नीलम रानी का नक़ली देह शोषण-4

(Neelam Rani ka Naqli Balatkar-4)

नीलम रानी अपनी बुर को मेरे लण्ड से ज़ोर ज़ोर से रगड़ रही थी, रगड़ती फिर धक्के मारती, फिर रगड़ती और फिर से धक्के मारती।

वो भी अब बेकाबू हो चली थी, कुछ ही देर में एक बार फिर से अनगिनत बार स्खलित हो जाने वाली थी।

‘कमीना चोदू… साले चूत के दीवाने अब लगा दे तगड़े तगड़े धक्के… रुक ज़रा, मैं तेरे हाथ खोलती हूँ.. फिर मादरचोद, ऐसे धक्के मारियो कि चूत को फाड़ता हुआ तेरा लण्ड सीधा गाण्ड मे जा घुसे… मटियामेट कर दे इस हरामज़ादी चूत को… सुन रहा है बहन के लौड़े?

मुझे गालियाँ बकते हुए नीलम रानी ने मेरे हाथ की रस्सी खोल डाली।

वो ठरक में बेसुध हो चुकी थी, बदन गर्मा गया था, साँसें तेज़ हो चली थीं और चूत लपलप करे जा रही थी।

जैसे ही मेरे हाथ खुले, नीलम रानी पीछे को पूरी झुक गई और अपने हाथ मेरे घुटनों पर जमा लिये।

मैंने कस के उसके टखने पकड़ लिये और उसने चूतड़ उछाल उछाल के धक्के ठोकने शुरू किये तो यारों उसके मस्त मम्‍मों का चौतरफा नृत्य देखकर आनन्द की पराकाष्ठा हो गई।

जैसे ही नीलम रानी धक्का लगाती, उसके चूचुक दायें बायें ऊपर नीचे कूद फांद करते।

यह नज़ारा इतना मस्त कर देने वाला था कि मेरे पास बयान करने के लिये शब्द ही नहीं हैं।

इस पोज़ की चुदाई का एक बड़ा फायदा था कि मैं ना सिर्फ नीलम रानी के मदमाते चूचुक का हर धक्के पर होता हुआ नाच देख सकता था बल्कि उसकी चूत में लण्ड को भी अंदर बाहर होता हुआ देख रहा था।

लण्ड पूरा चूत रस से सना हुआ था और अब मुझे लण्ड के बुर के भीतर घुसने पर जो नीलम रानी की चूत का रस पिच्च से छलकता वो भी दिखाई दे रहा था।
बड़ा मज़ा आता है यारों लौड़े को चूत में घुसते हुए और रस से लबरेज़ बाहर आते हुए।

इस दृश्य ने उसके मम्‍मों के मस्त नाच के साथ मिल के मेरी ठरक को सातवें आसमान पर पहुंचा दिया था।

साथ साथ नीलम रानी की उत्तेजित बातें पहले से ही तेज़ आग में घी डालने का काम कर रही थीं।

‘राजे तू बड़ा मज़ा देता है… हाँ हाँ, बहन के लौड़े… आज तो तेरे हरामज़ादे लण्ड को पीस के रहूंगी…हाय राम… हाँ हाँ हाँ… कमीने… मार दिया मुझको… हाय हाय हाय हाय… हूँ हूँ हूँ… हाँ हाँ हाँ… तेरी माँ को चोदूँ हरामी… होये होये होये…

नीलम रानी की आँखें अधमुंदी हो गई थीं।
वो अपनी पूरे ताकत से दे दनादन, दे दनादन, धक्के पे धक्का ठोक रही थी। नीचे से मैं नितम्ब उचका उचका कर उसके धक्कों का साथ दे रहा था।

क्या ज़बरदस्त चुदाई हो रही थी कि मैं क्या बताऊँ…

शीघ्र ही हम दोनों का ज्वालामुखी बाद फटने ही वाला था, मेरे बदन में एक तेज़ सुरसुरी सी दौड़ने लगी थी।
नीलम रानी तो सीत्कार पर सीत्कार भरे जा रही थी, उसका चेहरा लाल हो गया था और अब वो एक कुतिया कि तरह जीभ निकाल के हाँफ रही थी।

अचानक नीलम रानी ने एक ज़ोर कि सीत्कार भरी और ‘राजा राजा…’ कहते हुए बड़े ज़ोरों से स्खलित हो गई।
उसकी चूत से गर्म गर्म जूस की बौछार बह चली जिससे मेरे बदन की सुरसुरी एकदम से बिजली की तरह तेज़ हा गई और मेरा बम भी धड़ाम से फूटा।
गरम लावे के बड़े बड़े लौंदे मेरे लण्ड ने नीलम रानी की पानी पानी हो चुकी चूत में गोली की रफ़्तार से छोड़े।
तुनके मार मार के लण्ड ने और मलाई की बूंदें निकलीं लेकिन नीलम रानी तो तब तक बेसुध होकर मेरे ऊपर ढेर हो चुकी थी।
वो बुरी तरह भैं भैं करके हाँफ रही थी।
लण्ड चूत रस में सना हुआ बाहर को फिसल आया और चूत से जूस छलक छलक के बाहर आने लगा।
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !
रस बहती हुई चूत एकदम मेरे सामने थी और मैं भी हाँफता हुआ उस मतवाली चूत को निहारे जा रहा था।

मैंने धीरे से नीलम रानी को सीधा किया और अपने बगल में उसे लिटा दिया।

वो तो गहरी नींद में सो जा चुकी थी।
मैंने उसकी टांगें फैला के पहले तो मैंने उसकी चूत को जीभ से चाट चाट के साफ किया जिससे मैंने उसका चूत रस बेकार नहीं बह जाने दिया।

इतना स्वादिष्ट रस को यूंही बह कर चादर गीली करने देना तो उस अमृत समान रस का अपमान होता।

मैं कैसे अपनी जान नीलम रानी के रस का इतना अपमान होने देता, चूत को अच्छे से साफ करके मैंने एक तौलिया लेकर अपने मुरझाये हुए लण्ड को भी पोंछा और फिर नीलम रानी के पास लेट गया।

जल्दी ही मैं भी एक गहरी नींद में खो गया।

काफी देर के बाद मेरी नींद खुली तो देखा नीलम रानी अभी भी सोई हुई है। मैंने धीरे धीरे उसके बदन पर हाथ फिरा कर सहलाना शुरू किया।

कुछ ही देर में नीलम रानी की नींद टूट गई।
उसने बड़े प्यार से मुझे देखा और बुदबुदाई- राजे राजे राजे… तू ही जीता मैं हार गई…मुझे जीतना ही नहीं है तेरे से… मैं तो राजा हारी हुई ही भली… इतना आनन्द भी तू दे सकता है मैंने कभी नहीं सोचा था… तेरे लिये मेरी जान भी कुर्बान… ले चूम ना मेरे को!

मैंने नीलम रानी को बड़े प्यार से चूमा, कई बार प्यार से चूमता रहा अपनी चुदक्कड़ नीलम रानी को।

वो बहुत ही नीचे स्वर में बोली- राजा मैं ज़रा बाथरूम जाके आती हूँ।

मैंने कहा- रानी, मेरे होते हुए क्यों बाथरूम जा रही है। यहीं पिला दे स्वर्ण रस मुझको!

उसने कहा कि नहीं, वो सिर्फ मुँह हाथ धोकर फ्रेश होने जा रही है क्योंकि उसे कुछ थकन महसूस हो रही है।

जैसे ही नीलम रानी उठकर खड़ी हुई, वो पछाड़ खाकर गिर पड़ी।
घबरा कर मैं उछल के दौड़ा और उठा कर उसे बेड पर धीरे से लिटा दिया।

‘क्या हुआ रानी?’ मैंने चिंता से भरी हुई आवाज़ में पूछा।

‘राजे तूने कितने ज़ोर से मेरी जाँघें मेरी टांगें मसली हैं… कुचल कुचल के जान ही निकल दी मेरी… मुझसे खड़ा भी नहीं हुआ जा रहा है… चूचों का तो पूछ ही मत… बुरी तरह से दुख रहे हैं मादरचोद !

‘तुझे ही पड़ी थी देह शोषण करवाने की… मैंने मना किया था या नहीं… तब तो बहन चोद बड़ी तेरी भुजाएँ फड़क रही थीं कि मेरा देह शोषण करो, मेरे साथ आदि मानव जैसा जंगलियों के समान बर्ताव करके चोदो… अब फटी ना गाण्ड बहन की लौड़ी की… चल तू लेट आराम से, मैं तेरे बदन की हौले हौले मालिश करके ठीक कर दूँगा।’

नीलम रानी ने इतरा के कहा- लेकिन राजे, मज़ा भी तो कितना आया… इतने ज़ोर से चुद कर… अब तू कर मुझे जल्दी से अच्छा… कमीने तूने तोड़ा तो बहुत मेरे शरीर को लेकिन मज़े का तो हिसाब ही नहीं… रोज़ यूँ ही मेरा कचूमर निकाल दिया कर चोद चोद के… साले मुझे अपनी रखैल बना के रखना।

मैं उसके रेशमी बदन को प्यार से सहलाते हुए बोला- हाँ भोसड़ी की, तेरा रोज़ कीमा बनाऊँगा… कुचल कुचल के तेरे अंजर पंजर ढीले कर दूँगा… हरामज़ादी कुतिया… तुझे रंडी बाज़ार में कोठे पर नंगा बिठाकर सौ सौ जनों से तुझे चुदवाऊंगा… साली चुदक्कड़ रांड!

‘हाँ हाँ राजे, मैं तेरी लौंडिया हूँ… तेरी दासी हूँ… जो भी तेरे दिल में आये वो कर मेरे साथ… बना दे कोठेवाली रंडी मेरे को… अब दे मुझे अपना लण्ड चूसने को!’

‘रुक ज़रा सी देर, रंडी की औलाद… पहले तेरा टूटा फूटा बदन तो सही कर दूं… हरामज़ादी से खड़ा हुआ नहीं जा रहा है… लण्ड चूसने की पड़ी है माँचोद को… पड़ी रह चुपचाप… जब ठीक समझूँगा, खुद दे दूंगा साली के मुँह में लण्ड।

मैं बड़े दुलार से हौले हौले नीलम रानी की जाँघें सहलाता रहा।
मैं उन रेशम जैसी चिकनी जाँघों पर हाथ फिराने का आनन्द भोग रहा था।
बीच बीच में मैं उसके दुखते चूचे पर जीभ भी फिराता जाता।

नीलम रानी ऊं ऊं ऊं कर रही थी और आराम से पड़ी अपने शरीर का सहलाने की राहत ले रही थी।

वो सचमुच बहुत थक गई थी क्योंकि जल्दी ही वो घोड़े बेच कर सो गई। बहुत गहरी नींद उसके लिये सही रहेगी इसलिये मैंने उसे सोते रहने दिया।

नीलम रानी बेहोशी की नींद पूरे 12 घंटे सोई।

अगले दिन सुबह 6 बजे उसने मुझे उठाया तो काफी फ्रेश और स्वस्थ लग रही थी।

मैंने पूछा- क्यों रानी अब क्या हाल है? पीड़ा कम हुई?

इतना कह के मैंने उसका एक लम्बा सा चुम्‍मा लिया।

नीलम रानी बोली- हाँ राजे, अब ठीक हूँ, मैंने चल फिर के देख लिया है कोई दिक्कत नहीं है… तूने बहुत अच्छा मसाज किया.. सब दर्द काफूर कर दिया… आ चल तेरे को स्वर्ण रस पिला कर इनाम देती हूँ… चल मेरे राजा बाथरूम में!

तो यारों मैंने बाथरूम में उसके साथ जाकर पूरे 15-16 घंटे का इकट्ठा किया हुआ स्वर्ण रस पिया जो कि खूब गाढ़ा और नशा दे देने वाला था।

उसके बाद हमने एक साथ शावर लिया और वहीं एक बार चुदाई भी करी।
इसके बाद होटल से चेक आउट किया और नीलम रानी अनु रानी और विक्रम को बाय बाय करके मैं घर आ गया जहाँ जूसी रानी बड़ी बेसबरी से मेरा इंतज़ार कर रही थी।

यारों एक नेक सलाह देना चाहता हूँ। कभी किसी लड़की के साथ देह शोषण का ड्रामा करना हो तो बहुत सावधानी बरतिएगा। पहले तो उसे समझने कि चेष्टा करें कि यह नाटक न ही करे तो अच्छा है लेकिन यदि वो न माने तो बहुत एहतियात के साथ बस ज़रा सी ताक़त का ही प्रयोग करें।
आपने देखा कि थोड़ा से बलप्रयोग से भी नीलम रानी खड़ी ही न हो पाई और 12 घंटे सोने के बाद ही वो कुछ ठीक हो पाई।

पढ़ने वाली लड़कियों से भी मेरा आग्रह है कि आपने पार्टनर से जबरदस्ती शोषण का नाटक खेलने कि ज़िद न करें।
यदि आपका पार्टनर ज़रा सा भी लापरवाह हुआ तो आपको चोट लग सकती है।
आशा है घटना का विवरण आपको पसंद आया होगा।
धन्यवाद।
[email protected]

Leave a Reply