प्रगति का समर्पण-2

लेखक : शगन कुमार

शालीन को रात को ठीक से नींद नहीं आई…। रह रह कर उसे प्रगति का चेहरा और बदन दिखाई देता ! उसे अपने संयम टूटने पर भी ग्लानि हो रही थी। वह एक भद्र पुरुष था और अपनी पत्नी से बहुत प्यार करता था। उसकी पत्नी भी उससे प्यार करती थी। उसका किसी और लड़की की ओर आकर्षित होना समझ नहीं आ रहा था।

शायद उसे मरदाना प्रवृति का ज्ञान नहीं था। पुरुष की प्रवृति उसे एक साथ कई यौन सम्बन्ध बनाने को आतुर करती है। उसका प्रजनन में जिम्मा सिर्फ अपना बीज डालने तक सीमित होता है। प्रकृति ने इसके बाद प्रजनन की सारी जिम्मेदारी नारी पर छोड़ दी है। इसीलिए नारी यौन सम्बन्धों को लेकर पुरुषों के मुकाबले अधिक गंभीर होती है। उसे अपने साथी चुनने में देर तो लगती है पर उसका चुनाव निर्णायक और दीर्घकालीन होता है। वह अक्सर अपने साथी के साथ अडिग सम्बन्ध कायम रखती है। इसका कारण प्रकृति के उस सिद्धांत पर निर्भर है जिसने नारी को मातृत्व के समस्त बोझ से लादा हुआ है। पुरुष का क्या है…..। किसी भी मादा के साथ सम्बन्ध बनाने को सदैव तत्पर रहता है ! यौन संबंधों में स्त्री-पुरुष के बीच यही एक बड़ा रूचि-विरोध है। मर्द को लगता है वह एक समय कितनी भी लड़कियों से प्यार कर सकता है और औरत को सिर्फ एक आदमी का प्यार पर्याप्त होता है।

खैर, शालीन की रात उधेड़बुन में ही निकल गई। सुबह दफ्तर जाते वक़्त मयूरी से आँखें नहीं मिला पा रहा था। वह फिर से किशोरावस्था में जा पहुंचा था जहाँ उसे उलझन, व्याकुलता और लज्जा का आभास हो रहा था। वह भौतिकता और आध्यात्मिकता के अंतर्द्वंद्व में फँस गया था। जब भी पुरुष पर ऐसी उलझन आई है देखा गया है कि अक्सर भौतिकता की ही विजय हुई है। काम, क्रोध, मोह और ईर्ष्या पर तो केवल साधू ही काबू पा सकते हैं। शालीन को यह निश्चित हो गया कि वह एक सामान्य पुरुष है, कोई साधू या देवता नहीं। उसका मस्तिष्क प्रगति की कामुक काया की छवि नहीं मिटा पाया और उसके जिस्म को हासिल करने की तीव्र लालसा को पूरा करने की ओर प्रेरित हो गया। कहते हैं यौनाकर्षण दुनिया की सबसे ताक़तवर शक्ति होती है। इसे हराना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता है।

दफ्तर में भी शालीन का मन अपने काम में नहीं लग रहा था। दोस्तों की बातचीत, चुटकुले या दफ्तरी उथल-पुथल से परे वह अपने आप में गुम था। उसका दिमाग ऐसी तरकीब जुटाने में लगा था जिससे वह प्रगति के साथ यौन संसर्ग कर सके और किसी को पता ना चले। जब मन में किसी लक्ष्य को पाने की तीव्र इच्छा होती है, तो दिमाग उसका हल निकाल ही लेता है; खासतौर से अगर वह इच्छा जिस्म के निचले हिस्सों से सम्बंधित हो। ऐसा ही हुआ और शालीन को एक उपाय सूझ गया। यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं।

घर लौटते समय वह बिजली के सामान की दूकान से कुछ सामान ले आया और एक कारीगर को भी साथ ले लिया। घर पहुँच कर सामान्य तरीके से मयूरी को बताया कि बिजली की बचत और उससे सुरक्षा के लिए वह नया फ्यूज़ बॉक्स लगवा रहा है जिससे बिजली की बचत भी होगी और आग लगने का खतरा भी नहीं रहेगा। मयूरी को कोई आपत्ति नहीं हुई और कारीगर ने अपना काम शुरू किया। शालीन ने उसे निर्देश दिया कि वह किस तरह से कमरों में बिजली और पॉवर के कनेक्शन चाहता है। हर कमरे के लिए बिजली का अलग और पॉवर का अलग स्विच नए फ्यूज़ बॉक्स में लगवा दिया। जिस से घर में जहाँ चाहें बिजली या पॉवर या दोनों को चालू या बंद कर सकते हैं।

यह होने के बाद, उसने सर्दी का आश्रय लेते हुए पूरे घर में कालीन या दरी बिछवाने का आदेश दे दिया। वह चाहता था कि रात को उसके चलने-फिरने की आहट ना हो। जिस कमरे में प्रगति सोती थी उसकी अलमारी में उसने टॉर्च, कुछ तौलिये, चादरें, के वाय जेली की ट्यूब, अपने कुर्ते-पजामे और प्रगति के लिए लूंगी और कुर्ती छुपा कर रख दीं। उसने यकीन किया कि मयूरी के बेडरूम में कोई टॉर्च, मोमबत्ती या माचिस नहीं है। जो थीं उसने छुपा दीं जिससे आसानी से मिल ना सकें। उसने सोच लिया था कि रात को, सबके सोने के बाद, वह प्रगति के कमरे को छोड़ बाकी सारे कमरों की लाइट फ़्यूज़ बॉक्स से बंद कर देगा। जिससे जब वह प्रगति के कमरे में हो और अगर रात को मयूरी या उसके बेटे की आँख खुले तो वे घर में उजाला ना कर पायें। वह चाहता था कि वे उसको मदद के लिए पुकारें और वह अँधेरे अँधेरे में वापस अपने बेडरूम पहुँच सके। इससे वह प्रगति के साथ रंगे हाथों नहीं पकड़ा जायेगा।

सब तैयारी होने के बाद शालीन बेसब्री से रात का इंतज़ार करने लगा। इस दौरान एक दो बार उसको प्रगति घर में दिखाई दी पर उसने उसके साथ आँखें चार नहीं कीं। उसकी अन्तरात्मा उसको कुरेद रही थी पर उसके तन-मन में लड्डू फूट रहे थे। खाना खाकर और थोड़ी देर टीवी देखकर सब सोने लगे। कुछ ही देर में घर में सन्नाटा सा छा गया और सबके सोने की आवाजें आने लगीं।

शालीन को इसी का इंतज़ार था। जब उसे यकीन हो गया मयूरी और आकाश सो गए हैं, वह चुपचाप उठा और अपनी सुनियोजित योजना को अंजाम देने लगा। उसे पता था एक बार आँख लग जाने के बाद मयूरी गहरी नींद सोती है और ज्यादातर सुबह ही जागती है। आकाश कभी कभी रात को सुसु के लिए उठता है पर वह भी 3-4 घंटे के बाद। शालीन निश्चिंत हो कर फ्यूज़ बॉक्स की ओर गया और प्रगति के कमरे के आलावा बाकी सभी कमरों की बिजली के स्विच बंद कर दिए। इससे घर में घुप अँधेरा हो गया पर कमरों के हीटर और फ्रीज वगैरह चलते रहे। अब सोने वालों की आँख अगर खुल भी गई तो वे कुछ देख नहीं पाएंगे और जल्दी से हिल-डुल नहीं पाएंगे।

अब उसने मयूरी और आकाश के बेडरूम का दरवाज़ा भेड़ दिया और प्रगति के कमरे में आ गया। कमरा बंद करके उसने बाथरूम की बत्ती जला ली और उसका दरवाज़ा भी लगभग बंद कर दिया जिससे दरवाज़े की दरार से कमरे को रोशनी मिलती रहे। इतनी रोशनी उसके लिए काफी थी। उसे प्रगति का सोता (या सोने का नाटक करता) शरीर साफ़ दिख रहा था।

वह प्रगति के पास आ कर बैठ गया और इस बार बिना हिचक के उसके ऊपर से कम्बल हटा दिया। उसे यह जान कर ख़ुशी हुई की प्रगति ने घुटने तक पहुँचने वाली फ्रॉक पहन रखी थी और बनियान की जगह ब्रा थी। इस पोशाक में उसका काम आसान हो जायेगा। उसे प्रगति की समझदारी पर गर्व हुआ और वह समझ गया कि प्रगति भी शालीन के कल के दुस्साहस को ख़ुशी से स्वीकार कर चुकी है।

हीटर की गर्मी कमरे को गर्म किये हुई थी और प्रगति के समीपन ने शालीन को गर्म कर दिया था। शालीन ने अपने हाथ हीटर से गर्म करके प्रगति की टांगों पर फेरने शुरू किये। उसके तलवों का रगड़ कर गरम किया और पांव की उँगलियों को मसला। फिर ऊपर आते हुए घुटने से नीचे की टांगों को सहलाने लगा और बाद में घुटनों की मालिश की। प्रगति आराम से आँखें बंद किये लेटी हुई शालीन की हरकतों का मज़ा ले रही थी।

वैसे शालीन को यह तो पता चल गया था कि प्रगति उसके नटखट इरादों से वाक़िफ़ है पर यह नहीं जानता था कि वह उसके साथ किस हद तक जा सकता है। आखिर (उसकी नज़र में) वह एक नादान और अल्हड़ बालिका थी। उसे यह नहीं पता था कि प्रगति का कौमार्य लुट चुका है और वह यौन सुख से अपरिचित नहीं है। (कृपया अन्तर्वासना डॉट कॉंम पर “प्रगति का अतीत 1, 2, 3, 4 & 5” पढ़ें) वह तो उसके साथ ऐसे पेश आ रहा था मानो वह एक अबोध कन्या हो। वह उसके साथ जल्दबाजी करके उसको डराना नहीं चाहता था। वह उसकी कामुकता और यौन के प्रति उत्सुकता बढ़ाना चाहता था।

कुछ देर टांगें सहलाने के बाद उसने एक हाथ उसके सिर पर फेरना शुरू किया और दूसरे हाथ से घुटनों के ऊपर जाँघों के तरफ बढ़ने लगा। वह उसे गुदगुदा रहा था और पोले पोले हाथों से उसकी जाँघों के रोंगटे खड़े कर रहा था। प्रगति अब ज्यादा देर तक सोने का नाटक नहीं कर पाई क्योंकि उसकी गुदगुदी उसे हिलने-डुलने को मजबूर कर रही थी और उसके अंतर्मन से ऊह-आह निकलने को हो रही थी।

आखिर उसने आँखें खोल ही लीं और शालीन की तरफ झुकी झुकी नज़रों से देखते हुए अपनी आँखों पर अपनी कलाई का पर्दा डाल दिया। यह शालीन को इशारा था कि उसे कोई आपत्ति नहीं है और शालीन समझ गया।

शालीन ने ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए उसकी फ्रॉक को ऊपर की तरफ उठा दिया। प्रगति ने भी अपने कूल्हे ऊपर करके उसकी मदद की और फ्रॉक उसके स्तनों के ऊपर होकर गले तक आ गई। अब वह ब्रा और चड्डी में थी और उसने अपनी टांगें शर्म के कारण भींच लीं। शालीन ने उसकी टांगों को घुटनों से पकड़ कर अलग किया और आश्वासन के तौर पर उसके कन्धों को थपथपा दिया।

अब शालीन ने पोले पोले हाथों और उँगलियों से उसकी ब्रा के ऊपर से उसके मम्मों और पेट तथा जांघ के अंदरूनी हिस्सों को उकसाना शुरू किया। साथ ही उसने चड्डी के ऊपर से ही उसकी योनि के ऊपर भी हाथ फिराना शुरू कर दिया। दोनों को मज़ा आ रहा था और शायद दोनों ही प्रगति की ब्रा और चड्डी से जल्दी छुटकारा चाहते थे। दोनों उत्तेजित हो गए थे और उतावले और बेचैन भी। ऐसे में जब शालीन ने प्रगति को आधी करवट लिटा कर उसकी ब्रा के हुक ढीले किये तो मानो दोनों को राहत मिली। शालीन ने ब्रा एक तरफ रख दी और एक शर्मीली प्रगति को सीधा किया जो अपने हाथ आँखों पर से हटा कर अपने स्तनों पर ले आई थी। शालीन ने दृढ़ता के साथ उसके दोनों हाथ बगल में इस तरह कर दिए मानो उन्हें वहाँ से ना हिलाने का आदेश दे रहा हो। प्रगति इन मामलों में अब काफ़ी समझदार थी और उसने अपने हाथ परे कर लिए।

शालीन को प्रगति के यौवन भरे, मांसल, छरहरे और गदराये हुए स्तन बहुत मादक लगे। उनके अहंकारी चुचूक शालीन को निमंत्रित भी कर रहे थे और चुनौती भी दे रहे थे। शालीन ने कितने सालों से ऐसे मदभरे और कमसिन स्तन नहीं देखे थे। उसे समझ नहीं आ रहा था पहले वह उन्हें छुए या मुँह में ले। उसने दुविधा दूर करते हुए, एक को मुँह में और एक को हाथ में ले लिया और सीधा स्वर्ग का अनुभव करने लगा।

वैसे अभी पूरी तरह विकसित नहीं हुए होंगे पर इतने सुडौल, लचीले और उभरे हुए थे कि शालीन उन्हें छू और चूस कर फूला नहीं समा रहा था। एक भूखे बच्चे की तरह उसके चूचे चूसने लगा और दूसरे को अपनी हथेली से गोल गोल घुमाने लगा। एक स्तन पर कड़ा प्रहार और दूसरे पर कोमल स्पर्श का विरोधाभास प्रगति को विस्मय में डाल रहा था। शालीन ने आपे से बाहर हो कर जब उसकी चूची को काटने की कोशिश की तो प्रगति ने अनायास अपना स्तन उसके मुँह से निकाल लिया। साथ ही उसके मुँह से एक दर्द की ऊई.. निकल गई।

शालीन को जब अपनी करतूत का आभास हुआ तो उसने तत्काल प्रगति को हार्दिक संवेदना ज़ाहिर की और अपने कान पकड़ने का इशारा किया। प्रगति को मालूम था कि शालीन जान बूझ कर उसे दर्द नहीं पहुँचा रहा था पर यौन-वेग में ऐसा हो जाता है। तो उसने शालीन को कान पकड़ने से मना करते हुए सहज भाव से उसका सिर खींच कर अपने दूसरे स्तन के पास ले आई। शालीन ने प्रगति को आँखों ही आँखों में आभार प्रकट किया और आँखों के सामने परोसे हुए आकर्षक व्यंजन को भोगने लगा। जिस चूची को उसने यौनावेश में काट सा लिया था उसे प्यार से सहला कर मानो मना रहा था। प्रगति को शालीन का बर्ताव अच्छा लगा।

कुछ देर स्तनपान करने के बाद शालीन का चंचल मुँह अलग स्वाद की कामना करने लगा। उसने स्तन से मुँह उठा कर सीधा प्रगति के लरजते और रसीले होटों पर रख दिया। उसने यह नहीं सोचा था कि वह प्रगति का चुम्बन लेगा पर उसके मनमोहक आचरण को देखकर उससे रहा नहीं गया और उसने सच्चे प्यार की मोहर प्रगति के होटों पर लगा ही दी। प्रगति थोड़ी अचंभित तो हुई पर उससे ज्यादा उसे गौरव का अहसास हुआ। शालीन जैसे उच्च अधिकारी का चुम्बन उसके लिए बहुत मायने रखता था। शरीर को हाथ लगाना या सम्भोग करना लड़की को इतना मान नहीं देता जितना होटों पर दिया हुआ प्यारा चुम्बन। यह वासना और प्रेम में फ़र्क़ दर्शाता है।

अब शालीन ने प्रगति के कपड़े उतारने का अभियान जारी किया। प्रगति ने निर्विरोध उसका सहयोग किया और शीघ्र ही वह पूरी तरह निर्वस्त्र हो गई। शालीन के चुम्बन से मिले गौरव और उसके हाथों की हरकत से प्रगति का शरीर काफी रोमांचित हो चुका था और प्रमाण स्वरुप उसकी योनि काफी भीग गई थी। उधर प्रगति की नंगी काया को देख कर शालीन का लिंग अपनी शालीनता त्याग कर तामसिक रूप धारण करने लगा था। उसने अहतियात के तौर पर कमरे का दरवाज़ा अन्दर से बंद कर दिया और अपने कपड़े उतार कर प्रगति के पास आ गया।

प्रगति ने पहली बार शालीन का नग्न शरीर देखा और शरमा कर अपना मुँह फेर लिया। पर उसने छोटी सी झलक में ही शालीन के लिंग के आकार और उसके बाकी शरीर को देख लिया था। उसे यह देख कर अच्छा लगा कि शालीन अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखता होगा क्योंकि इतनी उम्र होने पर भी वह हृष्ट-पुष्ट था। उसके अंग तंदुरुस्त लग रहे थे, उसके सीने पर मुलायम बाल थे, पेट सपाट था और लिंग के आस-पास के बाल कतरे हुए थे। हालाँकि, वह कोई पहलवान या फिल्मी हीरो नहीं लग रहा था पर एक निरोग और स्वस्थ युवक समान ज़रूर नज़र आ रहा था। प्रगति उसको देख कर खुश हो गई। उसे ऐसा लगा शायद शालीन मास्टरजी के मुकाबले बहतर प्रेमी साबित होगा। (मास्टरजी के बारे में जानने के लिए “प्रगति का अतीत” कहानी पढ़िए) उसे ऐसा लगा मानो शालीन उसके साथ ज्यादा ज़ोरदार सम्भोग कर पायेगा।

शालीन ने प्रगति की योनि को छू कर देखा कि वह उसके साथ समागम के लिए पूरी तरह तैयार है। आम तौर पर वह सम्भोग के पहले ज्यादा से ज्यादा देर तक लड़की को उत्तेजित करने की क्रिया करता था पर आज उसके पास समय कम था। शालीन को पता था कि हर लड़की को यौन में उतना ही मज़ा आता है जितना कि मर्दों को। पर सदियों के सामाजिक बंधनों और संस्कारों की बंदिशों ने नारी-जाति को यौन आनंद का इज़हार करने पर पाबंदी सी लगा रखी है। उनको यह जताया जाता है कि यौन सुख का दिखावा सिर्फ बुरे आचरण की लड़कियाँ ही करती हैं। अच्छे संस्कारों वाली लड़कियाँ यौन ज्ञान से अपरिचित होती हैं और यौन सुख का आनंद वे बेधड़क नहीं ले सकतीं। यह हमारे समाज की मान्यताओं की विडम्बना है।

पर शालीन चाहता था कि वह जब किसी लड़की के साथ यौन करे तो उसको पूरा सुख दे और उसको मज़ा लेने का पूरा अधिकार हो। वह अपनी यौन-संगिनी की ख़ुशी की किलकारी सुनना चाहता था। उसने कहीं यह भी पढ़ा था कि लगभग हर लड़की यौन चरमोत्कर्ष (परम यौन आनन्द) को पाने की क्षमता रखती है बशर्ते उसे ठीक से उत्तेजित और उसके साथ धैर्य से सम्भोग किया जाये। आज वह इसी बात को आजमाना चाहता था। वह लिंग योनि सम्भोग के माध्यम से प्रगति को चरमोत्कर्ष प्राप्त करवाना चाहता था।

इसी आशय से उसने उत्सुकता से तपती प्रगति के नग्न बदन को अपने आलिंगन में जकड़ लिया और उसके होटों को चूमते हुए अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी। प्रगति ने भी शालीन को कस कर पकड़ लिया और उसके मुँह का अपनी जीभ से मुआयना करने लगी। समय की कमी होने के कारण शालीन ने जल्दी जल्दी उसके पूरे जिस्म पर हाथ फेरा और उसको पीठ के बल लिटाने लगा। पर प्रगति ने नीचे झुक कर उसके लिंग को अपने मुँह में ले लिया। शालीन इसके लिए तैयार नहीं था वह पहले से ही उत्तेजित था और ऊपर से प्रगति के आकस्मिक हमले से उसके नियंत्रण को झटका लगा। उसके लाख ना चाहने के बावज़ूद वह एक-दो मिनट में ही अपना संतुलन खो बैठा और प्रगति के मुँह से लिंग निकालने का प्रयत्न करने लगा, वह उसके मुँह में वीर्योत्पात नहीं करना चाहता था।

पर प्रगति का इरादा कुछ और ही था उसने उसके लिंगमुख को अपने होटों में इस तरह दबा लिया कि वह बाहर नहीं आ पाया। इससे शालीन की व्याकुलता और बढ़ गई और वह और भी जल्दी और वेग के साथ वीर गति को प्राप्त होने लगा। उसका करीब दो हफ्ते का संजोया हुआ रस प्रगति के मुँह में बरसने लगा। वीर्य की हर फुहार के साथ शालीन का शरीर झकझोर रहा था। कोई पांच-छः पिचकारियों के बाद शालीन और उसका लिंग शांत हुआ। शालीन के जीवन में पहली बार किसी ने उसका लिंग-पान किया था। वह उत्कर्ष के शिखर पर था और उसने कृतज्ञता से प्रगति को उठा कर उसके वीर्य से सने होटों को चूमते हुए अपने गले लगा लिया। वे कुछ देर तक ऐसे ही रहे और फिर पकड़ ढीली करके बिस्तर पर लेट गए।

शालीन को बरसों से यह कामना थी कि कोई उसके लिंग को चूसे पर पत्नी के अरुचि के कारण ऐसा नहीं हो पाया था। आज जब वह बिल्कुल इसके लिए तैयार नहीं था, प्रगति ने न केवल उसका लिंग मुँह में ले लिया, बल्कि उसका रस-पान भी कर लिया। तो शालीन को तो मानो स्वर्ग मिल गया था। अब तो प्रगति को तृप्त करने के लिए शालीन और भी दृड़ संकल्प हो गया। वह जल्दी से जल्दी अपने मर्दांग को दोबारा आवेश में लाना चाहता था जिससे वह प्रगति का ऋण तत्काल चुका सके। प्रगति मानो शालीन की मनोस्थिति भांप गई थी। उसने शालीन के भाले में जान डालने के उद्देश्य से उसको हाथों में ले लिया और हौले-हौले सहलाने लगी।

कुछ देर में उसने शालीन को पीठ के बल लिटा कर उसके ऊपर आसन जमा लिया अपने मुँह और जीभ से उसके निम्नान्गों को चाटने लगी। प्रगति की पीठ शालीन की तरफ थी जिससे जब वह झुकती तो उसकी गांड शालीन को दिखाई देती। कभी कभी उसकी जांघों के बीच से उसके डोलते हुए स्तन भी दिख जाते। प्रगति की मौखिक क्रिया और उसके मादक अंगों के दृश्य से शालीन के शिथिल लिंग को मूसल बनने में ज्यादा देर नहीं लगी। जैसे ही उसके लंड में जान आई उसने प्रगति को अपने ऊपर से हटा कर पीठ के बल लिटा दिया और स्वयं उसके ऊपर आ गया। वह अपने कड़कपन को खोना नहीं चाहता था। बिना समय गंवाए उसने प्रगति की योनि पंखुड़ियों को अपने लिंग-नोक से रगड़ना शुरू किया। साथ ही अपने मुँह से उसके कसे हुए दूधिया टीलों पर आक्रमण कर दिया। उसकी जीभ का सामना उसके स्तनों पर विराजमान अहंकारी चुचूकों से हुआ जो किसी के सामने नतमस्तक नहीं होना चाहती थीं। शालीन की जीभ चोंच-समान चूचियों के चारों तरफ लपलपाने लगी।

उधर नीचे उसका लंड-शीर्ष धीरे धीरे जोर लगाते हुए प्रगति के योनि कपाट खोलने की चेष्टा कर रहा था। प्रगति ने मदद करते हुए अपनी जांघें थोड़ी और खोल दीं। शालीन का सुपारा योनि की कोपलों के ऊपर हल्का-हल्का वार कर रहा था और बीच बीच में उसके योनि-मुकुट पर टपकी मार रहा था।

प्रगति की ओखली शालीन के मूसल के लिए बिलकुल तैयार थी। उसके निम्न होटों से रस फूट चुका था जिससे गुफ़ा का रास्ता चिकना हो गया था। शालीन के दंड का मुकुट भी इस रस में भीग गया था जिस से जब वह प्रगति की सुरंग पर हल्का वार करता तो फिसलन के कारण अन्दर जाने लगता। पर शालीन अभी प्रवेश नहीं करना चाहता था। उसका उद्देश्य प्रगति को परमोत्कर्ष तक ले जाने का था। वह शनैः शनैः उसको कामुकता के शिखर पर ले जाना चाहता था। इसके लिए आत्म-नियंत्रण और धीरज की ज़रुरत थी। उसने अपने मुँह का ध्यान स्तनों से हटा कर प्रगति के पेट पर केन्द्रित किया। रेशम से रोएँ से ढका सपाट पेट शालीन के गालों को जब लगा तो उसकी हलकी दाढ़ी से प्रगति को बहुत गुदगुदी हुई। उसने अपने आप को इधर उधर हिलाया जिससे शालीन के लंड का सुपारा अपने लक्ष्य से हटकर यहाँ वहां लगने लगा।

शालीन ने गुदगुदाना बंद किया और प्रगति को काबू में करके फिर से उसकी म्यान में अपनी तलवार की नोक डालने लगा। शालीन ने तय कर लिया था कि वह जल्दबाजी में लंड को पूरा नहीं घोंपेगा। वह लगातार करीब आधा या एक इंच तक चूत में लंड डाल कर उसे मानो छेड़ रहा था। प्रगति की लालसा बढ़ रही थी और वह सांप रूपी लंड को जल्दी से उसके बिल में पहुँचाना चाहती थी। उसने अपनी टांगें और खोल दीं और शालीन के छोटे प्रहारों का जवाब अपने कूल्हे उठा उठा कर देने लगी जिससे उसका लट्ठ ज्यादा अन्दर चला जाये। पर शालीन होशियार था। उसने प्रगति को अपने प्रयास में सफल नहीं होने दिया। बस एक इंच तक का प्रवेश करता रहा जिससे प्रगति की योनि व्याकुल से व्याकुलतर होती गई। प्रगति अब किसी तरह अपनी चूत को लंड से भरना चाहती थी। अब शालीन ने प्रगति का हाथ लाकर उसकी एक ऊँगली उसके योनि-मटर पर रख दी और उसको हलके से सहलाने का इशारा कर दिया। प्रगति अपनी कलिका को सहलाने लगी। इससे उसकी उत्तेजना और भी बढ़ गई और वह कसमसाने लगी।

अब शालीन ने ब्रह्मास्त्र छोड़ते हुए अपनी तर्जनी ऊँगली को मुँह में गीला करके प्रगति की गांड में डाल दी और धीरे धीरे उसे अन्दर-बाहर करने लगा। प्रगति को इसकी अपेक्षा नहीं थी और वह सिहर उठी। उसके शरीर में मादकता का तूफ़ान उठने लगा और उसके धैर्य का बाँध टूटने लगा। वह हर हालत में शालीन के लंड को मूठ तक अपने कुंए में डलवाना चाहती थी। उसने अपने कूल्हों का प्रहार बढ़ाया और अपनी आँखों से अपनी इच्छ्पूर्ति की मानो भीख सी मांगने लगी। शालीन को इसी मौक़े का इंतज़ार था। उसने अपनी बरछी को पूरा बाहर निकाला और फिर पूरे वेग से उसे जड़ तक प्रगति की व्याकुल चूत में घुसेड़ दिया। जैसे बरसों से तपते रेगिस्तान को बारिश की झड़ी मिल गई हो, प्रगति की योनि लंड को पूरा अन्दर पाकर मानो मोक्ष को प्राप्त हो गई। उसके पूरे जिस्म में एक मरोड़ सी आई और वह एक ही पल में चरमोत्कर्ष को न्यौछावर हो गई। करीब आधे मिनट तक उसका जिस्म उत्कर्ष शिखर से उत्पन्न झटकों का सामना करता रहा और फिर धीरे से आनंद के सागर में डूब गया।

शालीन अपनी सफलता पर खुश था। प्रगति उसे अच्छी लग रही थी और उसके आनंद से उसे ख़ुशी मिल रही थी। उसे लगा कि उसने प्रगति का लिंग-पान वाला ऋण चुका दिया है। जब प्रगति को होश आया तो शालीन ने धीरे धीरे अपना पिस्टन फिर से चालू किया। उसका लंड इस दौरान थोड़ा शिथिल हो गया था पर एक दो झटकों के साथ ही अपनी पूरी मस्ती में आ गया। अब वह निश्चिन्त हो कर लम्बे लम्बे वार करने लगा। प्रगति को इतना यौन सुख पहले कभी नहीं मिला था। वह धन्य हो गई थी और उसका रोम रोम शालीन का आभारी हो रहा था। अब वह उसके लिए कुछ भी करने को तैयार थी। शालीन के झटकों से मेल खाते हुए वह अपने चूतड़ उठा रही थी जिससे लंड ज्यादा से ज्यादा गहराई तक अन्दर जा सके। उसको समझ नहीं आ रहा था कि किस तरह वह शालीन को और अधिक मज़े दिलवाए। उधर शालीन एक बार फव्वारा छोड़ चुका था तो उसको जल्दी स्खलन का डर नहीं था। वह कभी तेज़ और कभी धीमी गति से तथा कभी हल्के तो कभी गहरे वारों से प्रगति की चूत-सेवा कर रहा था।

प्रगति ने सोचा शालीन को और अधिक खुश करने के लिए वह अपनी गांड उसे भेंट कर दे। पर उसे डर था कि कहीं शालीन उसके इस आचरण से उसे गलत ना समझ ले। पर अपनी इज्ज़त की परवाह ना करते हुए उसने पहल कर ही दी। जब शालीन अपने झटकों में थोड़ा रुका तो प्रगति ने अपने आप को उससे पृथक किया और इससे पहले कि शालीन कुछ सोचे उसने उसके लंड को मुँह में लेकर अपने थूक से अच्छी तरह गीला कर दिया। फिर थूक उँगलियों पे लेकर अपनी गांड के छेद में और उसके आस-पास लगा दिया। शालीन बिलकुल हतप्रभ रह गया। उसने सपने में भी नहीं सोचा था कि उसके जीवन की दो सबसे बड़ी मनोकामनाएँ एक ही दिन में पूरी हो जाएँगी। गांड मारने की लालसा उसे ना जाने कब से थी। उसने सोचा भी था कि किसी दिन वह प्रगति को इसके लिए मनाने की कोशिश करेगा पर कुंआ खुद प्यासे के पास आएगा इसकी उम्मीद नहीं थी।

उसका लंड प्रगति की गांड के छेद को देख कर एकदम तन गया। उसने गांड मारने की विधि अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रखी थी और वह जानता था कि केवल थूक से गांड में प्रवेश मुमकिन नहीं है। और अगर होगा भी तो प्रगति को बहुत दर्द होगा। तो उसने उठ कर अलमारी से के वाय जेली की टयूब निकाल ली और प्रगति को दिखाई। प्रगति ने सिर हिलाकर स्वीकृति दे दी और गांड मरवाने के लिए उपयुक्त कुतिया-आसन में आ गई। शालीन ने उँगलियों में जेली लगा कर उसकी गांड में अच्छी तरह लगा दी और फिर एक ऊँगली अन्दर डाल कर उसके छेद को ढीला करने लगा। प्रगति को गांड मरवाने का अनुभव था पर शालीन के लिए यह पहला अवसर था। तो प्रगति ने उसको इशारों से अनुदेश देने शुरू कर दिए। अपनी गांड की अंदरूनी मांसपेशी ढीली करते हुए उसने शालीन की ऊँगली पूरी अन्दर डलवा ली। फिर दो उँगलियाँ और बाद में तीन उँगलियों से गांड में प्रवेश करवा लिया।

इतना होने के बाद प्रगति ने शालीन के लंड के ऊपर अच्छे से जेली लगा दी। उसका लंड वैसे ही अच्छे से तना हुआ था। फिर उसने शालीन को उसकी गांड में अच्छे से जेली लगाने के लिए इशारा किया। जब यह हो गया तो प्रगति ने कुतिया आसन में आकर अपने चूतड़ खोल लिए और अपना सिर बिस्तर पर रख कर शालीन को प्रवेश करने का इशारा किया। शालीन ने प्रगति के कूल्हों की ऊँचाई को इस तरह व्यवस्थित किया जिससे उसका लंड आराम से उसकी गांड के छेद तक पहुँच जाये। फिर उसने एक नौसिखिये की तरह अपना लंड गांड में डालने का प्रयत्न किया। पर वह फिसल गया। जब एक दो और प्रयत्न भी विफल रहे तो प्रगति ने पलट कर शालीन को चिंता नहीं करने का संकेत किया और एक बार फिर जेली का लेप दोनों के गुप्तांगों पर कर दिया। उसने शालीन को कुछ नहीं करने का अनुदेश दिया और फिर से कुतिया आसन में आ गई। उसने अपनी गांड को शालीन के लंड के सुपारे के साथ लगाया और धीरे धीरे पीछे की तरफ जोर लगाने लगी। जब सुपारा छेद में घुसने को हुआ तो प्रगति ने गांड को थोड़ा ढीला किया और सुपारे को अन्दर ले लिया।

सुपारे के अन्दर जाते ही शालीन की ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा और वह चोदना शुरू करने वाला था कि प्रगति ने उसे रुकने का इशारा किया।

कुछ देर बाद प्रगति ने पीछे की ओर धक्का देना शुरू किया। लंड थोड़ा और अन्दर गया और रुक गया। अब प्रगति ने एक बार अपनी गांड की अंदरूनी मसल को ढीला करते हुए जोर से पीछे को धक्का मारा और लंड लगभग पूरा अन्दर चला गया। इसमें प्रगति की हल्की सी चीख निकल गई पर उसने पीछे की तरफ दबाव बनाए रखा और लंड को पूरा अन्दर डलवा लिया। शालीन को अत्यंत ख़ुशी हो रही थी। उसने खरबूजे को चाकू पर गिरते देखा था। उसका लंड प्रगति की तंग गांड में अन्दर तक फंसा हुआ था। गांड इतनी तंग थी कि लंड हरकत करने लायक नहीं था। पर इस गिरफ़्तारी में भी शालीन को मज़ा आ रहा था। उसने धीरे धीरे हरकत करनी शुरू की। पहले थोड़ा सा और फिर थोड़ा और उसका लंड अन्दर बाहर होने लगा। प्रगति को भी मज़ा आ रहा था। उसने भी अपने आप को आगे पीछे करके गांड मरवाना शुरू किया। बहुत लोगों में यह भ्रम है कि लड़कियों को गांड मरवाना अच्छा नहीं लगता। सच तो यह है कि अगर ठीक से किया जाये तो कई लड़कियों को गांड मरवाने में चुदवाने से ज्यादा मज़ा आता है। प्रगति भी ऐसी लड़कियों में से एक थी।

शालीन को लगा कि जेली सूख सी रही है और घर्षण में मज़ा नहीं आ रहा तो उसने लंड सुपारे तक बाहर निकाल कर उसकी छड़ पर और जेली लगा ली। अब गांड मारने में आसानी हो गई। उसने अपने वारों की रफ़्तार और गहराई बढ़ाई और लगभग चुदाई के बराबर अन्दर-बाहर करने लगा। उसके इस आक्रमण से प्रगति को और भी मज़ा आने लगा और उसने भी हिचकोले लेने शुरू कर दिए। शालीन ने प्रगति की दोनों चुटिया पकड़ ली और उनको अपनी तरफ खींच खींच कर गांड मारने लगा मानो घुड़सवारी कर रहा हो।

कुछ देर बाद उसने प्रगति को आगे की तरफ धक्का देते हुए उसको कुतिया आसन से निकाल कर पेट के बल लिटा दिया। उसके चूतड़ों के नीचे तकिया रख कर उन्हें ऊपर उठा दिया और इस अवस्था में उसको पेलने लगा। यह आसन उसको बहुत ही मज़े दे रहा था क्योंकि इसमें उसका पूरा अगला शरीर प्रगति के पूरे पिछले शरीर के संपर्क में था। लंड को घर्षण भी अच्छा मिल रहा था। शालीन ने अपने हाथ प्रगति के नीचे से डालते हुए उसके बोबों को पकड़ लिया। अब उसके हाथों में स्तन थे और उसका लंड उसकी गांड में पूरा घुसा हुआ था। उसका सीना प्रगति की पीठ पर रगड़ खा रहा था और उसकी जांघें प्रगति के चूतड़ों को मल रहीं थीं। शायद इसी को स्वर्ग कहते हैं।

इस आसन में प्रगति कुछ ज्यादा नहीं कर पा रही थी पर शालीन अपनी मन मर्ज़ी कर रहा था। उसको गांड मारने में बहुत मज़ा आ रहा था। अब उसका फव्वारा दोबारा छूटने को हो रहा था। उसने अपने झटके और लम्बे कर दिए और लगभग पूरा लंड बाहर निकाल निकाल कर अन्दर घोंपने लगा। उसका लावा उमड़ने वाला था पर शालीन यह चरम आनंद के क्षण और बढ़ाना चाहता था। उसने अपनी पूरी आत्मशक्ति का उपयोग करते हुए अपने स्खलन पर नियंत्रण बनाये रखा और गांड मारता रहा।

प्रगति को यह आसन एक समर्पण सा लग रहा था क्योंकि वह कुछ नहीं कर सकती थी। उसका पूरा जिस्म शालीन ने मानो दबोच रखा था। वह शालीन को मज़ा दे रही थी और इसी में उसको मज़ा आ रहा था। यह अलग बात है कि गांड में भी उसे अत्यधिक आनंद की अनुभूति हो रही थी। आखिर वह क्षण आ ही गया जब शालीन अपनी परम कोशिश के बाद भी अपने चरमोत्कर्ष को और टाल नहीं पाया और उसने एक आखरी ज़ोरदार वार किया और अपनी पिचकारी प्रगति की गरम गांड में छोड़ दी।

फिर वह बहुत देर तक प्रगति के ऊपर ऐसे ही लेटा रहा जब तक उसका तृप्त लंड अपने आप गांड से बाहर नहीं आ गया। फिर उसने प्रगति को पलट कर उसके ऊपर पुच्चियों की बौछार कर दी !

आपको यह कहानी कैसी लगी?

शगन

Download a PDF Copy of this Story प्रगति का समर्पण-2

Leave a Reply