जीजू ने साली को चोदा

(Jiju Ne Sali Ko Choda)

मेरा नाम पिंकी है और मैं दिल्ली की रहने वाली हूँ. मैं कॉल सेण्टर में जॉब करती हूँ. मैं बहुत सेक्सी हूँ और मेरा फिगर 36-30-38 का है. मैं आज आप सबको अपनी चुदाई की कहानी बताने जा रही हूँ कि कैसे मेरे जीजू ने मुझे चोदा.

मेरे जीजू बहुत स्मार्ट हैं और वो मुझे बहुत अच्छे लगते हैं. हम दोनों के बीच में गंदे मजाक चलते रहते हैं. जब भी दीदी के साथ जीजू मेरे घर आते हैं, तो हम दोनों एक-दूसरे से गंदे मजाक करते हैं. मुझे पता था कि जीजू मुझे चोदना चाहते हैं क्योंकि मैं जब भी बाथरूम में नहाती थी और बाथरूम से बाहर आती थी, तो जीजू बाथरूम में जाकर मेरी ब्रा और पेंटी में मुठ मारते थे और मैं ये बात जानती थी.

जीजू मुझे चुदासी नज़रों से देखते थे. मैं भी अपने जीजू को पसंद करती थी. लेकिन वो तो मुझे चोदना चाहते थे इसलिए वो मेरी चूची और गांड को खूब देखते थे. जीजू जब भी आते थे तो मुझसे गले लगते थे और मेरी चूची को दबा देते थे. ये सब मुझे भी बहुत अच्छा लगता था.

एक दिन मैं और जीजू एक-दूसरे से मजाक कर रहे थे और उस दिन जीजू ने मुझसे बोला- पिंकी तुम बहुत सेक्सी हो.
यह कह कर जीजू ने मेरी चूची को दबा दिया. मुझे बहुत अच्छा लगा और मैं भी गर्म हो गई थी. मेरे विरोध न करने पर तो जैसे जीजू को खुली छूट मिल गई थी. इसके बाद जब भी जीजू को मौका मिलता था, वो मेरी चूची दबा देते थे और मैं अपने जीजू को सेक्सी वाली स्माइल देती थी.

हम दोनों के बीच में अब सेक्स की बातें खुल कर होने लगी थीं. एक दिन मैं अपने कमरे में सो रही थी, तभी जीजू मेरे कमरे में आए और मेरी चूची को दबाने लगे. मैंने उस दिन मैक्सी पहनी हुई थी और इसके अन्दर कुछ नहीं पहनी थी. अन्दर से मैं पूरी नंगी थी. जीजू मैक्सी के ऊपर से मेरी चूची पूरी दम से दबा रहे थे. कुछ पल बाद मेरी चूची दबाते दबाते जीजू ने अपना हाथ मेरी मैक्सी के अन्दर डाल दिया. अब उन्होंने मेरी चूची को अच्छे से पकड़ा और दबाने लगे. इससे मैं बहुत गर्म हो गई थी और मेरी चूत से पानी निकलने लगा था.

तभी जीजू मेरी मैक्सी को ऊपर करने लगे और मेरी चूत को सहलाने लगे. मैं सोने का नाटक कर रही थी, मुझे चुत में उंगली करवाना बहुत अच्छा लग रहा था. मैं कुछ ही देर में एकदम गर्म हो गई थी.
जीजू ने मेरे कान में बोला- पिंकी उठो, मैं तुम्हें चोदना चाहता हूँ.

चूंकि मैं भी जीजू से चुदवाना चाहती थी. मैं उठ गई तो जीजू ने मेरी मैक्सी निकाल दी.
मैं जीजू से बोली- मुझे नींद आ रही है.
जीजू- अभी चोद लूँ फिर सो जाना रानी.
मैं जीजू के सामने के एकदम नंगी थी, मैं बोली- अगर ये बात दीदी को पता चल गई तो?
जीजू बोले- पिंकी, मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ और तुम्हें चोदना चाहता हूँ, तुम मेरी हो जाओ, मैं तुम्हारी दीदी से ज्यादा तुम्हें प्यार करता हूँ और तुम्हें खुश रखूँगा.

इसके बाद जीजू भी नंगे हो गए और मुझे किस करने लगे. मैं भी जीजू को किस करने लगी. इस वक्त सभी लोग सो रहे थे. हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे. उसके बाद जीजू मेरी चूची से खेलने लगे और मेरी चूची को दबाने लगे.

कुछ पल बाद जीजू मेरी चूत को चाटने लगे.
मैं जीजू से बोली- जीजू मैं बिना कंडोम के नहीं चुदवाऊंगी.
वो बोले- रानी मैं कंडोम खरीद कर लाया हूँ… तुम्हारी दीदी को भी कंडोम लगाकर ही चोदता हूँ.
मैं कुछ नहीं बोली.

जीजू बोले- पिंकी तुम अपनी दीदी से भी ज्यादा सेक्सी हो और तुम्हारी चूची और गांड तुम्हारी दीदी से भी ज्यादा बड़ी हैं.
जीजू ने मुझे अपना लंड चूसने के लिए बोला तो मैं अपने जीजू का लंड चूसने लगी. अब मेरी कामुकता एकदम चरम पर थी और मुझसे रुका नहीं जा रहा था.

जीजू ने मुझे चोदने के लिए अपने लंड पर कंडोम लगा लिया. जीजू बोले कि मैं इसी ब्रांड वाले कंडोम से तेरी दीदी को भी चोदता हूँ.
इसके बाद उन्होंने अपना लंड मेरी चूत में लगा दिया और मुझे चोदने को हुए. जीजू के पहले धक्के में उनका लंड आधा ही मेरी चूत में गया था कि मुझे दर्द होने लगा और मैं चिल्लाने लगी.
जीजू ने मेरे होंठ बंद किए और मुझे धीरे धीरे चोदने लगे.

मुझे भी जीजू से चुदवाने में मजा आने लगा. जीजू मुझे मस्ती से जल्दी जल्दी चोदने लगे. मैं भी खूब गांड उठा कर जीजू के लंड से अपनी चुत चुदवा रही थी. मुझे जीजू के लंड से चुदवाने में बहुत मजा आ रहा था. जीजू मुझे धकापेल चोद रहे थे और मेरे कमरे में ‘आह आह..’ की आवाजों का शोर भर गया था. मैं कामुक सिसकारियाँ लेकर चुदवा रही थी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह आह जीजू और चोदो आह..’

मैं जीजू से खूब मस्ती से चुदवा रही थी. करीब दस मिनट बाद हम दोनों चुदाई करते-करते झड़ गए.

उसके बाद जीजू और मैं एक दूसरे को किस करने लगे और नंगे एक दूसरे से गले मिलने लगे. कुछ देर चुम्मा-चाटी के बाद जीजू मेरी चूत को फिर से चाटने लगे. मैं भी फिर से गर्म होने लगी. जीजू मेरी चूत को बहुत अच्छे से चाट रहे थे. मैं पैर फैला कर चुत चुसाई का मजा ले रही थी.

उसके बाद जीजू ने मुझे घोड़ी बना दिया. ये डॉगी स्टाइल मेरे जीजू का सबसे अच्छा स्टाइल है. वो मुझे डॉगी स्टाइल में बहुत मस्त चोदते हैं. मुझे चुदाई में सबसे अच्छा चुत चटवाना लगता है और मैं अपने जीजू से खूब चुत चटवाती हूँ. जब पीछे से मेरी चूत में लंड डाल कर जीजू मुझे चोदने लगे तो मैं एकदम से गनगना गई और अपने जीजू का लंड अपनी चूत में लेकर चुदवाने लगी.

मुझे पीछे से चुत चुदवाने में बहुत मजा आ रहा था. जीजू भी अपना लंड मेरी चूत में डालकर मुझे तेजी से चोद रहे थे. साथ ही वे मेरी चूचियां भी मसल रहे थे.
हम दोनों चुदाई करते-करते झड़ गए. उस रात मैंने और जीजू ने दो बार जमकर चुदाई का मजा लिया.

जीजू मुझसे बोले- पिंकी, तुम्हारी गांड बहुत अच्छी है, तुम्हारी गांड तो तुम्हारी दीदी से भी बड़ी है. अबकी बार जब मैं आऊंगा तो तुम्हारी गांड जरूर मारूँगा.
इसके बाद जीजू ने मुझे सुबह शॉपिंग करवाई.

यह बात दीदी को भी नहीं पता है कि मैं अपने जीजू से चुदवाती हूँ.

मैं और जीजू रात भर एक-दूसरे से बात करते हैं. अब जब भी दीदी कहीं बाहर जाती हैं तो मैं और जीजू एक दूसरे से मोबाइल पर सेक्स चैट करते हैं. जीजू मुझे बहुत प्यार करते हैं और जब भी आते हैं, मेरे लिए कुछ न कुछ लेकर आते हैं.

जब भी जीजू को मौका मिलता है, वो मुझे किस करते हैं और मेरी चूची को दबाते हैं. कभी-कभी तो हम लोग होटल में जाकर चुदाई कर लेते हैं.

मेरी जीजू वाली सेक्स स्टोरी कैसी लगी. मुझसे चैट करने के लिए मुझे मेल करिए, मैं आपके मेल का इंतजार करूँगी.
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! जीजू ने साली को चोदा