सेक्स बाय गिगोलो

मैं गुजरात का रहने वाला एक २४ साल का हैंडसम लड़का हूं और मेरा लंड का साइज़ ७.५” का है और मेरी बोडी एथलेटिस है और पार्ट टाइम जिम ट्रैनर हूं। यही मेरा काम है और शौक भी, कई बार दिन में ४-४ बार लड़कियों और औरतों को खुश करता हूं.

ये कहानी है मेरी काम वाली की लेकिन ये काम वाली १८ साल की थी क्या मज़ा आया उसको चोदने में

ये बात तब की है जब मैं गिगोलो नहीं था एक दिन घर पर कोई नहीं था मैं अकेला था और मैं उस दिन लेट उठा ११ बजे, तभी दरवाजा खटखटाया हुआ मैने सोचा काम वाली होगी और थी भी वोही, लेकिन ये उसकी बेटी थी मैने जब उसको पूछा तेरे मम्मी नहीं आयी वो बोली वो बीमार है मैने सोचा आज मौका है इसकी जवानी की खूबसूरती का लुत्फ़ उठाने का सो मौका गंवाना नहीं चाहिये, बाद में मैं अपने कमरे में चला गया और उसको बोला प्रिया चाय तो बना दे मुझको वो बोली ठीक है जब वो लेकर आयी तो मैने उससे ऐसे ही बातें करनी शुरु कर दी और उसको अपने पास बैठा लिया, तभी मैने उसका हाथ पकड़ लिया और बोला एक किस तो दे उसने कुछ नहीं बोला तभी मैने उसको पकड़ कर किस करना शुरु किया पहले तो ५ मिनट तक वो थोड़ा छुड़ाती रही तभी मैने उसकी जुबान पर अपनी जुबान रख कर किस करने लगा और करीब २० मिनट तक उसके होंठों को चूसता रहा उसकी आंखे बंद थी तभी मैने देखा उसको मज़ा आ रहा है और मैने सीधा उसकी फ़ुद्दी में हाथ रख दिया वो तड़पी थोड़ा बाद में मैने अपनी एक उंगली उसकी चूत में अंदर बाहर करने लगा जब वो मस्त हो गये मैने उसके कपड़े उतार दिये उसको नंगी देख कर मेरे तो रोंगटे खड़े हो गये क्या जवानी थी उसकी मस्त थी मैं ऊपर उसके मम्मे चूस रहा था तो नीचे उस चूत में दो उंगली डाल दिया क्योंकि वो कुंवारी थी तो।

मैने पहले हाथ उसकी चूत को थोड़ा ढीला किया ताकि उसको दर्द न हो लेकिन दर्द तो मैं ऊपर दे भी रहा था मैं उसके मम्मे पर दबा रहा था बार बार क्योंकि इसे मज़ा और आता है तभी वो झड़ गयी उसके बाद मैने उसके मुंह में जब अपना लंड डाला तो देख कर डर गयी लम्बा तो था ही लेकिन मोटा भी था वो थोड़ा न बोली मैने कहा थोड़ा सा ले अंदर जब उसने अंदर लिया तो मैने एक झटका दिया और उसके मुंह मैं ५” तक अंदर घुसा दिया उसकी आंखों मैं आसू आ गये मैने कुछ नहीं देखा और बोली चुप इसको जितना ज्यादा इसका ख्याल रखेगी उतना ज्यादा मज़ा देगा तुझको

उसने फ़िर चूसना शुरु कर दिया उधर नीचे वो पूरी गरम हो चुकी थी, मैने उसके मुंह से लंड निकला और उसकी चूत पर रख दिया, लेकिन मुझको मालुम था इसको दर्द होगा मैने उसको कस कर पकड़ लिया लगातार झटके दिये वो दर्द से चिल्ला रही थी लेकिन मेरा तरीका यही है सेक्स करने का. क्योंकि जितना ज्यादा आप हार्ड फक्क करोगे उतना ज्यादा आप उत्तेजित होगे और यही तो सेक्स है ,क्योंकि मैं जिम में नियमित जाता हूं सो मेरे अंदर जोश बहुत रहता है सो उसकी मैने उस दिन खूब चुदाई की उसको भी खूब आनन्द आया और मुझको तो आना ही था बाद में मैने उसको बोला कि आज के बाद तू मेरे से ही चुदवायेगी वो बोली क्यों नहीं साहिब अब तो मैं ही आपकी रंडी हूं मैने कहा कोई बात नहीं साली आज तो पहला दिन था सो थोड़ा तरस किया अगली बार देखना

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! सेक्स बाय गिगोलो

प्रातिक्रिया दे