चिरयौवना साली-28

लेखिका : कमला भट्टी रात को जोरदार चुदाई के बाद जीजाजी और मैं बाथरूम में जाकर फ़्रेश हो आए और फ़िर जीजाजी बिस्तर पर आ कर मेरी पीठ से चिपक… [Continue Reading]

चिरयौवना साली-27

लेखिका : कमला भट्टी जीजाजी बाथरूम में लण्ड धोने चले गए थे। वापिस आकर मुझे उठाया बाथरूम में जाने के लिए और मैं भी बाथरूम में घुस गई अपनी मुनिया… [Continue Reading]

चिरयौवना साली-26

लेखिका : कमला भट्टी अब वे तूफानी गति से धक्के लगा रहे थे कि अचानक कालबेल बज उठी ! मैं और जीजाजी दोनों चौंक पड़े। मैंने धीरे से जीजू से… [Continue Reading]

चिरयौवना साली-25

लेखिका : कमला भट्टी वे अपने कपड़े उठाकर बाथरूम में घुस गए, मैंने अलमारी से कपड़े निकाले और फटाफट पहन लिए ! जीजाजी बाथरूम से कपड़े पहन कर निकले तो… [Continue Reading]

चिरयौवना साली-24

लेखिका : कमला भट्टी कम्बल में घुसते ही जीजाजी ने बाहें फैलाकर मेरा स्वागत किया, मैं भी उनकी बाँहों में समां गई और उनके चौड़े चकले सीने में अपना मुँह… [Continue Reading]

चिरयौवना साली-23

लेखिका : कमला भट्टी धीरे धीरे उन्होंने अपनी अंगुली का एक पोरवा मेरी गाण्ड में घुसा दिया था और चूत चाटते चाटते उसको धीरे धीरे अन्दर-बाहर कर रहे थे। हालाँकि… [Continue Reading]

चिरयौवना साली-22

लेखिका : कमला भट्टी मैं पहुँची तो वे सड़क पर लेफ्ट-राईट कर रहे थे। आखिर मैं सिटी बस से उतरी, वो मुझे होटल की ओर ले गये और कहा- मैं… [Continue Reading]

चिरयौवना साली-21

लेखिका : कमला भट्टी मेरे गाँव से थोड़ी दूर कोई 10-12 किलोमीटर पर देवी का मंदिर है और सबका वहाँ जाने का कार्यक्रम बन गया। हम सब वहाँ गए, देवी… [Continue Reading]

चिरयौवना साली-20

जीजाजी से मेरी रोजाना बात होती थी और उनकी बातों का मुख्य विषय सेक्स ही होता था। पहले मुझे उनकी बातों से बोरियत होती थी पर कभी कभी अच्छी भी… [Continue Reading]

चिरयौवना साली-19

मैं जीजाजी को उनकी सेवा का ईनाम देना चाहती थी पर मुझे पता नहीं था कि वे उत्तेजित होंगे या नहीं। मेरी चुदाने की कोई इच्छा नहीं थी पर मैं उन्हें उत्तेजित कर संतुष्ट करना चाहती थी!

मासूम यौवना-18

लेखिका : कमला भट्टी पहले मेरा मज़े लेने की कोई इच्छा नहीं थी, मैं सोचती थी कि जीजाजी का पानी निकाल कर इन्हें खुश करना है, पर मेरे भी आनन्द… [Continue Reading]

मासूम यौवना-15

जीजाजी पेट से जांघें, पिण्डली चूमते-चूमते सीधे मेरे पैरों के पंजों के पास चले गए और उन्होंने मेरे पैर के पंजे का अंगूठा अपने मुँह में ले लिया और चूसने… [Continue Reading]

मासूम यौवना-14

लेखिका : कमला भट्टी थोड़ी देर में वे बाहर आये, अब वे शांत लग रहे थे, उन्होंने कहा- अब फ्रेश होकर कपड़े पहन लो, खाना खाने चलते हैं। कमरे में… [Continue Reading]

मासूम यौवना-13

जीजाजी के जाने के बाद मैं मोबाईल पर सेक्सी वीडियो देखने लगी। इन वीडियो को देख कर मैं हैरान रह गई ! उनमें एक लड़की के साथ कई लडकों की,… [Continue Reading]

मासूम यौवना-12

लेखिका : कमला भट्टी दीपावली के लिए घर जाने के लिए जीजाजी और मैंने साथ ही बस लेने का सोचा और हम दोनों बस स्टैण्ड पर आ गए पर जीजाजी… [Continue Reading]

मासूम यौवना-10

पिछली किश्त यानि मासूम यौवना-9 में आपने मेरे जीजाजी के घर में मेरी पहली चुदाई की दास्तान पढ़ी ! अब आगे : सुबह जल्दी उठ कर मैं नीचे चली गई,… [Continue Reading]

मासूम यौवना-9

मैंने पूछा- अबकी बार तो आपकी सारी इच्छाएँ पूरी हो गई ना? संतुष्ट हो ना ! वे बोले- मैं बहुत संतुष्ट हूँ ! मेरी ज़िन्दगी की ख्वाहिश पूरी हो गई,… [Continue Reading]