बॉडी मसाज से चूत चुदाई तक का सफ़र

(Body Massage Se Chut Chudai Tak Ka Safar)

मेरा नाम अंकित योगी है और मैं इंदौर में रहता हूँ. मेरी उम्र 21 साल है. मैं आपको मेरी वो कहानी बताऊंगा, जो कुछ समय पहले ही घटी है. ऊपर वाले ने मेरे साथ क्या खेल खेला, ये आपको भी जानने का हक है.

घर की आर्थिक स्थिति को ध्यान में रखते हुए मैंने काम करने का फैसला लिया. परंतु बहुत ढूंढने के बाद भी कुछ नहीं हुआ.

इसी बीच मैं एक बार दाढ़ी बनवाने के लिए सैलून गया, वहां पर एक पोस्टर लगा था, जिसमें लिखा था कि बॉडी मसाज के लिए 19+ युवकों की आवश्यकता है. यहां पर आपको पहले ट्रेनिंग दी जाएगी.
इस सब डिटेल के बाद नीचे नम्बर दिया हुआ था.

मैं नौकरी का मारा, मैंने तुरन्त उस नम्बर पर कॉल किया और पोस्टर में बताई गई जगह पर पहुंच गया. मैंने वहां जाते ही मैनेजर से बात की, सेल्फ आइडेंटिफिकेशन के लिए आधार व अन्य कुछ दस्तावेज दिए और उसी दिन से मेरी ट्रेनिंग चालू हो गई.

लगभग एक महीने में मैंने बॉडी मसाज का पूरा कोर्स कम्पलीट कर लिया. उसके बाद मैनेजर ने मुझे वेतन देना चालू कर दिया. फिर 2-3 महीने तक में केवल सैलून में ही आने वाले लोगों को बॉडी मसाज देने लगा. लेकिन मैं संतुष्ट नहीं था. क्योंकि मुझे वेतन बहुत कम मिलता था. मैं अपने परिवार की आवश्यकताओं की पूर्ति नहीं कर पाता था.

तब मैंने मैनेजर से कहा- सर मैं अब सैलून छोड़ना चाहता हूँ.
मैनेजर ने कहा- हमारे सैलून में तुमसे अच्छा बॉडी मसाज कोई नहीं कर पाता, तुम छोड़ दोगे तो बहुत नुकसान हो जाएगा.
मैंने कहा- जी जानता हूँ, फिर भी मैं मजबूर हूँ.
मैनेजर ने कहा- ठीक है जैसी तुम्हारी इच्छा.

मैंने वो जॉब छोड़ दी. इस नौकरी के बाद इन दिनों मैं बेरोजगार घूम रहा था. फिर एक दोस्त ने मुझे सलाह दी कि फेसबुक पर एक एकाउंट बनाओ, जिसमें डिटेल्स के रूप में तेरी बॉडी मसाज से जुड़ी जानकारी डाल देना.

मैंने ऐसा ही किया, उसी दिन रात को मैंने एफबी पर एक एकाउंट बनाया, जिसमें सारी जानकारी डाल दी. कुछ देर तक फेसबुक चलाने के बाद मैं सो गया.

अगले दिन कुछ 4-5 लोगों की फ्रेंड रिक्वेस्ट आई, मैंने एक्सेप्ट की और मैसेज भी कर दिए ताकि अगर उन्हें जरूरत हो तो वो मुझे सेवा का मौका दे दें.

ऐसे ही लगभग 15 दिन तक मैं रोज उस एकाउंट पर एक्टिव रहता, इसी इंतजार में कि कोई मसाज के लिए मुझे बुक करे. लेकिन मैं हताश होता जा रहा था, कोई वापस मैसेज ही नहीं कर रहा था. बहुत लोगों को मैंने फ्रैंड लिस्ट में ऐड किया.

फिर लगभग 1 महीने बाद एक औरत का मैसेज आया, जिसका नाम प्रेरणा (बदला हुआ) था, मैंने तुरंत उसे रिक्वेस्ट सेंड की, परंतु बहुत देर तक उसने एक्सेप्ट नहीं की. तब मैंने उसके मैसेज का रिप्लाई हैलो बोलकर किया.

उसका तुरंत मैसेज आया कि आप बॉडी मसाजर हो?
मैंने कहा- जी हां.
प्रेरणा- मुझे कब का अपॉइंटमेंट दे सकते हो.
मैंने- जब आप बोल दें तब..
प्रेरणा- जी.. मसाज देने का आपका चार्ज क्या है?
मैंने- जी 1500 मात्र.

प्रेरणा- ठीक है, वैसे आप कहाँ आ सकते हैं?
मैंने- आपको जिधर उचित लगे, आप बता दें.
प्रेरणा- ठीक है, आप मेरे घर ही आ जाना.
मैंने- जी ठीक है, जैसा आप कहें.
प्रेरणा- आप कल सुबह 10 बजे आ जाइयेगा.. मेरे एड्रेस पर आ जाएं और मुझे कॉल कर दें. ये मेरा कॉन्टेक्ट नम्बर है.
मैंने- जी ठीक है, मैं पहुंच जाऊंगा.

मैं उस दिन मैं बहुत खुश था.. क्योंकि बहुत दिनों बाद कोई काम मिला या. उस दिन मुझे सुकून की नींद आई.

अलगे दिन मैं अपना सारा सामान लेकर बताई हुई जगह पर ठीक 10 बजे पहुँच गया. मैंने प्रेरणा जी को कॉल किया.

मैंने- जी मैं अंकित.. मैं आपकी बताई जगह पर पहुंच गया हूँ.
प्रेरणा- आप वहीं 5 मिनट रुकिए, मेरा ड्राइवर कार लेकर आता ही होगा, आप उसमें बैठ जाना, वो आपको ले आएगा.
मैंने- जी ठीक है.

फिर 5 मिनट बाद एक कार आई और ड्राइवर ने मुझे बैठने को कहा. मैं बैठ गया और वो मुझे एक आलीशान बंगले पर ले गया. उसने कार रोक कर कहा- आप पहुंच गए हैं.. मैडम अन्दर आपका इंतजार कर रही हैं.

मैं गाड़ी से उतरा और दरवाजे पर जाकर बेल बजाई. जब दरवाजा खुला तब मैंने देखा कि एक साधारण से कपड़ों में एक महिला खड़ी थी.
मैंने पूछा- आप ही प्रेरणा जी हैं?
उसने कहा- नहीं मालकिन अन्दर हैं, आप आइये.

मैं अन्दर गया और बंगले को बड़ी गौर से निहार रहा था, तभी अन्दर से एक महिला आ रही थी. वो दुल्हन जैसी लाल साड़ी पहने हुए थी और ऐसी लग रही थी मानो अभी मेरे पास आकर मुझे वरमाला पहना देगी.
ये सब सोच ही रहा था कि वह मेरे पास आई और बोली- क्या हुआ इतनी गौर से क्या देख रहे हो आप.. आइये बैठिये.

फिर मैंने अपना बैग सोफे पे रखा और बैठ गया. वो भी मेरे सामने सोफे पे बैठ गई. फिर उसने उसकी नौकरानी से पानी लाने के लिए कहा.
तब मैं बोला- आप ही प्रेरणा जी हैं?
उसने कहा- जी हां.

तभी उसकी नौकरानी पानी लेकर आई, मैंने पानी पिया. फिर उसने कहना शुरू किया- आप मॉडलिंग या एक्टिंग भी करते हो क्या?
मैं एकदम से शॉक हो गया कि ये ऐसा क्यों बोल रही है?
तब मैंने पूछा- जी आप ऐसा क्यों पूछ रही हैं?
प्रेरणा- आपकी बॉडी और पर्सनालिटी देखकर लगता है.
मैंने- जी नहीं, केवल मैं एक बॉडी मसाजर हूँ.
प्रेरणा- आप इतने स्मार्ट हो, पर्सनालिटी भी कमाल की है, आपको मॉडलिंग करनी चाहिए.
मैंने- इसके लिए पैसे भी बहुत लगते हैं और वैसे भी मैं बॉडी मसाज करके ही खुश हूँ.

फिर टॉपिक चेंज करते हुए मैंने कहा- चलिए अपना काम शुरू करते हैं.
तब प्रेरणा अचानक बोली- मुझे एक्स्ट्रा सर्विस लगेगी, आपको एनर्जी ड्रिंक की जरूरत पड़ सकती है.

मुझे लगा एक्सट्रा सर्विस का बोल रही है तो शायद ज्यादा देर तक मसाज करने का बोल रही है.

तौ मैंने कहा- ठीक है.
प्रेरणा ने अपनी नौकरानी को आवाज देते हुए कहा- फ्रीज से एक रेड बुल लेकर आना.
फिर प्रेरणा ने मुझसे कहा- आज आपको मसाज का एक नया ही अनुभव मिलेगा.
मैंने कहा- अच्छा है, मेरी सर्विस में भी और पूर्णता आएगी.

इतने में नौकरानी रेड बुल लाई और मुझे दे दी, मैंने पी ली. प्रेरणा मुझे घूरे जा रही पी और साथ में कातिलाना स्माइल भी दे रही थी. मैं कुछ समझ नहीं पा रहा था कि वो चाहती क्या है.
तब मैंने कहा- अच्छा तो प्रोसेस स्टार्ट कहाँ करना है?
प्रेरणा- बेडरूम में चलिए.

वो बेडरूम की तरफ चल पड़ी, मैंने अपना बैग उठाया और मैं भी उसके पीछे पीछे चल पड़ा. हम दोनों सीढ़ियों से होते हुए बेडरूम में पहुंच गए.
तब मैंने कहा- जमीन पे चटाई लगा दीजिये.
उसने नौकरानी को आवाज लगाई, उससे चटाई बुलवाई और जमीन पर लगा दी.

मैं वहीं चटाई पर बैठ कर अपना बैग खोलने लगा.
तभी प्रेरणा ने कहा- मैं चेंज करके आती हूँ.
मैंने- जी ठीक है.

वह चेंजिंग रूम में चली गई. तब तक मैंने अपना मसाज का सारा सामान बैग से निकालकर जमा दिया. कुछ देर बाद वो चेंजिंग रूम से बदन पर टॉवेल लपेट कर बाहर आई.

मैं तो उसे देखते ही रह गया. हालांकि ये मेरा पहली बार नहीं था, मैं सैलून में बहुत सी औरतों की मसाज कर चुका हूँ. किन्तु ऐसी खूबसूरत चीज आज तक नहीं देखी थी. हालांकि मेरे मन में कोई ऐसी गलत भावना नहीं थी, मैं केवल मसाज करता हूँ.

आप यह कहानी अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं.

वह करीब आई और बोली- अब क्या करूँ?
मैंने कहा- यहां छाती के बल लेट जाइए.
तब वह कहे अनुसार लेट गई.

फिर मसाज के लिए मैंने उसका टॉवेल निकाल दिया, मुझे लगा कि इसने ब्रा, पेंटी तो पहनी ही होगी. किन्तु जब मैंने टॉवेल निकाला तो देखा कि अन्दर कुछ भी नहीं पहना है.

तब मैंने कहा- ये क्या आपने अन्दर कुछ भी नहीं पहना है.
प्रेरणा- कुछ पहनती तो पूरी बॉडी की मसाज कैसे होती.
मैंने कहा- ये भी सही है.

फिर मैं उसके पैरों से हल्के हाथ से मसाज करते हुए, कूल्हों से होते हुए गर्दन और पीठ तक पहुंचा. फिर मैंने तेल की शीशी उठाई और थोड़ा सा तेल पीठ और गर्दन पर डाल दिया और उसे हल्के हाथों से मसाज करने लगा. कुछ देर बाद मैं उसके कूल्हों पर बैठ गया और अच्छे से मसाज करने लगा. ऐसे करते हुए गर्दन से पैरों तक 20 मिनट लगे. पहले स्टेप में मैंने हल्की हल्की मसाज की.

तब मैंने कहा- अब आप पीठ के बल लेट जाएं.
वह पीठ के बल लेट गई. जैसे ही उसके बड़े-बड़े बोबे और एकदम क्लीन शेव चुत मेरे सामने आई, मैं तो जैसे पागल सा हो गया.

मेरे मुँह से निकल गया- क्या कमाल की मेन्टेन करके रख है बॉडी को, आपको मसाज की कोई जरूरत ही नहीं है.
प्रेरणा ने कहा- बॉडी मसाज ही नहीं, डीप मसाज भी करनी पड़ती है अंकित जी.
मैंने कहा- क्या मतलब?
प्रेरणा- कुछ नहीं अभी आप अपना काम करें.

फिर मैं उसकी चूत के ऊपर बैठ गया और शीशी से तेल निकाल कर उसके बोबों पर डाल कर हल्की हल्की मसाज करने लगा, मेरे ऐसा करने से वो सिसकारियां ले रही थी और मुँह से ‘आआहह.. ओऊ..’ निकल रही थी.

मैं जब भी किसी औरत की मसाज करता था, तब ये सब होता ही था, न जाने मेरे हाथों ये क्या जादू है.
फिर मैं मसाज करते करते पेट से होते हुए चूत तक आया और चूत के आस-पास तेल लगाकर मसाज करने लगा. लगभग 5 मिनट तक चूत के आस पास मसाज करता रहा क्योंकि चूत के आस-पास मसाज करने से औरतों को बहुत सुकून मिलता है और उन्हें मजा भी आता है.

प्रेरणा सिसकारियां ले रही थी और अचानक बोल पड़ी- डीप मसाज करो मेरी चूत की.
तब मैंने कहा- क्या मतलब? मैं ये सब नहीं करता.
प्रेरणा- आप बॉडी मसाज करते हैं तो पूरी बॉडी की करना पड़ेगा ना.
अब मेरे पास कोई और ऑप्शन भी नहीं था, प्रेरणा ने बात ही ऐसी बोल दी थी.
फिर मैंने कहा- ये भी सही है.

वैसे मैं ऐसा पहली बार करने जा रहा था, थोड़ी घबराहट भी थी. फिर मैंने उसकी चूत को दो उंगलियों से चौड़ा किया.

जैसे ही मैंने उसकी चूत को छुआ, वो उछल पड़ी और कहने लगी- आह.. जल्दी-जल्दी करो.. बहुत मजा आने वाला है.
वो लंबी लंबी सांसें लेने लगी तथा कामुक सिसकारियां लेने लगी. मैंने उसकी चुत में जरा सा तेल डाल दिया और एक उंगली चूत के अन्दर डाली.
कसम से दोस्तो मजा आ गया, क्या मखमली एहसास था. मैं उंगली को चुत के अन्दर बाहर करने लगा.

मेरे ऐसा करने से वो तड़प रही थी और मुँह से आवाजें निकाल रही थी- आआह.. अम्ह.. उम्म्ह… अहह… हय… याह…. येई.. आह.. ओह अंकित और तेज.. और तेज बस करते रहो..

मैं भी जोश में जा गया और मैंने एक साथ अपनी तीन उंगलियां उसकी चूत में घुसेड़ दीं. वो एकदम से चिल्लाई और उसने मेरे होंठों से होंठ लगा कर किस करने लगी. मैं भी एक हाथ से उसकी चूत में उंगलियां कर रहा था और दूसरे हाथ से उसके सर को पकड़ कर जमकर किस कर रहा था. कभी वो अपनी जीभ मेरे मुँह में डालती, तो कभी मैं अपनी जीभ उसके मुँह में डाल देता. बीच बीच में वो मेरे होंठ को हल्के से काट भी लेती.

करीब 8-10 मिनट तक हम दोनों किस करते रहे. फिर उसने मेरा मुँह पकड़ कर अपनी चूत पर लगा दिया और कहा- अब मेरी चूत को चाटकर चूत की मसाज करो.
मैंने पहली बार चूत पर जुबान लगाई थी, क्या स्वाद था उसकी चूत का, नमकीन-नमकीन आहा.. मजा आ गया दोस्तो..

जैसे ही मैंने जीभ को चूत के छेद में डाला वो एकदम से काँप गई और कहने लगी- आआहह.. उईई उहहह.. खा जा अंकित माय डार्लिंग.. मेरी चूत को खा जा कमीनी बहुत पानी छोड़ती है.. आज तो पी जा इसे.. खाली कर दे इसे…
मैं इसी तरह उसकी चूत को 15-20 मिनट तक चाटता रहा.

फिर प्रेरणा ने कहा- डार्लिंग अब रहा नहीं जाता यार.. डाल दे तेरे हथियार को इसके अन्दर.
मैंने कहा- पहले हथियार की मसाज तो कर दो.

इतना कहते ही उसने तुरंत मेरे पेंट की जिप खोली और लंड को तुरत खींचकर बाहर निकाला. उसकी जल्दबाजी से मुझे दर्द हुआ, पर इतना पता नहीं चला.

फिर उसने लंड को देखकर कहा- ओह माय गॉड, इतना बड़ा.. अब क्या होगा मेरा.. ये तो मेरी फाड़ ही देगा.. ये तो 7-8 इंच लंबा है.. और लगता है 2.5-3 इंच मोटा भी है.
मैंने कहा- मैंने इसे बहुत संभाल के हट्टा-कट्टा किया है.

वो तुरंत लंड को मुँह में लेकर चाटने लगी.
वाह दोस्तो क्या एहसास था.. लग रहा था मानो मैं हवा में उड़ रहा हूँ, मजा आ गया था.

ऐसे ही 10-15 मिनट तक तो लंड को चूसती रही और मैंने लंड के पानी को उसके मुँह में ही झड़ा दिया. वो मेरा पूरा माल पी गई और बोली- वाह क्या नमकीन स्वाद है, अब से मैं यही पिया करूंगी, तुम्हारा रस बहुत टेस्टी है.

वो खड़ी होकर बेड पर लेट गई और बोली- अब मुझसे रहा नहीं जाता.. मेरी चूत में अपना हथियार जल्दी डालो.
मैं तुरंत खड़े होकर बेड पे गया और उसकी दोनों टांगों को अपने कंधों पे रख कर लंड को उसकी चुत पर सैट कर दिया. फिर कुछ पल लंड को ऊपर नीचे करके चूत को सहलाता रहा.. और अचानक एक जोर का झटका लगाया और लंड का टोपा उसकी चूत में पेल दिया.

सुपारा घुसा तो वो चिल्ला उठी और कहने लगी- आह.. मार दिया.. मगर रुकना नहीं.. पूरा डालो अन्दर.. फाड़ दो इस हरामजादी को.. बहुत खुजली मचती है इसको, बहुत आग है कमीनी में, आज तो अपने लंड के अमृत से इसकी प्यास बुझा ही दो.

अब मैं उसकी बातें सुनकर ख़तरनाक जोश में आ गया, मैंने पूरी ताकत के साथ एक और धक्का लगा दिया. इस बार मेरा आधा लंड प्रेरणा की चूत में समा गया. उसकी आंखों से आंसू आ गए, तब भी वो चोदने को कहे जा रही थी. उसकी हिम्मत की देखकर मैंने एक और जोर का धक्का लगाया और पूरा का पूरा लंड जड़ तक उसकी चूत में समा गया.

उसकी आंखों से आंसुओं की धारा बहने लगी, फिर भी वो कह रही थी- आज चूत गांड एक कर दो, फाड़ दो सब कुछ.

फिर मैं कुछ समय रुका और उसे किस करने लगा. दो मिनट किस करने के बाद में धीरे धीरे लंड को अन्दर बाहर करने लगा. बस 4-5 मिनट तक यूं ही धीरे धीरे चोदता रहा. जब वो नीचे से चूतड़ उछालकर चुदवाने लगी, तब मैंने भी स्पीड बढ़ा दी. मैं धक्के पे धक्का, धक्के पे धक्का, जोर-जोर का धक्का लगाये जा रहा था.

वो भी- आहहह.. येई.. ले ले मेरी आज, फाड़ दे, मिटा दे मेरी चुदक्कड़ चूत की प्यास.. अहहह.. ओओहह..
इन सब आवाजों से पूरा बेडरूम गूंज रहा था.

करीब 10 मिनट तक ऐसी ही थका देने वाली चुदाई चलती रही. अब वो झड़ने वाली थी. उसने मुझे कसके पकड़ लिया, उसका पूरा शरीर अकड़ गया था. उसकी चूत ने मेरे लंड को चारों तरफ से जकड़ सा लिया. उसकी चूत मानो मेरे लंड को पकड़ के अपने अन्दर खींच रही थी. ऐसा एहसास मुझको कभी नहीं हुआ था, उस समय लगा जैसे यही जीवन का असली सुख है.

तभी उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया, उसका शरीर भी ढीला पड़ गया, उसका पानी चूत से होते हुए मेरे लंड के आस पास से निकल रहा था.

परंतु मैं अभी तक झड़ा नहीं था, मैंने धक्के और तेज कर दिए. उसके झड़ने के 1-2 मिनट बाद में भी झड़ने वाला था, मैंने उसे इशारा किया कि मैं झड़ने वाला हूँ.. तो उसने कहा- मेरी चूत ही इस अमृत को पियेगी.

उसके इतना कहते ही मैं उसकी चूत में ही झड़ गया, मेरा ढेर सारा माल उसकी चूत में ही समा गया और मैं निढाल होकर उसके ऊपर ही गिर गया.

फिर 4-5 मिनट बाद हम दोनों उठे और वो मेरे लंड को चाटकर साफ करने लगी. इतने में मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. ये देखकर वो मुस्कुराई, फिर क्या था.. हो गया फिर से कार्यक्रम शुरू.

उस दिन हमने 4 बार चुदाई की. फिर हम दोनों नहाये और फिर हमने साथ में उसके घर ही खाना खाया.
अंत में उसने मुझे 3000 रूपए दिए.

तब मैंने वापस देते हुए बोला- शायद आप भूल गई. मेरा चार्ज 1500 ही है.
तब उसने बोला- आज तुमने मुझे बहुत खुश किया है, मैं अपनी खुशी से दे रही हूँ.
मैंने कहा- ठीक है.

उसकी कार में उसका ड्राइवर मुझे मेरे घर तक छोड़ने गया. उसके बाद बहुत बार प्रेरणा ने मसाज ले लिए बुलाया और मैंने प्रेरणा की बॉडी मसाज की और चुदाई भी की.

अब इन्तजार है कि कोई और ग्राहक मिले और आशा करता हूँ कि कोई औरत ही मिले.

आप सभी पाठक मुझे ईमेल करें.. ताकि मुझे आश्वासन हो सके कि मेरी बॉडी मसाज की सर्विस ठीक है.
धन्यवाद.
[email protected]