शादीशुदा लड़की का कुंवारी सहेली से प्यार-2

(Shadishuda Ladki Ka Kunvari Saheli Se Pyar- Part 2)

शादीशुदा लड़की का कुंवारी सहेली से प्यार-1

दोनों सहेलियाँ रात को लेस्बियन सेक्स के बाद सो गई.
सुबह 9 बजे उनकी आँख खुली. एक दूसरी की हालत देख दोनों मुस्कुराईं और एक बार फिर चूम लिया एक दूसरी को. फ्रेश होकर नहा धोकर दोनों ने मूवी देखने का प्रोग्राम बनाया. पहले हल्का लंच लिया और फिर दोनों मूवी देखने घुस गयीं.

शाम को 4 बजे मूवी से बाहर आकर दोनों ने पार्किंग से गाड़ी निकाली. घर के रास्ते में उन्हें एक मसाज पार्लर का बोर्ड दिखा. रीना ने कविता से कहा- चल मसाज कराते हैं.
तो कविता बोली- अब घर चल, फिर कभी.
पर रीना को तो जिस बात की धुन लग जाए फिर उसे कोई रोक नहीं सकता.

घर पहुंचते ही उसने जस्ट डायल से मसाज पार्लर के नंबर लिए. एक दो से बात करके उसे एक पार्लर पर एक लड़के से बात हुईं जो बहुत डिसेंट लगा उसे. लड़के का नाम काकू था. वो बोला की लेडीज की मसाज वो ही करता है और होम सर्विस भी देता है.
कविता के मना करने पर भी रीना ने उसे रात 8 बजे के लिए बुक कर लिया. उसने अपनी फीस दोनों के लिए 2000/- बताई. साथ में ये भी कहा कि अगर शुरू के दस मिनट में उन लोगों को उसका काम अच्छा नहीं लगे तो वो केवल टैक्सी का बिल यानी 500/- लेगा.
काकू ने उन्हें बता दिया की वो लोग 7 बजे के बाद कुछ न खाएं और फ्रेश होकर रहें.

रीना बहुत एक्साइटिड थी. कविता चुप रही, उसे रोमांच एकदम नहीं आता.

रीना ने फटाफट पकौड़े बनाये, चाय पीकर रीना ने कविता से कहा- चल वैक्सिंग कर लेती हैं.
कविता के ना नुकुर करने पर भी रीना ने अपनी और उसकी चूत के बाल भी और हाथ पैरों की वैक्सिंग कर ली.
दोनों फ्रेश होकर काकू का इन्तजार कर रही थी.

ठीक 8 बजे डोर बेल बजी, काकू था, और जैसा बातों से लग रहा था वो बहुत ही स्मार्ट कश्मीरी युवक था. गोरा चिट्टा और गुलाबी गालों वाला. मुस्कुराते हुए उसने दोनों का झुक कर अभिवादन किया.
काकू ने उनसे जगह बताने को कहा, उसने कहा- अगर नीचे ही गद्दा बिछा लें तो चलेगा.

एक गद्दा बिछा कर काकू ने कमरे की लाइट धीमी कर दी और अपने मोबाइल से एक संगीत चला दिया. उसने अपने बेग से कुछ जार और एक बड़ा बाउल निकला और एक बहुत ही मादक स्प्रे वहां कर दिया उसने.
उसने पूछा कि पहले कौन मसाज कराएगी और कौन सी मसाज करनी है.

तो रीना आगे आई, बोली- पहले तुम सैंपल दिखाओ, फिर हम बताएँगी.

काकू ने रीना को एक कुर्सी पर बिठाया और बहुत आहिस्ता से उसके सर और माथे की मालिश करने लगा. इसके बाद उसने रीना के कंधे और हाथ भी दबाये. रीना को बहुत मजा आया वो तुरन्त बोल पड़ी- काकू मजा आ गया, मैं तो फुल बॉडी मसाज कराऊँगी. पर क्या एसा नहीं हो सकता कि हम दोनों बगल बगल लेट जाएँ और तुम बारी बारी से हमारी मसाज कर दो.
काकू हंस दिया, बोला- मेम, मैं तो आपकी खिदमत में हूँ, जैसा आप कहें.

उसने दोनों से कपड़े बदल कर सिर्फ ब्रा पेंटी में आने को कहा. कविता कुछ सकुचाई तो रीना बोली- ये तो साड़ी पहन कर मसाज कराएगी कमीनी.
रीना कविता का हाथ पकड़ उसे बेड रूम में ले गयी. पांच मिनट बाद दोनों अप्सराएँ सिर्फ ब्रा पैंटी में टॉवल लपेट कर आ गयी.

काकू ने कविता से कहा- आप सोफे पर बैठिये, मैं मेम की शुरू कर के आपको बुला लेता हूँ.
काकू ने भी अपने कपड़े बदल कर एक लूज बर्मूडा और स्लीवेलेस टी शर्ट डाल ली.

पर कविता ने कहा- पहले आप मेरी मसाज कर दो, मुझे ज्यादा नहीं करानी, पर इसे पूरी करानी है, आप इसकी मसाज फुर्सत से बाद में करना.
काकू मुस्कुरा दिया और बोला- आप अभी डर रहीं हैं, अभी थोड़ी देर में आपको भी अच्छा लगेगा.

काकू ने कविता को नीचे पेट के बल लिटाया और धीरे धीरे कविता के कन्धों और बाँहों पर तेल लगाते हुए मालिश शुरू की. अब कविता भी सामान्य होती जा रही थी. काकू ने अब कविता के पैरों पर मालिश शुरू की और उसका टॉवल धीरे से ऊपर जांघों तक कर दिया. कविता एक बार तो कसमसाई पर फिर उसने काकू के कहने पर पैर भी खोल दिया. अब काकू उसके दोनों पैरों टांगों की जाँघों तक मालिश करने लगा.

इसके बाद उसने टॉवल वापस नीचे कर दिया और पीठ पर से टॉवल नीचे कर के कमर पर मालिश शुरू की.
उसने कविता से कहा कि अगर वो कहे तो वो उसकी ब्रा खोल दे, तो कविता ने मना कर दिया.

काकू ने कविता को अब पीठ के बल लिटाया और अब उसके पेट और नाभि के नीचे पेंटी तक मालिश शुरू की. ब्रा पैंटी होने से उसका हाथ ठीक से नहीं चल रहा था. उसने कविता के माथे से लेकर उसकी ब्रा तक अच्छे से मालिश करने की कोशिश की पर कविता का संकोच उसे कुछ अच्छा नहीं करने दे रहा था.

काकू पेशेवर था. उसने रीना से जो बड़ी गौर से उन्हें देख रही थी, आँखों ही आँखों में रिक्वेस्ट की कि वो जरा थोड़ी देर के लिए सामने से हट जाये.
रीना समझ गयी और बोली- कविता, मैं कॉफ़ी बनाने जा रही हूँ, अभी 10 मिनट में आती हूँ, तू आराम से मसाज करा, डर मत.
कविता मुस्कुरा दी.

रीना के जाते ही काकू ने कविता की जांघों पर से फिर से मसाज शुरू की और धीरे धीरे हाथ ऊपर करना शुरू किया जिसे अब कविता ने नहीं रोका.
काकू ने बहुत धीरे से कविता से कहा- आप मसाज को एन्जॉय करो, अपनी बॉडी को रिलैक्स छोड़ दो, आँखें बंद कर लो और सपनों में खो जाओ.

काकू ने आहिस्ता से कविता को पलटा और उसकी पीठ पर दोनों हाथ घुमाती हुए ऊपर से नीचे लाना शुरू किया. बीच में ब्रा आने पर इस बार उसने बिना पूछे ब्रा के हुक खोल दिए, कविता ने कुछ नहीं कहा.
अबी कविता की पीठ खुली हुई थी. अब काकू ने जम कर पेशेवर तरीके से उसकी मसाज की. कविता को भी बहुत अच्छा लग रहा था.

काकू ने अब टॉवल उसकी पीठ पर दाल दिया और कविता से पैरों को चौड़ा करने को कहा और दोनों हाथों की उंगलियों से उसकी पैंटी उतार दी. कविता ने कसमसा कर उसको रोकने की कोशिश की पर तब तक पैंटी उतर चुकी थी.

अब काकू ने उसके हिप्स से लेकर नीचे एड़ियों तक मालिश की. काकू ने अब कविता से पलटने को कहा तो कविता ने टॉवल से अपने को लपेटे हुए करवट ली और टॉवल अपने मम्मों के ऊपर बाँध लिया.
काकू मुस्कुरा दिया उसने टॉवल की गाँठ खोली और टॉवल को नीचे उसकी चूत के ऊपर ढक कर सरका दिया. कविता के मांसल मम्मे अब खुले ही थे. पर काकू के लिए ये सब सामान्य था. अब उसने मम्मों पर ढेर सारा तेल डाल कर गोलाई करते हुए मालिश शुरू की.

अब कविता की सांस तेज चल रही थी… शायद उसकी चूत में भी आग लग रही थी.
काकू ने पूछा- क्या नीचे भी तेल लगा दूं?
तो कविता को होश आया कि अगर चूत की मालिश भी इसने की तो शायद कुछ और भी हो जाए, तो उसने हंसते हुए थैंक्स बोला और उठ कर बैठ गयी और टॉवल लपेट लिया.

तभी रीना आ गयी, वो हंस कर बोली- हाँ तो हो गयी आपकी मसाज पूरी?
तीनों ने काफी पी और कविता उठ कर वाश रूम में चली गयी.

अब रीना की बारी थी, उसने तो टॉवल उतार फेंका और ब्रा पैंटी में ही लेट गयी.
काकू ने हंसते हुए कहा- अगर आपको इतराज न हो तो आप ब्रा पैंटी उतार कर टॉवल लपेट लें.
रीना ने ऐसा ही किया और पेट के बल लेट गयी.

काकू ने बहुत प्यार से उसके बालों को रबर बेंड से बंधा और उसकी गर्दन से होता हुआ कमर की मालिश करने लगा. उसने टॉवल को नीचे सरका दिया था. ब्रा न होने से उसका हाथ खुल कर चल रहा था वो कमर से नीचे उसकी गोलाइयों की बगल तक मसाज कर रहा था.
अब वो उसके सर की ओर बैठ कर झुक कर उसकी कमर से नीचे तक मालिश कर रहा था. काकू अब उसके पैरों पर आ गया था. उसने टॉवल ऊपर करके पहले तो उसकी जांघों से नीचे एड़ियों तक की मालिश की और रीना से सहयोग मिलता देख कर उसकी जांघों से बगल में उसकी चूत तक भी हाथ फिर आया.

तब उसने रीना से पलटने को कहा और उसका टॉवल अपने आप ही उसकी छाती और चूत पर ढक दिया.
रीना मुस्कुरा रही थी, उसे मजा आ रहा था.

अब काकू ने पहले तो रीना के माथे और गर्दन की मालिश की. जब वो रीना के आईब्रो की मालिश कर रहा था तो रीना तो मानो सो सी गयी. अब काकू ने धीरे से उसकी छाती से टॉवल नीचे किया. रीना के मम्मे उजागर थे और उसके निप्पल तने हुए थे. काकू ने ढेर सारा तेल उसके मम्मों पर डाला और साइड में खड़े होकर उसकी गोलाइयों की मालिश शुरू की.
रीना की आह निकल गयी, उसके हाथ अब मचल रहे थे.

अचानक ही उसका हाथ काकू के बरमूडा से टकराया और रीना को काकू के खड़े लंड का एहसास हुआ. रीना ने सॉरी बोलते हुए झटके से अपना हाथ हटा लिया.

काकू भी अब रीना के सर की ओर ओर खड़ा होकर उसके मम्मों से नीचे तक की मालिश कर रहा था. उसने रीना के निप्पलों पर गोली सी बनाते ही मालिश की तो रीना मुस्कुरा दी. उसे बहुत मजा आ रहा था.
अब काकू ने टॉवल ऊपर करके उसके मम्मे ढक दिए और पैरों की ओर होकर पहले घुटने तक और बाद में जाँघों तक की मालिश करने लगा.
इस सब से रीना गर्म हो चुकी थी, उसकी सांसें तेज हो गयी थीं.

काकू ने रीना से पूछा कि क्या वो अंदर भी मालिश कर दे.
रीना ने मुस्कुरा कर हाँ कह दी.
काकू ने टॉवल ऊपर सरका दिया. रीना ने चूत बिल्कुल साफ़ कर रखी थी. काकू ने उसकी फांकों पर तेल डाला और फांकों के बीच से लेकर नीचे मालिश शुरू की.

बीच बीच में उसने अपनी दो उंगलियाँ रीना की चूत में भी घुसा कर अंदर ही अंदर उंगलियाँ घुमा दीं. अब उसकी स्पीड बढ़ गयी थी वो उसकी टांगों के बीच बैठ गया था और चूत से लेकर मम्मों तक उसने जबरदस्त तरीके से मसाज शुरू कर दी.

रीना ने आँखें खोल कर उसके बाल पकड़कर काकू को नीचे झुका लिया और उसे चूम लिया, दोनों के होंठ मिल गए थे. रीना ने अब काकू का लंड पकड़ लिया और वो उसका लोअर उतारने की कोशिश कर रही थी.
काकू ने खुद ही अपना लोअर और टॉप उतार दिया और अब उसने प्याले का सारा तेल अपनी छाती और लंड पर डाल लिया और अहिस्ता से बिना अपना वजन डाले रीना के ऊपर लेट सा गया और ऊपर नीचे होने लगा. उसके ऐसा करने से उसकी छाती से रीना के मम्मों की और उसके लंड से रीना की चूत पर जबरदस्त मालिश होने लगी.

अब रीना बड़बड़ा रही रही थी- काकू मजा आ गया, अब न तड़फा और अब कर दे इसे अंदर!

काकू ने भी अपनी मसाज की स्पीड बढ़ा दी. रीना ने अपने हाथ से उसका लंड पकड़ आकर अपनी चूत में धकेल दिया और अपने पैर काकू के कन्धों पर रख कर चुदाई करने लगी. काकू भी बलिष्ठ कश्मीरी पट्ठा था, उसने अपना लंड पूरा अंदर पेल दिया था और फुल स्पीड से रीना को चोद रहा था.

जवान लड़कियों की मस्ती की कहानी जारी रहेगी.
[email protected]

शादीशुदा लड़की का कुंवारी सहेली से प्यार-3

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! शादीशुदा लड़की का कुंवारी सहेली से प्यार-2