सहेलियों की सेक्स भरी मस्ती-2

(Saheliyon Ki Sex Bhari Masti- Part 2)

This story is part of a series:

लेस्बीयन सेक्स की मस्ती भरी रात खत्म हुई और चारों ऐसे ही पूरी नंगी सो गई।

सुबह 9 बजे उन लोगों की आँख खुली।

काम वाली बाई को रिया ने 10 बजे का बोला था, इसलिए फटाफट सबने मिलकर पूरे घर से अपनी बदमाशियों के निशान हटाये।
कपड़े धुलने के लिए मशीन चला दी।

कपड़े क्या थे, वो तो उन लोगों ने पहने कितनी देर को थे, पर बेड शीट और हैण्ड टोवेल्स जिनसे उन लोगों ने अपनी चूत साफ़ की थीं

उनका तो जमघट था।

नहा कर सब ढंग के कपड़ों में आईं।

काम वाली बाई जब तक काम करती, तब तक इन लोगों ने नाश्ता निबटाया।

काम वाली के जाते ही दीपा बोली- चलो, किसी मसाज वाले को बुलाते हैं।
सबने मन कर दिया तो दीपा और रिया बोलीं- चलो हम करा लेंगी, तुम देख लेना।

न्यूज़ पेपर से मसाज के कॉलम से उन्होने दो-तीन जगह बात की और एक लड़का जो बातचीत में अच्छा लगा, उसे पांच हजार रुपये में

अपने एक साथी के साथ आने को कहा।

वो लड़का राजू और उसका दोस्त कालू कश्मीरी थे.. दोनों 6′ लम्बे और लाल टमाटर, बदन गठीला!

लगभग 12 बजे दोनों आये, दोनों पठानी सूट पहने थे और साफ़ सुथरे थे।
रिया एक बार तो डरी पर दीपा पहले भी मसाज करा चुकी थी डलहौजी में, तो उसने रिया से कहा- घबरा मत, जितना मन करे उतना

कराना…

ड्राइंग रूम में नीचे योग मेट के ऊपर चादर डाल कर राजू ने उनसे लेटने को कहा।

राजू ने उनसे पूछा कि क्या वो फुल बॉडी मसाज चाहती हैं या फिर केवल पैर, पीठ, गर्दन और बाँहों की।
दीपा बोली- तुम शुरू करो, बता देंगे।

दीपा और रिया को पहनने के लिए राजू ने डिस्पोजेबल ब्रा और पैंटी दी।

दोनों दूसरे कमरे में जाकर बदल कर टॉवल लपेट कर आ गईं।

शिखा और रीना चुपचाप बेड रूम मे से झांक रहीं थी।
पर इन दोनों के लेटते ही राजू ने बेड रूम का पर्दा कर दिया और राजू ने दीपा की और कालू ने रिया के पैरों और हाथों की मसाज शुरू

की।

धीरे धीरे उन लोगों ने लड़कियों की पीठ और गर्दन की भी मसाज की।
अब दीपा और रिया को भी मजा आने लगा था और उन्होंने सहयोग करना शुरू कर दिया था।

उनका इशारा देख कर राजू ने दीपा की जांघों की मालिश शुरू की और उसकी पैंटी के किनारों तक भी हथेली लगाई।

जब दीपा ने कोई एतराज नहीं किया तो राजू ने अपनी हथेली से उसकी चूत के दोनों फलकों के बीच में मालिश की…
उसका चूत को छूना था कि दीपा सहर गई और राजू का हाथ पकड़ने लगी।

राजू खेला खाया था.. उसने अब उसकी पैंटी को थोड़ा नीचे किया और उसके चूतड़ों पर भी तेल लगाया।

अब उसने दीपा की करवट पलटी, अब दीपा का मुँह उसकी ओर था, पर दीपा ने आँखें बंद कर रखी थी।

इधर कालू राजू से तेज निकला, उसने पीठ की ओर से ही रिया के मम्मे दबाने और उनकी मालिश करनी शुरू की।
वो अपने हाथ पीछे से ही उसके पेट पर होता हुआ उसके निप्पल तक ले गया।

रिया ने आँख खोलकर दीपा की ओर देखा तो राजू उसकी चूत मे मालिश कर रहा था।
अब तो रिया का डर भी निकल गया और उसने भी करवट बदल ली।

कालू ने उसकी ब्रा निकाल दी और उसके सर की ओर बैठ कर उसके मम्मे मसलने लगा।
रिया की चूत फट रही थी।

कालू ने ये भांप लिया और वो उसके पैरों की तरफ आ गया और अब उसने रिया की पैंटी भी उतार दी।

जिन्दगी मैं पहली बार रिया अपने पति के अलावा किसी पराये मर्द के सामने नंगी पड़ी थी…
कालू ने उसकी चूत पर तेल टपकाया और लग गया उसकी मालिश करने!

पांच मिनट बाद ही रिया और दीपा जोर जोर से आवाजें निकाल रहीं थी और उन दोनों ने राजू और कालू के लंड पकड़ लिए थे।

उनकी आवाजें सुनकर रीना और शिखा भी इधर आ गईं और अपनी उँगलियों से अपनी चूत को मसलने लगीं।
रीना ने दीपा से कहा- हमें भी मालिश करनी है।

और इतना कहते ही वो दोनों अपने आप ही नंगी होकर नीचे लेट गईं।
रिया खड़ी हो गई और दीपा से बोली- चल उन्हें भी मजे लेने दे…

दीपा ने कुछ नहीं सुना और राजू को खींचकर उसका लंड अपनी चूत में करने लगी, तो राजू ने उसे रोका और अपने लंड पर कंडोम

चढ़ाया और उसके बाद जो उसने चढ़ाई की दीपा की चूत पर!
यह हिन्दी सेक्स कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

सच चुदाई दीपा की हो रही थी पर पेंच बाकी तीनों के ढीले हो गए।

अब शिखा तो मालिश वालिश भूल गई बस उसने तो कालू का लंड ले लिया अपने मुँह में…
तो अब कालू को भी कंडोम चढ़ा कर धावा बोलना पड़ा।

अब रिया ने राजू का लंड दीपा से छीनकर अपनी चूत में करवाया।
चारों की चूतों का भोंसड़ा बन चुका था पर राजू और कालू के लंड थे कि छुटने का नाम ही नहीं ले रहे थे।

राजू ने दीपा से गांड मरवाने को कहा तो दीपा की इतने मोटे और लम्बे लंड से गांड मरवाने की हिम्मत नहीं पड़ी।

यह तो तय था कि इस चुदाई के बाद इन चारों की हिम्मत नहीं थीं और कुछ करवाने की, राजू और कालू को पैसे देकर विदा किया

और चारों घुस गईं बाथरूम में…
नहाकर जो सोईं तो शाम को 5 बजे आँख खुली।

वापिस भी जाना था।
चाय पीकर और फिर मिलने का वादा करके तीनों वापस चलीं।

कहानी जारी रहेगी।
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top