भाभी की चचेरी बहन ग्रुप सेक्स में-4

(Bhabhi Ki Chacheri Bahan Group Sex Mein- Part 4)

This story is part of a series:

रात का खाना हम सबने नीचे ही खाया और उसके बाद हम तीनों पैदल ही आइसक्रीम खाने चले गए।
कावेरी ने तो अपनी जल्दी से ख़त्म कर ली फिर मेरी ऑरेंज बार से चूस चूस कर खाने लगी।

विकास बोला- कावेरी, चूस चूस कर खाने में बड़ा मजा आता है?
कावेरी तो मुंहफट थी, बोली- चूसने से तो हर चीज ज्यादा मजा देती है… आपने कभी गन्ना चूसा है?

अब विकास भी बोल पड़ा- नहीं जी, हम तो केवल आम ही चूसते हैं!

अब मेरी बारी थी, मैंने कहा- चलो आज तुम्हें खरबूजा चुसवायेंगे।
सब हंस पड़े।

लौटते में विकास ने तीन मीठे पान लिए, हमने कहा कि घर पर ही खायेंगे।

घर पर आकर विकास तो माँ बाबूजी के पास बैठ गया हम दोनों ऊपर आ गई।

आज रात को कुछ गजब होना था इसलिए मैंने कावेरी की लाई नाईट ड्रेस के ऊपर नाइटी पहनी।
कावेरी कुछ असहज हो रही थी इसलिए उसने केवल घुटनों तक की मिडी पहनी.. हाँ, उसके नीचे उसने आज ब्रा पैंटी दोनों पहनी थी।
विकास आये और बोले- मैं तो नहाने जा रहा हूँ!
कावेरी ने मुझे धक्का देकर कहा- जा जीजू को नहला ला!

मुझे सनी के साथ नहाना याद आ गया, मैंने सोचा की विकास को भी मौका मिलना चाहिए पर अभी कावेरी तैयार नहीं होगी।
मैंने विकास से कहा- आज तुम अकेले नहा लो, कल साथ नहायेंगे।

विकास फटाफट नहा कर आ गया और आज उसने रेशमी लुंगी और कुरता पहना था।

मैं पान लाई, मैंने अपना पान पूरा खा लिया।
कावेरी ने पान अपने मुँह में रखा पर पूरा नहीं अन्दर कर पाई तो उसने इशारे से मुझसे कहा कि आधा मैं उसके मुँह से काट लूँ।

मेरा तो मुँह पहले ही भरा था, कावेरी तुरंत विकास की ओर लपकी और अपना मुँह उसके मुँह की ओर कर दिया।

अब विकास के सामने पान काटने के अलावा कोई चारा नहीं था। हालांकि उसने ऐसा बहुत संभल के किया पर फिर भी उसके होंठ कावेरी के होंठों से मिल ही गए।
कावेरी पर कोई फर्क नहीं था और मैं और विकास अचंभित थे।

हम कल की तरह ही सोये।
मैंने कावेरी के मम्मे पकड़े हुए थे और विकास ने मेरे।

तभी विकास को लगा कि मैं डबल ड्रेस पहने हूँ, उसने पूछा तो मैंने झूठ बोल दिया कि पहन कर देखी थी फिर तुम आ गए तो ऊपर से नाइटी डाल ली।
विकास पीछे पड़ गया कि मुझे दिखाओ तो मैंने भी कह दिया- कावेरी के सामने नहीं…

कावेरी बोली- अच्छा जी, कल तो जैसे मेरे सामने कुछ किया ही नहीं… और जीजू आप भी एक दिन नहीं रूक सकते थे?
हम सब हंस पड़े।

विकास बार बार पीछे से मेरी नाइटी उठता रहा मेरी ड्रेस देखने को…
मैं भी झुंझला गई और उठ कर अपनी नाइटी उतार दी।

कावेरी और विकास की निगाहें हट ही नहीं रही थी मुझ से… गोरी चिट्टी मैं… ऊपर से जाली की काले रंग की नाइट ड्रेस, जिसमें कपड़ा नाम मात्र को होता है। अंदर से झांकते मेरे मोटे मोटे मम्मे…

विकास तो झपट पड़ा मेरे ऊपर और होठों से चिपका लिया मुझे, बिना इस बात की परवाह किये कि कावेरी भी यहाँ है।
मैंने कहा- कावेरी ही तो लाई है मेरे लिए… और इसके पास तो इससे भी सेक्सी ड्रेस हैं।

विकास बोला- कावेरी कहना अच्छा तो नहीं लग रहा पर आज तुम्हें भी ऐसा ही कुछ पहनना चाहिए।
कावेरी बोली- चलो मैं भी पहन लेती हूँ… पर आप मुझे कुछ नहीं करोगे!
विकास बोला- वादा, मैं अपनी ओर से कुछ ऐसा नहीं करूंगा जो तुम्हें ख़राब लगे।

अब कावेरी नारंगी रंग की ड्रेस पहन कर आई जिसमें उसकी चूत और मम्मे दोनों लगभग दिख रहे थे।
आते ही उसने लाइट बंद कर दी और हम लोग चिपक कर लेट गए।

जैसा कि होना ही था, लेटते ही विकास ने मेरे मम्मे दबाने शुरू कर दिये और फिर चूत में उंगली कर दी।
मेरी चूत तो पहले से ही गीली थी, विकास की उंगली से फचफच की आवाज आने लगी।

मैंने कावेरी की चूत में उंगली करी तो उसका भी यही हाल था, कावेरी की चूत से तो पानी बह रहा था।
कावेरी ने गर्दन घुमा कर मुझे चूमना शुरू कर दिया।

अब मैंने यह सोच कर ‘जो होगा देखा जायेगा’ विकास का हाथ कावेरी के मम्मों पर रख दिया।

विकास को तो मानो जन्नत मिल गई… उसने बड़े प्यार से कावेरी के मम्मी और निप्पल दबाने शुरू कर दिये और फिर कुछ मिनट बाद विकास ने अपना हाथ कावेरी की चूत पर रख दिया।

विकास का हाथ आते ही मैंने अपनी उंगली कावेरी की चूत से निकाल ली।
हालाँकि कावेरी ने रोकना चाहा पर तब तक विकास ने अपनी उंगली कावेरी की चूत में कर दी और स्पीड बढ़ा दी।

कावेरी अब कामाग्नि में पूरी जल रही थी, उसने एक जोर से पलटी ली और मुझे लांघते हुए विकास पर चढ़ गई और उसका लंड अपनी चूत में कर लिया।

मैं भी बैठ गई और कावेरी के मम्मे चूसने लगी।
कावेरी तो जैसे विकास को खा जाना चाहती थी, उसने मुझे हटाया और विकास के होठों से चिपक गई।

अब विकास ने उसे नीचे पलटी दी और चढ़ गया उसके ऊपर… कावेरी ने अपनी दोनों टांगे फैला दी और विकास ने उसको घुटनों के ऊपर से पकड़ कर दबादब चोदना शुरू किया।
दोनों हांफ़ रहे थे और बड़बड़ा रहे थे।
कावेरी कह रही थी- …विकास आज मजा आ गया.. मेरा बरसों का सपना आज पूरा हुआ… फाड़ दो मेरी चूत मेरे राजा… नीता आज तूने मुझ पर बड़ा एहसान किया है मेरी जान!
विकास भी कह रहा था- ..कावेरी ले और ले और ले मेरा लंड… चुद चुद कर पूरा निकाल दे इसकी आखिरी बूँद भी…

मैं चूत लंड के इस महासंग्राम को देख कर खुश हो रही थी और सोच रही थी कि अब विकास जब तक कावेरी है, रोज इसकी बजाएगा, काश मुझे किसी तरकीब से सनी का लंड मिल जाए।

विकास ने अपना सारा माल कावेरी की चूत में ही छोड़ दिया और निढाल होकर उसके ऊपर ही पड़ गया।

मेरी चूत की आग अभी बुझी नहीं थी पर मुझे मालूम था की अब विकास के बस का कुछ नहीं… मैंने कावेरी के सूटकेस से ‘लंड’ निकाला और अपनी चूत में घुसा लिया।

कावेरी उठी और अपने हाथ से तेज तेज करके उसने मेरा भी पानी छुड़वा दिया।

अब कावेरी बीच में सोई और दोनों और मैं और विकास उसके दोनों ओर…

रात को दो बजे करीब मेरी आँख खुली तो देखा विकास कावेरी के ऊपर चढ़ा हुआ है और कावेरी अपनी बाहें उसकी पीठ पर चिपका कर चुदाई में व्यस्त है।
मैंने कुछ नहीं कहा, चुपचाप पड़ी रही और सो गई यह सोचते हुए कि देखती हूँ सुबह इनमें से कोई मुझे बताता है या नहीं।

सुबह सात बजे आँख खुली, विकास नंग धडंग सो रहा था, मैं भी नंगी ही थी और नीता नीचे योग कर रही थी।
हाँ उसने हमारे दरवाजे को लॉक कर दिया था।

मैंने विकास को उठाया और विकास के ऊपर चढ़ गई।
मेरी चूत की आग बुझी नहीं थी… विकास भी समझ रहा था।

अब सोने से वो फ्रेश भी हो गया था, उसने मुझे नीचे कर के जैसे उसने कावेरी को रात को चोदा था वैसे ही मुझे चोदना शुरू किया। इतनी में ही कावेरी आ गई, बोली- गुड मोर्निंग एवरी वन। जीजू क्या कमाल का स्टैमिना है आपका… रात भर तो मेरी बजाई और अब नीता की बजा रहे हो?

वह चाय लेकर आई थी।
हमने कुछ कपड़े पहन कर चाय पीनी शुरू की।

कावेरी बोली- रात को जीजू का फिर खड़ा हो गया… और नीचे खिसक कर इन्होने मेरी चूत चूसनी शुरू कर दी तो मेरी भी आँख खुल गई। हम दोनों ने 69 पोजीशन में एक दूसरे को चूसा… फिर ये महाराज चढ़ गए मेरे ऊपर और सारे पेंच ढीले कर दिये मेरे।

मुझे अच्छा लगा कि चलो इसने मुझसे छिपाया कुछ नहीं।
अगले तीन दिन ऐसे ही दिन रात चूत लंड की मालिश में निकल गए और वो दिन आ गया जब हम कावेरी को छोड़ने स्टेशन गए।
पिछली रात को कावेरी ने मुझसे यह वादा लिया कि अब मैं भी नीरज से चुदने को मना नहीं करूँगी।

हमने यह प्रोग्राम बनाया कि जल्दी ही कहीं दो दिन के लिए साथ साथ घूमने चलेंगे और वहाँ हम दोनों या बल्कि हम चारों एक साथ सेक्स के मजे लूटेंगे।

बताइएगा आपको कैसी लगी मेरी कहानी!
सनी वर्मा
[email protected]