सौतेले बेटे को सेक्स ज्ञान-2

(Sautele Bete Ko Sex Ka Gyan- Part 2)

This story is part of a series:

मैंने सोचा कि क्यूँ ना अभी ही सारी प्रॅक्टिकल नॉलेज दे दूँ!

फिर मुझे याद आया कि उसे स्कूल भी तो जाना है, बाकी ज्ञान शाम को सोते समय दे दूँगी। और वैसे भी सब्र का फल मीठा होता है।

मैंने नहाने के बाद नाश्ता बनाया, ट्विंकल ने नाश्ता किया और उसके लिए मैंने लंच बॉक्स उसके बैग में रख दिया।

ट्विंकल स्कूल चला गया और फिर मैं घर के सारे काम करने में व्यस्त हो गई और पता भी नहीं चला कि कब दोपहर के दो बज गये। फिर मैंने थोड़ा आराम किया।

नींद खुली तो शाम के चार बज चुके थे, ट्विंकल भी घर आ चुका था, मैंने उसके लिए चाय बनाई और वो थोड़ी देर बाद कोचिंग के लिए निकल गया। तभी पायल क्लास से आ गई, मैंने उसको भी चाय दी।

वो अपने कमरे मैं चली गई। अब शाम के सात बज चुके थे। मेरे पति भी आ चुके थे। मैंने फिर चाय बनाई और अपने पति को दी। वे चाय पीने के बाद अपने कमरे में चले गये। थोड़ी देर आराम करने के बाद मेरे पति और मेरी बेटी दोनों ही साथ मैं गार्डन में घूमने चले गये।

मैं डिनर तैयार करने लगी और डिनर तैयार करते हुए मुझे पता ही नहीं चला कि कब 8:30 बज गये। पायल और मेरे पति दोनों गार्डन से घूम कर आ चुके थे।

पायल ने कहा- मम्मी खाना लगा दो।
मैंने अपने पति से पूछा- आपके लिए भी खाना लगा दूँ क्या?
उन्होंने कहा- हाँ, लगा दो।

मैंने दोनों के लिए खाना लगाया तो मेरे पति ने कहा- तुम भी खाना खा लो।
मैंने कहा- नहीं आप दोनों खा लो, मुझे अभी भूख नहीं है।

पायल ख़ाना खाने के बाद अपने कमरे में चली गई और मेरे पति भी अपने कमरे में चले गए, टीवी देखने लगे।

अब रात के 9:20 बज चुके थे और मैं भी कमरे मैं जाकर उनके साथ टीवी देखने लगी, 10 मिनट बाद ही ट्विंकल आ गया। मैंने गेट खोला और पूछा- इतनी देर क्यूँ लगा दी?

तो बोला- मम्मी साइकल पंचर हो गई थी इसलिए देर हो गई।
‘ठीक है, खाना लगा देती हूँ, हाथ मुँह धो लो।’

मैंने टेबल पर खाना लगाया ट्विंकल खाना खाने लगा। लेकिन और दिन की तरह आज उसका चेहरा चमक रहा था। वो बहुत खुश लग रहा था।

खाने खाते हुए मुझसे बोला- मम्मी आज मेरे टैस्ट में 10 में से 10 नंबर आए हैं।

मैं भी खुश हो गई। तभी ट्विंकल ने थोड़ी सब्जी माँगी और मैं सब्जी परोसने के लिए जैसे ही झुकी तो मेरे दूध भी ब्लाउज में से थोड़े बाहर आ गये।

तभी ट्विंकल की नजर मेरे उरोजों पर पड़ी। वो उन्हें देख रहा था और मुझे पता भी नहीं था कि ट्विंकल मेरे बूब्स देख रहा है।

मैंने जैसे ही ट्विंकल की तरफ देखा, तो मुझे पता चला कि ट्विंकल का ध्यान खाने पर नहीं बल्कि मेरे उभारों पर था। उसकी नज़रें छुप-छुप कर मेरे चूचों को निहार रही थीं। मैं भी उसे अपने स्तन दिखाने के लिए थोड़ी झुक कर खड़ी हो गई, दोनों हाथ मेज पर रख दिए, जिससे मेरे पपीते अब और भी अच्छे तरह से दिख रहे थे।

ट्विंकल खाना खाते-खाते उन्हें देख रहा था और मैं अपनी नज़र इधर-उधर कर रही थी, जिससे कि ट्विंकल को पता ना चले की मैं उसे देख रही हूँ।

ट्विंकल खाना खा लिया था, फिर भी वो वहीं बैठा हुआ था और खाना खाने का बहाना कर रहा था, मुझसे बातें भी कर रहा था, क्योंकि वो मेरे बूब्स को ज़ी भर कर देखना चाहता था।

लेकिन थोड़ी देर ट्विंकल बोला- मम्मी क्या आपने खाना खाया?
मैंने कहा- नहीं मैं खा लूँगी, तुम खाओ अभी।

ट्विंकल ने कहा- माँ आप भी जल्दी खाना खा लिया करो, कितना काम करती हो आप। चलो आप मेरे साथ ही खाना खा लो।

मैंने भी उसकी बात नहीं टाली और उसके बगल में जाकर बैठ गई और हम एक ही थाली में खाना खाने लगे।
लेकिन अभी भी ट्विंकल की नज़र मेरी छाती पर ही थी।
मैंने भी जल्दी से खाना खाया और कहा- मैंने खाना खा लिया है, तुम्हें और खाना है?
वो बोला- नहीं।

मैंने वहाँ से सारे बर्तन उठाए और ट्विंकल अपने रूम में चला गया।

मैंने सारे बर्तन धोकर, दूध गर्म किया और पायल को दिया और फिर मैं ट्विंकल के कमरे में दूध देने गई और ट्विंकल को दूध दिया।

वो अभी पढ़ाई कर रहा था, मैंने उसे कहा- दूध ध्यान से पी लेना।
तभी ट्विंकल ने कहा- दूध दो तो, मैं पी ही लूँगा।

उसने यह बात इस तरह से की, जो वो परोक्ष मुझसे जो कहना चाहता था, वो उसने कह दिया।

और मैं भी उसकी बात का मतलब समझ गई।

‘ठीक है, लेकिन ध्यान से पी लेना, भूलना नहीं!’ और फिर मैं वहाँ से आ गई।

मेरे पति रूम में अभी तक टीवी देख रहे थे और साथ में ड्रिंक भी ले रहे थे।
तभी मैंने उनसे कहा- मैं ड्रिंक बना दूँ?
तो उन्होंने कहा- क्या बात है, आज बड़ी खुश लग रही हो?

मैंने कहा- बस यूँ ही, और मैं ड्रिंक बना कर उन्हें देती जा रही थी, जिससे उन्हें काफ़ी नशा हो जाए और वो जल्दी से सो जाएं, और सुबह भी देर से उठें। वैसे भी कल तो सन्डे है।

उनको काफ़ी नशा हो चुका था और वो सो गए।

मैंने टीवी ऑफ किया। कमरे की लाइट भी ऑफ की, और फिर मैं पायल के कमरे में गई और देखा कि पायल सो चुकी है या नहीं।

पायल भी सो चुकी थी और फिर मैंने ट्विंकल के रूम में जाकर देखा कि वो क्या कर रहा है?

वो अभी तक जाग रहा था और बेड पर लेटा हुआ था।

मैंने बोला- सो जाओ रात हो चुकी है।
तो वो बोला- मम्मी नींद नहीं आ रही है।
मैंने कहा- आ जाएगी, सो जाओ।

मैं फिर अपने कमरे मैं आ गई और सोने लगी लेकिन मुझे भी नींद नहीं आ रही थी।
तभी ट्विंकल मेरे कमरे में आया और बोला- मम्मी सो गईं क्या?
मैं बोली- नहीं, क्यूँ क्या बात है? क्या चाहिए?
ट्विंकल बोला- मम्मी मुझे डर लग रहा है।
मैंने कहा- इतना बड़ा हो कर डरता है, चल मैं आती हूँ।

वो अपने रूम में चला गया। मुझे पता था कि डर तो सिर्फ़ एक बहाना था, क्योंकि वो मेरे साथ सोना चाहता था।

फिर मैं भी तो यही चाहती थी। मैंने झट से कपड़े चेंज किए, एक ऐसी नाईटी पहन ली, जिसका कपड़ा पतला था और फिर मैं ट्विंकल के रूम में गई।

ट्विंकल मुझे देख कर खुश हो गया। उसके कमरे की लाइट जल रही थी, जिससे मेरी नाईटी के अन्दर से मेरी ब्रा और पैन्टी नज़र आ रही थी।

उसने बड़े गौर से मुझे देखा। उसकी नज़र ऊपर से लेकर नीचे तक गई। फिर मैं उसके बेड पर बैठ गई। तभी मैंने देखा कि उसने अभी तक अपना दूध का गिलास खाली नहीं किया है।

मैंने उसे पूछा- अभी तक दूध क्यूँ नहीं पिया?

तो वो बोला- मैं भूल गया था अभी पीता हूँ। और फिर उसने गिलास का सारा दूध पी लिया।
वो बिस्तर में लेट गया, और मैं भी बिस्तर लेट गई।

लेकिन दोनों में से किसी को नींद नहीं आ रही थी। रात के 12:00 बज चुके थे।
मैंने सोचा कि काफ़ी समय हो गया है और शायद ट्विंकल सो गया होगा। मैंने धीरे से आवाज़ दी- ट्विंकल!’
और वो बोला- हाँ मम्मी।
मतलब वो अभी तक जाग रहा था।

मैंने उसे पूछा- सोया नहीं, अभी तक?
तो बोला- नींद नहीं आ रही है।
और उसने मुझसे पूछा- आपको नींद क्यूँ नहीं आ रही है।

मैं समझ गई कि ट्विंकल क्या चाहता है। और अभी तक क्यूँ जाग रहा है।
मैंने उसे कहा- मुझे थोड़ी सर्दी लग रही है और आज काम भी कुछ थोड़ा ज़्यादा था! ‘ओह!’ पूरा बदन दुख रहा है।

तभी ट्विंकल एकदम से बोला- मम्मी, मैं आपके हाथ-पैर दबा देता हूँ।
मैंने कहा- नहीं, क्यूँ परेशान होता है, तू सो जा।
तो बोला- इसमें परेशान होने की क्या बात है, लाओ मैं दबा देता हूँ।
मैं जानती थी कि वो मेरे बदन को महसूस करना चाहता है।

मैं उसे मना भी कैसे करती भला, क्योंकि जैसा मैंने सोचा था, ठीक वैसा ही हो रहा था।
जैसे ही उसने कहा- मम्मी मैं आपके पहले पैर दबा देता हूँ, मैंने कहा- ठीक है।
और वो मेरे पैर दबाने लगा।

मेरी नाईटी सिर्फ़ घुटनों तक ही लंबी थी और वो भी थोड़ी ऊपर तक खिसक गई थी। पहले कुछ मिनट ट्विंकल ने पैर ठीक से दबाए, लेकिन कुछ देर बाद उसके हाथ धीरे-धीरे ऊपर की ओर बढ़ने लगे।
मैंने ट्विंकल से कहा- ठीक से दबाओ पैर!
वो बोला- हाँ दबाता हूँ।
मैंने सोचा- क्यूँ ना ट्विंकल को और मजा दिया जाए।

तो मैं थोड़ा खाँसने लगी और तभी ट्विंकल ने पूछा- सर्दी हो गई है क्या?
मैंने कहा- हाँ सुबह से ही खाँसी हो रही है, ट्विंकल पैर बाद में दबा देना पहले एक काम कर दे। पापा के रूम में जो ड्रिंक्स की बॉटल रखी रहती है, उसमें से एक रम की बॉटल ले आ, जिससे ये खाँसी बंद हो जाएगी।
यह सुनते ही ट्विंकल जल्दी से गया और एक रम की बॉटल और गिलास भी ले आया।

कहानी जारी रहेगी।
जसमीत कौर
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top