ब्रा दिखाने के बहाने भाभी ने चुत चुदाई

(Bra Dikhane Ke Bahane Bhabhi Ne Chut Chudai)

मेरे प्यार दोस्तो, कैसे हो आप सब… मेरा नाम हरी है, मैं गाज़ियाबाद के पास मोदीनगर शहर में रहता हूँ. मैं एक साधारण सा लड़का हूँ.
मेरे जीवन में एक ऐसी घटना घटी कि आज भी सोच कर मैं हैरान हो जाता हूँ. मेरे लंड की लंबाई 7 इंच और मोटाई 3 इंच है.
आज पहली बार समय निकाल कर स्टोरी लिख रहा हूँ.

यह स्टोरी एक भाभी की है जिनका नाम रिया है जो मेरे घर के पास ही रहती है. यही भाभी इस स्टोरी में महत्वमपूर्ण भूमिका है, वो आज भी मेरे इस लंड पर फिदा है.

ये बात लगभग 7 साल पुरानी है, भाभी की उम्र उस समय 32 साल की थी, मैं जब 23 साल का था. तब एक दिन मैं उनके घर गया तो वो घर की साफ सफाई में लगी हुई थी. जब मैं उनके घर पंहुचा तो वो काम में बहुत ज्यादा बिजी थी तो उन्होंने मुझे आते हुए नहीं देखा वो घर की सफाई ब्लाउज और पेटीकोट में कर रही थी।

भाभी बहुत सेक्सी लग रही थी, मैं उन्हें बहुत ही गौर से देख रहा था कि अचानक उनकी नज़र मुझ पर पड़ गयी तो वो एकदम घबरा सी गयी और अपने शरीर को ढकने की कोशिश करने लगी. इस हालत को देखते हुए मैं वहां से वापस अपने घर आ गया.
भाभी को पहली बार इस कंडीशन में देख कर मेरा लंड एकदम से तन गया, मैंने सीधा बाथरूम में जाकर मुठ्ठी मार कर अपने लंड को तस्सली कराई

उस दिन के बाद भाभी जब भी मुझे देखती तो वो हल्का सा मुस्करा देती और चली जाती। यह देख कर मेरे मन को हौंसला मिलता रहता था।

एक दिन भाभी मेरे घर पर आयी और मेरी मम्मी से कुछ बात करने लगी. फिर कुछ देर बाद मम्मी ने मुझे बुलाया और कहने लगी कि मार्किट में जाकर अपनी भाभी का फ़ोन नंबर रिचार्ज करा ला!
मैं मन ही मन बहुत खुश हुआ क्योंकि मेरे पास अब भाभी का फ़ोन नंबर आ जायेगा.

जब मैं मार्किट जाने को हुआ तो उन्होंने मुझे आवाज लगा कर मेरा नंबर भी ले लिया कि जब मेरा फ़ोन रिचार्ज हो जायेगा तो मैं आपको कॉल करके बता दूंगी.
15 मिनट बाद जब मैंने उनका रिचार्ज करा दिया तो तुरंत बाद की भाभी की मेरे पास कॉल आ गयी और मुझे थैंक्स बोला।

फिर धीरे धीरे हम दोनों में नार्मल बाते होने लगी।

एक दिन अचानक उन्होंने मुझसे मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा तो मैंने मना कर दिया कि मेरी अभी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है तो उनको मेरे पर विश्वास नहीं हुआ तो मैंने ऐसे ही झूठ बोल दिया- है… मेरी एक गर्लफ्रेंड है.
तो पूछने लगी- वो दिखने में कैसी है?
तो मैंने भी नहले पर दहला मार दिया- भाभी बेशक वो सुन्दर हो… पर आपसे ज्यादा सुन्दर नहीं हो सकती। आप तो बिलकुल अप्सरा के जैसी दिखती हो!
भाभी यह सुन कर बहुत खुश हो गयी।

एक दिन जब मेरी रिया भाभी से बात हो रही थी तो मैंने भाभी से ये पूछा- मैं अपनी गर्लफ्रेंड को क्या गिफ्ट दूँ? कल उसका जन्मदिन है!
तो भाभी मुझसे उसका साइज पूछने लगी तो मैंने मना कर दिया।
अगर कोई होता तो बताता ना!
मैंने कहा- भाभी, उसका साइज बिलकुल आप की ही तरह है. आपका क्या साइज है?
तो भाभी ने कहा- मुझे नहीं पता… तुम कल घर पर आकर खुद ही देख लेना मेरी ब्रा का नंबर।

जब मैं अगले दिन भाभी के घर गया तो देखा कि भाभी घर पर बिल्कुल अकेली थी। भाभी ने उस टाइम गाउन पहने हुआ था, वो गॉउन में बहुत ही सेक्सी लग रही थी.

जब मैंने उनसे पूछा की सब कहाँ गए हैं तो कहने लगी- सब एक शादी में गए हैं, शाम तक आएंगे।
मैंने पूछा- आप नहीं गयी शादी में?
तो कहने लगी- आज आपको अपनी गर्लफ्रेंड को गिफ्ट भी तो देना है तो साइज देने के लिए रुक गयी थी।

यह सोच कर मैं हैरान रह गया… मैं वही सोफे पर बैठ गया.
भाभी अपनी कोई पुरानी ब्रा ले आयी जिस पर कोई नंबर नहीं था तो मैं कहने लगा- भाभी जी, इस ब्रा पर तो कोई नंबर नहीं है… तो पता कैसे चलेगा साइज का?
फिर मैंने हिम्मत करके बोला- जो आपने पहने हुई हैं ब्रा… उसी का ही साइज बता दो!
तो कहने लगी- नंबर तो पीछे है, खुद ही देख लो कि क्या साइज है।

भाभी अपने बैडरूम में चली गयी और मैं उनके पीछे कमरे में आ गया। भाभी दीवार के सहारे खड़ी हो गयी मैंने उन्हें घुमा कर उनका फेस दीवार की तरफ कर दिया और उनके गॉउन की चैन खोल दी.
जैसे ही मैंने उनकी कमर को हाथ लगाया तो उनके मुँह से एकदम सिसकारी निकल गयी। फिर मुझ से भी रहा नहीं गया तो मैंने उनकी ब्रा के हुक खोल दिए और उनके मम्मों को पकड़ लिया और जोर जोर से भाभी के मम्मों को दबाने लगा जिससे भाभी को मजा आने लगा.

फिर मैंने भाभी को सीधा कर दिया और उनके होठों को किस करने लगा। कसम से भाभी इतनी गर्म थी, मुझे पता नहीं था.

भाभी ने मेरी जीभ को चूसना शुरू कर दिया और मैं भाभी के मम्मों को जोर जोर से दबा रहा था।
15 मिनट तक भाभी और मैं किस करते रहे, जब भाभी काम्पने लगी तो उन्होंने मुझे छोड़ दिया पर मैं दोबारा उन्हें किस करने लगा और किस करते करते उन्हें बेड पर लिटा दिया.

भाभी ने मेरे कपड़े मेरे शरीर से एकदम अलग कर दिए और मैंने भी भाभी का गॉउन उतार फेंका. जब मैंने भाभी का गॉउन उतारा तो देखा कि भाभी ने तो पैंटी ही नहीं पहनी थी.

जब मैंने पूछा तो कहने लगी- जब से आप से बात करनी शुरू की है तब से मेरा मन तुमसे चुदवाने का था क्योंकि एक दिन मैंने तुम्हे मुठ्ठी मारते देखा था जब मैं तुम्हारे घर आयी थी तब से तुम्हारा लंड मेरी निगोड़ी चुत को पसंद आ गया। तब से मैंने पैंटी पहननी बंद कर दी कि जब तक तुमसे चुदवा ना लूं, तब तक पैंटी नहीं पहनूँगी।

बस फिर क्या था, मैंने भाभी को पकड़ा और उनके मम्मों को जोर जोर से चूसने लगा और भाभी बहुत ही जोर से सिसकारी निकाल रही थी. मैंने भाभी के मम्मों को चूस चूस कर लाल कर दिया.

अब भाभी भी बहुत गर्म हो गयीं और उनकी चुत से पानी निकलने लगा. मैंने अपने होंठ भाभी की चुत पर लगाया जिससे भाभी एकदम से उछल सी गयी.
तो मैंने पूछा- भाभी, क्या हुआ?
तो भाभी कहने लगी- तुम्हारे भईया ने तो आज तक मेरी चुत को नहीं चूसा है तो अजीब तो लगेगा ही ना।

फिर हम दोनों 69 की अवस्था में आ गए. भाभी ने काफी टाइम पहले ही सोच रखा था कि वो भी लंड चूस कर देखेगी, आज उनकी हर ख्वाहिश पूरी हो रही थी और मैं तो एकदम हवा में उड़ने लगा मेरी भी सेक्सी भाभी को चोदने की इच्छा पूरी होने वाली है, मैं बहुत ही प्यार से भाभी की चुत चाटने लगा और भाभी मेरा लंड मजे से चूस रही थी जैसे कि कितने सालों बाद मिला है.

करीब 10 मिनट बाद भाभी का शरीर अकड़ने लगा और चीखती हुई झड़ गयी, और मैंने भाभी की चुत का सारा रस पी लिया जो बहुत ही टेस्टी था. फिर 2-3 मिनट बाद मैं भी झड़ गया और अपना सारा वीर्य भाभी के मुँह में डाल दिया तो भाभी को उबकाई सी आ गयी और भाभी ने सारा वीर्य अपने मुँह से निकल दिया और बाथरूम में जाकर अपना मुँह साफ करके आ गयी.

मैं बेड पर एकदम नंगा था, जब भाभी मेरे पास आकर लेट गयी तो हम दोनों की जीभ फिर आपस में टकरा गयी। भाभी अपने हाथ से मेरे लंड को मसल रही थी और मैं उनकी गांड पर हाथ फिरा रहा था, कुछ देर बाद मेरा लंड दोबारा खड़ा हो गया, जब मैंने भाभी की चुत को अपनी उंगलियों से छुआ तो भाभी को चुत एकदम गीली थी.

तो मैंने भी देर न करते हुए भाभी की एक टाँग को उठा लिया और चुत के छेद पर अपना लंड टिकाया।

भाभी की चुत से इतना पानी आ रहा था कि तेल की कोई जरूरत ही नहीं पड़ी और पहले ही धक्के में 3 इंच अंदर घुस गया और भाभी को हल्का सा दर्द होने लगा.
जब मैं रुक गया तो भाभी कहने लगी- रुकना मत, इस निगोड़ी चुत ने बहुत सताया है! तुम्हारे भैया ने तो मुझे आज तक झाड़ा ही नहीं है, जितना दर्द होता है होने दो।

तो मैंने भी दो तीन धक्कों में अपना मूसल पूरा घुसा दिया, तो भाभी इस हमले को झेल न सकी और चीख पड़ी- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मर गई… मेरी चूत फाड़ दी कमीने ने!

फिर भाभी का मुँह अचानक से खुल गया तो मैंने उनके होठों को एकदम से अपने होठों से कैद कर लिया और भाभी फिर से मेरी जीभ चूसने लगी मैं भाभी की चुत पर तेज तेज धक्कों से वार कर रहा था और भाभी जोर जोर से चिल्ला रही थी- आज रुकना मत… फाड़ दो मेरी इस चुत को! बर्बाद कर दो! इसने मुझे बहुत सताया है!
और मुझे चुदवाती हुई गाली देने लगी- भोसड़ी के… तेरी माँ की चुत… फाड़ दे मेरी चुत… आह… आअह मार दिया रे… हाय रे मर गई!

करीब 15 मिनट की इस चुदाई में भाभी दो बार झड़ चुकी थी और मैंने भी अपने लंड को भाभी की चुत में झाड़ दिया। तब जाकर भाभी को तसल्ली मिली।
हम दोनों बिलकुल पसीने से नहा गए थे. फिर भी भाभी ने मुझे छोड़ा नहीं और मैं भी भाभी के मम्मों से खेलने लगा और भाभी मेरे बालों को सहलाने लगी.

फिर कुछ देर बाद मैंने अपने कपड़े पहने और अपने घर आ गया।

उसके बाद हम दोनों को जब भी टाइम मिलता तो भाभी को जम कर ही चोदता था।
अब मेरी शादी को भी 5 साल हो गए हैं पर जब भी मुझे और रिया भाभी को टाइम मिलता है तो चुदवाती जरूर है और अब तो मैंने गाज़ियाबाद में एक फ्लैट रेंट पर भी ले लिया है तो वहां भी भाभी को दो तीन बार ले जाकर आराम से चोदा।

तो दोस्तो, मेरी हॉट चुत की सेक्स कहानी पर अपने विचार मुझे मेल कीजिये। अगर आप लोग का प्यार मिलता रहेगा तो ऐसे ही कहानियां मैं भेजता रहूंगा। इस मेल आईडी से आप मुझे फेसबुक पर जोड़ सकते हैं.
[email protected]
आपका दोस्त हरी