बीवी की चुदाई गैर मर्द से दोबारा

(Biwi Ki Chudai Gair Mard Se Dobara)

दोस्तो, मेरा नाम सैम है, मेरी उम्र 26 साल है, मैं औसत डील डौल का गोरा चिट्टा लड़का हूँ और पिछले कई सालों से मैं दिल्ली में रहता हूँ। मैं कई सालों से अन्तरवासना का पाठक हूँ।
मेरी पिछली कहानी
बीवी की चुदाई गैर मर्द से
के लिए आप लोगों से काफी प्रशंसा और सम्मान मिला। आप सभी के मेल्स पढ़ कर अच्छा लगता है लेकिन सभी सिंगल लड़कों से अनुरोध है कि आप मेरे कपल साथियों के फोन नंबर या फिर उनके साथ सेक्स करवाने के लिए बार बार ना कहें।
सभी भाभियों आंटियों और कपल्स का स्वागत है। मुझे एक दो कपल के भी मेल्स मिले मैं उनका आभार प्रकट करता हूँ।

आप सभी का ज्यादा समय बर्बाद ना करते हुए आज मैं आपको अगली मुलाकात के बारे में बताना चाहता हूँ।
जैसा कि आप सभी को पता है मेरी पहली चुदाई का जो रमन सिंह और अनामिका जी के साथ हुई थी। उसके बाद मेरी और उनकी मुलाकात होने लगी ऐसी 2-3 मुलाकात के बाद मुझे रमन सिंह जी ने बताया कि वो आफिस के काम से दो दिन के लिए बाहर जा रहे हैं और अनामिका और रमन दोनों चाहते हैं कि इन दोनों दिनों में मैं अनामिका की काम वासना को शांत करूँ और हम दोनों खुल कर मजे करें।

जिस दिन रमन जी जाने वाले थे, मैं उस दिन उनके घर पहुँच गया और रमन को स्टेशन पर छोड़ कर आने के बाद अनामिका से मस्ती करने के लिए वापस आ गया। रास्ते में मैंने लिक्विड चॉकलेट का डिब्बा और आइसक्रीम का डिब्बा खरीदा और उन्हें लेकर घर पहुँच गया.
अनामिका पहले ही बेसब्री से इंतज़ार कर रही थी। अनामिका तब तक अपनी हॉट अवतार में आ गई थी, उसने बहुत ही सेक्सी रेशमी ड्रेस पहन रखी थी जिसमें से उसके सारे अंग नजर आ रहे थे क्योंकि उसने नीचे कुछ भी नहीं डाला हुआ था।

उसकी चुचों के कठोर निप्पल साफ नजर आ रहे थे और वो आइसक्रीम को रेफ्रिजरेटर में रखने के लिए अपनी गांड को मटकाते हुए रसोई में चली गई। उसकी सेक्सी अदाओं को देखकर मेरा लंड अपने काबू में नहीं रहा; मैं उसके साथ साथ रसोई में चला गया, अनामिका को पीछे से अपनी बाँहों में भर लिया और मैं उसकी गर्दन पर किस करने लगा।
अनामिका भी अपनी गांड को पीछे करके मेरे लंड पर रगड़ने लगी।

मैं भी उसे किस करते हुए उसके चुचों को मसलने लगा और अपने लंड को उसकी गांड पर सटा कर रगड़ने लगा; वो जोर जोर से सिसकारी लेने लगी और बोली- सैम, इन दोनों दिन मेरी एक ना सुनना, मुझे अपनी मन मर्जी से चोद कर मेरी प्यास बुझा दो।

मैंने उसकी एक ना सुनते हुए उसकी टांगों को चौड़ी करते हुए उसकी चूत में अपनी 2 उंगली डाल दी और अनामिका की चुत में अंदर बाहर करने लगा; अनामिका की आहहह हह निकल गई; चुत में से रस बह कर मेरी उंगली और हथेली को भिगो रहा था, मैंने अपनी पैन्ट घुटनों तक लाकर अपने लंड को चुत में बिना किसी चेतावनी के एक ही झटके में आधा अंदर डाल दिया.

ऐसे अचानक हमले से उसके मुँह से चीख निकल गई और बोली- साले कुत्ते, मेरी चूत फाड़ेगा? मुफ्त का माल समझ रखा है क्या?
मैं बोला- आज देख, मेरी कुतिया तेरा क्या क्या फाड़ूगा।
उसकी चुची को भींच कर मैंने बाकी का लंड भी पुरा उसकी चूत में घुसेड़ दिया।

अब वो आहें भर रही थी, उसकी टांगें कांप रही थी, मैं दनादन उसकी चूत का चोदन कर रहा था।

फिर मैंने अनामिका को पलटते हुए उसकी सेक्सी वन पीस ड्रेस को निकाल लिया और हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूमते रहे। उसने मेरे होंठ को काट लिया और उससे खून निकल गया।
मैं फिर उसे वहीं स्लैब पर बैठा कर उसकी टांगों को अपने कंधों पर रख कर चुत का मर्दन करने लगा; वो आज खुल कर मजे ले रही थी, मेरी आंखों में देख कर आहें भर रही थी और मुझे अपनी चुत फाड़ने के लिए उकसा रही थी और मैं चुचों को पीकर चुत चोद रहा था, वो मुझे अपनी बाहों में भर कर किस करते हुए झड़ने लगी।
मैंने भी कुछ झटके लगा कर उसकी चूत में पानी छोड़ दिया और एक दूसरे को चूमते रहे।

उसके बाद हमने बाथरूम में जाकर अपने आपको साफ किया और बेडरूम में जाकर एक दूसरे को बाहों में भरकर प्यार करने लगे।
अनामिका बोली- अब हम दोनों पूरा दिन रात बिना कपड़ों के रहेंगे।

मैं लिक्विड चॉकलेट डाल कर उसके चुचों को चूसने लगा और अनामिका ‘आहह आहहह…’ करती रही, फिर उसके चुचों को चूसने के बाद उसकी नाभि को किस किया तो वो कांप रही थी और मर्डर मूवी में मल्लिका शेरावत के जैसे कांप रही थी।

उसकी चूत में मैं चॉकलेट डाल कर चाटने लगा, उसकी चूत के रस के नमकीन स्वाद के साथ मीठी चाकलेट अजीब सी लग रही थी। मैंने उसकी चूत चाटते हुए एक उंगली उसकी मोटी सेक्सी गांड में डाल दी।
वो अचानक से चौंक गयी और मेरे गालों को खींच कर बोली- सैम, आज बड़े नॉटी हो रहे हो?
मैंने आंख मार कर उसकी चूत में जीभ चलाते हुए उंगली डाल दी।

अनामिका अब फिर से लंड मांगने लगी। मैंने अपने घुटनों के बल बैठ कर उसे लंड चूसने का इशारा किया, वो झट से लंड को अपने मुँह में भरने लगी और चाकलेट डाल कर मेरी आंखों में देख कर मेरा लंड अपने मुँह में गपागप चूसने लगी और अपने हाथों से मेरे टट्टों को पकड़ लिया। आनन्द से मेरी आहहह निकल गई।

मैं उसकी कमर पर हाथ फिराते हुए गांड को हिलते हुए देख रहा था। मैंने उसे लंड की सवारी करने के लिए कहा, वो लंड पर थूक लगाते हुए अपनी चुत में लेने लगी, वो जोर जोर से पट पट की मीठी सी आवाज से चुत को लंड पर पटक रही थी।
मैंने भी नीचे से उसकी चूत में झटके लगा कर अनामिका का मजा दुगुना कर दिया।

अनामिका के चुचे किसी गेंद की तरह उछल रहे थे; मैं उनको अपने मुँह में भरने लगा; वो भी चुचों को पकड़ कर मेरे मुंह में चुसवाने लगी। इन लम्हों को याद करते हुए अभी भी मेरा लंड अकड़ जाता है।
इसी पोज में वो झड़ गई और मेरे सीने पर ही लेट गई।

मैंने उसको घोड़ी बना कर उसकी गांड पर चांटा मारते हुए अपना लोड़ा उसकी चूत में पेल दिया। मैं ना जाने क्यों उसकी मोटी गोरी बड़ी सेक्सी गांड को देखकर अपने आपको रोक नहीं पाता हूँ और कूल्हों पर चांटा जड़ देता हूँ।

मैं अनामिका की घोड़ी बना कर उसकी चूत चुदाई करने लगा और अनामिका आहह आहहह करती रही और अनाप शनाप बोलती रही।
15 मिनट तक चुदाई करते हुए मैंने अपना माल छुड़ा दिया और हम दोनों थक कर वहीं लेट गए।
हम दोनों को कब नींद आ गई पता ही नहीं चला।

मेरी नींद शाम को 4 बजे अपने लंड पर ठंडा अहसास पाकर खुली मैंने देखा अनामिका आइसक्रीम को मेरे लंड पर रगड़ रही थी फिर अपनी जीभ से चाटते हुए सर्दी और गर्मी का अहसास एक साथ करवा रही थी जो मेरे लिए अलग लेकिन सुखद अनुभव था।

मेरा लोड़ा खड़ा होने लगा; अनामिका पागलों की तरह गुर्राते हुए चुपड़ चुपड़ करके लोड़ा चूस रही थी और फिर अपनी गांड मेरे मुंह पर रखते हुए अपनी चुत मुझसे चुसवाने लगी।
उसकी चूत बहुत पानी छोड़ने लगी, फिर मेरे लंड को छोड़ कर अपनी गांड मेरी तरफ करके लोड़े पर बैठ कर चुदने लगी।

उसकी सेक्सी गांड को देख कर मैं अपने आपको रोक नहीं पाया और मैंने बोला- अनामिका, मैं तेरी गांड मारना चाहता हूँ! मैं इसे देखकर अपने आपको रोक नहीं पाता हूँ!
उसने बोला- सैम, मेरी चुत की आग बुझा दो, उसके बाद मैं सारी की सारी तुम्हारी हूँ।

मैंने उसे बेड से उतार कर दीवार पर हाथ लगवा कर चुत में दनादन शाट लगा दिए और कुछ देर में ही वो पानी छोड़ गई।

फिर मैंने उसकी गांड पर चांटा मारते हुए उसे गांड मरवाने की बात याद दिलवाई तो वो जल्दी से तेल ले आई। मैंने थोड़ा तेल लिया और उसकी गांड पर लगाया, कुछ अपने लंड पर भी लगाया। फिर मैंने उसकी गांड के छेद पर अपना मोटा लंड रखा और एक जोरदार धक्का मारा तो तब उसने अपने होंठ दबा लिए, ताकि उसकी चीख बाहर नहीं आ सके।
तब मैंने देखा कि वो रो रही थी; मैंने उससे पूछा- अनामिका डिअर, क्या दर्द हो रहा है? अगर हो रहा है तो रहने देते हैं।

तो वो बोली- नहीं प्लीज, अपना लंड बाहर मत निकालना, अपना पूरा लंड मेरी गांड में डाल दो।
फिर मैं भी नहीं रुका और अपना पूरा लंड बाहर करके एक जोरदार झटका मारा तो मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी गांड में समा गया। फिर मैं रुका नहीं और खूब जोर जोर से उसकी गांड मारता रहा। उसकी गांड उसकी चूत से भी ज़्यादा टाईट थी।

अब मुझे उसकी गांड मारने में बहुत मज़ा आ रहा था और अब वो भी मेरी चुदाई का मज़ा ले रही थी और ‘ऑश, आआअहह, मारो और ज़ोर से मारो मेरी गांड, जितना चाहो मारते रहो, मुझे तुमसे चुदवाने में बहुत मज़ा आ रहा है।’ ऐसे बोल रही थी.

फिर करीब 15 मिनट तक उसे चोदने के बाद मैंने अनामिका से कहा- मेरी जान, अब मैं झड़ने वाला हूँ, क्या करूं?
तब वो बोली- प्लीज मेरी गर्म गांड को अपने अनमोल रस से भर दो, मैं तुम्हारी और तुम्हारे लंड की बहुत एहसान मंद रहूंगी।

अब इस दौरान में भी अपनी चरम सीमा पर आ गया था और खूब ज़ोर-ज़ोर से अपना लंड उसकी गांड में डाल कर उसको चोद रहा था। अब वो ‘आहह माँ, आअहह… मारो और मारो…’ चिल्ला रही थी.
तभी मैं झड़ने लगा और मैंने अपना सारा रस उसकी गांड में ही डाल दिया। अब मेरे झड़ने के दौरान उसे भी मेरा रस अपनी गांड में महसूस हो रहा था। फिर जब मैंने अपना पूरा पानी उसकी गांड में निकाल कर अपना लंड बाहर किया तो उसकी गांड से मेरा पानी बाहर आ रहा था।

दोस्तो, इस तरह से 2 दिनों तक अनामिका और मैंने अलग अलग आसनों में चुदाई करते हुए घर के हर कोने में आनन्द लिया।

रमन जी ने वापस आकर अनामिका को मजा देने के लिए मुझे बहुत बहुत धन्यवाद दिया और मैंने उनसे विदा ली।
मैं अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज साईट का शुक्रगुजार हूँ जो इन्होंने यह प्लेटफार्म बनाया।

आप सब पाठकों को मेरी आपबीती कैसी लगी? मुझे मेरी मेल आई डी पर सम्पर्क कर सकते हैं, मुझे मेल भेज कर बता सकते हैं.
[email protected]

इस कहानी को पीडीएफ PDF फ़ाइल में डाउनलोड कीजिए! बीवी की चुदाई गैर मर्द से दोबारा