प्यारी नेपालन की चुत चुदाई की हिंदी स्टोरी

(Pyari Nepalan Ki Chut Chudai Ki Hindi Story)

बीवी मायके में, पड़ोसन बिस्तर में

दोस्तो, मैं राज, कद 5.7 हैल्दी शरीर का 34 वर्षीय शादीशुदा इन्सान हूँ, मैं दिल्ली में रहता हूँ.

बात 4 महीने पुरानी है, हमारे पड़ोस में एक नेपाली फैमिली रहती है, जिसमें वेरषा, उसका पति और दो बच्चे हैं. पहले तो मैं वेरषा पर ज्यादा ध्यान नहीं देता था. लेकिन एक दिन मैं और वेरषा घर के बाहर बैठ कर बातें कर रहे थे और बात करते-करते हमारे बीच कुछ सेक्सी मज़ाक भी होने लगा.

सॉरी दोस्तो, मैंने वेरषा के बारे में तो आपको बताया नहीं, वेरषा एक दुबली पतली सी गोरी चिट्टी 28 साल की प्यारी और सेक्सी औरत है. उसकी लंबाई 5 फिट है, पतली कमर 26 इंच की है.

इस तरह बातें करते-करते हम काफ़ी खुल गए थे. इसके बाद तो मैं रोज ही उसको सेक्सी नजरों से देखने लगा. वो भी मीठी मुस्कान देने लगी थी.

एक दिन मैंने उससे कहा- वेरषा, मैं तुमको प्यार करने लगा हूँ.
तो उसने बोला- तुम और मैं तो शादीशुदा हैं.. ये सब ग़लत है.
मैंने कहा- मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकता.
शायद वो भी मुझे प्यार करने लगी थी तो फिर उसने कहा- ठीक है.

अब हम दोनों अक्सर बाहर घूमने जाने लगे. जहाँ पर मैं उसके होंठों पर बहुत देर तक किस करता रहता और उसे भी मजा आता.

एक दिन हमारे घर पर कोई नहीं था तो मैंने उसे फोन किया और अपने घर बुला लिया. वो भी सबकी नजरों से बचते-बचाते मेरे घर आ गई. मैंने गेट लॉक कर दिया.
उसने पूछा- तुम्हारी बीवी कहाँ गई है?
तो मैंने उसे बताया- वो अपने माँ के घर गई है, दस दिनों के बाद आएगी.

वो मुस्कुरा दी.. मैंने उससे बांहों में जकड़ लिया और उसके होंठों पर जोर से किस करने लगा. उसने सूट सलवार पहना हुआ था. मैं उसे अपने बेडरूम के अन्दर ले आया और आते ही उसके कपड़े उतारने शुरू कर दिए.

उसने काले रंग की ब्रा और पेंटी पहनी थी. ब्रा में उसके 28 साइज़ के मम्मे एकदम बड़े नींबू जैसे लग रहे थे, जिनको देख कर मैं तो पागल हो गया और उसकी ब्रा-पेंटी को फाड़ डाला. अब मैं उसके मम्मों को चूसने लगा. उसको भी मज़ा आ रहा था. वो भी मेरे कपड़े उतारने लगी. हम दोनों बिस्तर पर आ गए और 69 की पोजीशन में हो गए.

अब वो मेरा लंड मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. मैं भी उसकी चुत को अपनी जीभ से अन्दर तक चाटने लगा. उसे और मेरे को बहुत मज़ा आ रहा था. उसके मुँह से ‘आह उउह राज.. और करो.. आह ससस्स खा जाओ मेरी चुत को.. आअहह और तेज करो उम्म्ह… अहह… हय… याह…’
मैं भी पूरे जोश में उसकी चुत को चाटे जा रहा था और उसके मुँह को अपने लंड से चोद रहा था. दस मिनट में हम दोनों झड़ गए.

फिर मैंने उसके लिए चाय बनाई हम दोनों नंगे ही अपने घर में घूम रहे थे. थोड़ी देर बाद मैंने उसको अपना लंड चूसने को बोला तो उसने मेरे पास आकर मेरे को बिस्तर पर धक्का देकर गिरा दिया और मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी.

मैं एक हाथ से उसके मम्मों को दबा रहा था और एक हाथ से उसकी चुत को सहला रहा था. थोड़ी ही देर में हम दोनों चुदाई के लिए तैयार थे, मैंने उसको बिस्तर पर सीधा लिटाया और अपना लंड उसकी चुत पर रगड़ने लगा.
वो बोली- राज अब डाल दो अपना लंड.. और मत तड़पाओ प्लीज़..

मैंने एक ही झटके में मैंने अपना पूरा लंड उसकी चुत में डाल दिया. उसने अपने दोनों टाँगें मेरी कमर पर लपेट ली थीं और हाथ मेरी गर्दन पर थे. हम दोनों एक-दूसरे में समा चुके थे. मैं उसको धक्के मारता जा रहा था, वो कामुक सिसकारियां ले रही थी अया सस्स फ़फ्फ़ मी.. और जोर से करो जान.. और तेज अया स्सस्ब..’

मैं भी झड़ने वाला था, तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी. थोड़ी देर बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए और एक-दूसरे से लिपट कर लेट गए. उसको काफ़ी देर हो गई थी तो वो एक लिपकिस करके जाने लगी.
फिर मैंने पूछा- फिर कब आओगी?
उसने कहा- जब तुम बुलाओगे.

पत्नी के रहने के इन 10 दिनों तक हमने बहुत बार चुदाई की, लेकिन साली ने कभी गांड नहीं मारने दी.

मेरी कोशिश जारी है, जब भी उसकी 32 साइज़ की गांड मारूँगा आपको जरूर बताऊंगा.

तो दोस्तो यह थी मेरी और वेरषा की चुदाई की सेक्स स्टोरी. आपको कैसी लगी ज़रूर बताना.
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! प्यारी नेपालन की चुत चुदाई की हिंदी स्टोरी