कमसिन साली की मस्त चूत चुदाई

(Kamsin Sali Ki Mast Chut Chudai)

मेरे प्यारे सभी पाठक और पाठिकाओ,
आपके अपने सरस की तरफ से आप सभी आभार। मैं एक बार फिर से हाजिर हूं एक नई कहानी के साथ।

मेरी पिछली कहानी
मकान मालिक की बेटी का योनि भेदन
आप सभी के द्वारा बहुत सराही गई और आप सभी के ढेर सारे मेल मुझे प्राप्त हुए जिसके लिए एक बार फिर से मैं आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया अदा करता हूं।

मेरे सभी प्रिय पाठक और पाठिकाओं को जहां तक संभव होता है मैं यथोचित समय से जवाब भेजता हूं लेकिन यदि किसी को जवाब नहीं मिल पाता है तो इसके लिए आपका सरस आपसे क्षमाप्रार्थी है।

मेरी अन्य कहानियां आप यहां से पढ़ सकते हैं.

प्रेमिका की चिकनी चूत चुदाई
प्रेमिका की चूत की प्रथम चुदाई

दोस्तो, यह सेक्स कहानी मेरे एक पाठक ने मुझे भेजी थी और निवेदन किया था कि उसकी कहानी मैं आप सभी बीच लेकर आऊँ। कहानी के पात्र गोपनीयता की दृष्टि से बदल दिए गए हैं। उम्मीद करता हूं आपके द्वारा इस कहानी को बहुत प्रेम मिलेगा।

ये मेरे जीवन की सत्य कहानी है. तो दोस्तो कहानी कुछ इस तरह है:

मैं 28 वर्ष का 6 फिट 2 इंच का हट्टाकट्टा नौजवान हूँ। दिखने में काफी स्मार्ट हूँ। मेरे लन्ड की साइज 9 इंच लम्बा ओर 3 इंच मोटा है। एक बार जिसकी चूत को चोद दिया तो दोबारा चुदने को बेताब रहती है। मेरे लन्ड पर काला तिल है और कहते हैं कि जिसके लन्ड या चुत पर काला तिल हो वो बहुत सेक्सी होता या होती है। मैंने आज तक बहुत सी चुतों को चोदा है, स्कूल समय से ही मुझे चूत चोदने की लत लग गई थी।

मेरे ससुर 2 भाई हैं जिला झुंझुनू राजस्थान से और दोनों साथ एक ही घर में रहते हैं। मेरे छोटे ससुर की बेटी ममता सैनी (बदला हुआ नाम) उस समय 18 साल की थी और कॉलेज में बीएससी सेकण्ड इयर में पढ़ रही थी। उसका साइज 28 30 32 होगा, कद 5 फिट 3 इंच, रंग गोरा और बहुत ही सेक्सी मिजाज की थी। इतनी सेक्सी कि उसको देख कर बूढ़े का भी लन्ड खड़ा हो जाये।

मैं जब भी ससुराल जाता तो वो बहुत मजाक करती, मैं भी उसको गले लगाने के बहाने खूब चूचियों को रगड़ देता।

धीरे धीरे उसको मैं खिलाने पिलाने होटल में ले जाने लगा और कॉलेज मिस करके घुमाने ले जाता। वो मुझसे काफी प्रभावित थी। मैंने उसको एक फोन लेकर दिया जिसको वो छुपा कर अपनी पेंटी में रखती थी। जब मैं ड्यूटी पर होता तो देर रात तक उससे सेक्सी चैट करता था और बहुत ज्यादा बात भी करता था।

एक दिन शाम के समय पत्नी को लेकर ससुराल गया था, खाने पीने के बाद मैंने ममता को बोला- आज हमारे साथ ही सो जाना!
तो वो तैयार हो गई।

रात को मैं मेरी पत्नी और ममता एक कमरे में सोये। बीच में मेरी पत्नी सो रही थी।
जब मेरी पत्नी को नींद आ गई तो मैंने धीरे से ममता के चुचों पर हाथ रखा और हल्के हल्के दबाने लगा. उसको मजा आने लगा और मेरी सेक्सी साली धीरे धीरे गर्म होने लगी। मेरे हाथ ऊपर से नीचे आने लगे. जैसे ही चूत पर हाथ लगाया तो वो चिहुँक उठी और मेरा हाथ पकड़ कर दूर कर दिया, बोली- दीदी जग जाएगी।

मैंने उसको अपनी बीवी के ऊपर से होकर लिप किस किया जिसमें उसने खुल कर साथ दिया। लेकिन बीच में मेरी पत्नी जग गयी जिससे हमारी हरकत बंद हो गयी। देर रात हो गयी थी, फिर हम भी सो गए।

दिन में जब भी मौका मिला हमने खूब हग किया और चूमाचाटी की। मैं मेडिकल से नींद की गोली ले आया और शाम को ज्यूस में डाल कर सबको पिला दिया, मौसमी का ज्यूस बनाया था।

रात को सोते समय मेरी पत्नी बोली- सिर दर्द कर रहा है.
तो मैंने उसको एक नींद की गोली देकर सुला दिया.
आज भी ममता हमारे पास ही सो रही थी, मैं उन दोनों के बीच में सो गया।

जल्दी ही पत्नी को नींद आ गयी। उसके बाद मैंने धीरे धीरे ममता को सहलाना शुरू कर दिया, काफी देर तक लिप किस किया और चुचों को दबाया. वो आह आह करने लगी.

साली को चूम चाट कर गर्म करने के बाद मैंने उसकी कमीज ओर ब्रा को निकाल दिया जिससे उसके चुचे झलक कर बाहर आ गए. मैं तो उसके चुचे देखकर पागल हो गया और उनको मुख में लेकर चूसने लगा.
कसम से बहुत मजा आ रहा था! मैं दूसरे चूचे को हाथ से मसल रहा था, बारी बारी से दोनों चुचों को खूब चूसा. मेरी साली ममता खूब गर्म होकर आहें भर रही थी.

तभी मैंने साली की सलवार खोल दी और अंदर हाथ घुसा दिया. उसकी नंगी जांघों पर हाथ पड़ा तो उसकी जाँघें बड़ी ही चिकनी थी. साली की चूत पर हाथ लगाया तो वो पूरी गीली हो रही थी जिससे उसकी पैंटी भी गीली हो रही थी।
मैंने उसकी पेंटी को उतारा और नीचे सरक कर साली की चुत को मुंहह में भर लिया हुमक हुमक कर चूसने लगा. ममता बुरी तरह से आहें सिसकारियां भरने लगी और उसने झटपट मेरे सारे कपड़े उतार फेंके.

लेकिन जब साली ने मेरा लन्ड देखा तो वो घबरा गई, बोली- इतना बड़ा मेरी चुत में कैसे जाएगा? मैं तो मर जाऊंगी।
मैं बोला- मेरी जान, घबराओ मत, देखना तुम तो पूरा अंदर ले लोगी और मजे ले लेकर कहोगी कि और डालो और डालो!

मैंने उसे लंड चूसने को कहा तो उसने मेरा लन्ड चूसना शुरू कर दिया. हम 69 की पोजीशन में आ गये और लन्ड और चूत चुसाई दोनों होने लगी.
अब वो बोली- यार जीजू, बस अब और मत तड़पाओ और जल्दी से लन्ड अंदर डाल दो।

अपनी साली की दोनों टांगों को
मैंने हवा में उठाया और लन्ड को चुत पर रख कर हल्के से धक्का दिया, फिर थोड़े जोर से धक्का दिया, साली की चुत पूरी गीली थी तो टोपा अंदर चला गया. थोड़ा और जोर लगाया और लन्ड थोड़ा और अंदर डाल दिया. ममता दर्द से तड़पने लगी लगी और ‘ऊई मा उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह…’ करने लगी.

मैंने उसको लबों को अपने लबों में लेकर कैद कर लिया ताकी उसकी आवाज ना निकले और रुक रुक कर किस करने लगा, उसकी जीभ को चूसने लगा. जैसे ही उसका दर्द कम हुआ तो मैंने उसने होंठ अपने एक हाथ से दबा कर एक जोरदार शॉट मारा, वो बुरी तरह से छटपटाने लगी और छुटने की कोशिश करने लगी.

धक्के लगाने बंद करके मैंने उसको लिप किस किया और थोड़ी देर बाद जब दर्द कम हुआ तो हल्के हल्के धक्के लगाने शुरू किए. अब उसको भी दर्द कम होकर मजे आने शुरू हो गए तो वो भी गांड को उठा कर नीचे से झटके लगाने लगी और आहें भरने लगी, बोली- चोदो मेरी जान जीजू, खूब चोदो … फाड़ दो मेरी चूत को, बहुत मजा आ रहा है मेरी जान!

मेरा भी जोश बढ़ रहा था मैं भी अपनी चाह्सरी साली की चूत में खूब तेज झटके लगाने लगा. थोड़ी देर में वो अकड़ने लगी और बोली- मेरी जान, तेज करो, मेरा होने वाला है!
और उसने मुझे कस कर पकड़ना शुरू कर दिया और उसका पानी निकल गया; वो निढाल हो कर पड़ गयी।

मैंने रुक कर उसको दोबारा गर्म करना शुरू किया, मेरा लन्ड उसके खून और पानी से बुरी तरह से सन गया। मैंने उसकी ही सलवार से उसकी चूत ओर लन्ड को साफ किया और दोबारा उसकी चूत को चाटना शुरू किया तो फिर से मेरी साली गर्म होने लगी और खुद ही लन्ड को पकड़ कर अंदर डालने लगी.

इस बार मैंने उसको मेरे लन्ड के ऊपर बैठने को बोला तो बैठ गयी और पूरा लन्ड अंदर लेने के बाद धीरे धीरे झटके मारने लगी और आहें भरने लगी.
उसके बाद मैं उसे कुतिया बना कर चोदने लगा फिर खड़े होकर उसे गोद में लेकर चोदा। जैसे ही वो अकड़ने लगी दोबारा तो फिर से बेड पर लिटा कर तेज झटके मारने शुरू कर दिए क्योंकि अब मेरा भी होने वाला था.

कुछ जोरदार झटकों के साथ हमारा दोनों का एक साथ ही निकला और हम ऐसे ही पड़े रहे काफी देर तक एक दूसरे को चूसते रहे।
बहुत मजा आया।

उसके बाद रात को हमने एक बार और चुदाई की। फिर उठ कर दोनों अलग अलग बाथरूम गए और उसने सलवार ओर तौलिया को धोया रात को ही, क्योंकि दोनों ही खून में भर गए थे वो वर्जिन थी, उससे सही चला भी नही जा रहा था।

मैंने उसकी चूत पर तेल की मालिश की ओर एक पेनकिलर दी और सो गए।

उसके बाद भी अपनी साली को बहुत बार चोदा; अब उसको मेरे लन्ड की लत लग गयी थी।

अभी जब भी मुझे मौक़ा मिलता है तो साली ममता की चुदाई करता हूँ।

एक बार मैं और मेरी बीवी उसके झुंझुनू शहर आया हुआ था दो तीन दिन के लिए, घर में ही रुका हुआ था. मैं सुबह किसी काम से निकला … गर्मियों के दिन थे, दोपहर को मेरी साली को चुदाई की जबरदस्त तलब हुई, मौक़ा भी ठीक था क्योंकि सारे घर वाले सोये हुए थे। उसने मुझे फोन किया- यार जीजू, जल्दी आ जाओ, मुझे अभी चुदाई करवानी है, अभी लन्ड चाहिए।

मैं काम बीच में रोक करके तुरन्त घर आया और बाथरूम करने टॉयलेट में घुस गया. वो भी पीछे घुस गई, मेरा लन्ड पकड़ कर मुंह में भर लिया और मेरा पूरा पेशाब पी गयी और वही बुरी तरह से चिपट गई मुझसे!
लेकिन बाथरूम में गर्मी बहुत थी तो हम ऊपर चौबारे में आ गए और फर्श पर गद्दा डाल कर मैंने उसकी जबरदस्त 2 बार मस्त चुदाई की।

उसकी चुत मेरा मोटा लन्ड खा खा कर ढीली हो गई तो मैंने उसको बोला- यार, मुझे आज तेरी गांड मारनी है!
वो बोली- रात को सबको नींद की गोली खिला देंगे करेले की सब्जी में, फिर मार लेना।

रात के खाने में उसने सब्जी में नींद की गोलियां पीस कर डाल दी, हमारे लिए अलग सब्जी निकालने के बाद … और सबको खाना खिला दिया। उसने अपनी दीदी को एक गोली ज्यादा खिला दी सब्जी में ही!

सबके सोने के बाद वो मेरे पास आ गई, साथ में वेसलीन लेकर आई।
और तब शुरू हुआ जबरदस्त चुदाई का खेल … पहले तो मैंने साली की चुत को चोदा, फिर लन्ड और उसकी कुंवारी गांड के छेद पर वैसलीन लगा कर लन्ड अंदर डाला तो दर्द से उछल पड़ी वो … और बोली- मुझे नहीं मरवानी गांड … बहुत दर्द हो रहा है जीजू!
मैंने कहा- ओके मेरी जान, धीरे धीरे डालूंगा, अभी दर्द नही करूँगा!
तो बड़ी मुश्किल से मानी।

और फिर मैंने धीरे धीरे लन्ड को गांड में डाला। अब उसको भी मजा आने लगा और खुद ही गांड को आगे पीछे करने लगी। गांड मारने के बाद फिर से एक बार चूत की चुदाई की। उसके बाद से हमेशा वो चूत ओर गांड दोनो की चुदाई कराती है। मेरी साली की गांड और चूत दोनों खुल गई हैं।

कई बार मैंने सीढियों में भी उसकी चुत को चाट कर खड़े खड़े भी चुदाई की। वो मेरे लन्ड की इतनी आदी हो गई कि अपनी दीदी से मिलने के बहाने मेरे घर पर आ जाती और हम फिर चुदाई का गेम खेलते जम कर।

उसके घर पर एक रूम था जिसमें वो लोग पशुओं का चारा वगैरा रखते थे. हमने उस रूम का कोड ताज रखा हुआ था. तो हमने ताज में भी खूब चुदाई की। जब उसको चुदाई का दिल करता तो वो बोलती- ताज में आ जाओ।
इस प्रकार उसकी छोटी सी चूत पूरा भोसड़ा बन गई।

उसको कई बार मैंने कॉलेज से बुला कर होटल में चोदा.
उसके घर के दो किलोमीटर पर बीहड़ पड़ता है, उस जंगल में जाकर हम जीजू साली ने खूब रंगरेलियाँ मनाई।

शुरू में वो शरीर से पतली थी लेकिन अब उसकी गांड भारी हो गई है. उसकी कॉलेज की लड़कियां उसे बोलती- ममता तुम तो ऐसी हो गई हो जैसे शादी के बाद लड़कियाँ हो जाती हैं! क्या चक्कर है किसी का लन्ड ज्यादा तो नही लेने लग गई?

अब उसकी छोटी बहन पूजा भी जवान हो गई है. उसको हमारी कहानी का पता चल गया किसी तरह … तो उसने मुझसे कहा- जीजू, क्या बात है ममता पर बड़े फिदा हो रहे हो?
तो उसको किसी तरह पटाया कि वो किसी हमारी जीजा साली की चुदाई की बात बता ना दे। मैंने पूजा को भी काफी गिफ्ट देना शुरू किया ताकि मौक़ा मिलते ही उसको भी चोद सकूँ।

तो दोस्तो, यह थी मेरे एक पाठक की अपनी कहानी।

आप भी यदि अपनी कहानी मुझसे लिखवाना चाहते हैं तो मुझे मेल कर सकते हैं।
आप सभी के मेल्स का बेसब्री से मुझे इंतज़ार रहेगा।
मेरा ई मेल है
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top