अपने ऑफिस वाले सर से होटल में चुद गयी

(Apne Office Wale Sir Se Hotel Me Chud Chudi)

हैलो फ्रेंड्स, मेरा नाम नेहा है. मैं जॉब करती हूँ और शहर में रहती हूँ. मैं बहुत सेक्सी और बड़ी चूचियां और बड़ी गांड वाली काफी सुन्दर लड़की हूँ.

मेरी जॉब बहुत अच्छी है, ये जॉब मुझे मेरे सेक्सी जिस्म को देख कर मिली थी. मुझे जॉब करते हुए कुछ साल हो गए हैं. मेरी ऑफिस में काफी जान पहचान भी हो गयी. मेरे सीनियर सर लोग मुझे बहुत प्यार करते हैं और मुझे बहुत कुछ समझाते भी हैं. मुझे भी ऑफिस में प्रमोशन पाने के लिए अपने सीनियर सर लोगों को पटाना पड़ता है. मैं हमेशा ऑफिस में मॉडर्न कपड़े पहन कर जाती हूँ. ऑफिस के सभी लोगों की नजर मेरे ऊपर ही रहती है. मेरे ऑफिस के जो बॉस सर हैं, वो बहुत ऊंचे पद पर हैं.

ये कहानी कुछ दिन पहले की है, इसलिए मैंने सोचा कि क्यों ना ये कहानी आप लोगों के साथ भी शेयर की जाए.

मैं जो भी काम करती हूँ, तो वो सर देखने के लिए आते हैं और वो मुझे अपना काम भी समझाते हैं. उनको ऑफिस में सब लोग मैनेजर सर कहते हैं, क्योंकि वो ऑफिस के सारे लेन देन का काम भी करते हैं. वो ऑफिस के मीटिंग में भी हिस्सा लेते हैं. चूँकि बॉस सबसे सीनियर हैं, तो सब लोग डरते भी हैं. मैनेजर सर की बॉडी बहुत मजबूत है और वो बहुत स्मार्ट भी लगते हैं.

मैनेजर सर के पास सारी लड़कियां इंटरव्यू के लिए जाती हैं क्योंकि वो ही जॉब देते हैं. ऑफिस की उनकी सारी मीटिंग का काम मुझे ही करना पड़ता है. क्योंकि मैं ही एक ऑफिस में मैनेजर सर से ठीक से बात कर पाती हूँ.. और वो ही मुझे मीटिंग के सारे काम समझाते हैं.

मैं और मैनेजर सर हम दोनों लोग मिलकर मीटिंग कर काम करते हैं. इससे हम दोनों मतलब मैं और मैनेजर सर काफी करीब आ गए थे. हम दोनों में बहुत बढ़िया दोस्ती सी भी हो गयी थी. ऑफिस के अन्य स्टाफ की तरह मुझे उनसे डर भी नहीं लगता था. वो मुझे ही सारे काम बताते थे. जिस वजह से मैं मैनेजर सर के केबिन में कभी कभी घंटों बनी रहती थी और मीटिंग कर काम करती थी.

मेरे साथ काम करने वाली लड़कियां मुझसे देखकर जलती थीं. मैंने एक दो मीटिंग में बहुत अच्छा काम किया था इसलिए मैनेजर सर को मेरे ऊपर काफी भरोसा हो गया था. हम लोगों की मीटिंग कभी कभी दूर होती थी.. और सभी लोगों को मीटिंग के लिए दूसरे शहर में जाना पड़ता था. मैं मैनेजर सर के साथ जाती थी और बाकी के लोग बाद में आते थे.

मैं और मैनेजर सर हम दोनों को मीटिंग में अक्सर देर हो जाती थी, तो हम दोनों को होटल में रुकना पड़ता था. हालांकि हम दोनों अलग अलग रूम में रहते थे, लेकिन डिनर वगैरह साथ में ही करते थे.

एक बार रात को मैं और मैनेजर सर मीटिंग के लिए होटल में रुके थे. ऑफिस के बाकी लोग कल आने वाले थे और हम दोनों लोग एक दिन पहले ही आ गए थे.

उस रात हम दोनों को डिनर करने के लिए जाना था. मैं डिनर करने के लिए जा रही थी, तभी मैनेजर सर का फ़ोन आया और वो बोले कि मैंने डिनर अपने रूम में मंगवाया है, तुम डिनर करने के लिए मेरे रूम में ही आ जाना.

मैं डिनर करने के लिए मैनेजर सर के रूम में गयी. वो उस वक्त नाईट सूट में थे और वे अपने एक हाथ में शराब का गिलास लिए हुए थे. वो मुझे नशे की हालत में घूर कर देख रहे थे.

हम दोनों ने कुछ देर बात की और उसके बाद हम दोनों लोग साथ में डिनर करने लगे. मैं डिनर करने अपने रूम में जाने लगी, तो मैनेजर सर ने मुझे रोक लिया और बोले कि तुम कुछ देर मेरे साथ बात करो न प्लीज.. मैं कब से बोर हो रहा हूँ.

मैं भी बोर हो रही थी, इसलिए मैं भी मैनेजर सर से बात करने लगी. हम दोनों लोग अपने अपने परिवार के बारे में बात करने लगे. मैं उस वक्त काफी मॉडर्न कपड़े में थी, जिसमें से मेरी चूचियां दिख रही थीं. मैनेजर सर मुझसे बात करते करते मेरी चूचियों को देख रहे थे.

मैनेजर सर ने मुझसे बात करते करते मुझसे पूछा कि तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है?
मैंने मैनेजर सर को बोला- नहीं सर मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है.
जब कि मेरे बहुत सारे बॉयफ्रेंड्स हैं.
मेरा जवाब सुनकर मैनेजर सर बोले- तुम्हारी उम्र में तो मैंने बहुत सारी गर्लफ्रेंड्स बनाई थीं. उनके संग मैंने बहुत मजे भी किए थे.
इसी तरह हम दोनों लोग की बात सेक्स की चर्चा में बदल गयी. मैंने भी सर को खुली छूट दे दी थी. अब हम दोनों लोग सेक्स वाली बातें करने लगे.

मैनेजर सर मेरी चूची की तरफ देखकर मुझसे बातें कर रहे थे. साथ ही हम दोनों एक दूसरे को देखकर मुस्कुरा रहे थे. हम दोनों काफी देर तक सेक्स की बातें करने के बाद सेक्स करने के लिए मूड में आ गए थे.

मैनेजर सर अपने लंड पर हाथ फेरते हुए मुझसे मजाक करते हुए बोले- तुम्हारा फिगर तो बहुत अच्छा है.
यह कहते हुए मैनेजर सर मेरे नजदीक आ गए और वे मेरे चूचे पर अपना हाथ रख कर मेरी चूची को मसलने लगे. मैंने उनका कोई विरोध नहीं किया, उल्टे मैं कामुक सिसकारियां लेने लगी और चुदासी होने लगी.

मैनेजर सर ने मेरी चुदास देखी, तो एकदम से मेरा टॉप निकाल दिया और मेरी चूची को मेरे ब्रा के ऊपर से दबाने लगे. मैं भी उनसे चिपकने लगी. वे मेरी ब्रा निकाल कर मेरी चूची को चूसने लगे और मैं सिस्कारियां लेने लगी.

हम दोनों लोग पूरी तरह से सेक्स करने के मूड में आ गए थे. मैनेजर सर मेरी चूची चूस रहे थे और मैं आहें भर रही थी. हम दोनों लोग एक दूसरे का साथ दे रहे थे. मैं अपनी चूची चुसवाते हुए मैनेजर सर के बालों में अपना हाथ फिरा रही थी.

वो कुछ देर मेरी चूची को चूसने के बाद उठे और उन्होंने मेरी सलवार निकाल दी. फिर मेरी पेंटी भी निकाल कर मुझे पूरी नंगी कर दिया. मैं उनके सामने खजुराहो की नंगी मूर्ति की तरह खड़ी थी. इसके बाद मैनेजर सर ने एक सिगरेट सुलगाई और मेरी चूत में उंगली डाल कर मेरी चूत के दाने को मसला. इससे मेरी गरम आह निकल गई. फिर मैनेजर सर ने मुझे बिस्तर पर लिटा दिए और मेरे साथ लेट गए. वो मेरी चूची को चूस रहे थे और उसके बाद मेरी पीठ को सहलाने लगे. सर मेरी गांड को दबाने लगे और फिर एकदम से 69 में होकर मेरी गांड के छेद में अपनी जीभ घुमाने लगे.

वो बहुत गन्दा सेक्स कर रहे थे. मेरी गांड के छेद को चाटने के बाद वो मेरी चूत को चाटने लगे. मैं वासना से भर कर मादक सिस्कारियां लेने लगी और मेरी भी चूत चुदासी हो गयी थी.

हम दोनों लोग सेक्स के लिए बेचैन हो गए. मैं उनके बालों को खींच रही थी और वो मेरी चूत को चाट रहे थे. मैनेजर सर मेरी चूत को दस मिनट कर चाटते रहे.. मैं झड़ गयी. कुछ पल बाद वो फिर से एक सिगरेट सुलगा कर मुझसे अपना लंड चूसने के लिए बोलने लगे. मैं भी झट से उनका लंड चूसने लगी. मैं बड़े मजे से सर का लंड चूस रही थी और मैनेजर सर मजे से सिगरेट पीते हुए अपना लंड मुझसे चुसवा रहे थे. मैं लंड चूसने के बाद उनका लंड हिलाने लगी.. तो वो भी झड़ गए.

इसके कुछ देर बाद हम दोनों चिपक कर बातचीत करने लगे. फिर चुदास चढ़ी तो मैनेजर सर ने मुझे चित्त लिटा कर मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया और मेरी चूत को चोदने लगे.

मैं चुदासी होकर उनसे गांड उठाते हुए उनसे चुदवाए जा रही थी. हम दोनों ने दस मिनट तक चुदाई का मजा लिया और उसके बाद झड़ गए. चुदाई करने के बाद हम दोनों बिस्तर पर लेट गए. मेरी चूत पानी से भीग गई थी और चिपचिपी सी हो गई थी.

हम दोनों लोग एक दूसरे को किस करने लगे. मैनेजर सर मुझे चोदने के बाद बोले कि तुमको चोदने में बहुत मजा आया. मैंने भी सर का लंड हिलाते हुए बताया कि मुझे मजा आया.

फिर सर ने बताया कि वो अपनी एक गर्लफ्रेंड को भी चोदते हैं. उनकी वाइफ भी है, लेकिन वो सेक्स करने में बहुत माहिर हैं. वो अपनी नौकरानी को भी चोद चुके हैं.

कुछ देर बाद वो मुझे अपनी नौकरानी के साथ चोदने के लिए बोल रहे थे, लेकिन मैंने उनको मना कर दिया. मैनेजर सर मुझे किस करने के बाद मुझसे थोड़ी देर सेक्सी बातें करते रहे, उसके बाद वो मेरी दोनों जांघों को मसलने लगे. साथ ही वे मेरी दोनों जांघों को चाटने लगे.

मुझे भी सेक्स करने का फिर से मन करने लगा. मेरी दोनों जांघों को चाटने के बाद सर ने मेरी चूत में अपनी दो उंगलियों को डाल दिया और मेरी चूत में अपनी उन दोनों उंगलियों को अन्दर बाहर करने लगे.

इधर मैं लगातार चुदास से भरी सिस्कारियां ले रही थी और उधर वो मेरी चूत में उंगली कर रहे थे. मेरी चूत में बाल थे और इस वक्त मेरी चूत बहुत सेक्सी लग रही थी. मैं अपनी चूत को थोड़े से बालों से सजा कर रखती हूँ क्योंकि मुझे ऐसा करना अच्छा लगता है. हालांकि कभी कभी तो मैं चूत के पूरे बाल साफ़ कर देती हूँ.

सर मेरी चूत में उंगली करने के बाद मेरी चूत को कुत्ते की तरह चाटने लगे. इस वक्त मैं अपनी टांगें पूरी तरह से खोले हुए अपनी चूत उठा कर चुसवा रही थी और सर भी मेरी चूत को खोल कर अन्दर तक जीभ डाल कर मेरी चूत को चाट रहे थे.

इसके कुछ पल बाद हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे और उसके बाद उन्होंने मुझे अपने ऊपर आने के लिए बोला. मैं लपक कर उनके लंड पर बैठ गयी और लंड को अपनी चूत में ले लिया. सर नीचे से मेरी चूत में अपना लंड डाल कर मुझे चोदने लगे. हम दोनों उछलते हुए सेक्स करने लगे. वो नीचे से अपने लंड को मेरी चूत में डाल कर मुझे चोद रहे थे और इधर मैं उनके लंड की सवारी करने के साटी साथ अपनी चूचियों को सर के मुँह से चुसवा रही थी. हम दोनों की धकापेल चुदाई से बिस्तर भी हिल रहा था.

चुदाई इतनी कामुक हो चली थी कि हम दोनों सेक्स करते करते तेज स्वर में चुदासी आवाजें निकालने लगे.

सर ने शराब पी हुई थी और वे मुझे बहुत जोर जोर से चोद रहे थे. हम दोनों लोग पूरी मदहोशी से सेक्स कर रहे थे. फिर वो मुझे चोदते चोदते मेरे ऊपर आ गए और हम दोनों लोग इसी पोजीशन में सेक्स करने लगे. वो मेरे ऊपर आ कर मेरी चूत को इतना मस्त चोद रहे थे और मुझे किस कर रहे थे कि मुझे नशा सा होने लगा था.

कुछ देर बाद हम दोनों सेक्स करते करते झड़ गए. इस तरह से हम दोनों ने दो बार सेक्स किया था, हम थक गए थे.

सेक्स करने के बाद हम दोनों यूं ही नंगे ही बिस्तर पर लेट कर एक दूसरे को किस करने लगे.

कुछ देर आराम करने के बाद हम दोनों बाहर घूमने चले गए. हम दोनों जिस होटल में रुके थे. वहां बहुत अच्छा पार्क था और रात में भी कुछ कपल लोग वहां पर घूम रहे थे. हम दोनों अब सेक्स कर चुके थे, इसलिए हम दोनों लोग शांत हो गए थे और एक दूसरे की बांहों में हाथ डाल कर शांति से पार्क में घूमने का मजा ले रहे थे.

होटल से बाहर के लोग हमें कपल समझ रहे थे, लेकिन हम दोनों होटल में अलग अलग रूम में रहते थे.

दूसरे दिन मीटिंग थी और ऑफिस से भी कुछ लोग आ रहे थे. मेरे साथ काम करने वाली एक दो और लड़की भी मीटिंग के लिए आई थीं, लेकिन उन सब लोगों को मैनेजर सर ने दूसरे होटल में रुकने के लिए कहा. वो लोग दूसरे होटल में रुके थे, जो हमारे होटल से कुछ दूरी पर था.

मीटिंग के बाद भी हम दोनों कुछ दिन का काम का बहाना बना कर रुके रहे थे. अब तो मैंने अपना कमरा खाली कर दिया था और सर के साथ ही उनके रूम में ही शिफ्ट हो गई थी. रोज रात को मैनेजर सर के साथ मैं खूब चुदवाती थी. वो भी मुझे दारू पी कर खूब चोदते थे.

एक दिन हम दोनों को सेक्स करते हुए होटल के एक वेटर ने देख लिया था. वो वेटर मुझे देख कर बहुत हँसता था और बाद में मैनेजर सर ने उसको कुछ पैसे दिए कि वो ये बात किसी से नहीं बताए.

हम दोनों कुछ दिन मस्ती करने के बाद वापस अपने घर आ गए.

अब हम दोनों जब भी मीटिंग के लिए जाते हैं, तो उसी होटल में रुकते हैं और सेक्स करते हैं.

वो वेटर अब वहां काम नहीं करता है, लेकिन मैं जब भी उस होटल में जाती हूँ, तो उस वेटर को जरूर याद करती हूँ, जिसने मुझे मैनेजर सर से चुदवाते हुए देख लिया था.

हम दोनों आज भी एक दूसरे के साथ सेक्स करते है. आप सबको मेरी सेक्स स्टोरी कैसी लगी. आप सब मुझे मेल करके बताएं. आप सब मेरी कहानी का फीडबैक जरूर दीजिये. आप सबके अच्छे फीडबैक मिले, तो मैं अपनी अगली कहानी बहुत जल्द आपको बताउंगी. आप सबके मेल का इंतज़ार करूँगी.
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top