगी तो तुम्हारी चूत और गांड दोनों फट जायेंगी।
मैं- झूठे आदमी! ये तुमने नेट से ली है। दूसरे के हथियारों को अपना बताते हुये तुम्हें लज्जा नहीं आती है?

इसके बावजूद भी राहुल कुछ समय तक अपनी बात पर अड़ा रहा और बोलता रहा कि उसके लंड को किसी ने नेट पर डाल दिया होगा। मैंने उसे लिंक भेजी उस वेबसाइट की जहां ये लंड पड़े थे। उसको बताया कि ये विदेशियों के लंड हैं।
तो वह बोलने लगा कि मैं भी बहुत गोरा हूँ और ये मेरे ही हैं।

काफी नानुकुर के बाद जब मैंने यह कहा- अपना असली लंड दिखाओ … नहीं तो ब्लॉक कर दूँगी।

इसके बाद राहुल की बात सुनकर मुझे उस पर दया आई।
राहुल- नंदिनी, सोर्री!
मैं- क्यों?
राहुल- ये मेरे लंड नहीं हैं.
मैं- यह बात मैं जानती हूँ। तुम अपने लंड की पिक भेजो। अभी के अभी … नहीं तो ब्लॉक कर रही हूँ।
राहुल- भेज रहा हूँ रुको। मगर मुझे मालूम है कि उस पिक को देखने के बाद तुम मेरी नहीं हो पाओगी।
मैं- अच्छा दिखाओ तो? मैं वादा करती हूँ कि हर हाल में तुमसे बात करती रहूँगी।
राहुल- अभी मेरा खड़ा नहीं हो रहा है।
मैं- जैसा है, वैसा ही भेजो।
राहुल- ये लो।

और इसके बाद मेरे कम्प्यूटर की स्क्रीन पर राहुल का प्रायवेट पार्ट था, सोया हुआ … मुश्किल से दो इंच का होगा। एकदम पतला सा!
ओह! तो राहुल भी ‘बिग पेनिस’ के मिथक से ग्रसित है। इसको लगता है कि इसका प्रायवेट पार्ट बहुत ही छोटा है और वह किसी भी लड़की के काम नहीं आ सकेगा।

मैं सोच में पड़ गई ‘अकेला राहुल ही नहीं इस दुनिया में न जाने कितने लोग हैं जो अकारण आशंकाओं से ग्रस्त हैं। सेक्स एजुकेशन के अभाव में सेक्स माफिया पनप रहे हैं। ऐसे युवकों के डर को भुनाने के लिए न जाने कौन कौन सी दवा, क्रीम और ऑइल बेच रहे हैं।’
आप किसी भी सड़क पर निकाल जाओ, आपको बड़ी संख्या में गुप्त रोगियों का इलाज करने के दावे करते विज्ञापन मिल जाएँगे। ये शिकारी हैं और इनके शिकार बनते हैं राहुल जैसे अनगिनत लड़के।

राहुल- मैंने कहा था ना नंदिनी … असली देखकर तुम मुझसे नफरत करोगी।
मैं- नहीं तो … नफरत क्यों करूंगी राहुल? हाँ, तुमसे गुस्सा जरूर हूँ।
राहुल- गुस्सा! गुस्सा क्यों?
मैं- क्योंकि तुमने झूठ बोला।
राहुल- तो मैं और क्या करता नंदिनी?

मैं- सच का सामना करिए राहुल जी।
राहुल- यह सच बहुत खतरनाक है नंदिनी जी। मैं क्या करूँ कुछ समझ में नहीं आ रहा मुझे?
मैं- मैं समझाती हूँ तुम्हें! अच्छा बताओ तुम्हें बड़ा लंड क्यों चाहिए?
राहुल- ताकि मैं मेरे पार्टनर को संतुष्ट कर सकूँ। मैं जाऊंगा डॉक्टर के पास और दवाई लेकर करूंगा इसको बड़ा! देखना तुम नंदिनी!

मैं- सुनो राहुल, मैं बताती हूँ तुम्हें कि सच क्या है. अरे … दुनिया में ऐसी कोई दवा नहीं है जो पेनिस, लिंग, लंड लौड़ा लावड़ा, लवडा किसी भी नाम से पुकारो इसे … इसके आकार को एक उम्र के बाद बढ़ा सके। तुम जितनी तथाकथित दवाइयाँ लोगे, उतना ही तुम्हें धन और स्वास्थ्य का नुकसान होगा।
और देखो स्त्री की चूत तो एक सुरंग की तरह होती है। उसमें कुछ भी घुस जाता है। बड़े से बड़ा लंड हो … खीरा हो … केला हो … यहाँ तक कि हाथ भी घुस जाता है। तुमने देखा न कि इसी चूत में से बच्चा भी बाहर निकल जाता है। इस जादू की पुड़िया की कोई सीमा नहीं है।
मगर इसका दूसरा पहलू भी है। चूत का केवल अगला हिस्सा ही सेक्स को लेकर संवेदनशील है। और वह मुश्किल से दो इंच का है। इंटरकोर्स करते वक्त यहीं पर पता चलता है बाकी इसके अंदर कितना जा रहा है उसका स्त्री के आनंद और सन्तुष्टि से कोई लेना देना नहीं है।

मैं- अच्छा यह बताओ कि खड़ा होने पर तुम्हारा लंड कितना बड़ा हो जाता है?
राहुल- करीब पाँच इंच।
मैं- अगर यह चार इंच भी हो जाता है ना राहुल तो यह बहुत है। इससे तुम्हारा और तुम्हारी बिस्तर की साथिन दोनों का काम अच्छे से चल जाएगा।
राहुल- सच नंदिनी?
मैं- हाँ, एकदम सच।

फिर मैंने उसको हेंगआउटस पर और ईमेल पर सेक्स स्पेशलिस्ट की रिपोर्ट्स भेजी, बहुत देर तक उससे बातें की। तब जाकर उसको पूरी तरह से समझ में आ गया।
तब उसने कहा- नंदिनी! आज तुमने मेरे आँखें खोल दी हैं। अब मैं इस तरह फ़्राड नहीं करूंगा। मेरा लंड जैसा भी है वैसा ठीक है। और हाँ नंदिनी, मैं प्रोमिस करता हूँ कि किसी भी नीम हकीम के चक्कर में नहीं पड़ूँगा। नंदिनी ! मेरी दुआ है कि तुम एक बहुत अच्छी डॉक्टर बनो। तुम अच्छी लड़की तो हो ही। थेंक यू नंदिनी।

मैं मुस्कुरा दी।

राहुल ने कहा कि वह मुझे अपने पास इमेजीन कर रहा है और मेरे गोद में सिर रखकर सो रहा है।
मैंने उसे उसकी कल्पनाओं में अपनी गोद में सुला लिया।

कहानी सुखांत के साथ इतिश्री पर पहुंची।

इस कहानी में राहुल के समानान्तर चले पात्र रवि जी का आभार। अगर मैं नीट में सिलैक्ट हो गई तो मैं आगे चलकर सेक्स स्पेशलिस्ट बनना चाहूंगी। ताकि मैं सभी की मदद कर सकूँ। सेक्स कोई हौआ नहीं है, सामान्य क्रिया है जिसे धरती के सारे प्राणी बिना किसी प्रशिक्षण के करते हैं।

कैसी लगी कहानी? पिछली बार की तरह आप मुझे ई-मेल करके बताएं। एक हजार से अधिक ई-मेल रोज आती हैं तो भी सभी को जवाब देने की कोशिश करती हूँ।
मेरी ईमेल आईडी है- [email protected]
अगर आपको यह कहानी अच्छी लगी होगी तो मैं आपको अपनी अन्य कहानियाँ भी सुनाऊँगी.

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top