सेल्स लेडी की ऑफिस में चुदाई

(Sales Lady Ki Office Me Chudai)


अन्तर्वासना की सभी पाठिकाओं की चूत वालियों को कॉलब्वॉय राज की नमस्ते.

मैंने सन 2007 से अन्तर्वासना की सभी कहानियां पढ़ी हैं. फिर आज मैंने भी सोचा कि अपनी आप बीती एक सच्ची घटना को अन्तर्वासना पर लिखूँ. मैं पहली बार कहानी लिख रहा हूँ, अगर मुझसे लिखने में कोई ग़लती हो जाए, तो प्लीज़ माफ़ कर दीजिएगा.

मैं अपने पाठकों को अपने बारे में बता दूं. मैं जयपुर के मानसरोवर में रहता हूँ और ऑनलाइन मार्केटिंग का काम करता हूँ. साथ ही पार्ट टाइम मेल एस्कॉर्ट का काम भी करता हूँ. मैं अपनी क्लाइंन्ट्स को सेक्स के फुल मज़े देता हूँ. अब तो मैं खुद का छोटा सा मेल एस्कॉर्ट क्लब भी चलाता हूँ.

मैं 5 फुट 3 इंच कद का हूँ और सामान्य चेहरे मोहरे का 27 साल का एक युवक हूँ. मैं अन्य लोगों की तरह झूठ नहीं बोलूँगा कि मेरा लंड 8-9 इंच लम्बा है. मैं औसत 6.5 इंच लम्बे और 2.5 इंच मोटे लंड का मालिक हूँ, लेकिन मैं अपने इसी नॉर्मल लंड से काफी महिलाओं की जरूरत पूरी कर चुका हूँ. वो सब मेरी सेक्स पावर ओर सेक्स करने की स्टाइल की दीवानी हैं.

मैंने बहुत सी लंड की प्यासी भाभियों और चुदासी लड़कियों को अपनी सर्विस से खुश किया है. हालांकि मुझे शादीशुदा भाभियां चोदने में बहुत मजा आता है. उसका कारण है … एक तो उनका सेक्स करने का तरीका बड़ा मस्त होता है … वे चूंकि लंड की प्यासी होती हैं, इसलिए खुल कर चुदाई का मजा देती हैं. दूसरे उनके मोटे मोटे मम्मे बड़ा मजा देते हैं. मुझे बड़े चुचे चूसना और मसलना बहुत पसंद हैं. अगर किसी दिन मेरी कोई क्लाइंट के 34 साइज़ के मम्मे हों और एकदम टाइट हों, तो समझो उस दिन मेरी चांदी हो जाती है.

जैसा कि मैंने ऊपर बताया है कि मैं ऑनलाइन बिजनेस का काम करता हूँ. जिस कंपनी में मैं काम करता हूँ, वहां एक लेडी मर्चेंट भी काम करती है. उसका नाम कामिनी है. ये नाम बदला हुआ है.

जैसा उसका नाम, वैसी ही वो बहुत सुंदर और भरे पूरे जिस्म की मालकिन है. उसका साइज़ 34-30-36 का है. उसकी 34 डी साइज़ की चूचियां किसी को भी दीवाना बना सकती हैं. उसके तने हुए चुचे देखते ही मेरा लंड खड़ा हो जाता है और मेरा लंड उसकी चूत में जाने को पागल हो जाता है. उसकी निकली हुई गांड को देख कर तो किसी का भी लंड खड़ा हो जाता है. एकदम टावर जैसे उठे हुए चूतड़ हैं. जब वो मटक मटक कर चलती है, तो समझो कयामत ही आ जाती है.

मैं विस्तार से उस हुस्न परी की चुदाई की कहानी बताता हूँ … जिसे चख कर मैं धन्य हो गया था.

मैं तो उस कामिनी की चुदाई की जुगाड़ में लगा ही रहता था. एक दिन मुझे उस खूबसूरत मर्चेंट की चूत चुदाई का मौका मिल ही गया. हुआ यूं कि मई के महीने में हमारे ऑफिस में ऑडिट टीम आने वाली थी. इसलिए सभी मर्चेंट्स को सारे टारगेट पूरे करने थे. इसलिए बॉस ने उन्हें सारा काम पूरा करके जाने को बोला.

वो मर्चेंट कामिनी मानसरोवर के पास से ही आती थी. बॉस के आदेश के बाद उसने मुझे साथ लेट नाइट में घर छोड़ने की रिक्वेस्ट की और मैं उसे मना नहीं कर पाया. उसके रुकने तक के लिए मैं भी वहीं रुक गया. हम दोनों ने अपने अपने घर पर फोन से बता दिया था कि या तो लेट नाइट आएंगे या मॉर्निंग में आ पाएंगे.

रात के 10 बजते बजते सभी मर्चेंट अपने घर चल गए, बस कामिनी और मैं ही ऑफिस में अकेले रह गए. कामिनी का बहुत सारा काम पेंडिंग था. मैं उसकी उसके काम पूरा करने में मदद कर रहा था. साथ ही साथ मैं कामिनी से बातें भी करता जा रहा था.

बातें करते करते हम दोनों गर्लफ्रेंड ब्वॉयफ्रेंड के जैसी बातों पर आ गए. लेकिन हम दोनों अपना काम भी करते रहे.

कामिनी का सिर हल्का दर्द कर रहा था. तो मैं उसका सिर दबाने लगा और साथ मैं उसकी पास्ट लाइफ के बीएफ के बारे में पूछने लगा. मैं उसका सिर दबाने के साथ उसकी गर्दन भी सहलाने लगा. मेरे ऐसा करने से वो मदहोश होने लगी. वो मेरे से मेरी जीएफ और उसके साथ के सेक्स की बारे में पूछने लगी.

मैंने उसे ये बताया कि मैं एक मेल एस्कॉर्ट भी हूँ … और एक मेल एस्कॉर्ट क्लब चलाता हूँ.
पहले तो उसे मेरी बात पे विश्वास नहीं हुआ. वो मुझसे मेरी क्लाइंट और उनकी मेरे द्वारा की गई चुदाई के बारे में पूछने लगी.

तभी मेरी एक पुरानी क्लाइंट का कॉल आ गया. उसने नेक्स्ट डे कि बुकिंग के लिए मुझसे पूछा. मैंने कामिनी को सुनाने के लिए फोन स्पीकर पर रख कर मेरी उस क्लाइंट से बात करने लगा. कामिनी को यकीन दिलाने के लिए मैं अपनी इस क्लाइंट से उसको दी गई लास्ट सर्विस की बातें याद दिलाने लगा, जिससे वो मेरी तारीफ करने लगी.

कामिनी उस क्लाइंट की बातें बहुत गौर से सुन रही थी. लास्ट में मैंने मेरी क्लाइंट को कामिनी से बात करने को बोला. कामिनी ने जब उससे बात की, तो कामिनी बहुत ही कामुक हो उठी थी. कामिनी मेरी क्लाइंट से बात करने के बाद बहुत ही हॉट फील कर रही थी, लेकिन कुछ बोल नहीं रही थी.

मैं बार बार उससे पूछ रहा था कि क्या करना है. अब पर वो कुछ रिएक्ट ही नहीं कर रही थी, जैसे कहीं खो गई हो. उसे इस कंडीशन से बाहर लाने के लिए मैं उसके गाल अपने हाथों से सहलाने लगा.

कामिनी अचानक से मुझे किस करने लगी. साथ ही में वो मुझे अपनी ओर खींचने लगी, जैसे वो मुझे अपने में समा लेना चाहती हो.

मेरे हाथ भी अब उसकी चूचियों का साइज़ नापने लगे. मैंने अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी और उसे चूम कर शोरूम में एसी चला कर सोफे पे लिटा दिया. मैं उसके ऊपर चढ़ गया. इसके बाद मैं उसके और अपने कपड़े निकालने लगा. थोड़ी देर मैं हम दोनों नंगे हो गए. मैं उसके 34 डी साइज़ के मम्मों को चूसने लगा.

वो मेरे लंड को हाथ से आगे पीछे कर रही थी. उसने अचानक नीचे बैठ कर मेरी पैन्ट खोल कर मेरे लंड को बाहर निकाल कर चूसना शुरू कर दिया. ऐसा करने से उस टाइम वो सन्नी लियोनी जैसी लग रही थी. वो मेरे लंड को ऐसे चूस रही थी कि साली लंड को उखाड़ कर ही खा जाएगी.

वो मेरे लंड को आगे पीछे करके ज़ोर ज़ोर से हिलाकर चूसने लगी. साथ में मेरे लंड की गोटियों को भी चाटने लगी. उसने मेरे लंड को चूस चूस कर इतना गर्म कर दिया था कि लंड ने अपना सारा पानी उसके मुँह में छोड़ दिया.

अपना पानी निकालने के बाद मैं उसके कपड़े निकालने लगा. मैंने उसके सेक्सी बदन से उसकी साड़ी निकाल दी और उसके ब्लाउज और ब्रा खोलकर उसके 34 डी नाप के मम्मों को चूसने लगा. मम्मों को चूसने के साथ ही अपने हाथ से उसकी चूत को सहलाने लगा.

फिर मैं थोड़ा नीचे की ओर जाने लगा. मैंने जल्दी से उसके पेटीकोट और पैन्टी को निकाला और उसकी चूत चाटने लगा. मेरे चूत चाटने से वो पागल हो उठी और वो मुझे अपने ऊपर खींचने लगी. वो मेरे लंड को इतने ज़ोर से आगे पीछे करने लगी, जैसे वो मेरी लंड को उखाड़ लेना ही चाहती हो. लेकिन मैंने उसकी चूत चाटना नहीं छोड़ा. बल्कि मैं और ज़ोर से उसकी चूत चाटने लगा.

मैं उसकी चूत के दाने को चूसने लगा, जिससे वो और ज्यादा चुदासी हो गई. अगले एक मिनट बाद ही उसकी चूत ने ढेर सारा पानी छोड़ दिया. मैं उसके टेस्टी जूस को पूरा चाट गया.

फिर मैंने उसके मुँह के सामने अपना लंड हिलाया, तो उसने मेरे लंड को फिर से एक बार अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगी.

थोड़ी देर लंड चूसने के बाद वो सोफे पर टांगें उठा कर लेट गई और मुझे अपने ऊपर खींच लिया. वो इतनी अधिक चुदासी हो उठी थी कि मेरे लंड को अपने हाथ से पकड़ कर अपनी चूत में लगा लिया. मैंने जब तक धक्का लगाता, उसने खुद ही गांड उठा कर लंड अन्दर डलवा लिया. वो मुझे धक्के मारने को बोलने लगी.

मैं उसकी भरपूर तरीके से चुदाई करने में लग गया. मैंने पूरे 20 मिनट तक लगातार पोज़ बदल बदल कर उसकी चूत चोदी और अंत में मैंने उसके मम्मों पे अपने लंड का सारा माल निकाल दिया. हम एक दूसरे से चिपक कर कुछ पल के लिए लेट गए. फिर उठ कर अपने आप को साफ करते करते हम दोनों अपने कपड़े पहनने लगे. फिर वहां से हम अपने घर को निकल पड़े.

वो मर्चेंट मेरी चुदाई से इतनी अधिक संतुष्ट ही गई थी कि उसने मुझसे आगे भी चुदाई करवाने का बोला. हम दोनों रात 12.50 तक ऑफिस से निकल गए. घर आकर जब मैंने इस पूरे घटना क्रम के बारे में सोचा, तो पाया कि कामिनी के साथ हुई चुदाई बहुत ही लाजवाब थी.

भविष्य में भी उसने मुझसे मौका मिलते चुदाई करवाने के लिए बोला.

दोस्तो, ये थी मेरी ओर कामिनी की सेक्स कहानी जो एकदम सच्ची है.

आप अपने सजेशन मुझे मेल जरूर कीजिएगा. मेरी मेल आईडी है.
[email protected]
आप मुझे मेरी फेसबुक पर भी सर्च करके मुझसे जुड़ सकते हैं और चैट कर सकते हैं.

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top