कॉलेज गर्ल के साथ चुदाई के पल-1

(Indian College Girl Ke Sath Chudai Ke Pal- Part 1)

यह कहानी निम्न शृंखला का एक भाग है:

मेरी यह कहानी है.. जब मैं ऑनलाइन चैट किया करता था।
उस समय मैं काफी लड़कों और लड़कियों से चैट किया करता था। मेरी उम्र उस समय 29 थी और चैटिंग के दौरान चैट रूम में हर उम्र की लड़कियां मिलती थीं।

एक बार मेरी दोस्ती एक कम उम्र की लड़की से हो गई जो उस समय सिर्फ 20 साल की थी। उसका नाम मानसी है। आपने बिल्कुल सही पहचाना कि यह बदला हुआ नाम है।

हालांकि मैं शादी-शुदा हूँ.. लेकिन चैटिंग करते वक़्त मैं ये बात किसी को भी नहीं बताता था।

चैट करते-करते हमें काफी समय हो गया और वो मुझे बहुत पसंद करने लगी थी क्योंकि उसने मुझे दो-तीन दफा कहा कि वह मुझे से मिलना चाहती है।

मुझे इस बात की जानकारी हो गई लेकिन मैं शादीशुदा होने के नाते उससे ज्यादा मेलजोल नहीं बढ़ा सकता था।

दोस्तो, मैं आपको बता दूँ कि चैट करते-करते हमने अपने मोबाइल नंबर एक-दूसरे से शेयर कर लिए थे और हम रोज़ घंटों फ़ोन पर भी बात किया करते थे।

जब वह घर से बाहर होती.. तभी हम दोनों फ़ोन पर बात कर पाते, क्योंकि उसके पापा बहुत स्ट्रिक्ट थे।
जब वह घर पर होती.. तो पढ़ाई के बहाने कंप्यूटर पर मुझसे चैट करती।

फ़ोन पर बात करते वक़्त उसने कई बार जाहिर किया कि वो मुझसे प्यार करने लगी है।
मैंने भी सोचा कि चलो थोड़ी अठखेली ही हो जाए.. क्योंकि कभी असल में मिलना तो है नहीं।

फिर हम दोनों एक-दूसरे के साथ बहुत कुछ पर्सनल बातें शेयर करने लगे।

एक शाम को उसके मम्मी और पापा को शादी में जाना था तो उसने मुझे पहले ही बता दिया और कहा- हम घर पर फ़ोन पर बातें करेंगे।

उस शाम को हमारी बातें शुरू हुई 6 बजे के आस-पास और खत्म हुईं 12:30 बजे.. जब उसके मम्मी-पापा घर आ गए।

इंडियन कॉलेज गर्ल और फोन सेक्स

इन 6 घंटों के दौरान हमने फ़ोन सेक्स भी किया।

हुआ यूँ कि उसने पूछा- मुझे किस तरह की लड़की पसंद है?
तो मैंने अपनी चॉइस उससे बता दी- मुझे लड़की लम्बी हो.. तो बहुत अच्छी लगती है और अगर उसके बाल भी लम्बे हों तो सोने पर सुहागा।

फिर उसने मुझसे पूछा- फिगर कैसा पसंद है?
मैंने बताया- मुझे ज्यादा बड़े स्तन अच्छे नहीं लगते.. मध्यम आकार के हों ताकि वो मेरे हाथों में समां सकें। लड़की सांवली पसंद करता हूँ और बुर पर हल्के रोयेंदार बाल होना मुझे बेहद पसंद आते हैं।

मैं आपको बता दूँ क्योंकि हम काफी समय से फ़ोन पर बात कर रहे थे तो हम एक-दूसरे से काफी खुल चुके थे और ऊपर से उसका मुझे पसंद करना भी हम दोनों के खुले होने का एक कारण था। इन सब वजहों से हमारे बीच में कोई पर्दा नहीं था और हम बहुत खुल कर बातें करते थे।

उसने मुझे बताया- मेरी हाइट 5.8 है और रंग सांवला है.. लेकिन मेरे बाल छोटे हैं और मैं 36 नम्बर की ब्रा पहनती हूँ।
उसके इतना सब बताने से मेरे लंड में सुरसुरी होनी लगी।
तो मैंने पूछा- तुम्हारी बुर कैसी है?
वो बोली- धत्त.. ऐसे थोड़ी पूछते हैं।
तो मैंने पूछा- तो कैसे पूछते हैं?
उसने कहा- पूछते नहीं.. बल्कि खुद चैक करना चाहिए।

अब मेरी काम वासना जागने लगी.. तो मैंने फिर पूछा- ये बताओ कि जब तुम्हारी बुर से पानी रिसता है.. तब तुम कैसे अपने आपको शांत करती हो?

उसने जो मुझे बताया उसे सुन कर मैं दंग रह गया।

मानसी ने कहा- मैं हमेशा तुम्हारे लंड के बारे में सोच कर अपने आपको शांत करती हूँ।
फिर मैंने उससे पूछा- कैसे?
वो बोली- मैं हवाई किले बनती हूँ कि हम मिलते हैं और पार्क में घूमने जाते हैं..
वहाँ एक-दूसरे की आँखों में देखते हुए नजदीक आते हैं और फिर किस करना शुरू कर देते हैं।
मैं तुम्हारा हाथ पकड़ कर अपने चूचों पर ले जाती हूँ और तुम मेरे चूचों को दबाना शुरू करते हो।
फिर मैं अपना हाथ तुम्हारे लंड पर रखती हूँ और लंड को मसलने लगती हूँ..
पर हम दोनों इससे ज्यादा कुछ नहीं कर पाते क्योंकि पार्क में लोग आने शुरू हो जाते हैं।

फिर हम दोनों एक थिएटर में जाते हैं.. जहाँ एक बकवास मूवी लगी हुई होती है, हमें पिक्चर नहीं देखनी है.. बल्कि हमें एक-दूसरे के साथ सेक्स का मज़ा लेना है।
थिएटर में जाकर हम कोने वाली सीट्स की टिकट्स खरीदते हैं।
थिएटर में भीड़ भी नहीं है जो हमारे लिए काफी अच्छी बात है।
हम अपनी सीट्स पर जाकर बैठ जाते हैं। फिर लाइट्स बंद हो जाती हैं और पिक्चर शुरू होती है।
पिक्चर परदे के साथ साथ हमारी सीट्स पर भी शुरू हो जाती है।
हम दोनों बुरी तरह एक-दूसरे को किस करने लगते हैं और तुम मेरे चूचों को मसलने लगते हो।
मैंने तुम्हारे लंड को सहलाने लगती हूँ और पतलून के ऊपर से ही ऊपर-नीचे करने लगती हूँ।
मेरे चूचे 36A साइज़ के हैं।

Comments

सबसे ऊपर जाएँ