सुहागरात को दुल्हन की गांड में डिल्डो

(Suhagrat Ko Dulhan ki Gand me Dildo)

मेरा नाम नीलेश (बदला हुआ) है. मेरी उम्र 22 साल है. मेरी बीवी प्रियंका, बहुत ही हॉट है. उसकी उम्र 21 साल है और रंग गेहुंआ है. उसकी फिगर के बारे में बात करूँ तो 35-26-37 है. मेरी बीवी को अगर मैं मस्त माल कहूँ तो कोई हैरानी नहीं होगी.

अब मैं अपनी कहानी पर आता हूँ. हमारी शादी नवम्बर 2017 में हुई और हम दोनों ने लव मैरिज की थी.

वैसे तो हमने शादी से पहले ही बहुत बार सेक्स किया था लेकिन मेरा बहुत मन करता था कि मैं प्रियंका को एक साथ दो लंड का मजा दूँ. लेकिन यह सब संभव नहीं था. प्रियंका कभी किसी और से चुदने के लिए तैयार ही नहीं हुई. मैं भी कभी सीधे मुंह उससे इस तरह की बात नहीं कर पाया. फिर एक दिन मैंने उससे कह ही दिया कि मैं तुम्हारी गांड और चूत में एक साथ लंड देखना चाहता हूँ. मेरी बात सुनकर वह नाराज़ हो गई. नाराज़ होकर मुझसे झगड़ा कर बैठी.
मैंने अपनी गर्लफ्रेंड (अब बीवी) को सॉरी कहा और वह 2-3 दिन में मान भी गयी. अब मैंने जैसे-तैसे करके उसको डिल्डो (नकली लंड) लेने के लिए मना लिया. पहले तो वह मना करने लगी फिर मैंने उसको प्यार से डिल्डो लेने के लिए मना ही लिया. ये सब बातें शादी से पहले की ही हैं.

प्रियंका ने मेरे सामने शर्त ऱखी थी कि अगर मैं उसके साथ यह सब करना चाहता हूँ तो मुझे शादी के बाद ही करना होगा. मैं भी मान गया क्योंकि उसको खुश रखना भी बहुत ज़रूरी था. फिर जब हमारी शादी हुई तो हमने सुहागरात वाले दिन ही डिल्डो का प्रयोग करने का प्लान बना लिया.

जब मैं सुहागरात के समय अंदर अपने कमरे में गया तो मेरी नयी-नवेली बीवी प्रियंका पहले से ही अपने कपड़े बदल कर तैयार बैठी थी. उसने शादी वाला सुहागन का जोड़ा उतार दिया था. उसने अपने बदन पर एक भी आभूषण नहीं छोड़ा था.
जब मैंने उसे देखा तो वह केवल एक नाइटी में ही बैठी हुई थी. मुझे लग रहा था कि उसको भी कुछ नया ट्राय करने की उतनी ही जल्दी थी जितनी की मुझे. इसलिए वह सारी तैयारी पहले से ही करके बैठी थी क्योंकि उसको आज दो लंड एक साथ लेने थे. एक मेरा असली लंड और एक नकली लंड.

जब मैं अंदर गया तो मैंने उससे कहा- क्या जान, इतनी भी क्या जल्दी है जो तुमने अपने कपड़े भी बदल लिये?
उसने कहा- बहुत टाइम से चुदी नहीं हूं नीलेश, और आज तो वैसे भी मुझे दो लंड के साथ चुदना है. जब तुम्हारे लंड से चुदकर इतना मज़ा आता है तो 2 लंड के साथ चुदने के मज़े के बारे में सोचकर मुझसे रहा ही नहीं गया इसलिए मैं सारी तैयारी पहले से ही करके बैठी हूँ.
मैंने कहा- तो डिल्डो ही लेना है या किसी और का लंड भी लेना है.
मेरी यह बात सुनकर एक बार तो वह थोड़ी गुस्सा हो गई लेकिन फिर जल्दी ही मान भी गई.

वह बोली- ठीक है, लेकिन आज नहीं, अगर हनीमून पर तुम मुझे किसी और से चुदवाना चाहते हो तो मैं तैयार हूँ। लेकिन उस दिन तुम मुझे नहीं चोदोगे. तुम बस मुझे किसी और से चुदते हुए देख सकते हो. जब दो लड़के मुझे चोदेंगे तो तुम बस दूर से देखना. अगर मंज़ूर है तो बताओ?
मैंने भी तुरंत हां कर दी.

उसके मुंह से ऐसी सेक्सी बातें सुनकर मेरा लंड भी खड़ा होना शुरू हो गया था. फिर मैंने उसके होठों को चूसना शुरू कर दिया. मैंने उसकी गर्दन पर किस किया. उसको बाहों में भरकर यहां-वहां चूमने चाटने लगा. फिर मैंने उसकी नाइट ड्रेस को भी निकाल दिया.

अब वह केवल अपनी लाल रंग की ब्रा और पैंटी में मेरे सामने थी. ऐसी ब्रा और पैंटी उसने पहले कभी नहीं पहनी थी. वह थॉन्ग (अंडरगार्मेंट का एक प्रकार)वाली पैंटी थी जिसकी पीछे वाली पट्टी गांड में घुस जाती है. उसे ऐसी पैंटी में देखकर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसकी ब्रा को फाड़ कर फेंक दिया. उसके बूब्स को अपने दोनों हाथों में लेकर चूसने लगा. वह कामुक होकर सिसकारियाँ भरने लगी.
वह बोली- प्लीज़ नीलेश … अब तड़पाओ मत और मेरी चूत में कुछ डाल दो … मुझसे रहा नहीं जा रहा है अब.
मैंने कहा- जान, कंट्रोल करो, अभी तो पूरी रात चुदाई होनी है तुम्हारी.

उसके बाद मैं उसके पेट पर किस करते हुए नीचे की तरफ आ गया और उसकी चूत पर चूम लिया. मैंने उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया और 15 मिनट तक चाटता ही रहा. वह मुझसे लंड डालने के लिए कहती रही लेकिन मैं उसको तड़पा रहा था. जब उससे कंट्रोल नहीं हुआ तो वह झड़ गई. मैंने उसकी चूत को एक कपड़े से साफ किया.

और तब मैंने डिल्डो निकाल कर प्रियंका को दिखाया. जब उसने डिल्डो देखा तो वह डर गई. मैंने जो डिल्डो मंगवाया था वह 9 इंच लंबा और 3 इंच मोटा था. वह उसको देखकर घबरा गई.
बोली- यह मेरी चूत के अंदर कैसे जाएगा, यह तो मेरी चूत को फाड़ ही देगा.
मैंने कहा- तुम डरो नहीं जान, बस एक बार दर्द होगा उसके बाद तुम्हें मज़ा आने लगेगा.

प्रियंका ने इतना बड़ा लंड आज तक देखा ही नहीं था तो उसका डरना और घबराना ज़ाहिर सी बात थी क्योंकि मेरा लंड भी 5.5 इंच का ही है और मेरी बीवी ने उस डिल्डो के साइज़ का लंड कभी आज तक देखा ही नहीं था.
मैंने कहा- जान … इस डिल्डो को अपने मुंह में ले लो.

वह मेरे लंड को तो मुंह में नहीं लेती थी. मैंने शादी से पहले कई बार उसके साथ सेक्स किया हुआ था. मैंने कई बार कोशिश भी की कि उसको अपना लंड चुसा दूँ लेकिन वह हमेशा मुझसे यह कहकर मना कर देती थी कि उसको लंड मुंह में लेना पसंद नहीं है. शादी से पहले तो वह मेरी गर्लफ्रेंड थी इसलिए मैंने भी कभी ज़बरदस्ती नहीं की थी. लेकिन मेरा मन बहुत करता था कि अपना लंड उसके मुंह में दे दूँ।

मैंने सोचा कि आज तो हमारी सुहागरात है, आज प्रियंका मेरे लंड को मुंह में लेने से मना नहीं करेगी. लेकिन उसने आज भी मेरा दिल तोड़ दिया. फिर मैंने सोचा कि पहले इसको गर्म करता हूँ। अब तो यह मेरी बीवी बन चुकी है. आज तो मैं इसके मुंह में भी अपना लौड़ा देकर ही रहूंगा.

उसने उस नकली के लंड को मुंह में ले लिया और उसको लेकर चूसने लगी. इसी बीच मैं उसकी गांड की दरार में अपनी जीभ से होल कर रहा था. मेरी बीवी की चूत से ज्यादा मज़ा तो मुझे उसकी गांड को चाटने में आता है. जब मैं उसकी गांड के छेद को चाटता हूँ तो उसका छेद कभी फैल जाता है और कभी सिकुड़ जाता है.

फिर मैंने अपना लंड तैयार कर लिया. मैंने उसको बता दिया कि मैं तुम्हारी गांड में अपना लंड दूंगा और डिल्डो को तुम चूत में ले लेना. वह मुझसे गांड तो कई बार मरवा चुकी थी इसलिए उसको मेरा लंड अपनी गांड में लेने के दौरान किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हुई क्योंकि मैंने उसकी गांड को चाट-चाट कर अपने थूक से पहले ही इतनी चिकनी कर दिया था. मगर डिल्डो को चूत में लेने में उसको परेशानी हो रही थी.

उसने धीरे-धीरे डिल्डो को अपनी चूत में लेना शुरू किया और उसको दर्द होने लगा. फिर मैंने उसकी मदद की. मैंने एक ज़ोर का झटका दिया और आधा डिल्डो उसकी चूत में जा घुसा. मगर साथ ही मेरा लंड वापस ही बाहर निकल आया.

वह दर्द से कराहने लगी लेकिन मैंने सोचा कि अब अगर रुक गया तो फिर दोबारा डालने में इसको और ज्यादा परेशानी होगी इसलिए मैंने एक झटका और मारा तथा 7.5 इंच का नकली लंड उसकी चूत में फंस गया. मैं कुछ देर के लिए रुक गया. करीब 5 मिनट तक रुकने के बाद मैंने धीरे-धीरे उसको चोदना शुरू किया.
उसको भी मज़ा आना शुरू हो गया. अब वह खुद ही कहने लगी कि मेरी गांड में भी डाल दो. फिर मैंने अपने लंड पर क्रीम लगाई और उसकी गांड में अपना लंड डाल दिया. उसकी गांड आसानी से लंड को ले गई.

मेरी बीवी की गांड मार-मारकर मैंने उसको इतनी चौड़ी कर रखा है कि वह मेरा लंड आसानी से अपने अंदर समा लेती है.
अब मुझे भी उसकी गांड मारने में बहुत मज़ा आ रहा था. मेरी फैंटेसी भी पूरी हो रही थी और साथ ही उसकी गांड चोदने का मज़ा भी मिल रहा था. मैं उसकी चूत और गांड को एक साथ चोदने में लगा हुआ था. वह भी पहली बार दो लंड एक साथ अपनी गांड और चूत में लेकर मज़े कर रही थी.

10 मिनट तक उसको मैंने इसी तरह मज़ा लेकर चोदा. फिर मैंने अचानक उसकी गांड से अपना लंड निकाल लिया.
उसने पीछे मुड़कर देखा और बोली- क्या हुआ?
मैंने कहा- एक बार डिल्डो को भी अपनी गांड में लेकर देखो.

वह जल्दी ही मान गई. मैंने डिल्डो उसकी गांड में डाल दिया और उसकी गांड में डालकर अंदर-बाहर करने लगा. वह डिल्डो भी आराम से अपनी गांड में लेकर मज़ा लेने लगी.
मैंने डिल्डो उसके हाथ में पकड़ा दिया और खुद जाकर उसके सामने घुटनों के बल खड़ा हो गया. मेरा लंड उसके होठों की सीध में था. वह डिल्डो लेने में इतनी मस्त हो चुकी थी कि उसकी हालत खराब होने लगी थी.

मैंने उसके बूब्स को दबाना शुरू कर दिया तो वह और ज्यादा आनंदित होने लगी. मैंने अपने लंड को उसके मुंह के सामने लाकर हिलाना शुरू कर दिया. फिर मैंने उसके मुंह में उंगली डाल दी. वह मेरी उंगलियों को चूसने लगी. मैंने सोचा कि यही मौका इसके मुंह में लंड देने का.
मैंने एकदम से उंगली निकाली और अपना लंड उसके मुंह में दे दिया. एक बार तो उसने मेरा लंड वापस बाहर निकालने की कोशिश की लेकिन मैंने उसके सिर को पकड़ कर रखा और उसके मुंह में लंड को देकर रखा.

फिर उसने मेरे लंड पर हल्के से जीभ फिराना शुरू कर दिया तो मेरे लंड में दोगुना तनाव आ गया. मेरा लंड उसके मुंह में जाकर आनंदित होने लगा.
धीरे-धीरे उसने मेरे लंड को चूसना शुरू कर दिया. मैंने भी धीरे-धीरे प्यार से उसके मुंह को चोदना शुरू कर दिया. अपनी बीवी के मुंह में लंड देकर मुझे बहुत ही ज्यादा मज़ा आ रहा था और मैंने उसके मुंह को तेज़-तेज़ चोदना शुरू कर दिया तो उसको खांसी होने लगी.

फिर मैंने अपना लंड उसके मुंह से निकाल लिया. मेरा लंड पूरा उसके थूक से गीला हो चुका था. मैंने धीरे से डिल्डो उसकी गांड से निकाला और उसने वापस से उसको अपनी चूत में डाल लिया और मैंने एक बार फिर से उसकी गांड को चोदना शुरू कर दिया. मैं उसकी गांड में तेज़-तेज़ धक्के लगा रहा था. उसके चूचे भी साथ में दबा रहा था. उसकी हालत खराब होने लगी और मैं भी झड़ने ही वाला था. मैंने तीन-चार ज़ोरदार धक्के मारे और मैंने अपना वीर्य उसकी गांड में गिराना शुरू कर दिया.
मैं उसकी गांड में झड़ गया. वह भी झड़ गई थी.

अब मैंने उसकी आदत ऐसी बना दी है कि वह अपनी चूत में 2 लंड लेकर एक गांड में भी ले लेती है, मतलब मेरी बीवी अब एक साथ 3 लंड भी ले सकती है.

आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी इस पर अपनी राय ज़रूर दीजिए, मुझे आपके मेल का इंतज़ार रहेगा.
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top