बड़े लंड से दो चूत चोदने का मजा-1

(Bade Lund Se Do Chut Chodne Ka Maja Part-1)

दोस्तो, मेरा नाम करीम है और मैं गुजरात का रहने वाला हूँ. आज मैं आपको बिल्कुल सच्ची कहानी सुनाने वाला हूँ. यह बात 4 महीने पहले की है, जब मैंने एक ऐप डाउनलंड की थी, जिसमें हम जिससे चाहें, उससे चैट कर सकते थे और वीडियो कॉल भी कर सकते थे.

मैंने उस ऐप पर प्रोफाइल में अपने लंड की पिक्चर लगा रखी थी, तो काफी लड़कियों ने मुझसे रिक्वेस्ट भेजी थी कि मैं उनको मेरा लंड दिखाऊं, उनमें से काफी सारी तो गुजरात से बाहर कहीं दूर की थीं, पर दो रिक्वेस्ट हमारे गुजरात की ही थीं. मेरा लंड जो 8 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है. उनको इस बात की उत्सुकता थी कि भारत में भी इतना लम्बा लंड उपलब्ध है, तो उसे देखा जाए. वे अपनी इसी उत्सुकता के चलते मेरा लंड हकीकत में देखना चाहती थीं.

उन दोनों ने मुझसे अलग अलग चैट में कहा कि उन्हें मेरा लंड वीडियो कॉल में देखना है.
मैंने कहा कि ठीक है मैं आपको मेरा लंड दिखाता हूँ, पर पहले आप अपनी चूत दिखाओ.

उन दोनों ने हामी भर दी. दूसरे दिन पहले तो एक ने मुझसे वीडियो कॉल पे साधारण बात की. फिर मैंने कहा कि आपको मेरा लंड देखना है, तो आप पहले अपनी चूत दिखाओ.

उसने वीडियो कॉल चालू रख के अपने कपड़े निकाल दिए और नंगी हो गई. वो अपनी चूत उठा कर हथेली से छिपा कर मुझे हाय हैलो करने लगी.
मैंने कहा- मुझे चूत दिखाओ.

तो उसने अपने पैरों को खोल कर हाथ हटा दिए और अपनी चूत दिखा दी. फिर वो कुछ उत्तेजित हो गई थी, तो अपनी चूत में उंगली डालने लगी.
उसने मुझसे कहा- अब लंड दिखाने की बारी है.
मैंने कहा- ओके तुमको अब मैं अपना लंड दिखाता हूँ.

ये कह कर मैंने वीडियो कॉल चालू रख कर अपने कपड़े उतारे और दराज में से एक नापने वाला टेप निकाला, जो टेलर लोग ड्रेस का माप लेने के लिए रखते हैं. मैंने वो टेप ले कर उसको अपने खड़े लंड की साइज नाप कर दिखाई. जिससे वो हैरत से मेरे लंड को देखते हुए कहने लगी- यार, तुम्हारा लंड तो सच में बहुत बड़ा और मोटा है.

मैंने कहा- तो क्या हुआ … तुम मेरा लंड ले सकती हो.
उसने कहा- ठीक है मैं तुम्हारा लंड लूँगी और मैं इसी मोटे लंड से अपनी चूत की खुजली भी मिटवाऊंगी.
कमोवेश यही सब बात दूसरी औरत से भी हुई.

वो वीडियो कॉल पर कहने लगी कि मेरा पति गांड मारने का शौकीन है और उसका लंड छोटा होने से, अब मेरी गांड की खुजली खत्म ही नहीं होती है. साथ ही मेरी चूत भी बहुत प्यासी है. मुझे तुम्हारा लंड अपने दोनों छेदों में लेना है. मैं तो न जाने कबसे आपके जैसे लंड वाले की तलाश कर रही थी, क्योंकि जब मैं गर्म होती हूँ, तो मेरे पति के लंड का पानी निकल जाता है और वो गांड औंधी करके सो जाते हैं. मैं सारी रात चुदाई के लिए तड़पती रहती हूँ.

यह सुनकर मैंने उन दोनों को मेरा नंबर दे दिया. बाद में पता चला कि पहली वाली तो मेरे घर से केवल 25 किलोमीटर दूर ही रहती थी. जबकि दूसरी वाली अहमदाबाद से थी.

मैंने पहले नजदीक वाली को चोदने की योजना बनाई. साथ ही अहमदाबाद वाली से चैट चालू रखी. मैंने नजदीक वाली को चुदाई के लिए बोला, तो वो कहने लगी कि मेरे पति आज रात को गुजरात से दो तीन दिन के लिए बाहर जा रहे हैं, तो घर में सिर्फ मैं और मेरे दो बच्चे हैं. पर तुम फिकर मत करना, मैं सब सैट कर दूंगी.
मैंने कहा- कोई बात नहीं, तुम सब सैट करके रखो. मैं तुम्हारी चुदाई के लिए होटल में रूम बुक करवा लेता हूँ.
उसने मुझसे कहा- हम होटल में नहीं जाएंगे. बल्कि मेरे घर पर ही चुदाई करेंगे क्योंकि मेरे बच्चे दोपहर 12 से 8 बजे तक स्कूल और टयुशन में होते हैं. वे 5 बजे स्कूल से आकर अपने आप टयुशन चले जाते हैं. मेरे घर के नजदीक एक पार्क है, जब मैं कहूँ, तुम वहां पर आ जाना, मैं तुम्हें लेने आ जाऊंगी.

चैट खत्म हुई. फिर तय शुदा प्लान के मुताबिक़ मैं ठीक समय पर वहां पार्क के पास जाकर खड़ा हो गया. मैंने उसे फोन पर कहा कि मैं आ गया हूँ.
तो पांच मिनट में वो भी अपनी गाड़ी लेकर आ गई और उसने मुझे मेरा नाम लेकर बुलाया. मैंने उसकी तरफ देखा तो उसने मुझे अपनी गाड़ी में बुला लिया. अब हम दोनों वहां से उसके घर की तरफ चलने लगे.

रास्ते में उसने कहा- मुझे आने में देर तो नहीं हुई ना?
मैंने कहा- नहीं … पर मुझे आपके पास आने में देर हो गई.
“हां तुम से थोड़ी देर हुई है … और मैं इस बात तुमसे जुर्माना वसूलूँगी.”
उसने हंसते हुए यह कह कर मेरा लंड पकड़ लिया और लंड सहलाते हुए कहा- तुम अपने हथियार को बाहर निकालो, मैं कब से इस लम्बू को छूने के लिए तरस रही हूँ.

यह सुन कर मैंने मेरा लंड बाहर निकाला और उसे पकड़ा दिया. मेरा लंड चुदाई के लिए पूरा तैयार हो चुका था. वो मेरे लंड को ऊपर नीचे करके हिला रही थी और काफी गर्म हो चुकी थी.
वो कहने लगी- मैं तुम्हारा लंड लेने के लिए बहुत तड़पी हूँ … आज मुझे तृप्त किये बिना छोड़ कर मत जाना.

थोड़ी देर में उसने कार रोकी और मुझसे कहा- मेरा घर आ गया है, तुम अपना लंड अन्दर डाल लो और वो नीला दरवाजा खोल कर अन्दर चले जाओ. मैं गाड़ी रख कर आती हूँ.
उसने मुझे घर की चाबी दे दी.
मैं उसके घर का दरवाजा खोल कर अन्दर जाके बैठ गया.

दो मिनट बाद वो भी अन्दर आ गई और दरवाजे को अन्दर से कुंडी मार कर बंद कर दिया. दरवाजा बंद होते ही वो मुझ पर टूट पड़ी और पागलों की तरह मुझे चूमने लगी. उसने जल्दी से मेरा शर्ट निकाल कर फेंक दिया, तो मैंने भी उसके सारे चेहरे पर किस करना चालू कर दिया. साथ ही अपने एक हाथ से उसके बालों को सहलाने लगा.

उसने मेरे लंड पर हाथ रखा तो मैंने दूसरे हाथ से उसकी चूची को पकड़ लिया और हल्के हल्के से सहलाने लगा. इस कारण वो और भी गर्म हो गई और उसने मेरी पैन्टऔर अंडरवियर निकाल कर मुझे पूरा नंगा कर दिया. वो मेरे लंड को जोर जोर हिलाने लगी और जल्दी ही कामातुर होकर उसने अपने कपड़े निकाल दिए. वो मेरे सामने पूरी नंगी हो गई.

मैं सोफे पर बैठा था तो वो मुझे सोफे पर लिटाते हुए मेरे ऊपर लेट गई. वो मेरे लंड को अपनी चूत पर रगड़ कर मादक सिसकारियां लेने लगी. वो कहने लगी- आआह.. उम्म्ह… अहह… हय… याह… उउहह.. करीममम.. तुम्हारा लंड बहुत ही अच्छा है. तुम मुझे छोड़ कर कभी मत जाना. तुम जैसा कहोगे, मैं तुम्हें साथ दूँगी.
मैंने उसे चूमते हुए कहा- हां मेरी जानू … मैं तुम्हें छोड़ कर कहीं नहीं जाऊंगा, चलो अब पहले मैं तुम्हारी चुत चाटता हूँ.
उसने कहा- अरे वाह … तुम्हें तो चुत चाटना भी अच्छा लगता है.
मैंने कहा- हां मुझे चुदाई में सब अच्छा लगता है. तुम तो मेरे लंड की दीवानी हो ही गई हो, पर अभी मैं तुम्हें चोद कर इसका और भी ज्यादा दीवानी बनाना चाहता हूँ.

यह कह कर मैंने उसके पैरों को फैला दिया और अपना मुँह उसकी चूत पर रख दिया. मैंने उसकी चुत को मेरे हाथों से खोल कर चुत के ऊपर के दाने को मेरी जीभ से ऊपर नीचे करने लगा, जिस वजह से उसके मुँह से ‘आआहहह …’ निकल गई. वो अपनी कमर उठा कर मेरे सिर को एक हाथ से पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगी. साथ ही वो दूसरे हाथ से अपने मम्मों को मसलने लगी.

जब मैं मेरी जीभ को उसकी चुत में डाल कर गोल गोल घुमाने लगा, तो वो एकदम से गर्म हो गई. उसने गांड उठाते हुए मुझसे कहा- राजा, अब मेरी चुदाई करो … मुझे रहा नहीं जाता.

मैंने उसे डॉगी बनाकर उसकी पीछे से लंड लगाया और उसकी चुत में पेल दिया. उसकी तेज आवाज निकल गई. वो मेरे लम्बे लंड से दर्द के कारण तड़फ उठी. पर मैंने उसकी चिल्लपौं को अनसुनी किया और चूत मारनी चालू कर दी.

जब मैं अपना मोटा लंड पूरी तरह से उसकी चूत में डाल कर उसकी चूत चोद रहा था, तो वो मस्त आवाज निकाल कर चिल्ला रही थी- आआहहह उउउहह करीम … तुम जोरदार चुदाई करते हो … चोदो मुझे … आआहह …

उसकी ऐसी आवाज से मैं उसे और जोर जोर चोदने लगा. मेरे जोर जोर के धक्कों से उसका पेशाब निकलने लगा और उसी टाईम मेरा लंड भी पानी निकालने वाला था. मैं अपने दोनों हाथ से उसकी कमर पकड़ कर जोर जोर से उसकी चुत चुदाई करने लगा. जैसे ही मेरा पानी उसकी चूत में गिरा, उसी टाईम उसने भी पेशाब की धार छोड़ दी. और उसकी सांसें तेज हो गईं.

जब वो शांत हुई तो मैंने कहा- तुमने तो पेशाब कर दी.
उसने कहा- ये पेशाब नहीं है … ये तो जन्नत की सैर है … जो तुमने मुझे कराई है.

उसके बाद हम दोनों खड़े हो गए और वो रूम को साफ करने लगी. रूम साफ करने के हम दोनों साथ नहाने चले गए. नहाने के बाद हम बाहर आए और मैंने टाईम देखा तो शाम के 5 बजने को थे, मैंने कहा- अब मुझे जाना चाहिए.
उसने मुझसे कहा- हां चलो, मैं तुम्हें छोड़ देती हूँ, पर जाने से पहले तुम मेरे साथ चाय तो पी लो.
मैंने उसके साथ चाय पी और कहा- चलो, अब चलते हैं.

उसने अपनी गाड़ी निकाली और हम दोनों मेरे घर की तरफ निकल गए.

रास्ते में उसने मुझसे कहा- फिर कब करोगे मेरी चुदाई?
तो मैंने कहा- जब तुम्हारा मन होगा.
वो हंसने लगी और कुछ ही समय के बाद उसने मुझे मेरे घर के आगे छोड़ दिया और वो चली गई.

मैंने उसकी पति की गैर मौजूदगी में तीन दिनों तक रोज चूत चुदाई का मजा लिया. मैं आज भी उसकी चुदाई कर रहा हूँ.

मैंने दूसरी औरत की चुदाई कैसे की, यह मैं अगली सेक्स कहानी में बताऊंगा.

मेरी चोदन कहानी आपको कैसी लगी, मुझे जरूर बताना.
मेरा ईमेल आईडी है. [email protected]

कहानी का अगला भाग: बड़े लंड से दो चूत चोदने का मजा-2

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top