कॉलबॉय बनने की शुरुआत एक भाभी की चुदाई के साथ

(Callboy Banne Ki Shuruaat Mast Bhabhi Ki Chudai Ke Sath)

हैलो मेरे सेक्सी दोस्तो.. मेरा नाम रोहित सिन्हा है, मेरी उम्र 25 साल है. मेरी फैमिली मीडियम क्लास है. मैं मेरे मॉम डैड का बहुत लाड़ला बेटा हूँ.
मैंने अन्तर्वासना पर 90% कहानियां पढ़ी हैं, मुझे हिंदी सेक्सी कहानियां और सेक्स बहुत पसंद है तो मैंने सोचा कि मैं भी मेरी लाइफ में हुए सारे चुदाई के किस्से आपके सामने पेश करूँ.

इस चुदाई की कहानी में सभी सिर्फ़ नाम बदले हुए हैं.. कोई रियल नाम नहीं है. बाकी बिल्कुल रियल सेक्स स्टोरी है.

कहानी सिर्फ़ एक साल पुरानी है. मुझे मॉडलिंग और मूवी में हीरो बनने का बहुत शौक था.. इसलिए मेरी बॉडी काफ़ी सेक्सी है और मेरा लुक भी बहुत सेक्सी है. मुझे मुंबई जाना था, लेकिन मेरे एक फ्रेंड ने बोला कि अमदाबाद में भी काफ़ी मॉडलिंग एजेन्सी हैं और मॉडेल शो भी होते हैं, तो अभी एक साल यहाँ ही थोड़ा कर ले, फिर मुंबई चले जाना.
मैंने उसकी बात मान ली और तरक्की के सफ़र के लिए चल दिया.

मैं अमदाबाद गया और कुछ दिन उधर ही रहा. थोड़े दिन रैम्प वॉक भी किया.. लेकिन अब मेरे पास पैसों की कमी होने लगी. अच्छे कपड़े चाहिए थे, अच्छा फ्लैट भी ले रखा था.
तब मुझे मेरे रूम मेट्स ने मुझे कॉलबॉय बिजनेस के लिए बोला. वैसे मैंने बहुत गर्ल्स और भाभियों को चोदा है. मॉडलिंग लाइन में बहुत मज़ा करने को मिलता है.

पहले तो मैंने एकदम मना कर दिया, फिर सोचा चलो इस बिजनेस को भी ट्राई करते हैं.
मैंने उन लोगों की बात मान ली और मेरा कॉलबॉय बनने का सफ़र शुरू हो गया.

मैं उनकी बात मान कर, रेड शर्ट में अमदाबाद की एक चर्चित जगह पर चला गया. वो सब भी मेरे साथ थे. नाइट के 9 बजे का टाइम था, मैं सिगरेट पी रहा था.
इतने में एक कार आई, उसने कार का ग्लास नीचे किया तो मैंने देखा कि एक बहुत सेक्सी और हॉट लेडी अन्दर बैठी थीं. उसने उंगली के इशारे में बोला कि अन्दर आ जाओ.
मैं कार में बैठ गया.
दूर से मेरे दोस्तो ने मुझे बेस्ट ऑफ़ लक बोला.

मेरी गांड फट रही थी कि साली पता नहीं कहाँ ले जाएगी, क्या करेगी, पुलिस वाली तो नहीं होगी ना.. इस तरह की बातों को मैं सोच रहा था.
उसने रास्ते में कुछ भी नहीं बोला. थोड़ी देर में उसका घर आ गया. वो मुझे अन्दर ले गई और बोली- जाओ, सामने वाले रूम में बैठ जाओ.
मैं बैठ गया.

यारों वो कमाल की खूबसूरत भाभी थी, उसकी उम्र 28 साल की होगी.. फिगर 34-30-36 का था.. और एकदम वाइट माल थी. उसका घर भी रईसों जैसा था. उसका रूम काफ़ी सेक्सी था.. घर में ही छोटा सा बियर बार जैसा प्लॅटफॉर्म था उसमें काफ़ी अलग-अलग किस्म की शराब की बोतलें लगी हुई थीं.
मैं ये सब देख ही रहा था कि एकदम से वो आ गई.
वो बोली- क्या देख रहे हो?
मैं बोला- कुछ नहीं.

वो मेरे पास आके बैठ गई और उसने मेरा नाम, पता सब पूछा. उसने अपना नाम विदिशा बताया और कहा कि वो अकेली ही रहती है, उसके पति बिजनेस में हैं और वो दुबई गए हुए हैं.
इतने में उसने 2 ड्रिंक्स बनाए और हम ड्रिंक पीने लगे. पीते-पीते वो मेरे होंठों को छू कर बोली- मेरे राज़ा आज मेरी प्यास बुझा दो.. मैं बहुत दिनों से प्यासी हूँ.
मेरे कहा- मैडम आज आपको ऐसा चोदूँगा कि आप लाइफ टाइम मुझे याद रखोगी. आपकी चुत की सारी गर्मी को शांत कर दूँगा.
तब वो बोलीं- प्लीज़ मुझे मैडम नहीं विदिशा कहिए.
मैंने कहा- ठीक है विदिशा.

फिर हम दोनों एक-दूसरे को किस करने लगे.
हय.. क्या सेक्सी माल थी यार, मेरा तो लंड खड़ा हो कर सेल्यूट मार रहा था.
किस करते-करते मैंने उसका टॉप खोल दिया. ओह.. उसने अन्दर कुछ पहना ही नहीं था और उसके चूचे तो काफ़ी पिंक थे. जब मैंने उसके मम्मों को छुआ तो बहुत हार्ड थे.. जैसे कभी किसी ने दबाए ही ना हों.. अहह क्या माल थी यार..

मैं उसके चूचे दबाने लगा.. अहह अहह उसके निपल्स को चूसने लगा. वो मादक सिसकारियां लेने लगी- अहहूहहुह आहूहह..
मैं उसके निप्पल्स को चूस रहा था.
वो कहने लगी- बेबी प्लीज़ धीरे-धीरे काटो.. दर्द होता है..

उसने मेरी शर्ट निकाल दी, मेरी बॉडी देख कर बोली- यार, क्या तुम मॉडलिंग करते हो??
मैंने कहा- ठीक पहचाना.
तो बोली- तो आज़ मुझे जमके चोदना.

वो मेरी छाती पर किस करने लगी. वो बहुत गरम हो चुकी थी. मैं भी उसके पेट पे किस कर रहा था. फिर धीरे से मैंने उसकी पेंटी में हाथ डाला. आह.. उसकी चुत पे एक भी बाल नहीं था.. लग रहा था कि आज़ ही चुत की झांटें साफ़ की गई हों.
मैंने धीरे से उसकी पेंटी निकाल दी. ऑश साली की चुत तो एकदम गुलाबी थी.. और लगता था कि काफ़ी महीनों से किसी ने चोदा ही नहीं है.

वो मेरे लंड को बाहर से ही पकड़ कर बोली- हाय बता तो तेरा लंड कितना मोटा है?
मैंने कहा- बाहर निकाल कर तो देखो डार्लिंग.
तो उसने मेरा पेंट और निक्कर उतार दिया… और लंड देख कर बोली- ओह.. मादरचोद.. आदमी का लंड है या गधे का लंड है..!

मेरा लंड काफी लंबा है.. मोटा भी खूब है और मेरा लंड किसी भी चुत को देख कर सलामी मारने लगता है.
उसने तुरंत मेरे लंड को मुँह में ले लिया और चूसने लगी.
अहह अहह.. क्या मज़ा आ रहा था दोस्तो हय क्या माल थी वो.

मैंने कहा- हम 69 पोज़िशन में हो जाते हैं.
तो बोली- नहीं, पहले मैं चूसती हूँ फिर तुम मेरी चुत चूसना.
मैंने कहा- ठीक है.

वो मेरे लंड को 5 मिनट तरह लॉलीपॉप की तरह चूसती रही. फिर बोली- पक्का रंडवा है तू.. साला खूब स्टॅमिना वाला लंड है तेरा…
मैं कुछ नहीं बोला बस उसका मुँह चोदता रहा.

फिर वो बोली- अब मेरी चूसो.
मैंने उसको अच्छे से लिटाया, मेरा मुँह उसकी चुत के ऊपर था. मैं धीरे-धीरे उसकी चुत के आस-पास मेरी ज़ुबान फिरा रहा था.
वो कसकसाई और ‘अहह अहह भैनचोद चूस उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ बोलने लगी. उसके मुँह से गाली सुनकर अजीब सा लगा लेकिन मुझे सेक्स के टाइम ऐसी गंदी बातें और गालियां, स्मोकिंग करना पसंद है.

मैं उसकी चुत को चूस रहा था. मैंने 5 मिनट तक चुत चुसाई की और वो एकदम से उठ गई और उसने मेरा मुँह हटा दिया.
मैंने पूछा- क्या हुआ?
तो बोली- भैन के लंड.. बिना लंड डाले ही तूने मेरा पानी निकाल दिया.
मैं बोला- अरे वो तुम्हारी चुत काफ़ी दिन से प्यासी है.. इसलिए ऐसा हुआ.
‘हम्म..’
मैं बोला- अभी तो पूरी रात बाकी है.

मैं उसको वापस गर्म करने लगा, साली वो भी रांड थी, क्या फटाफट वापस गर्म हो गई. उसके निप्पल भी एकदम से कड़क हो गए. अब वो बोली- कुत्ते मुझसे रहा नहीं जा रहा है, लंड डालने का पैसे दिए हैं भोसड़ी के रोमाँस करने के लिए नहीं बुलाया है. जल्दी से लंड पेल दे.
मेरा लंड भी एकदम तैयार था. मैंने मेरा लंड उसकी चुत में रखा.. साली की चुत बहुत टाइट थी. पहले उंगली करके उसकी चुत का मुँह खोला. अब मैं बोला- मेरी डार्लिंग.. तैयार हो जाओ.. लंड आने वाला है.
वो बोली- मैं तो तैयार ही हूँ पेल दे मादरचोद.. लेकिन धीरे से पेलियो.

मैंने धीरे-धीरे से लंड का आगे का थोड़ा सा सुपारा अन्दर डाला और वो चीख पड़ी और बोली- मर गई, अहह मार गई बाप रे भोसड़ी के.. धीरे से पेल..
मैंने उसके मुँह को मेरे होंठों रख कर बंद कर दिया और एक ज़ोर का झटका दे दिया. मेरा आधा लंड उसके अन्दर चला गया. वो बहुत जोर से चीखना चाहती थी लेकिन मैंने उसका मुँह मेरे मुँह से बंद कर दिया था.

अब उसकी चुत में थोड़ी जगह होने लगी थी. मैं धीरे-धीरे लंड अन्दर-बाहर कर रहा था. वो भी लंड का मज़ा ले रही थी अहह अहह चोद चोद.. मेरी चुत की प्यास बुझा दे..’
ऐसा बोल-बोल कर उसने मुझे और गरम कर दिया था.
मैंने बोला- अब कोई और स्टाइल में करते हैं.

फिर मैंने उसे घोड़ी बना दिया और पीछे से चुत में लंड डाला.. और लगातार उसकी चुत में अन्दर-बाहर कर रहा था. वो ‘उह अहह अह हरामी.. मादरचोद.. चोदो और चोदो..’ कह के मेरा स्टॅमिना और बढ़ा रही थी. पूरे रूम में ‘पच पच..’ की आवाजें आ रही थीं.

मैंने फिर से पोज़िशन बदली, उसको मेरे ऊपर बिठा लिया. मैं नीचे से उसकी चुत में लंड डालने लगा. वो गांड उछाल-उछाल कर मेरे लंड पर कूद रही थी और मेरा लंड अन्दर-बाहर हो रहा था.
अहह अहह अहह..
वो इस दौरान दूसरी बार झड़ गई थी, लेकिन मेरा चुदाई का सिलसिला चालू ही था.

अब मैंने कहा- डार्लिंग, मैं आने वाला हूँ.
तो बोली- भेंचोद अन्दर ही डाल दे.. चुत बहुत महीनों से प्यासी है.
फिर मैंने रफ़्तार बढ़ाई.
‘अहह अहह उह साली रांड.. अहह बहिन की लौड़ी ले लंड ले..’

मैं थोड़ी देर में उसकी चुत में ही झड़ गया.. और थोड़ी देर ऐसे ही उसके साथ पड़ा रहा.

थोड़ी देर में उसने उठ कर 2 सिगरेट जलाईं और एक मुझे दी. फिर थोड़ी देर सोने के बाद वापस हमारा चुदाई कार्यक्रम स्टार्ट हो गया और पूरी रात में हमने 4 बार सेक्स किया. वो बहुत संतुष्ट हो गई.

अब सुबह के 6 बज गए थे, हम नंगे लेटे हुए स्मोकिंग कर रहे थे. एकदम से वो बोली- कब से कॉल बॉय का बिजनेस स्टार्ट किया?
तो मैं बोला- सच में आप ही मेरे पहले कस्टमर हो.
लेकिन उसे विश्वास नहीं हुआ, उसने मुझे 10000 रूपए दिए और कार में जहाँ से मुझे बिठाया था, वहां तक छोड़ने आई.

दोस्तो, बाद में मैंने उस भाभी को काफ़ी बार चोदा और काफ़ी बार फ्री में भी चोदा. बाद में मैंने उसकी 7 फ्रेंड्स को भी चोदा.. ये सब तो मेरे कॉल बॉय बनने क्यों बाद की बातें हैं. लेकिन मेरे कॉल ब्वॉय बनने के पहले भी में काफ़ी भाभियों और लड़कियों को चोदा है, मेरे फैमिली की मौसी की बेटी और मेरी आंटी को भी चोदा है.
मैं ये सब रियल सेक्स स्टोरीज आपके सामने बारी-बारी से लिखूंगा.

आशा करता हूँ कि आपने मेरी चुदाई की कहानी पढ़ कर मजा लिया होगा. आप लोग कमेंट्स मेरी मेल पर कर सकते हैं.
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! कॉलबॉय बनने की शुरुआत एक भाभी की चुदाई के साथ