एक अजनबी हसीना से बिस्तर में मुलाक़ात हो गई

(Ek Ajnabi Haseena Se Bistar Me Mulaqat Ho Gai)

यह सेक्सी स्टोरी फोन पर दोस्त बनी एक महिला के साथ सेक्स की है, उसके साथ ही मैंने अपने जीवन का पहला सेक्स किया था.

दोस्तो, मेरा नाम राज है। मैं मुम्बई मैं ठाणे में रहता हूँ, मेरी उम्र 20 साल की है, मैं दिखने में काफी हैंडसम हूँ। मेरे लंड की लंबाई 7 इंच है।
मैं अन्तर्वासना का पिछले 6 साल से पाठक हूँ। अन्तर्वासना की लगभग सभी कहानियाँ पढ़ चुका हूँ। अन्तर्वासना से मुझे बहुत कुछ सीखने के लिए मिला है तो सबसे पहने अन्तर्वासना का और सभी लेखकों का बहुत बहुत शुक्रिया।

मैं बहुत दिनों से अपनी सेक्स लाइफ आप सभी के साथ शेयर करना चाहता था पर कर नहीं पाया, आज कोशिश कर रहा हूँ कुछ गलती हुई तो प्लीज क्षमा करें।

मेरी आज की सेक्सी कहानी मेरे पहले सेक्स की है जो मैंने एक अजनबी औरत के साथ किया था।

बात एक साल पहले की है, उस टाइम तक मैंने कभी भी किसी के साथ सेक्स नहीं किया था और न ही मेरी कोई गर्लफ्रेंड थी।
एक दिन ऐसे ही फ्रेंड्स से बात करते करते मैंने मेरे दोस्त से एक दो लड़कियों के मोबाइल नंबर्स लिए ताकि मैं उनसे बात कर सकूँ, उन्हें अपनी फ्रेंड्स बना सकूँ।
ऐसे ही कुछ दिन बीतने के बाद एक दिन सोने से पहले दोपहर में मैंने उसमें से एक लड़की को कॉल किया लेकिन उसने कॉल नहीं उठाया और मैं सो गया।

जब मैं नींद से उठा, तब शाम के 7 बज रहे थे, मैंने अपने मोबाइल में देखा कि उसी लड़की के 3 मिस्ड कॉल थे। मैंने तुरंत उस नंबर पर कॉल किया तो मुझे एक प्यारी सी आवाज़ आई।
उसने मुझे पूछा- तुम कौन हो? मेरा नंबर कहा से मिला?
और फ़ोन कट किया।

मुझे आवाज से वो अच्छी लगी पर थोड़ा डाउट भी हुआ क्योंकि उसकी आवाज़ किसी औरत जैसी लग रही थी। फिर भी मैंने इग्नोर किया।
उस रात मैंने उसके बारे में सोच के मुट्ठ मारी और सो गया।

अगले दिन मैंने फिर उसे कॉल किया और बात करने लगा. उसने पहले इन्कार किया पर शायद उसे मेरा बात करने का तरीका पसन्द आया हो। तो वह खुल कर बात करने लगी।
कुछ लिमिट्स की वजह से हमारे बीच हुई सब बातें यहाँ नहीं बता सकता।

ऐसे ही कुछ दिन बात करने के बाद उसने बताया कि उसका नाम रोशनी है और उसकी उम्र 35 साल की है।
तब मुझे कुछ अजीब सा लगा क्योंकि आवाज़ से वो 25 27 साल की लग रही थी।

दोस्तो, मैंने जिस लड़की का नंबर लिया था उसका नाम मेघा था। तब मुझे पता चला कि मैं जिससे बात कर रहा हूँ इतने दिनों से… वो उसकी माँ का नंबर था।
यही मेरे साथ धोखा हुआ।
फिर भी मैंने उनके साथ बात करना चालू रखा और देखते ही देखते हम दोनों में सेक्स की बातें शुरू हो गई।
उन्होंने बताया कि उनका हसबैंड उन्हें ज्यादा समय नहीं दे सकता, प्यार नहीं दे सकता!
ये सब उन्ही ने बताया।

और कुछ ही दिनों मैं फोन सेक्स चैट करते करते हमने मिलने का प्लान बनाया।
लेकिन वो पुणे में रहने वाली थी।
तो उन्होंने मेरा ट्रेन का 3rd AC का ऑनलाइन टिकेट निकाला और मुझे मिलने के लिए बुलाया।
उन्ही ने 10 दिन बाद का प्लान बनाया था। तब तक मैंने उनसे उनके बारे सब पूछ लिया था, उनका फिगर 36-32-36 था। मैं उसे सोच के ही पागल सा होकर मुट्ठ मार लिया करता था।

तो आखिरकार उन्हें मिलने जाने का दिन आ ही गया। मैं अच्छे से तैयार होकर निकल पड़ा। मेरी ट्रेन दोपहर की थी तो मैं 5 बजे तक पुणे में पहुंच गया।

मैंने पुणे जाते ही उन्हें कॉल किया तो वो कुछ ही देर मैं स्टेशन आ गई। वो अपनी कार में आई थी।
और वो जैसी ही दरवाज़ा खोल कर बाहर आई तो मैं उन्हें देखता ही रह गया।
वो लाल साड़ी में क्या क़यामत लग रही थी और वो किसी भी एंगल से 35 साल की नहीं लग रही थी. ऐसा लग रहा था जैसे 27 साल की हो।
इतनी खूबसूरत बला थी कि मैं लफ्जों में ब्यान नहीं कर सकता।
उसे देख कर ही मेरा लण्ड सलामी देने लगा।

उन्होंने मुझे आवाज़ देते हुए पूछा- क्या देख रहे हो?
तो मैंने कहा- हुस्न की परी को देख रहा हूँ!
उन्होंने एक कातिलाना स्माइल दी और मुझे गले लगा लिया।

उनके सीने से लगते ही उनकी चुची मुझे इतनी मुलायम महसूस हुई कि ऐसा लग रहा था कि यहीं पर उन्हें दबा कर चूस लूँ।
वो शायद ये बात जान गई और मेरे कान में बोली- बेटा, सबर कर… सब तेरा ही है!
और हंस कर कार में बैठने के लिये कहा और कहा- चलो घर चलते हैं।

फिर हम वहाँ से उनके घर जाने के लिए निकल पड़े। तब मैंने पूछा- घर क्यों? घर में बाकी सब भी तो होंगे।
तो उसने कहा- डोन्ट वरी, मैंने बोल दिया है कि मेरे सहेली का बेटा आने वाला है।
इसी बीच मैं उनका हाथ अपने हाथों से सहला रहा था, उन्हें भी अच्छा लग रहा था।

कुछ ही देर में करीब 6:30 बजे हम उसके घर पहुंच गये।
उनका घर काफी बड़ा था, घर में बस 4 ही लोग थे, वो, उसकी बेटी मेघा, बेटा नितिन और काम वाली बाई!
घर आते ही उसने मुझे अपना कमरा दिखाया जो उसके कमरे से लगा हुआ ही था।

मैं बाथरूम में फ्रेश होने चला गया और नहाते समय उसके नाम की मुट्ठ मार ली।
मैं जब बाहर आया तो वो मेरे कमरे में नाश्ता लेकर आई थी। मैंने नाश्ता लेकर टेबल पर रखा और उसे पकड़ कर किस करने लगा।
उसने भी मेरी एक किस ली और हट गई, कहा- अभी नहीं… कोई आ जायेगा! मेघा और नितिन भी घर पर ही हैं।
फिर भी मैंने 2-3 किस लेकर हलके से उसके मम्मे दबा दिए।

फिर मैं बाहर हॉल में बैठा टीवी देख रहा था, तभी नितिन आया और मेरे साथ खेलने लगा। उसकी उम्र 13 साल की थी और रोशनी भी मेरे बाजू में आकर बैठ गई और बात करने लगी.
मैं उससे डबल मीनिंग वाली बातें कर रहा था।

उसी समय मेघा वहाँ पर आई तो रोशनी ने हमारा इंट्रो करवाया।
मेघा भी कमाल की लड़की थी, उसकी उम्र कुछ 18 साल की होगी, वह अपनी माँ की तरह ही खूबसूरत बला थी। उसका फिगर बिल्कुल श्रद्धा कपूर जैसा था, नयन नक्श भी तेज तलवार जैसे थे।
उसके साथ बात करने के बाद उसने भी एक सेक्सी सी स्माइल दी.

कुछ देर टीवी देखने के बाद हम लोग खाना खाने बैठ गये। मैं और रोशनी साथ बैठे और मेघा बिल्कुल मेरे सामने टेबल पर बैठ गई।
खाना खाते समय मैं रोशनी के पैर पर अपना पैर रगड़ रहा था और अपने हाथ से उसकी जांघें सहला रहा था।
वो भी मस्त हो रही थी पर उसने अपने आप पर कंट्रोल किया और मेरी तरफ देख कर आँखें बड़ी करके मेघा की तरफ इशारा किया।
मैं फिर भी मजा ले रहा था।

अब खाना खाने के बाद रोशनी मेरे रूम में आई और मुझे अपनी बाहों में भर लिया और एक लंबा सा किस किया. मैंने भी उसे लंबा सा किस किया और उसे कस के पकड़ कर पूरे शरीर पर किस किये, एक हाथ से उसकी नर्म नर्म चुची को दबाया और एक हाथ से उसकी पीठ सहला रहा था।
मैं पूरा गर्म हो गया था, मेरा लण्ड खड़ा हो गया, वो भी मेरे लण्ड को महसूस कर रही थी पर उसने कहा- बाबू, बस थोड़ी देर और सब्र करो। जैसे ही मेघा और नितिन सो जाते हैं, मैं तुम्हारे पास आ जाऊँगी।

मुझे उस टाइम उस पर बहुत गुस्सा आया पर सब्र करने के अलावा कुछ और रास्ता नहीं था। मैं अपने आपको कोसता हुआ बेड पर जा पड़ा और मुझे पता नहीं कब नींद लग गई।

लगभग 1 घंटे बाद मुझे अपने लण्ड पर किसी के हाथ का महसूस हुआ तो मैं जाग गया, देखा कि रोशनी मेरे 7″ इंच खड़े लण्ड को अपने हाथ में लेकर हिला रही थी।
मैंने उसकी तरफ देखा तो मेरी ओर देख कर हंसी और मुझे बोली- सॉरी, तुम्हें इतने देर तक इंतज़ार करवाने के लिये!

मैं उठा और उसे अपने पास खींच कर किस करने लगा। उसने काली नाईटी पहनी हुई थी, उसी के ऊपर से उसके मम्मे चूसने लगा।
अब वो भी गर्म हो गई थी तो उसने भी मेरी पैंट पूरी उतार दी और चड्डी नीचे करके मेरे 7″ इंच लंड को आजाद कर दिया।

मेरा लंड देख कर उसकी आँखों में चमक आ गई और कहा- तुम्हारा लंड तुम्हारी उम्र के लिहाज से काफी बड़ा है।
और वो उसे अपने मुँह में लेकर लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी।
क्या मजा आ रहा था… मैं तो जैसे सातवे आसमान पर था… उसके नर्म नर्म होंठ मेरे लंड पर ऐसे लग रहे थे जैसे कोई मक्खन हो।

अब मैंने उसे बेड पर लिटाया ओर उसे किस करने लगा. 5 मिनट किस करने के बाद मैं उसकी चुची को चूस रहा था और एक हाथ उसकी चुत के ऊपर घुमा रहा था।
मेरे हाथ में कुछ गीला गीला लगा क्योंकि उसकी चुत पानी छोड़ चुकी थी।
उसने कहा- राज, अब बस और मत तडपाओ… बुझा दो मेरी चुत की प्यास… 2 महीने से तुम्हारे लंड की प्यासी है। मुझे ही पता है कि मैंने कैसे 7 बजे से अपने आप को सम्भाला है। बस अब और नहीं सहा जाता।

मैंने भी ज्यादा टाइम बर्बाद न करते हुए उसे पूरी नंगी कर दिया और चुत के पास अपना मुंह ले जाकर अपनी जीभ से उसकी चुत का खट्टा मीठा पानी चाटने लगा।
वो मस्त होकर सिसकारियां लेने लगी, उसके मुंह से ‘आआ उम्म्ह… अहह… हय… याह… ह्ह हाह…’ जैसे आवाज़ निकलने लगी. वो अपने हाथ से मेरे सर को अपनी चूत पर दबाने लगी।
मैं भी अब तेजी से उसकी चूत चाटने लगा और कुछ ही पलों में उसने अपना पानी छोड़ दिया।
मैंने वो सारा पानी चाट के साफ़ कर दिया।

अब मैंने उसके कमर के नीचे एक तकिया को रखा और अपना लण्ड उसकी चूत पर रगड़ने लगा, वो मेरे सामने गिड़गिड़ाने लगी। फिर मैंने अपना लण्ड उसकी चूत पर सेट करके एक जोर का धक्का दिया, पहले ही झटके में मेरा आधा लण्ड उसकी चूत में चला गया और वो जोर से चिल्लाई।
कहीं उसकी आवाज़ कमरे के बाहर न जा पाये, इस डर से मैंने अपना मुंह उसके मुंह पर रख कर किस करने लगा।

और फिर से मैंने दूसरा झटका लगाकर पूरा का पूरा लण्ड उसकी चूत में गाड़ दिया और जोर जोर से आगे पीछे करने लगा।
उसके मुंह से सिसकारियां निकलने लगी और हमारी चुदाई की कारण कमरे में फच फच्च की आवाज़ आने लगी।

मैं चुदाई के समय उसकी चुची दबा दबा कर चूसने लगा जिससे उसका मजा दोगुना हो रहा था। उसकी चुची की घुंडियों को चूस कर मस्त मजा आ रहा था।
ऐसे ही कुछ मिनट की मस्त चुदाई के बाद वो झड़ गई और मैं भी झड़ने वाला था तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और कुछ ही पल में अपना सारा पानी उसकी चुत अंदर ही निकाल दिया।

उसने मेरे लण्ड के ऊपर लगा हुआ सब पानी चाट कर साफ कर दिया। उसके चेहरे पर कुछ अजीब ही झलक दिख रही थी जो साफ़ साफ़ बता रही थी कि उसे इस चुदाई से कितना मजा मिला।

कुछ ही पलों में उसने फिर से मेरा लण्ड चाट चाट के खड़ा कर दिया। अब इस बार मैंने उसकी गांड मारी जिसका उसने बहुत मजा लिया।
यह हिंदी सेक्सी स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

उस रात हमने 3 बजे तक चुदाई की जिसमें मैंने कई बार उसे चोदा।
उसके बाद वो और मैं काफी देर तक नंगे साथ में एक दूसरे से चिपक कर सो गए।
फिर 4 बजे उठकर वो अपने कमरे चली गई और जाते जाते मुझे किस की प्यार से गले लगाया।

अगले दिन मैं सुबह 9 बजे उठा तो रोशनी के चेहरे पर खुशी देख कर मुझे बहुत अच्छा लगा। उसने मुझे प्यारा सा हग किया और मेरे माथे पर किस किया। फिर हमने नाश्ता किया।

ऐसे ही हमने लगातार 3 दिन तक जबर्दस्त चुदाई की और 3 दिन बाद मैं मुम्बई वापस आने लगा तो वो मुझे छोड़ने स्टेशन तक आ गई।
पर मुझे जाता देख उसके आँखों में पानी आ गया और मेरी भी आँखों में पानी आ गया।

उसने मुझे कार मैं बैठे बैठे ही किस किया और मुझे 20000 रु दिए।
फिर मेरे ट्रेन का टाइम हुआ तो मैं आ गया।

यह मेरी लाइफ की पहली चुदाई थी।

आज भी हम फ़ोन पर बात करते हैं।
इस तरफ वो अजनबी हसीना कब मेरी जान बन गई पता ही नहीं चला। आज भी उसे बहुत मिस करता हूँ।

तो दोस्तो, यह थी मेरी सेक्सी स्टोरी… आशा करता हूँ आप सभी को पसंद आई होगी।
आपके विचारों का स्वागत है.
rajoshi1995@gmail.com

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! एक अजनबी हसीना से बिस्तर में मुलाक़ात हो गई