अंतहीन प्यास-8

आपकी सारिका कंवल
हम दोनों ही एक-दूसरे से साँपों की तरह लिपटे एक-दूसरे को प्यार करने और अंगों को सहलाने लगे। मुझे अब सहन नहीं हो रहा था और मैंने उससे कह दिया- अब देर किस बात की है, जल्दी से लंड मेरी बुर में घुसा दो..!
उसने मेरी बात सुनते ही कहा- अभी लो जान..!
उसने लिंग को एक हाथ से पकड़ कर मेरी योनि की छेद पर सुपारे को भिड़ा दिया और फिर मुझे कंधों से पकड़ कर कहा- तैयार हो जाओ मेरी जान!
मैंने भी उसके कमर को हाथों से पकड़ अपनी कमर उठा दी, उसका गर्म सुपाड़ा मेरी योनि के मुख में था, तभी उसने जोर से झटका दिया, मैं कराह उठी- उई माँ.. मर गईईईईइ… प्यार से…करो न!
उसका लिंग एक झटके में मेरी योनि की दीवारों को चीरता हुआ मेरी बच्चेदानी से जा टकराया।
मुझे दर्द तो हुआ पर जो सुख मिला वो किसी स्वर्ग के सुख से कम नहीं था। उसने मुझे पूरी ताकत से पकड़ा और अपने लिंग को मेरी योनि में और दबाता गया। मैं भी उसे अपनी योनि के ऊपर उसे खींचने लगी, साथ ही कमर को उठाती जा रही थी।
ऐसा लग रहा था जैसे मैं उठना चाह रही हूँ, पर वो मुझे उठने नहीं देना चाहता है और मुझे और जोरों से दबाता रहा।
हालांकि उसका लिंग पूरी तरह मेरी योनि में था, फिर भी ऐसा लग रहा था जैसे अभी और अन्दर जाना चाहता हो। सो बार-बार जोर पर जोर लगा कर लिंग मेरी योनि में दबाता। मैं किसी हिरनी की तरह नीचे से अपने कूल्हों को नचाने लगी और जाँघों को खोलती, फिर उसमें उसके कमर को जकड़ उसे खींचती, हाथों और पैरों से फिर खोलती और फिर खींचती। मुझे ऐसे में बहुत मजा आ रहा था और उसे भी।
मेरी योनि बहुत गीली हो चुकी थी और मुझे उसका लिंग योनि के अन्दर फिसलता सा लगने लगा। इस बीच हम लगातार एक-दूसरे को चूमते और चूसते जा रहे थे।
उसने अब मुझसे कहा- कितना मजा आ रहा है, आपका जिस्म किसी गद्दे जैसा है जहाँ पकड़ता हूँ सिर्फ मांस ही मांस मिलता है और योनि कितनी गर्म और  चिपचिपी है… मुझे बहुत मजा आ रहा है।
मैंने भी अपनी योनि को भींचते हुए उसके लिंग को दबाती हुई बोली- अब देर किस बात की है.. जोर लगाओ और चोदो मुझे…!
उसने मेरी बात सुनते ही एक हाथ मेरे चूतड़ के नीचे रख कर पकड़ा और अपना लिंग थोड़ा बाहर खींच कर फिर से धक्का दिया और फिर.. और फिर.. धक्कों पर धक्कों को लगाने लगा।
मैं 5-6 धक्कों में ही मदमस्त हथिनी सी हो गई और बड़बड़ाने लगी- ओह… ओह… म्मम्म… ह्म्म्म… हाय जानू कितना मजा आ रहा है… चोदते रहो..!”
वो भी धक्के लगाते हुए कहने लगा- ह्म्म्म हाँ.. लो मेरी जान और लो बुर को उछालो और.. मस्त बेबी है बड़ी प्यारी है…
हम दोनों वासना के सागर में गोते लगाने लगे, हमने पूरी ताकत झोंक दी थी। हम दोनों एक-दूसरे के जिस्मों को ऐसे मसल रहे थे, जैसे बरसों से प्यासे हों।
वो जोरों से धक्के लगाए जा रहा था और मैं भी अपनी कमर ऊपर कर उसके धक्कों का स्वागत किए जा रही थी। वो इतनी देर में हाँफने लगा था और मेरे मुँह से भी सिसकारियाँ बंद होने का नाम नहीं ले रही थीं।
बाहर ठण्ड थी, पर कम्बल के अन्दर हम दोनों पसीने में लथपथ हुए जा रहे थे।
समय के साथ उसका जिस्म और भी गर्म होता जा रहा था और मुझे उसके गर्म बदन का स्पर्श बहुत सुखद लग रहा था। वो ज्यों-ज्यों धक्के लगाता, उसका बदन सख्त होता जाता। मुझे ऐसा लगने लगा जैसे कोई गठीला सांड मेरे ऊपर चढ़ा हो।
उसने मेरे गले पर जीभ फिराते हुए मुझे चाटना शुरू कर दिया और कहा- आपके जिस्म की खुशबू मुझे पागल कर रही है।
वैसे मुझे भी उसके जिस्म की खुशबू मदहोश सा किए जा रही थी।
उसने मेरे स्तनों को दबाया और कहा- मुझे चोदते हुए आपके दुद्धू चूसने हैं।
मैंने भी मस्ती में कह दिया- जो मर्ज़ी करना है.. करो.. मगर चोदते रहो..!
उसने कम्बल को हटा दिया और मेरे स्तनों के ऊपर टूट पड़ा। वो उन्हें बारी-बारी से दबाने और चूसने लगा और साथ ही धक्के भी लगाने लगा।
उसके धक्के अब धीमे पड़ने लगे। उसने मेरी योनि में रुक-रुक कर धक्के लगाने शुरू कर दिए, पर धक्के इतने जोरदार होते कि हर धक्के पर मैं कुहक जाती। मैं समझ गई कि वो थक गया है।
मैंने उससे पूछा- अब क्या हुआ.. ऐसे क्यों चोद रहे हो, तेज़ी से चोदो न!
उसने कहा- हाँ.. करता हूँ… थोड़ा रुको!
तब मैंने कहा- आप नीचे हो जाओ अब..!
उसने एक हाथ मेरे कूल्हों के नीचे रखा और दूसरा मेरे पीठ पर फिर करवट ले कर पलट गया। अब मैं उसके ऊपर थी, पर उसने लिंग को बाहर नहीं आने दिया शायद वो मेरी योनि से लिंग बाहर नहीं निकालना चाहता था।
मैंने उसके सीने पर हाथ रख कर सीधी होकर उसके लिंग पर बैठ गई और धक्के लगाने लगी। मेरी योनि से पानी रिस-रिस कर धीरे-धीरे बहने लगा था, जिसकी वजह से उसके अंडकोष भीग गए थे और जब मैं उछलती तो मेरे कूल्हों पर लगता जिससे मुझे चिपचिपाहट महसूस हो रही थी।
मैं पूरी मस्ती से भर गई थी। उसका लिंग मेरी योनि के अन्दर हलचल सा मचा रहा था और मैं पूरी ताकत से धक्के लगाने लगी। कुछ ही देर में मेरी जांघें भी जवाब देने लगीं और मेरी गति धीमी पड़ने लगी।
मैंने उसकी तरफ देखा और उसने मेरी तरफ और उसने मेरे स्तनों को मसलते हुए कहा- अपने दुद्धू मुझे पिलाओ..!
मैंने भी बड़े प्यार से अपने स्तन को हाथ में पकड़ा और झुक कर उसके मुँह में लगा दिया और दूसरे हाथ से उसके सर को सहारा देकर उसे स्तनपान कराने लगी।
उसने भी चूचुक को मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया और दोनों हाथों से मेरे नितम्बों को पकड़ अपनी ओर खींचने लगा और नीचे से अपनी कमर उठा कर  नाचने लगा।
उसके ऐसा करने से उसका लिंग भी मेरी योनि में घूमने लगा। मुझे बहुत मजा आ रहा था और मैं भी अपनी योनि को उसके लिंग पर दबाते हुए कमर को उसी के साथ नचाने लगी।
कुछ देर के बाद वो मेरे स्तनों को चूसते हुए उठने लगा, उसका लिंग अभी भी मेरी योनि में था। उसके पैर अभी भी सीधे थे पर वो उठ कर बैठ गया था और अब मैं उसकी गोद में थी।
उसने मेरी टांगों को आगे की तरफ कर सीधा कर दिया और मुझे पीठ की तरफ झुका कर मेरे ऊपर चढ़ गया। मैंने अपनी टाँगें ऊपर उठा दीं और फैला दीं।
उसने मेरे कन्धों को पकड़ा और मेरे होंठों पर होंठ रख कर चूसने लगा। मैंने खुद को तैयार कर लिया कि अब वो क्या करने वाला है, उसने अपनी कमर पीछे की और फिर 2-4 बार जोर का धक्का दिया। मैं ‘उई माँ’ करते हुए कराहने लगी।
इसके बाद तो उसने लगातार धक्के देने शुरू कर दिए।
मैं भी अपनी पूरी रफ़्तार से अपने चूतड़ उछाल-उछाल कर उसका साथ देने लगी। मुझे बहुत मजा आने लगा था और मैं बस चरमसुख से कुछ दूर ही थी।
मैंने उसे अपनी बाँहों में कस लिया और टांगों से उसे अपनी और खींचते हुए कराह कर बोली- और तेज़ और तेज़ आह्ह्ह आह्ह्ह चोदो मुझे, मेरी बेबी को  चोदो, मेरा पानी निकाल दो.. अपने लंड से..आःह्ह्ह आह्ह्ह चोदो न…!
उसने भी पूरे जोश से धक्के देते हुए कहा- हाँ.. हाँ.. हाँ.. लो.. ये लो चुद लो , आज आपको मुता दूँगा चोद-चोद कर, सारा रस निचोड़ दूँगा बेबी की, ये लो ये लो..!

मेरी अंतहीन प्यास की कहानी जारी रहेगी।
आप मुझे ईमेल कर सकते हैं।
[email protected]

Download a PDF Copy of this Story अंतहीन प्यास-8

Leave a Reply