पति के सामने उसकी बीवी की चुदाई

(Pati Ke Samne Uski Biwi Ki Chudai)

मेरी तरफ से आप सभी को नमस्कार!
गीली चुत वाली लड़कियों, भाभियों की चुत की पर प्यार भरा चुम्मा!

दोस्तो, मेरा नाम अमन है, मैं ऋषिकेश का रहने वाला हूँ, दिल्ली विश्वविद्यालय में पढ़ता हूँ. मैं दिल्ली में फ्लैट किराए पर लेकर रहता हूँ. मेरी उम्र 21 साल है मेरी हाइट 5’11” है और लड़कियां कहती हैं कि मैं हैंडसम भी बहुत हूँ.
जैसे कि मैंने आप लोगों को बताया मैं घर से दूर दिल्ली में रहता हूँ, यहां पैसों की कमी ने मुझे कॉल बॉय बना दिया, और मेरी खूबसूरती के चलते सभी औरतें मुझे पसंद भी करने लगी और धीरे धीरे यह मेरा प्रोफ़ेशन बनता चला गया।
अब मैं सीधा कहानी पर आता हूँ जो मेरी मेरी जिंदगी की एक सच्ची घटना है.

एक दिन मुझे एक मेल आया कि हमें आपकी सर्विस चाहिए, मेरी उनसे बात हुई तो मैंने अपना फोन नम्बर उनको दे दिया।
जब उनका फ़ोन आया तो वहां से एक आदमी की आवाज आई, मैंने पूछा तो उस आदमी ने बताया कि वो मनोहर बोल रहा है (गोपनीयता के कारण उनका नाम बदल दिया गया है)
उसने बताया- आपसे मैल पर बात हुई थी.
मैंने कहा कि वो तो एक औरत थी?
वो बोला- हां वो मेरी पत्नी की आईडी थी और उससे मैंने ही बात की थी।

मैंने सोचा ये कोई गे होगा तो फोन काट दिया.

फिर उनका दोबारा फोन आया- मुझे मेरी पत्नी के लिए सर्विस चाहिए.
मैं यह सुनकर हैरान रह गया, मैंने पूछा- आप मजाक तो नहीं कर रहे हैं?
वो बोला- मैं मेरी पत्नी को संतुष्ट नहीं कर पाता और मेरी इच्छा है कि कोई मेरी पत्नी को मेरी आँखों के सामने चोदे!

मुझे यह सुनकर अजीब लगा क्योंकि मैं इससे पहले कई औरतों को सर्विस दे चुका था, ऐसा मेरे साथ पहली बार हुआ था.
जब मैं मना करने लगा तो उसने मुझे मेरे चार्ज से दोगुने पैसे आफर किये तो मैं भी झट से मान गया।

अगली शाम मैं उनके घर पहुंचा साऊथ दिल्ली में… वो मुझे लेने आया.
जब मैं उनके घर गया, उसकी पत्नी को देखा तो बस देखता ही रह गया, उसकी पत्नी यानि भाभी जी मुझे देखकर बोली- काफी हैण्डसम हो!
तो मैं मुस्करा दिया.

फिर हमने चाय पी, थोड़ी देर बाद खाना खाया और फिर हम बैडरूम मैं एक साथ बैठकर मूवी देखने लगे.

तभी मनोहर बोला- मुझे कुछ काम है, मैं थोड़ी देर मैं आता हूँ.
भाभी का साइज 36-30-34, एकदम गोरी थी. उनका नाम प्रतिभा था.
उसके पति के बाहर जाते ही प्रतिभा ने मुझे हग कर लिया और हम एक दूसरे में खो गए. उसका पति सब कुछ खिड़की से देख रहा था.

मैं भाभी के होंठों को चूस रहा था, उनकी चुची को मसल रहा था, फिर मैंने भाभी की चुची को पीना शुरु किया, मैं जोर जोर से चुची पर काट काट कर चूस रहा था.
भाभी पूरी गर्म हो चुकी थी और मैंने भाभी की चुची मसल मसल कर पूरी लाल कर दी थी.

फिर मैं भाभी जी के मुँह पर लंड रगड़ने लगा उनके लाल लाल होंठ मेरे लण्ड को बड़े प्यार से छू रहे थे.
इस बीच भाभी जी बहुत गर्म हो चुकी थी, वो तेज तेज आवाज में मुझे गालियाँ देने लगी- चोद दे बहन के लौड़े… चोद मुझे… उम्म्ह… अहह… हय… याह… आज रण्डी बना दे… आज मेरे सारे छेद अपने लंड के पानी से भर दे!
मैंने देखा कि अपनी हवस की भूखी पत्नी का यह रूप देख कर वो तेज तेज मुठ मारने लगा पर प्रतिभा भाभी को इस बात की कोई परवाह नहीं थी, वो अपने सेक्स के नशे में खोई हुई थी.

फिर प्रतिभा ने मेरे कपड़े निकलने शुरु कर दिए, मैं भी जोश जोश में गालियाँ देने लगा- बहन की लौड़ी, रंडी साली… आज तेरी चुत को मैं फाड़ दूँगा.
वो बोली- मैं तो यही चाहती हूँ कि तू मेरी चुत क्या गांड मुँह सब कुछ आज अपने लंड से फाड़ कर रख दे!
यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!

फिर भाभी जी मेरे लंड को अंडरवीयर में से निकाल कर सीधा चूसने लगी, वो मेरे गोलियों को चाटने लगी।
मैं भी भाभी की चुत चाटने लगा, हम दोनों 69 की पोजीशन में थे, भाभी की चुत की खुशबू मुझे पागल किये जा रही थी, मैं भाभी की चुत चाटता जा रहा था.

दस मिनट तक हम लंड चुत चुसाई करते रहे, वो मेरा 8 इंच लम्बा लंड गले तक लेती रही, फिर वो बोली- अब रहा नहीं जा रहा, फाड़ दे मेरी चुत को!
मैंने उसकी चुदाई चालू की, उसकी चुत पूरी गीली थी, लण्ड थोड़ा मोटा है तो थोड़ी तकलीफ हुई उसे लेते टाइम पर उसकी चुत गीली होने के कारण आराम से चला गया.

हम आनंद के सातवें आसमान पर पहुंच गए, काफी देर तक मैं भाभी की चुदाई करता रहा, फिर मैंने पूछा- मैं झड़ने वाला हूँ, कहाँ गिराऊँ?
तो वो बोली- रुको, मेरे मुँह में अपना माल गिरा दो!
और मैंने पूरा माल उसके मुंह में डाल दिया।

मेरे एक बार झड़ने के बीच वो भी झड़ चुकी थी.

फिर मैं उसकी गांड पर हाथ फिराने लगा, वो मेरे लण्ड को मुँह में लेकर खड़ा करने लगी.
कुछ देर के बाद मेरा लंड दोबारा से खड़ा हो गया तो मैंने उसके हस्बैंड को अंदर बुलाया, उससे तेल मंगाया और प्रतिभा की गांड पर लगाया.

जैसे ही मेरा लण्ड प्रतिभा की गांड में गया, उसकी चीख निकल गई और फिर धीरे धीरे उसे मजा आने लगा, और थोड़ी देर के बाद मैं उसकी गांड में झड़ गया।

उस रात मैंने प्रतिभा की 5 बार चुदाई की, 2 बार प्रतिभा की गांड मारी और 3 बार चुत…

प्रतिभा इस बीच कई बार झड़ चुकी थी और उसका पति मनोहर कई बार मुट्ठ मार चुका था.

वो दोनों बहुत खुश थे, प्रतिभा ने मुझसे कहा- हमने कॉल बॉय पहले भी बहुत बार बुलाये हैं पर सब फॉरमैलिटी करके चले जाते हैं.

तब मैंने उसको समझाया- हम कॉलेज स्टूडेंट हैं, हम ये काम दिल से करते हैं. अगर किसी बार या डिस्को के साथ लगे होते तो हम भी शायद उनकी तरह होते!

फिर मैंने अपनी पेमेंट ली और आ गया.
वो अब मुझे हर 15 दिन के बाद बुलाते हैं.

मैं कॉल बॉय कैसे बना, यह अगली सेक्स स्टोरी में!
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! पति के सामने उसकी बीवी की चुदाई