मैं कॉलगर्ल कैसे बन गई-6

(Main Callgirl Kaise Ban Gai- Part 6)

This story is part of a series:

अब तक आपने मेरी हिंदी चुदाई कहानी में पढ़ा था कि अशोक और उसका अनाड़ी दोस्त दोनों मिलकर मेरी चुत चुदाई में लगे हुए थे.

अब आगे..

लगभग सुबह के 5 बजे थे तो उसका फ्रेंड बोला- यार मुझे 8 बजे की फ्लाइट लेनी है, मैं तो अब जाऊंगा. इतना बोलते हुए वो बाथरूम में जाकर फ्रेश होकर चला गया. मगर अशोक तो मेरी अभी भी चुत बजाने को तैयार बैठा था. उसका मूसल लौड़ा पूरा फ़ौज के सिपाही की तरह तैयार था अपने दुश्मन यानि मेरी चुत पर हमला करने को.
वो बोला- अब तुम अपनी चुत फैला कर मेरे लंड पर चढ़ जाओ और अब तुम मेरी चुदाई करो.

उसके कहे अनुसार मैं अपनी चुत में उसका लौड़ा लेकर बैठ गई और धीरे धीरे झटके मारने लगी.
वो बोला- जरा जोर से धक्के मार.
मैंने जोर जोर से हिलना शुरू कर दिया. जोर जोर से लंड को चुत से आधा निकाल कर फिर पूरा अन्दर करती रही.

पता नहीं तभी अशोक को क्या सूझा, वो बोला- देख अब कैसे मजा लिया जाता है.

उसने नीचे से अपने लंड से राजधानी एक्सप्रेस चला दी और चुत की धज्जियाँ उड़ानी शुरू कर दीं. मेरे मम्मे उछल रहे थे और वो उन्हें खींच खींच कर मजा ले रहा था.
इस तरह से पूरी रात भर में चुदती रही. हां मगर अब मुझे मज़ा भी आने लगा था.

लगभग 6 बजे अशोक बोला- चलो साथ में नहाते हैं और फिर तुम्हें ड्राइवर छोड़ कर आएगा.

कुछ देर बाद जब मैं पूरे होश में आ गई तो बोला कि नहाने से पहले मैं इस चुदाई का एक मेडल तुम पर लगा दूँगा.
मैं सोचने लगी कि अब ये क्या करने वाला है.
वो बोला- आज तुम्हें मैं एक गिफ्ट देता हूँ जिससे तुम इस चुदाई को नहीं भूलोगी.

उसने मेरी चुत के ऊपर और नीच राउंड शेप में लिख दिया- आज इस चुत की नथ उतरी है अशोक के लंड के द्वारा. तारीख एक अक्टूबर 2016.. इसके साथ उसने मेरी चुत के ऊपर एक खड़े हुए लंड का स्केच भी बना दिया, जिस पर लिखा था अशोक स्तम्भ.

मुझे नहीं पता लगा था कि उसने क्या लिखा है क्योंकि अब मेरे में ताक़त नहीं थी कि मैं कुछ कर पाती या देख पाती.

उसके हाथ में एक पेन था, मुझे नहीं पता कि उसमें कौन से इंक थी. वो तो बाद में पता लगा कि उसमें हेयर डाइ वाली इंक थी जो स्किन पर लगने के बाद कई दिनों तक बनी रहती है.

लिखने के 15 मिनट के बाद वो मुझे पकड़ कर बाथरूम में ले आया और साथ अपने और अपने लंड पर बिठा कर शावर के नीचे बैठ हर तरह से मजा लिया.

फिर बोला- ओके अब तुम जल्दी से नहा लो, मैं तुम्हारे कपड़े और 30000 वहीं छोड़ कर कहीं जा रहा हूँ. हां ड्रॉइंग रूम में ड्राइवर तुम्हारा इंतज़ार कर रहा होगा तुम उसको जहाँ बोलोगी, वो वहीं छोड़ कर आएगा. उसने मुझे अपना कार्ड भी दिया और उस पर अपने फ्रेंड का नम्बर भी लिख दिया, तब मुझे पता लगा कि जिसे वो चोदूराम कह रहा था, उसका नाम विमल है.

वो जाते हुए बोला कि मैंने जो कुछ चुत पर लिखा है.. वो तुम्हें किसी और से चुदने से रोकेगा. मैं तुमसे तुम्हारा नम्बर नहीं मांगूगा. हां जो मैंने पैसों के साथ लिफ़ाफ़े में लेटर रखा है, तुम उसे जरूर पढ़ लेना. अगर मेरा सुझाव तुम्हें पसंद आए तो अपना नम्बर मुझे मैसेज कर देना या फिर बात कर लेना.

जब मैं बाथरूम से फ्रेश होकर आई तो मैंने सोचा देखूं कि अशोक क्या लिख रहा था. देखते ही मेरा रोना निकल आया. इस लिखे हुए सेंटेन्स के साथ अब मैं किसी और से कैसे चुद सकती हूँ. मैं तब तक कुछ नहीं करवा सकती जब तक यह मिट नहीं जाता. जो कि कम से कम 15 या 20 दिन में मिटेगा.

खैर मैंने अपनी किस्मत पर रोते हुए कपड़े डाले, पैसे का लिफ़ाफ़ा लिया और ड्राइंग रूम में आ गई, जहाँ ड्राइवर मेरा वेट कर रहा था.

लेटर में लिखा था कि डार्लिंग, जो मैंने लिखा है उसे पढ़ कर क्या घबरा गईं? तुम फिक्र मत करना, मैं अपना लंड तब तक किसी चुत में नहीं डालूँगा सिर्फ तुम्हारी चूत छोड़ कर, जब तक इस इंक का रंग खत्म नहीं हो जाता. मैं तुम्हें पूरी मालामाल कर दूंगा, अगर तुम मुझसे जब तक चुदवाती रहोगी.. जब तक इंक की लिखावट रहती है. फैसला तुम्हारे हाथ में है.

अगले दिन जब पूरी तरह से चुद कर घर वापिस आई तो थकान की अवस्था में ही मैं ऑफिस चली गई मगर मेरी आँखें लाल और खुमारी से भरी हुई थीं. मैं ऑफिस में चुपचाप अपने काम में लग गई और किसी से कोई खास बात नहीं की.

मगर कुसुम पूरी घाघ थी, वो मेरे पास आकर बोली- चल जरा चाय पी कर आते हैं.
मैंने कहा- अभी नहीं.
वो बोली- नहीं मुझे तुझसे जरूरी बात करनी है, अभी चल मेरे साथ चाय का तो बहाना है.

मैं मजबूरी में उसके साथ चल पड़ी. चाय पीते हुए बोली कि देख मैं जानती हूँ कि तेरी चुदाई बहुत जबरदस्त हुई है और तू उससे कम से कम 5 बार चुदी होगी, जिसका पूरे गधे जैसे लौड़ा है. तेरी चुत की जो हालत उसने बनाई होगी, वो मैं समझ सकती हूँ. मगर जान, यह सब तो तेरी चुत पर होना ही था. अगर अब ना होता तो शादी के बाद तो होना ही था, इसलिए वो सब भूल जाओ और रियलिटी में जियो. लो यह तुम्हारे 5000 बाकी के बनते हैं, जो मैं तुम्हें दे रही हूँ. उससे तुम्हारे सामने ही 50000 मिले थे.. मेरी कमिशन 10% काट कर मतलब 5000/- और 40000 मेरा लोन इस तरह से 45,000 मेरे बनते हैं बाकी के ये रहे 5000 रूपए, जो तुम्हारे हैं, ले लो.

मुझे उसकी बात सुनकर गुस्सा तो बहुत आया था क्योंकि उससे 70000 उससे लिए थे, जो कि उसने मुझे बता दिया था कि 20000 अड्वान्स में ले गई थी.. साली ने उसका कोई जिक्र तक नहीं किया था. मेरी चुत की नीलामी करने के उसने मुझे 5000 रूपए हाथ में थमा दिए.

मैं चुपचाप उन पैसों को ले कर अपने पर्स में डालते हुए बोली- ठीक है जब तुमने सौदा किया तो तुम्हें ही पता होगा ना हिसाब का, मैं क्या जान सकती हूँ.
इस पर वो उछल कर बोली- क्यों कल देखा नहीं था उसने क्या दिया है?
मैंने चुप रहना ही ठीक समझा और बोली- ठीक है.

फिर वो बोली- बोलो आज भी तुम्हारा कोई इंतज़ाम करवाना है या अब एक दो दिन रुकना है?
मैंने कहा- अभी 2 दिन रूको फिर बता दूँगी. मगर अब उतने तो नहीं मिलेंगे.
वो बोली- सच बात कहूँ तू बुरा ना मानना.. चुदने से पहले चुत की कीमत लगती है.. और चुदी हुई चुत को जो चोदना चाहे, ये उस पर डिपेंड करता है कि वो कितना देगा. वो भी सब कुछ देख कर तय करेगा मतलब कि शकल और बूब्स आदि.. यार मगर तुम्हारी अभी कीमत फुल नाइट की 30000 मिल जाएगी. अगर चाहो तो 10000 में 10 बजे तक दो बार चुद कर घर वापिस आ जाओ. मगर मेरी कमीशन 10% ही होगी.
मैंने कहा- ओके.

“हां एक बात ध्यान में रखना कि चुत की कीमत तब तक ही रहेगी जब तक तुम्हारे मम्मे ढीले होकर लटकने नहीं लगते, इसलिए इनकी तरफ़ कुछ ज़्यादा ही ध्यान रखना, वरना समय से पहले धंधे से बाहर हो जाओगी.”
मैं चुप रही और सर हिला कर हामी भर कर हां कह दिया.

मगर मेरी सब से बड़ी प्राब्लम थी, मेरी चुत पर जो मुहर लगी थी. मैंने बहुत सोच विचार कर अशोक को मिस कॉल की. कोई 5 मिनट उसका फोन आया- बोलो डार्लिंग क्या सोचा फिर?
मैंने जवाब दिया- आपने कुछ सोचने के लायक ही नहीं छोड़ा मुझको.
वो हंस कर बोला- नहीं डार्लिंग तुमको मैं बहुत पसंद करता हूँ.. तुम्हें मैं दुखी नहीं देख सकता. बोलो आओगी आज.. या अपना विचार ही बदल लिया है?
मैंने जवाब दिया- क्या बताऊं अशोक जी?
अशोक- फिर मैं आपकी हां समझूँ ना?

मैं चुप रही, तो वो बोला कि ओके.. मैं शाम तो अपनी गाड़ी भेजता हूँ. ऑफिस से एक किलोमीटर दूर जो बस स्टैंड है. गाड़ी के ड्राइवर को तो तुम जानती ही हो, क्योंकि वो ही तुम्हें छोड़ने गया था. मैं वेट करूँगा और हां जितना, मैंने तुम्हारी फर्स्ट डेट पर दिया था. उतना ही दूँगा आज भी. बाकी की बातें इधर आने पर होंगी.

मैं सोच रही थी कि क्या पता आज भी 50000 रूपए देगा या कम देगा, कुछ पता ही नहीं. यही सोचते हुए शाम हो गई और मैंने घर पर फोन किया कि मैं आज ऑफिस के काम से बाहर जा रही हूँ, रात को घर नहीं आऊंगी.

मैं शाम को अशोक के कहे हुए बस स्टैंड पर चली गई और मुझे वहां ड्राइवर वहाँ वेट करता हुआ मिला. मैं गाड़ी में बैठ गई और वो मुझे आज किसी और जगह ले कर आया था.
ड्राईवर बोला- दरवाजा खोल कर मेमसाहब अन्दर चलिए, साहिब आप का इंतज़ार कर रहे हैं.

मैं अन्दर गई तो देखती ही रह गई. क्या शानदार रूम था. लगता था जैसे मैं किसी शीशमहल में आ गई हूँ. पूरे रूम में मिरर ऐसे लगे हुए थे कि अपनी झलक एक के बाद एक नजर आ रही थी.

अशोक- आइए आइए मैं मैडम आपका भरे दिल से इंतज़ार कर रहा था. अब सब शर्म और तकल्लुफ एक तरफ रख दीजिएगा और बाथरूम में जाकर अपनी नेचुरल ड्रेस में मतलब की पूरी नंगी होकर आ जाइएगा.

इससे पहले कि मैं बाथरूम में जाती. वो बोला- मैं जानता हूँ कि तुम मजबूरी में इस धंधे में आई हो. तुम चिंता न करो मैं तुम्हें पूरा मालामाल कर दूँगा और आज की रात में तुम्हें पूरे 70000 दूँगा जो मैंने तुम्हारी पहली कीमत आधी की थी. मुझे नहीं पता है कि कुसुम ने तुम्हारे पैसे तुमको दिए या नहीं. खैर ये मेरा काम नहीं है, उसने भी तुम्हें लाने के लिए पूरी मेहनत की थी. अगर वो पैसे उसने अपने पास भी रखे तो कोई ग़लत नहीं किया. मगर मैं आज तुम्हारी उस रात की पूरी कीमत दूँगा. मगर इसके बाद 40000 ही दिया करूँगा. अगर तुम चाहो तो मेरे एक दो दोस्त भी हैं जो तुम्हारी जवानी का मज़ा लूटना चाहते हैं. तुम उनसे भी चुदना चाहोगी तो उनसे भी इतनी ही रकम मिल जाएगी. फैसला तुम पर ही रहेगा जो चाहो, सो करो.

मैंने कहा- मगर यह बताओ कि सब साथ साथ होओगे या अलग अलग.
अशोक हंस कर बोला- अब क्या फरक पड़ता है, साथ रहें या अलग. तुम तो दूसरे लौड़े से भी चुद चुकी हो और वो मेरे ही सामने मेरे द्वारा दिलवाए गए लौड़े से चुदोगी. चलिए यह सब तो बाद की बात है, आप अबकी बार हां करिए, नहीं भी कर सकती हो. जो रकम मैं दूँगा, उससे उनकी चुदाई की रकम अलग से रहेगी. यह सब सुन कर मेरी आँखें खुली की खुली रह गईं. मैंने भी झट से हां कर दी.

आपको मेरी लिखी हुई सेक्स कहानिया कैसी लग रही हैं, मुझे मेल करें!
[email protected]
कहानी जारी है.

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top