प्यासी औरत की मालिश और चुत की चुदाई

(Pyasi Aurat Ki Hindi Sex Story : Parlour Me Chut Aur Gand Ki Malish)

अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज के प्रशंसक मेरे प्यारे दोस्तो, मेरा नाम पंकज है और मैं अजमेर राजस्थान का रहने वाला हूँ. मैं जयपुर में एक मसाज पार्लर में मसाज ब्वॉय का काम करता हूँ. मेरी लंबाई पौने छह फुट है, मेरी बॉडी स्लिम है.

मेरे मसाज़ पॉर्लर में बहुत सी प्यासी औरत आती रहती हैं.

यह बात एक महीने पहले की है.. दोपहर का वक़्त था, तभी एक प्यासी भाभी जी आईं. उनकी उम्र लगभग 28 साल होगी.
वो आईं तो मैंने पूछा- जी कहिए.
उन्होंने बताया कि वो पार्लर की सर्विस लेने आई हैं.

तो मैंने उनसे पूछा- आपका नाम?
वो बोलीं- पायल.
मैंने कहा- क्या कराना है आपको?
वो बोलीं- मुझे बॉडी मसाज़ करानी है.
मैंने कहा- ठीक है आप उस रूम में चलिए और अपने कपड़े बदल लीजिएगा.

मसाज़ पार्लर के रूम में सिर्फ एक टॉवल ही पहनना होता है.

लगभग दस मिनट बाद मैं भी उसी रूम में गया. वहां पर पायल भाभी ने टॉवल पहन रखा था.

मैंने कहा- आप यहाँ पर लेट जाइए.
तो पायल भाभी वहां पर टेबल पर लेट गईं.
मैंने पूछा- पायल जी, आपको कैसी मसाज़ करानी है?
पायल भाभी बोलीं- फुल बॉडी मसाज़.
मैंने कहा- ठीक है फिर आप अपना टॉवल उतार दो.

पायल भाभी ने अपना टॉवल खोल दिया, वे ब्रा पेंटी पहने हुए थीं. तौलिया को मैंने फोल्ड करके उनके चूतड़ों पर रख दिया. उसके बाद मैंने पायल भाभी की फुल बॉडी मसाज़ की, जिसमें कम से कम 2 घंटे लगते हैं.

दो घंटे बाद वो जाने लगीं, तो उन्होंने मुझसे कहा- मुझे आपका या आपके ऑफिस का नंबर चाहिए.
मैंने उनको मेरा और ऑफिस का नंबर दे दिया.

फिर 4 दिन बाद रात को 9 बजे एक कॉल आया, मैंने वो कॉल उठाया तो वो कॉल पायल भाभी का था. उनको फिर से बॉडी मसाज़ करानी थी.
मैंने कहा- मेम, नाईट में तो कोई नहीं आ पाएगा.
वो बोलीं- प्लीज़ आप आ जाओ.
मैंने कहा- यह हमारा रूल नहीं है.
पर वो नहीं मानी, वो बोलीं- आपकी जो भी फ़ीस होगी, मैं उससे ज्यादा दे दूंगी.

मैंने सोचा कि यार फ़ीस भी ज्यादा ही मिल रही है, चलते हैं.

मैंने भाभी को ओके कह दिया और उन्होंने मुझे अपने घर का पता मैसेज कर दिया. मैं उनके घर चला गया. घर पहुँच कर मैंने डोर बेल बजाई और जब गेट खुला तो मेरे होश ही उड़ गए कि ये वो ही पायल भाभी हैं, जो उस दिन आई थीं. भाभी आज ज्यादा ही सेक्सी और कामसूत्र की हीरोइन लग रही थीं. उन्होंने मुझे अन्दर बुलाया.

भाभी तो आज क्या मस्त हूर की परी लग रही थीं, वो ब्लू साड़ी में थीं.

अन्दर आकर हम लोग सोफे पर बैठ गए. मैंने पूछा कि अभी आपको मसाज़ में क्या क्या कराना है?

भाभी बोलीं कि पहली बार मुझे तुम्हारे हाथों से मसाज़ में मज़ा आया था, वैसी ही मसाज़ करवाना है.. या उससे भी कोई ज्यादा अच्छी वाली मसाज़ करते हो तो वो कर दो.. बस मुझे संतुष्टि हो जाना चाहिए.

मैंने कहा- पहली बार का मतलब.. क्या आपने इससे पहले कभी मसाज नहीं करवाई थी?
तो वो बोलीं कि मैंने कई बार मसाज़ कराई है, पर इतना मज़ा और सुकून नहीं मिला था.
मैंने पूछा- वो क्यों?
वो बोलीं कि अब तक जहां कहीं भी मैंने मसाज़ कराई है, वहाँ पर मेरी मसाज़ लड़की ने की है और पहली बार किसी तुम जैसे जवान मर्द जैसे लड़के ने की है, इसलिए मुझे अच्छा लगा.

उनके मुँह से ‘जवान मर्द..’ कहते समय मैंने महसूस किया कि भाभी की आँखों में वासना के डोरे तैर रहे थे.
मैंने कहा- शुक्रिया मेम.. अभी क्या कराना है, फुल मसाज़ या हॉफ मसाज़?
पायल भाभी बोलीं- फुल से भी ज्यादा फुल करानी है.
मैंने हंसते हुए कहा- ओके पर कहां करानी है?
भाभी बोलीं- मेरे रूम में चलो.

मैंने कहा- ओके पर एक प्रॉब्लम है?
वो बोलीं- क्या प्रॉब्लम है?
मैंने कहा- मसाज़ लोवर पहन कर करता हूँ और यहाँ मेरा लोवर नहीं है.
वो बोलीं- मेरे पति का लोवर है, आप वो पहन लो.
मैंने कहा- ओके ला दो.

पायल भाभी ने मुझे लोवर ला कर दिया और खुद रूम में चली गईं.

मैंने भी रूम के बाहर ही लोवर पहन लिया.. फिर मैं रूम में गया तो मेरी साँसें बहुत तेज हो गईं, क्योंकि पायल भाभी मेरे सामने पलंग पर सिर्फ ब्रा और पैंटी में लेटी थीं.

मैंने कहा- मेम टॉवल कहां है?
भाभी बोलीं- यहाँ टॉवल की क्या जरूरत है.
मैंने कहा- ठीक है.. आप लेट जाओ.
पायल भाभी औंधी लेट गईं. मैंने पायल भाभी को कहा कि मुझे आपकी ब्रा और पैंटी खोलनी होगी.
वो बोलीं- तो खोल लो.. दिक्कत क्या है?

मैंने उनकी ब्रा के हुक खोले तो पायल ने अपनी ब्रा पलंग से दूर फेंक दी, फिर मैंने उनकी पैंटी नीचे करके निकाली. दोस्तों क्या बताऊं उनकी गांड इतनी गोरी और गोल गोल थी कि मन करने लगा कि अभी खा जाऊं, पर नहीं खा सकता था.

फिर मैंने उनकी पीठ पर तेल लगाया और उनकी मसाज़ चालू कर दी. भाभी की पीठ इतनी मस्त थी कि क्या बताऊं.

वो खुद ही बोलीं- पंकज, मेरे पति आउट ऑफ कंट्री रहते हैं और यहाँ पर साल में दो बार ही आते हैं. इसलिए मैंने तुमको बुलाया है ताकि..
फिर वो पूरी बात कहते कहते बीच में ही चुप हो गईं. इधर मैं तो उनकी बात ही नहीं सुन रहा था, मेरे तो पूरा ध्यान उनकी गांड पर था.

दस मिनट बाद मैं उनकी गांड पर आया और चिकनी गांड पर तेल ही तेल लगा कर उनकी गांड को पूरी मस्ती से दबाने लगा. पायल भाभी गरम सिसकारियां लेने लगीं. तभी मैंने उनकी गांड के छेद में उंगली डाल दी, तो पायल भाभी उछलने लगीं और बोलीं- ये क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- ये भी मसाज़ ही है.
पायल भाभी बोलीं- तो ठीक है.. पर आराम से करो.
मैंने कहा- ठीक है आराम से करता हूँ.
अब मैंने भाभी की गांड के छेद में दो उंगली डाल दीं.

फिर कुछ मिनट बाद उनको बोला- पायल जी, अब आप सीधी लेट जाओ.
जैसे ही पायल सीधे होकर लेटीं.. अय हय.. कसम से मैं उनकी फूली हुई चूत और तने हुए मम्मों पर तो एकदम से पागल ही हो गया. अब मैं उनकी चूत और बोबों की मस्त मसाज़ करने लगा.
भाभी और भी कामुक सिस्कारियां लेने लगीं.

कुछ देर मम्मों की मालिश करने के बाद मैंने भाभी के पैर खोल दिए, ताकि उनकी चूत की मसाज़ कर सकूं.

मैंने भाभी की जाँघों पर तेल लगाने के बाद उनकी चूत में उंगली डाल दी, तो पायल भाभी और जोर जोर से सिसकारियां लेने लगीं. मेरा लंड भी लोवर में से बाहर आने को तड़पने लगा.
लगभग 2 घंटे बाद मैंने पायल भाभी से बोला कि आपकी मसाज़ हो गई है और अब आप उठ जाओ.

जैसे ही पायल भाभी पलंग से उठीं, उसकी नज़र मेरे फूले हुए लोवर पर टिक गई. भाभी आँख मारके बोलीं- इसको कैसे शांत करोगे?
यह कह कर भाभी हँसते हुए बाथरूम में चली गईं. मैंने अपने लंड को सही किया और बाहर जाने लगा.

तभी पायल भाभी ने आवाज़ दी- पंकज आप कमरे में ही रहना, मैं आ रही हूँ.
मुझे लगा शायद पेमेंट देने आ रही होंगी, इसलिए मैं वही सोफे पर बैठ गया.

दस मिनट बाद पायल भाभी आईं और बोलीं- पंकज एक काम करोगे मेरा?
मैंने पूछा- क्या काम?
तो वो बोलीं- जब तुम मेरी गांड की और चूत की मसाज़ कर रहे थे वो 20 मिनट और करोगे?

मैंने मन में सोचा अब तो इसकी गांड मार ही दूंगा.
मैंने जल्दी से हां कर दी और पायल वापस पलंग पर औंधी लेट गईं.

मैंने उनका टॉवल उतार दिया, पायल भाभी की गांड को पकड़ा और कहा- आप घोड़ी जैसे बन जाओ.
पायल भाभी झट से घोड़ी बन गईं. मैंने पायल भाभी की गांड के छेद में उंगली करने लगा और पायल भाभी ‘आह आह..’ करने लगीं.

तभी मैं पायल भाभी की गांड के छेद को चाटने लगा तो पायल बोलीं- पंकज ये क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- पायल जी, स्पेशल मसाज़ कर रहा हूँ.

पायल भाभी हँसने लगीं और कामुक सिस्कारियां लेने लगीं. मैं उनकी गांड चाटता रहा..

सच में क्या बताऊं दोस्तो, क्या मस्त टेस्ट था भाभी की गांड का.. मजा आ गया. करीब बीस मिनट गांड चाटने के बाद मैंने उनको चित्त लिटा दिया और उनकी चूत को चूसने लगा.

पायल भाभी पागल ही हो गईं और मेरे बाल पकड़ कर अपनी चूत में मेरा मुँह दबाने लगीं. मैं उनकी चूत को पागलों की तरह चूस रहा था.

कुछ मिनट बाद भाभी एकदम चुदासी सी होकर खड़ी हुईं और मेरे सारे कपड़े खोल कर मेरा लंड चूसने लगीं. कसम से दोस्तों मुझे इतना मजा आ रहा था कि क्या कहूँ.
दस मिनट बाद वो खड़ी हुईं और बोलीं- पंकज मुझे चोद दो.

फिर मैंने उनको पलंग पर लेटा दिया और उनकी चूत पर लंड रगड़ने लगा. भाभी ‘अहह ऊऊहहू..’ करने लगीं. भाभी ने अपनी चूत खोली और इशारा किया.. तो मैंने उनकी चूत में लंड डाल दिया और शॉट मारने लगा.

पायल भाभी चुदाई का पूरा मज़ा ले रही थीं. वो दस मिनट में दो बार डिस्चार्ज हो गईं; भाभी बोलीं- पंकज, अब मेरी गांड को भी थोड़ा मज़ा दे दो.
मैंने कहा- ठीक है भाभी, आप घोड़ी बन जाओ.

पायल भाभी झट से घोड़ी बन गईं और मैं उनकी गांड में लंड पेलने लगा.

अभी भाभी की गांड में मेरे लंड का टोपा ही घुसा था कि पायल भाभी चिल्लाने लगीं- पंकज मेरी गांड फट जाएगी.. बाहर निकाल लो.

मैं आप सभी दोस्तों को बता दूँ कि मेरा लंड का साइज लगभग नौ इंच का है और ये किसी खीरे जैसा मोटा है. मेरी इसी खूबी को देख कर मुझे मसाज पार्लर में काम मिला था. मैं मसाज़ पार्लर में प्यासी औरत और लड़कियों की मसाज़ के साथ उनकी सेक्स की भूख को शांत करता हूँ, पर ये शायद पायल भाभी को नहीं पता था. इसलिए उन्होंने मुझसे पहली बार में चुदाई के लिए नहीं बोला था.

अभी मैं पायल भाभी की गांड को बड़े प्यार से ठोक रहा था. कुछ मिनट बाद पायल भाभी भी अपनी गांड को उछाल कर मेरे लंड के मज़े लेने लगी थीं. मैं अपने मूसल लंड को पायल की गांड में पिस्टन की तरह अन्दर बाहर कर रहा था.

दस मिनट बाद पायल भाभी बोलीं- पंकज तुम्हारा रस अभी तक नहीं निकला?
मैंने कहा- इतनी हसीन परी को इतनी जल्दी कैसे छोड़ दूँ.
पायल भाभी हँसने लगीं और बोलीं- पंकज अब फिर से चूत में डाल दो मेरे राजा.
मैंने कहा- जो आपका हुकुम मलिका सा..

मैंने लंड वापस पायल भाभी की चूत में डाल दिया और पायल के बोबे चूसने लगा.. उनके गुलाब जैसे होंठ चूसने लगा. दस मिनट बाद पायल भाभी की चूत में हलचल होने लगी और भाभी का पानी निकल गया.
अब पायल भाभी बिल्कुल आराम से लेट गईं और मैं उनके बोबों के निप्पल चूसता रहा.

कुछ देर बाद मेरा भी माल निकलने वाला था तो मैंने पायल भाभी से पूछा कि पायल जी.. मैं अपना माल कहां निकालूँ?
पायल भाभी बोलीं- अपना गर्म माल मेरी प्यारी और प्यासी चूत में ही डाल दो!

मैं और ज्यादा तेजी से शॉट मारने लगा और भाभी की चूत में पूरा माल डाल कर पायल के ऊपर ही लेट कर उनके बोबे चूसने लगा.

फिर कुछ मिनट बाद हम दोनों उठ खड़े हुए. भाभी ने मुझे 100 रूपए दिए और कहा- पंकज पहले एक आईपिल ला दो.. जब तक मैं कपड़े पहन लेती हूँ.

मैं कपड़े पहन कर पायल को आईपिल लाकर दी.. और भाभी ने मुझे एक पैकेट दिया. मैंने लिफाफा खोला तो उस रात मैंने 20000 रूपए कमा लिए थे. कमाई के साथ एक हसीन प्यासी परी को भी चोदा था.

आज भी पायल भाभी का कॉल आता है और मैं उनकी चूत मसाज़ और सेक्स सैटिस्फाइड करता हूँ.
मैं उम्मीद करता हूँ कि आपको मेरी पहली रियल सेक्स स्टोरी पसंद आई होगी. मुझे मेरी प्यासी औरत की स्टोरी के लिए मेरे ईमेल पर जरूर बताना.
[email protected]