कैम्प के लिए आर्मी लेडी कैप्टेन मैडम की चुदाई

(Camp Ke Liye Army Captain Madam Ki Chudai)

यह कहानी आर्मी लेडी कैप्टेन मैडम की चुदाई की है. मैं आप सभी के लिए बिल्कुल नई और आश्चर्यजनक कहानी लेकर आया हूँ..!!!

लेकिन उससे पहले प्यासी चुत को मेरे खड़े लंड का नमस्कार…!! खम्मा घणी सा…!!
मैं पिछले 2 सालों से अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। अन्तर्वासना पर लिखी गई ये मेरी पहली सच्ची कहानी है।

मैं अजय 21 साल का जवान लोंडा जोधपुर (राजस्थान) का रहने वाला हूँ, और अभी यूनिवर्सिटी में फाइनल ईयर का स्टूडेंट हूँ और NCC कैडेट भी हूँ।
मेरी हाइट 5 फुट 6 इंच है और मेरे लंड का साइज औसत से अधिक है जो किसी भी चुदासी औरत की चीखें निकलवा सकता है, यह बात मैं नहीं, जिस मैडम ने मेरा लंड लिया है उसी ने बोली है. और मुझे विश्वास है कि महिलाएं मेरी इस स्टोरी को पढ़ कर अपनी चुत में उंगली जरूर करेंगी और लड़के पक्का मुठ मारकर अपने आपको शांत करेंगे।

यह कहानी मेरी NCC यूनिट की कैप्टन मैडम के साथ हुई घटना है। मैडम की उम्र 28 वर्ष है और अभी उनकी जोधपुर में पोस्टिंग है।
दोस्तो, आर्मी वालों की फिटनेस का तो आपको पता ही होगा, तो आप अन्दाजा लगा सकते हो कि किस तरह वो अपनी बॉडी का ध्यान रखते हैं। मैडम की फिटनेस के आगे तो बॉलीवुड की हीरोइनें भी पानी भरें, उन्हें देख कर तो किसी मुर्दे का भी लंड खड़ा हो जाये, इसलिए मैं उनके फिगर का साइज बताना जरूरी नहीं समझता हूँ।

यह बात मार्च 2015 की है। मेरी यूनिट में गुलमर्ग (कश्मीर) के लिए NCC एडवेंचर कैम्प की सिर्फ 1 वेकैंसी आई हुई थी जबकि कैम्प में जाने के लिए सारे लड़के-लड़कियाँ तैयार बैठे थे क्योंकि एक तो एडवेंचर कैम्प और ऊपर से घूमना फिरना भी… और वो भी सरकारी खर्चे पर!
मेरा बचपन से सपना रहा है कि मैं भी कभी कश्मीर की वादियों को करीब से देखूंगा, बस सुना और किताबों में पढ़ा था कि कश्मीर धरती का स्वर्ग है, क्योंकि मैं एक ग़रीब ग्रामीण परिवार का रहने वाला हूँ, इसलिए कभी जाने का मौका ही नहीं मिला.

लेकिन मेरी किस्मत ने हमेशा से ही मेरा साथ दिया है, इससे पहले में जनवरी में भी RDC दिल्ली कैम्प लगा कर आया था, लेकिन जब मुझे गुलमर्ग के कैम्प के बारे में पता चला, तो मैं कैम्प से 20 दिन पहले मैडम से मिलने उनके ओफिस गया।

मैं- क्या मैं अंदर आ सकता हूँ मैडम?
मैडम- यस कम इन…!!
मैं- जय हिंद मैडम…!!
मैडम- जय हिंद !! बैठो अजय… कैसे हो? और तुम्हारा RDC दिल्ली कैम्प कैसा रहा?
मैं- आई एम फाइन मैडम! और कैम्प भी बहुत अच्छा रहा। नए राज्यों के नए- नए दोस्त बनाये मैंने… और भी बहुत कुछ नया सीखने को मिला!
मैडम- ओह्ह ग्रेट…!! अच्छा आज कैसे आना हुआ ऑफिस?

मैं- मैडम यूनिट में गुलमर्ग(कश्मीर) का एडवेंचर कैम्प आया हुआ है। बचपन से मेरा सपना है कश्मीर जाने का… लेकिन मैं किसी कारणवश नहीं जा पाया और मैं इस कैम्प में जाने के लिए बहुत ज्यादा इच्छुक भी हूँ और कुछ भी करने को तैयार हूँ। बस मुझे कैम्प में जाना है…!!!!!!

मैडम- अच्छा ठीक है, मैं CO सर से बात करूँगी इस बारे में… तुम मुझे अपना कैडेट नंबर और मोबाइल नंबर लिख कर दे दो।
मैंने अपनी डिटेल्स मैडम को दे दी और थैंक्यू बोला.

मैं- जय हिंद मैडम!
बोलकर ऑफिस से सीधा अपने रूम आ गया।

मैं 3-4 दिन से कैम्प को लेकर थोड़ा परेशान भी था, क्या पता जा पाऊंगा या नहीं, अगर कोई और चला गया तो???
लेकिन दोस्तो, किसी ने सच ही कहा है कि ‘दाने दाने पे लिखा होता है खाने वाले का नाम…’

पांचवें दिन शाम के चार बजे मैडम का कॉल आया- गुड ईवनिंग, अजय! कैप्टेन पूजा (नाम परिवर्तित) बोल रही हूँ।
मैं- जय हिंद मैडम…!!
मैडम- जय हिंद…!! मैंने CO सर से कहकर तुम्हारा नाम फाइनल कर दिया है, तुम अब 15 दिन बाद कश्मीर जा रहे हो कैम्प में, लेकिन इससे पहले तुम्हें मेरा भी एक काम करना होगा!
मैं- थैंक्यू सो मच मैडम… आप जो बोलोगी और जो कहोगी वो सब कुछ मैं करूँगा.
मैडम- ठीक है, फिर 7 बजे मेरे घर आ जाना, मैं सब बता दूंगी क्या करना है!
और गुड बाय बोलते हुए फोन कट कर दिया.

दोस्तो, मैं लफ़्ज़ों में बयां नहीं कर सकता, मुझे उस वक़्त कितनी खुशी हुई यह सुनकर कि मैं 15 दिन बाद कैम्प में जा रहा हूँ लेकिन मैं उस खुशी से अभी तक अनजान था जो मुझे मैडम से मिलने वाली थी।
किसी ने सच ही कहा है दोस्तो ‘भगवान जब भी देता है तो छप्पर फाड़ कर देता है, बस आपका दिल साफ होना चाहिए.

मैंने रूम से निकलते समय ही मैडम को कॉल करके बता दिया था कि 10 मिनट में पहुंच रहा हूँ।

मैंने ठीक शाम 7 बजे आर्मी एरिया में मैडम के क्वार्टर के आगे पहुंच कर डोरबेल बजाई… ट्रिंग ट्रिंग!
मैडम ने दरवाजा खोल कर मुझे अंदर आने को बोला और मुझे सोफे पर बैठेने को कहा।

मैडम- सॉफ्ट ड्रिंक या हार्ड ड्रिंक? क्या लेना पसंद करते हो?
मैडम- आपकी मर्जी!

फिर मैडम किचन से विह्स्की की बोतल, 2 कांच के गिलास और कुछ स्नैक्स लेकर आई।
लगभग 10-15 मिनट तक हम नॉर्मल बातचीत करते रहे, फिर मैडम ने 2 दो पेग बना कर 1 पेग मुझे ऑफर किया और 1 पैग खुद भी पीने लगी।
फिर वो धीरे-धीरे 1 और पेग लगाते हुए अपनी पर्सनल लाइफ की बातें मुझसे शेयर करने लगी.

उन्होंने मुझे बताया कि उनके हस्बैंड भी आर्मी में मेजर हैं और अभी उनकी असम में पोस्टिंग है। आर्मी वालों की पोस्टिंग अलग- अलग जगहों पर होती रहती है इसलिए हम साल में 3 या 4 बार ही मिल पाते हैं। बस 1 शराब ही सहारा है तन्हाई को दूर करने का!

दोस्तो मैं जिंदगी में पहली बार शराब पी रहा था, तो मैंने बस 1 पेग ही लेना ठीक समझा, फिर भी शराब ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया.
मैडम ने तो अब तक 3 पेग लगा लिए थे और अब हम दोनों पर शराब का नशा छाने लगा था, अब मैडम को देखने का मेरा नजरिया ही बदल गया था, मुझे उनकी झील सी आंखें, गुलाब से होंठ, उनके गोल मटोल आम के जैसे दो चुचे, सनी लियोनी जैसी कमर उनकी गदराई हुई गांड माशा अलाह…!! दिल तो कर रहा था बस पकड़ कररर्रर्रर्रर… मसल ही डालूँ लेकिन मन में एक डर भी था साला कहीं जल्दबाज़ी के चक्कर में कैम्प भी हाथ से निकल न जाये… मैं चाह रहा था कि मैडम पहल करें।

शायद किस्मत उस दिन कुछ ज्यादा ही साथ निभा रही थी मेरा…

मैडम मेरे पास आकर बैठ गई और बोली- अजय प्लीज माइंड मत करना, क्या तुम मेरे साथ सेक्स करोगे? प्लीज़ ना मत बोलना, तुम तो जानते हो ना कि मैं हस्बैंड से साल में 3-4 बार ही बड़ी मुश्किल से मिल पाती हूँ, फिर प्यासी तड़पती रहती हूँ, आज तुम मेरी चुत का भोसड़ा बना दो, तुम्हारे कैम्प जाने की गारंटी मेरी!

दोस्तो, मेरे लिए तो यह सोने पे सुहागा था, कैम्प के साथ चुदाई फ्री में!

मैडम ने यह कहते हुए अपने एक हाथ से मेरी पैंट के ऊपर से ही मेरा लंड मसलना शुरू कर दिया और एक हाथ से अपने चूचे प्रेस करने लगी… तो मेरा लंड और भी टाइट होने लगा जिसे मैडम ने नोटिस कर लिया था।
फिर वो मुझे अपने दोनों हाथों से खींचते हुए अपने बेडरूम में लेकर आ गई और मुझे बिस्तर पर धक्का देते हुए भूखी शेरनी की तरह मुझ पर टूट पड़ी।
उसने मेरे होंठों से अपने गुलाबी होंठ चिपका दिए और जोर-जोर से किस करने करने लगी।

इस बीच मैं उसकी पीठ पर हाथ घुमा रहा था, बीच-बीच में उसके चूचे भी जोर-जोर से मसल रहा था, जिससे उसको बहुत मजा आ रहा था।
करीब 10-15 मिनट की चूमाचाटी के बाद उसने मुझे नंगा कर दिया और खुद ब्रा और पेंटी में हो गई।

दोस्तो, मेरी आँखें उसकी ब्रा में कैद उसके मम्मों पर ही अटक गईं।
क्या नशीला शरीर था यार… जैसे ऊपर वाले ने बिल्कुल फुर्सत में अपने हाथों से बनाया हो और हमें तो जैसे इंटरनेट से डाउनलोड किया हो।

फिर उसने मुझे बिस्तर पर सीधा लेटा दिया और खुद मेरे ऊपर आ गई और होंठों से किस करने लगी। उसके इस तरह से किस करने से उसके चूचे मेरी छाती से रगड़ने लगे.. और मेरा लंड उसकी पेंटी के ऊपर से उसकी चुत को टच करने लगा था।

सच में मुझे तो बहुत मजा आ रहा था, मैंने उसकी पीठ सहलाते हुए उसकी ब्रा के हुक खोल दिए.. और ब्रा खींच कर साइड में फेंक दी। अब मैं उसके ऊपर और वो मेरे नीचे आ गई जिससे उसके 2 रसीले आम मेरी आँखों के सामने आ गए.. मैं उनको जोर-जोर से चूसने लगा।
साला पहली बार इतने रसीले आम चूस रहा था.. तो बीच में काट भी लेता था।

वो मस्त होती जा रही थी- आह्ह.. अजय और ज़ोर से काटो मेरी जान.. चूस लो आज मेरे मम्मों का पूरा रस चूस लो आह.. इन्हें निचोड़ कर रख दो… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आआहह..
वो मेरा सिर अपने दोनों हाथों से अपने मम्मों पर दबाने लगी।

उसके ऐसा करने पर मुझे और भी जोश आ गया और अब मैं उसके पूरे जिस्म को सहलाते हुए.. उसकी पेंटी के पास आ गया और पेंटी के ऊपर से ही उसकी चुत को सहलाने और किस करने लगा। फिर मैंने उसकी पेंटी उतार कर एक साइड में फेंक दी और उसकी चुत पर एक प्यारा सा चुम्बन किया और उसकी चुत के दाने को चाटने लगा।

वो- आआहह.. ऊऊऊ ईईईईसस ओह्ह यस अजय.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… सक माय पुसी.. और ज़ोर से चाटो.. आआअहह..सक हार्ड

मैंने अपनी जीभ उसकी चुत पर धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करने लगा। साथ ही मैंने अपनी 2 उंगलियों को भी उसकी चुत में घुसेड़ दिया था.. जिससे वो चिल्ला उठी- आआआहह.. ऊऊऊईई ओह्ह . यसस्स अजय.. सक माय पुसी हार्डर..’

उसके ऐसे कहने से मेरे में दुगना जोश आ गया और मैंने जीभ उसकी चुत के अन्दर तक फिराने लगा। वो जोर-जोर से मुझे गालियां देने लगी- आआहह.. ऊऊओहह.. ईई.. यएसस्स अजय.. और ज़ोर से मादरचोद.. चूस हरामी…इसका सारा जूस निकाल कर पी जा!

वो मेरा सिर अपने दोनों हाथों से अपनी चुत पर दबाने लगी और एकदम से एक तेज धार उसकी चुत से बहने लगी और वो झड़ गई। मैंने उसकी चुत को चाट कर साफ़ कर दी।
उसकी चुत के रस को अपने होंठों में लेकर मैं अब उसके होंठों पर आ गया और उसको किस करने लगा, वो अपनी चुत के रस का स्वाद मेरे मुँह को चाट कर लेने लगी।

कुछ देर बाद हम दोनों 69 की पोज़िशन में आ गए, वो मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगी और मैंने उसकी चुत फिर से चाटनी शुरू कर दी।
कुछ मिनट के बाद फिर उसकी चुत ने एक बार और पानी छोड़ दिया.. जिसे मैं पूरा पी गया। थोड़ी देर बाद मैं भी उसके मुँह में झड़ गया और उसने मेरा पूरा माल एक ही बार में अन्दर निगल लिया।

अब हम दोनों सीधे लेट गए और एक-दूसरे को चूमने लगे। मैं एक हाथ से उसकी चुत सहला रहा था और वो मेरा लंड मसल रही थी। कुछ देर यूं ही मस्ती करने के बाद हम दोनों फिर से गरम हो गए और इस बार मैडम ने अपनी चुत चोदने को कहा।

मैंने चुटकी लेते हुए कहा- आज मैं तुम्हारी चुत में सुरंग खोदूँगा।
वो ज़ोर से हँसने लगी.. जैसे मैंने कोई संता-बंता का जोक सुनाया हो- हाह हाहा.. यू आर सो फनी…!!

मैं भी गरम लोहे पर हथौड़ा मारने से कहाँ चूकने वाला था, मैंने अपना लंड उसकी चुत के मुँह पर रखा और एक ही झटके में तोप के गोले की तरह उसकी चुत की सुरंग में पेल दिया।

वो- आअहह.. अजय लगता है तुमने तो सेक्स में पीएचडी कर रखी है… लगता है आज तो तुम सच में मेरी चुत और गांड के बीच में सुरंग खोद कर ही दम लोगे.. आह्हह अहहहह..

अब मैं उसकी चुत में अपना लंड आगे-पीछे करने लगा…जिसे वो अपनी गांड उछाल उछाल कर अपने अन्दर लेने लगी- ऊऊहह.. ईयसस्स.. अजय.. फक मी.. टू हार्ड.. आआह…ओह्ह या ऊऊईईईई

मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी.. और जोर-जोर से उसकी चुत में लंड अन्दर-बाहर करने लगा। मेरा लंड ऐसे काम कर रहा था जैसे किसी गुफा को खोदते टाइम ड्रिल मशीन को अन्दर-बाहर करते हैं, बीच बीच में, मैं उसके मम्मों को भी दबा देता था.. जिससे वो और सिहर उठती।

काफी लम्बी चुदाई के बाद वो जोर-जोर से चिल्लाने लगी- आआआहह ऊऊऊऊ यस्स अजय फक मी हार्डर… फ़क मी हार्डर… फाड़ डाल साले आज इससस्स चुत को ओह्ह या ऊऊऊईईई!
मैंने अपनी स्पीड दोगुनी कर दी और हम दोनों एक ही साथ झड़ गए।

क्या असीम आनन्द मिला उस वक़्त दोस्तो.. जिसने साथ में झड़ कर इस चरमसुख की प्राप्ति की हो… वो ही इस आनन्द को समझ सकता है। हम दोनों तो जैसे ज़न्नत में थे।
मैं कुछ देर उसके ऊपर ही पड़ा रहा… थोड़ी देर हम ऐसे ही चिपके हुए पड़े रहे… उसने मुझे किस किया और थैंक्स बोला।

तो मैंने कहा- मैडम थैंक्स तो मुझे आपको बोलना चाहिए… आपने तो मुझे जन्नत(कश्मीर) की सैर यहीं करवा दी!

मैं जाने के लिए उठा और अपने कपड़े पहने लगा तो मैडम ने मुझे गले से लगा लिया और 1 जोरदार किस दिया।
फिर मैं अपने रूम पर आ गया.

कैम्प से लौटने के बाद मैंने मैम को उन्हीं की कार से पूरा जोधपुर घुमाया और इस दौरान उनकी 5 बार और मैडम की चुदाई की, लेकिन थोड़े दिनों बाद ही उनकी पोस्टिंग नागालैंड में हो गई और उसके बाद से मेरा उनसे संपर्क खत्म गया, मैं आज भी मैडम को याद करके उनकी चुत के नाम की मुठ मारता हूँ!

तो दोस्तो, कैसी लगी आपको मेरी यह मैडम की चुदाई की रियल सेक्स स्टोरी, मुझे आपके मेल का बेसब्री से इंतज़ार रहेगा।

[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! कैम्प के लिए आर्मी लेडी कैप्टेन मैडम की चुदाई