एक खेल ऐसा भी-1

Ek Khel Aisa Bhi-1
रिंकी मेरे पड़ोस में रहती थी। बचपन में हम एक खेल खेलते थे, जिसका नाम था ‘घर-घर’ उस वक्त घर के किसी कोने में हम बच्चे लोग एक-दो चादर के सहारे किसी बड़े पलंग के नीचे साइड से ढक कर घर बनाते, फिर उसे छोटे-छोटे खिलौनों से सजाते और ये खेल खेलते थे।

दिन-दिन भर खेलते रहते थे, खास तौर से गर्मियों की छुट्टियों में, एक बच्चा डैडी बनता, एक मम्मी बनती और बाकी उनके बच्चे बनते।
फिर डैडी ऑफिस जाते, मम्मी खाना बनाती, बच्चे स्कूल जाते, खेलने जाते और वो सब हम सब बच्चे नाटक करते जैसा कि अक्सर घर में होता था।

हम आस-पड़ोस के आठ-दस बच्चे अक्सर इस खेल को खेला करते थे।

पता नहीं उस छोटी सी उम्र में मुझे याद है, जब-जब रिंकी मम्मी बनती थी और मैं पापा बनता था, तो मुझे खेल में एक अलग सा आनन्द मिलता था।

रिंकी सामने वाले शर्मा जी की बेटी थी। शर्मा जी कोई बड़े अमीर तो ना थे, पर उनकी बेटी यानि रिंकी.. अपने गोरे-चिट्टे रंग और खूबसूरत चेहरे से शर्मा जी की बेटी कम ही लगती थी।

उस उम्र में वो बड़ी प्यारी बच्ची थी, कौन जानता था कि बड़ी होकर वो सारे कॉलोनी पर कयामत ढाएगी।
वो मेरी अच्छी दोस्त बनी रही, जिसकी एक वजह यह भी थी कि हम एक ही स्कूल में पढ़ते थे।
धीरे-धीरे ज्यों-ज्यों साल बीतने लगे, भगवान रिंकी को दोनों हाथों से रंग-रूप देने लगे और दोस्तों रूप अपने साथ नजाकत और कशिश अपने आप लाने लगता है, खूबसूरत लड़की कुछ जल्दी ही नशीली और जवान होने लगती है।

रिंकी के जन्मदिन पर जब हम उसके स्कूल और कॉलोनी के दोस्त उसे बधाई देने लगे, मैं एक कोने से छुपी नजरों से और चोरी-चोरी उसे देख रहा था।
मेरी कोशिश यह थी कि उसकी खूबसूरती को अपनी आँखों से पी लेने में मुझे कोई तंग ना कर दे।
वो एक मदहोश कर देने वाली गुड़िया की तरह लग रही थी।
उसके हाव-भाव देख कर मेरी सारी नसें तन गईं।
एक नौजवान लड़का अपनी जंघाओं के बीच में कुछ गर्मी महसूस कर रहा था और मैंने नीचे तनाव महसूस किया।

रिंकी का गुंदाज जिस्म अपने गोरेपन के साथ मुझे खींचता ले जा रहा था, उस नरम त्वचा को छूने के लिए सहसा मेरे अन्दर एक तड़प उठने लगी।

कहीं एकांत में रिंकी के साथ, केवल जहाँ वो और मैं होऊँ और फिर उस एकांत में नियति हमसे वो करवा दे, जो कि दो जवान दिल और जिस्म नजदीकी पाकर कर उठते हैं।

कुछ और समय बीता और रिंकी का शरीर और खिलने लगा, अंग बढ़ने लगे और उसके साथ मेरा दीवानापन बढ़ने लगा।
एक शुद्ध वासना, जो उसके अंग-अंग के कसाव, बनाव और उभारों को देख कर मुझे अपने आगोश में लपेट लेती थी।

फिर तक़दीर ने मुझ पर एक दिन छप्पर फाड़ कर ख़ुशी दी, एक बार फिर मैंने ‘घर-घर’ का खेल खेला, पर जवान गदराई, भरपूर मांसल लड़की के साथ… केवल अपनी रिंकी के साथ…

हुआ यूँ कि फिर वही गर्मियों की छुट्टियाँ थीं। रिंकी अपने अंकल के यहाँ दिल्ली जा रही थी, मैं भी किसी काम से दिल्ली गया था, वापस आते समय मैंने सोचा कि क्यों ना एक फोन करके पूछ लूँ कि शायद शर्मा जी का परिवार भी वापस चल रहा हो, तो साथ-साथ मैं भी चलूँ।

दरअसल मैं तो रिंकी के साथ और दीदार के लिए मरा जा रहा था।

फोन रिंकी ने ही उठाया और वो बड़ी खुश हुई कि मैं कानपुर वापस जा रहा हूँ।

वो बोली- मैं भी चलूँगी तुम्हारे साथ।

उसकी जिद के आगे शर्मा जी झुक गए और इस तरह रिंकी अकेली मेरे साथ कानपुर चल दी।

हालांकि वो घर पर अपने भाई के साथ रहती, पर मैं इस यात्रा से बड़ा खुश था। मैंने शताब्दी की दो टिकट बुक करवाईं और हम चल पड़े।

मैंने उसका पूरा ख्याल रखा और इस यात्रा ने हम दोनों को फिर से बहुत नजदीक कर दिया।
यात्रा के दौरान ही एक बार फिर घर-घर खेलने का प्रोग्राम बना और रिंकी ने वादा किया कि वो किसी दिन मेरे घर आएगी और हम बचपन की यादें ताजा करेंगे।

मैंने महसूस किया कि वो अभी स्वभाव में बच्ची ही है.. पर उसका जवान शरीर गज़ब मादकता लिए हुए था।

हम बहुत खुल गए.. ढेर सी बातें की, उसने मुझे यहाँ तक बताया कि उसकी मम्मी उसे ब्रा नहीं पहनने देती हैं और इस बात पर वो अपनी मम्मी से बहुत नाराज है।

मैंने उससे पूछा- तेरा साइज़ क्या है?

उसने मेरी आँखों में देखा- पता नहीं.. कभी नापा नहीं..!
रिंकी बोली।
‘अच्छा अन्दाज करो..’ वो बोली।

मैंने अन्दाज किया- 32-20-34…

‘वाह.. आप तो बड़े होशियार हो..’

‘अच्छा.. मेरा साइज़ बताओ?’

‘लड़कों का कोई साइज़ होता है क्या?’

मैंने कहा- हाँ.. होता है।

‘तो फिर आप ही बताओ.. मुझे तो नहीं पता..’

‘9 इंच और 6 इंच..’

‘ये क्या साइज़ होता है..?’

‘तुम्हें पता नहीं?’

‘नहीं..’ वो बोली।

‘अच्छा फिर कभी बताऊँगा।’

‘नहीं.. अभी बताओ ना..प्लीज़।’

‘अच्छा जब ‘घर-घर’ खेलने आओगी तब बताऊँगा।’

‘प्रॉमिस?’

‘यस प्रॉमिस..’
इस यात्रा ने मेरा निश्चय पक्का कर दिया क्योंकि उसके बेइंतहा सौंदर्य ने, उसके साथ की मदहोशी ने, उसके मांसल सीने को.. जीन्स में कसे उसके चौड़े गोल पुठ्ठों को जब मैंने इतने नजदीक से देखा ..उफ्फ्फ… मैं कैसा तड़प रहा था, मैं ही जानता हूँ।

जल्द ही वो दिन आ गया, मैं उस दिन घर पर अकेला था, लंच के बाद रिंकी भी आ गई।

मेरी तैयारी पूरी थी। एक बहुत सुन्दर बीच ब्रा और जी-स्ट्रिंग मैंने खरीदी, एक नया जॉकी अंडरवियर अपने लिए या कहूँ कि उस दिन के लिए, जिसका मुझे किसी भी चीज़ से ज्यादा इंतज़ार था।

फिर उस दिन वो आई.. लंच के बाद, वो सुबह ट्यूशन गई थी, तब उसका भाई ताला लगाकर कहीं चला गया था, उसे कुछ और काम ना था तो वो मेरे घर आ गई। उस दिन मैं भी अकेला था।

क्या बताऊँ जब दरवाज़ा खोला और उसे खड़ा देखा तो मेरे बदन में एक झुरझुरी सी हो गई…

वो कमसिन हसीना मेरे सामने खड़ी थी, शर्ट में कसे हुए उन्नत और तने हुए मम्मे.. वो गदराया बदन… मेरी नस-नस फड़कने लगी।

हम बातचीत में खो गए, आखिर वो ही बोली- चलो घर-घर खेलते हैं.. जैसे हम बचपन में खेलते थे..!

‘हाँ चलो.. बहुत मजा आएगा.. देखते हैं बचपन का खेल अब खेलने में कैसा लगता है? ठीक है.. तुम मम्मी.. मैं डैडी!

‘और हमारे बच्चे..?’ उसने हँसते हुए पूछा।

‘अरे हाँ.. बच्चा तो कोई भी नहीं है…तो फिर तो हम केवल पति-पत्नी हुए ना अभी.. ना कि मम्मी-डैडी..’

वो खुश हुई- हाँ.. यह ठीक है.. पति-पत्नी… आप मेरे पति और मैं आपकी पत्नी और आज हम पूरे घर के अन्दर ये खेलेंगे.. ना कि किसी कोने में..

‘ओके..’ मैंने कहा।

और हम पति-पत्नी की तरह एक्टिंग करने लगे।

खेल शुरू हो गया… मैं फिर उसकी खूबसूरती के यादों में डूबने लगा। मेरे शरीर में एक खुशनुमा मादकता छाने लगी।
उसके बदन को छूने.. देखने के बहाने में ढूंढने लगा।

जैसे ही वो रसोई में चाय बनाने लगी तो मैं चुपके से पीछे पहुँच गया और उसके नितम्बों पर एक चिकोटी काटी, वो उछली- ऊऊई… क्या कर रहे हैं आप?
‘अपनी खूबसूरत बीवी से छेड़छाड़..’ मैंने मुस्कुराते हुए कहा।

वो वाकयी में बेलन लेकर झूठ-मूठ मारने के लिए मेरे पीछे आई, मैं दूसरे कमरे में भागा।
उसने एक बार बेलन मारा भी।

‘आआहहह.. तुम तो मारने वाली बीवी हो..’ मैंने शिकायत भरे स्वर में कहा।

‘देखना जो मेरी असली बीवी होगी ना.. वो मुझसे पागलों की तरह प्यार करेगी।’

‘और आप? आप उसे कितना प्यार करोगे?’

‘मैं अपने से भी ज्यादा.. मैं दुनिया उसके कदमों में रख दूँगा।’

‘सच..? वो कितनी नसीब वाली होगी.. अच्छा आप उसे किस तरह पुकारोगे?’

‘मैं उसे हमेशा ‘डार्लिंग’ कहूँगा।’

‘तो आज के लिए मुझे भी कहो ना..!’

‘ओके.. तो मेरी डार्लिंग रिंकी… यह बेलन वापस रखो और नाश्ता दो.. मुझे ऑफिस भी जाना है।’

‘ओह.. हाँ.. अभी देती हूँ.. आप ऑफिस के लिए तैयार हो जाओ..’

वो जैसे ही जाने लगी.. मैंने कहा- एक मिनट..

वो रुकी, मैं आगे बढ़ा, अचानक मैंने उसे अपनी बाँहों में उठा लिया और ले चला।

‘आआह ऊओह्ह.. आप क्या कर रहे हैं.. ऊओ..ह्ह्ह..’
कहानी जारी रहेगी।
मुझे अपने विचारों से अवगत कराने के लिए मुझे लिखें।

Download a PDF Copy of this Story एक खेल ऐसा भी-1

Leave a Reply