भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी-7

यह मेरी मनघड़न्त कहानी नहीं है, एक एक शब्द, एक एक बात पूरी सच लिख रही हूं, यह मेरे जीवन की सच्चाई है, इसे झूठ कोई मत मानिएगा। मैं अपनी मम्मी की कसम खाती हूं और गॉड कसम… सब कुछ बिल्कुल एक-एक शब्द सच लिखा है। यह बात सच है कि मुझे खुद भी बहुत ही ज्यादा मजा आया, यह कैसा सुख और इंज्वाय है मैं इसे नहीं जानती थी। पर बहुत ही बेस्ट अनुभव रहा है.

भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी-5

मकान मालिक मेरे सामने आए और सीधे मेरी स्कर्ट को पकड़ा ऊपर उठाया फिर ना जाने क्या उनके दिमाग में आया सीधे खींच कर नीचे उतार दिया, मैं उनके सामने ऊपर टॉप में जो मेरी नाभि के नीचे तक थी, नीचे सिर्फ पैंटी में मुझे खुद शर्म आने लगी.

भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी-4

मैं सोचने लगी कि आज मुझे सुरेंद्र जीजा चोदेंगे और मैं इस लिए सिंगल पीस की घुटनों तक की फ्रॉक पहन ली, कि जीजा जहां चाहे फ्राक ऊपर करके मुझे चोद दे, मैं बिल्कुल आज मन में तय कर चुकी थी कि जीजा मुझे चोदेंगे और मैं उनसे उनका लोड़ा घुसवाऊंगी।

भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी-3

मेरे जीजा के भाई ने मुझे नंगी कर लिया और मेरी चूत में उंगली घुसा कर अंदर बाहर करने लगा. फिर मेरी टांगों को फैलाकर मेरी चूत में पूरी जीभ को घुसा दिया. फिर बोले कि लंड मुंह में लो. मेरी पहली चुदाई का मजा लो!

भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी-2

मेरी दीदी का देवर मुझे अपने रूम में लाकर नंगी कर रहा था मेरी चूत चुदाई के लिए… मुझे मजा आ रहा था लेकिन मैं दिखावे के लिए उसका विरोध कर रही थी. मुझे पटा लग चुका था कि आज मुझे मेरी चुत की पहली चुदाई का मजा मिल जाने वाला है.

भाई की कुंवारी साली की सील तोड़ी-1

मैं तब कुंवारी थी, मेरी बुर सीलबंद थी. मेरी दीदी के देवर ने मुझे नयी ड्रेस दिलाने के बहाने किराये के रूम में ले जाकर चोदना चाहा. दीदी के देवर ने जैसे ही मेरी बुर में लंड घुसाया, मैं चीखी मेरी चीख सुन, उन्हीं के मकान मालिक आ गये और फिर…