मैंने अपनी बीवी की चुदाई देखी पड़ोसी अंकल से

(Maine Apni Biwi Ki Chudai Dekhi Padosi Uncle Se)

दोस्तो, मुझे नहीं पता कि एक घटना को कहानी के रूप में पेश करते समय सबसे पहले क्या कहना होता है, तो मैं बस आपसे सीधे मुखातिब होता हूँ.

मैं कोई कहानी पढ़ कर प्रभावित नहीं हुआ, बस यह एक सच्ची घटना है. उसी को लेकर मेरी वाइफ ने कहा कि मुझे ये सब शेयर नहीं करना चाहिए तो मैंने उसको आश्वस्त करते हुए कहा कि ये सब गोपनीय ही रहता है क्योंकि मुझे किसी को अपने वास्तविक नाम से तो परिचित करवाना नहीं है. इस पर मेरी बीवी राजी हो गई और मैंने आपके लिए अपनी जीवन की एक घटना साझा करना तय कर लिया. तो आनन्द लीजिएगा.

दोस्तो, मैं जयपुर का रहने वाला हूं. मेरा नाम राज है, उम्र 26 साल है और जैसा कि चुदाई की कहानी के लिए सबसे जरूरी लंड के बारे में बताना होता है, मेरे लंड का साइज 6 इंच के आस-पास है और मेरी हाइट 6 फीट है, जो कि एकदम रीयल है.

मुझे स्कूल में एक लड़की से प्यार हुआ था और 5 साल तक सिर्फ उसके बारे में ही सोचता रहा था. मुझे कॉलेज के बाद जॉब के लिए 6 महीने दिल्ली जाना पड़ा, फिर अचानक उस लड़की की शादी हो गई और उसने मुझे बताया तक नहीं. एक तरह से उसने मुझे धोखा दिया था, बाद में एक मैसेज भेजा कि वो अपने पापा को धोखा नहीं दे सकती थी. मैंने उसे भूल कर आगे बढ़ना शुरू किया.

फिर एक दिन मेरे पापा बोले- बेटा, हमने तुम्हारी शादी फिक्स कर दी है.. दो महीने बाद शादी है.

मैं यह सुनकर एकदम से शॉक्ड था.. मैं समझ ही नहीं पा रहा था कि सभी लोग मेरी जिन्दगी के साथ क्या मजाक कर रहे हैं… मुझे बिना पूछे मेरी शादी तय कर दी?
फिर मैंने सोचा अकेले रहने से अच्छा है शादी कर लेना ठीक रहेगा.

भैया से पता चला कि लड़की सिर्फ 12 वीं तक पढ़ी है और उसका नाम अरुणा है. पर मन में लग रहा था कि एक बार मैं उसकी फोटो तो देख लूँ.
मेरी बात भैया ने आगे पहुंचाई और मैंने अरुणा की फोटो देख ली, अरुणा की फोटो को देखा, तो बस देखता ही रह गया. मैंने झट से हां कर दी. हमारी शादी हो गई.

वो एकदम सीधी लड़की थी, उसने बताया कि उसका एक बॉयफ्रेंड था. पर उसने उसके हाथ तक नहीं लगाने दिया. उसका फिगर 34-30-36 है, हाइट 5 फीट है और कलर एकदम मिल्की व्हाइट है.

सुहागरात के दिन वो मेरे लंड डालते ही बेहोश हो गई तो मैंने उसके साथ सेक्स नहीं किया. फिर धीरे धीरे हमारी गाड़ी पटरी पर आ गई और अब हम दिन-रात चुदाई करने लगे.

सच कहूँ दोस्तो, उसके आगे कटरीना कैफ भी कुछ नहीं है.. ऐसा मेरा मानना है. उसको पॉर्न फिल्मों के बारे में कोई नॉलेज नहीं थी, मैंने उसे ऐसी फ़िल्में दिखाना शुरू किया. कुछ ही दिनों में वो एक पूरा सेक्स बॉम्ब बन गई. घर पर तो उसने पैंटी पहनना बंद ही कर दिया. क्योंकि उसे लंड की ज्यादा इच्छा रहती थी.

मैंने उसे नेट चलाना सिखा दिया था तो नतीजा यह हुआ कि एक दिन मैंने देखा कि वह ‘पत्नी को दोस्त से चुदवाया’ नाम की कहानी पढ़ रही थी. मैंने उससे कुछ नहीं कहा. लेकिन कुछ ही दिनों में मैंने महसूस किया कि उसका व्यवहार बदलता जा रहा था.

एक दिन उसने मुझसे पूछा- आपका लंड इतना छोटा क्यों है?
मैंने कहा- पागल हो क्या.. ये 6 इंच का लंड तुमको छोटा लग रहा है. तुमने शायद पॉर्न मूवी में बड़ा देखा होगा?
उसने कहा- हां यार, वो मोटे लम्बे लंड की मूवी देखकर मेरा तो आज कई बार पानी निकल गया.
मैंने चिढ़ कर कहा- तो तुम भी उनसे चुदवा लेती.
इस पर वे मुझे छेड़ते हुए बोली- अगर वो सांड कलूटे बड़े लंड वाले चोदू फिल्म में से बाहर आ जाते तो पक्का चुदाई करवा लेती.

उसकी इस बात से मेरी हंसी छूट गई.

फिर उसने कहा- मैंने एक कहानी पढ़ी थी, उसमें एक आदमी अपनी बीवी को दूसरे मर्द से चुदवाता है. ऐसा सच में होता है क्या?
मैंने कहा- बिल्कुल होता है, तुम्हें करवाना है क्या?
इस पर वो बोली- मैंने वो मजाक में कह दिया था, मैं ऐसा सोच भी नहीं सकती.

मुझे ये विचार बहुत उत्तेजित कर रहा था. क्योंकि मैं वाइफ शेयरिंग की कहानियां हमेशा से पढ़ता आया था और अपनी गर्लफ्रेंड को भी कहता था कि मैं तुम्हें शादी के बाद मोटे लंडों से चुदवाऊंगा. इस पर वो कहती थी कि मैं उस दिन का इन्तजार करूंगी.

अब अरुणा से इस तरह की बात होने के बाद मैंने जल्दबाजी में फेसबुक पे एक लड़के से कहा कि मेरी एक दोस्त से नंगे होकर बात करोगे?
तो उसने हां कर दी.

रात को जब हम दोनों फेसबुक पर उस लड़के से चैट कर रहे थे. उस वक्त अरुणा ने कुछ नहीं पहना था, मैंने उसे सीधा उस लड़के के लिए लाइव कर दिया.
वो लड़का बोला- भाई तेरी बीवी तो गजब का माल है.
इस पर अरुणा को इतना गुस्सा आया कि उसने मेरा फोन दीवार में फेंक के मारा.

उस वक्त हम चुपचाप सो गए. मैंने अरुणा से ज्यादा बात करना उचित नहीं समझा.

सुबह वो मुझसे बात नहीं कर रही थी.
फिर अचानक से वो बोली- मुझे तुमसे ये उम्मीद नहीं थी.
फिर धीरे धीरे सब सामान्य हो गया.

कुछ महीने बाद मेरी जॉब दिल्ली के एक सरकारी विभाग में लग गयी. मैं ज्यादा जानकारी शेयर नहीं कर सकता क्योंकि ये बिल्कुल सच है.

हम दोनों वहां के सरकारी क्वार्टर में रहने लगे, उस एक ब्लॉक में 8 र्क्वाटर थे. मेरे मन में अरुणा के मोटे लंड से चुदवाने की इच्छा अब भी थी. अब हमारे रूम में दिन-रात ब्लू फिल्म चलती रहती थी. डीवीडी प्लेयर में सीडी हमेशा लगी रहती.

हमारे पड़ोस में एक अंकल रहते थे, वे अपने बेटे के र्क्वाटर पे रहते थे. जो मेरे साथ ही काम करता था. वे अंकल एक प्राइवेट स्कूल में पीटीआई की जॅाब करते थे. उनकी हाइट शायद 6.5 होगी. अंकल तगड़े शरीर के मालिक थे. वो हमारे घर आते रहते थे, पर केवल मेरे होने पर ही आते थे.

एक दिन मैंने छत पे बैठे हुए अरुणा से पूछा- तुम्हें किस प्रकार के मर्द पसंद हैं?
इस पर उसका जवाब हैरानी भरा था कि उसे थोड़े सांवले और कद में औरत से करीब एक फीट लम्बे मर्द पसंद हैं और उसके शरीर पर घने बाल होने चाहिए.
मैंने उससे कहा कि तुमने देखा है कोई मर्द ऐसा? कोई उदाहरण दो?
उसने थोड़ा सोच कर जबाब दिया- राजन अंकल जैसे मर्द!

मैंने उस वक्त कुछ नहीं कहा क्योंकि वो गुस्सा जल्दी हो जाती है.

एक दिन मेरा पेट बहुत ज्यादा खराब था तो मैं छुट्टी लेकर घर आ गया. घर का दरवाजा खुला हुआ ही था. मैं सीधा जाके लैट्रिन में घुस गया. अरुणा किचन में थी.. उसे पता नहीं चला.

टीवी पर एक काले लंड वाली शानदार ब्लू फिल्म चल रही थी, जो अरुणा को पसंद थी. मैंने बताया था कि अंकल मेरे होते हुए ही घर पर आते हैं, तो शायद उनको मैं आते हुए दिख गया था. वो सीधे मेरे घर में आ गए और हॉल में कोई न दिखने पर उन्होंने किचन की तरफ देखा तो अरुणा सिर्फ एक टॉवल में खाना बना रही थी.

मैं ये सब लैट्रिन के टूटे हुए किवाड़ से देख रहा था. जिसमें से अरुणा की तौलिया नीचे से थोड़ी फंसी हुई दिख रही थी.

अंकल की नजर अचानक से टीवी पर गई. तभी अरुणा ने उन्हें देख लिया.. और जल्दबाजी में उसका टॉवल गिर गया. अरुणा एकदम नंगी हो गई, अंकल का तो उसे देख कर बुरा हाल हो गया था. उन्होंने अरुणा को सॉरी बोला. अरुणा ने टॉवल संभाला और अंकल की ओर शर्म से देखने लगी.

अंकल बोले- मुझे लगा राज आ गया है.
इस पर अरुणा बोली- कोई बात नहीं अंकल गलती मेरी है, मुझे दरवाजा बन्द रखना चाहिए था और राज तो अभी नहीं आया है.
तभी अरुणा की नजर अंकल के लोअर में तगड़े लंड पर पड़ी, जो अकड़ कर बाहर आ रहा था.
अरुणा बोली- अंकल, अब आप जाइये और किसी को बताना नहीं प्लीज.

अंकल अब तक कहीं और खो गए थे. उनकी नजर टीवी पर थी. वे वासना के कारण बोल पड़े- अरुणा तुम्हें ये मूवी पसंद हैं?
तो अरुणा ने टालते हुए सुर में कहा- हां अंकल … पर अब आप जाइए प्लीज.
अंकल बोले- मेरी बीवी 10 साल पहले मर गई थी.. तब से सेक्स नहीं किया है.. और आज ये सब देखकर में खुदको रोक नहीं पा रहा हूं.
इस पर अरुणा गुस्से में बोली- अंकल, आप हद पार कर रहे हैं.

इसके आगे वो कुछ बोलती अंकल ने अपना लोअर और अंडरवीयर नीचे कर दिया. अंकल बोले- आज मेरी प्यास बुझा दे बेटी … प्रॉमिस किसी को नहीं बताऊंगा. मैंने तुमसे सुन्दर लड़की आज तक नहीं देखी.
अब अरुणा के मुँह में कोई शब्द नहीं था क्योंकि उसकी आंखें तो अंकल के लंड पे टिक गई थीं.

मुझे अरुणा का चेहरा देखने के बाद अंकल पे बिल्कुल भी गुस्सा नहीं आया, फिर एकाएक खुद को संभालते हुए अरुणा बोली- अंकल आप मेरे घर से बाहर निकलिए.. नहीं तो मैं मेरे पति को बता दूंगी.

अंकल थाड़े असमंजस थे और उन्होंने जल्दबाजी में अरुणा को अपनी बांहों में भर लिया और अपने होंठ उसके होंठों पे लगा दिए.

एक काला आदमी मेरी बीवी के गुलाबी होंठों को चूस रहा था, ये देख के मेरा लंड भी खड़ा हो गया.. पर मुझे उसमें से ठीक से दिख नहीं पा रहा था क्योंकि उसका छेद छोटा था.

अंकल ने मेरी बीवी का टॉवल गिरा दिया. अरुणा खुद को छुड़ाने की कोशिश करने लगी.. पर उसके अंदाज में वो प्रतिरोध नहीं दिख रहा था और न ही वो चिल्लाने जैसी कोई हरकत कर रही थी. अंकल ने उसका हाथ पकड़कर अपने लंड पर रख दिया.

अब महसूस हो रहा था कि वह भी गर्म हो चुकी थी और टॉवल गिरने के बाद वो पूरी नंगी तो हो ही चुकी थी.

अंकल ने मेरी बीवी को हॉल में रखे सोफे पे गिरा दिया.. और उसको उल्टा करके उसके चूतड़ों पे हाथ फेरते हुए जोर जोर से मारने लगे, इस बार मुझे थोड़ा गुस्सा आ गया, पर मैंने देखा मेरी बीवी ने आंखें बंद कर ली हैं और वो मजे ले रही है.

अंकल ने अपना मुँह सीधा उसकी चूत पे रख दिया, उनके मुँह रखते ही वो एकदम से उछल पड़ी और बोली- अंकल आपकी दाड़ी चुभ रही है.. प्लीज ऐसा मत करो.

पर असल में अरुणा को मजा आ रहा था उसने अपना हाथ अंकल के शरीर पर रख दिया था.
अंकल ने शायद 2 मिनट तक ही उसकी चूत चाटी होगी कि अरुणा झड़ गई.

मुझे ये देखकर बहुत आश्चर्य हुआ. वो अंकल की सख्त दाड़ी वाली ठोड़ी को अपनी चूत में रगड़वा रही थी. अंकल ने फिर भी उसकी चूत चूसना जारी रखा. मुझे ये देखकर हैरानी हो रही थी कि मेरी सती सावित्री बीवी रंडी की तरह चुदने के लिए तड़प रही थी.

अंकल अपने सारे कपड़े उतार चुके थे. वो मेरी गोरी चिट्टी बीवी के आगे काला सांड लग रहे थे.

तभी अंकल ने अपना लंड अरुणा की चूत पर रखा और रगड़ने लगे. उन्होंने अरुणा को कहा- मैं जब तक इसे अन्दर नहीं डालूँगा, जब तक तुम नहीं कहोगी.
अंकल भी पूरे मादरचोद थे, वे जानते थे कि कोई भी औरत ऐसी स्थिति में बिना चुदवाये नहीं रह सकती.
मेरी बीवी के मुँह से ‘आह आहह आहहह…’ की आवाज आ रही थी. वो अचानक से बोली कि अब मुझसे रहा नहीं जा रहा.. प्लीज इसे अन्दर डाल दीजिए.
अंकल लंड घिसते हुए बोले- किसे?
वो बोली- मैं ऐसा नहीं बोल सकती.. आपको करना है तो करिए.. वरना चले जाइए.

अंकल मौके को गंवाना नहीं चाहते थे, उन्होंने एक करारा झटका दे मारा और अपना आधे से ज्यादा लंड मेरी बीवी की चूत में उतार दिया. अरुणा चीख पड़ी क्योंकि अंकल का लंड मेरे लंड से बहुत मोटा और लम्बा था.
वो दर्द का मजा लेते हुए बोली- अंकल मुझ पर रहम मत करना.. मैंने आपको बहुत दिनों से छत पर कसरत करते हुए देखकर अपनी चूत में उंगली की है. मुझे वो काले आदमियों वाली ब्लू फिल्म की तरह चुदना है.
अंकल- तू चिंता मत कर बेटी … तू आज से मुझसे ही चुदवायेगी.

अंकल ने उसकी धुआंधार चुंदाई चालू कर दी, उनका पूरा लंड अरुणा की चूत में अन्दर बाहर हो रहा था.

अचानक उन्होंने लंड बाहर निकाला और अरुणा को घोड़ी बनने के लिए कहा.
इस पर अरुणा बहुत खुश हुई और बोली- यही मेरा फेवरेट पोजीशन है.

अरुणा घोड़ी बन गई अैर अंकल ने पीछे से अपना लौड़ा उसकी चूत में एक बार में ही घुसा दिया. अब अंकल धकाधक लंड पेलने लगे. मुझे ये सब साफ दिखाई दे रहा था क्योंकि वे दोनों हॉल में सोफे पे ही चुदाई में लगे हुए थे.

अचानक अंकल ने अपना लंड निकाला और अरुणा की गांड में घुसेड़ दिया. लंड आधा ही जा पाया, पर अरुणा के मुँह से चीख के साथ आंसू बहने लगे और वो लंड निकालने की रिक्वेस्ट करने लगी.
अंकल बोले- बेटा तूने ही बोला था कि मुझ पर रहम मत करना.
अरुणा- पर मैंने गांड मारने के लिए नहीं कहा था.

पर अंकल नहीं माने, उनका पूरा लंड गांड में नहीं जा पा रहा था.. पर वो धक्के लगातार मार रहे थे. अरुणा दर्द की वजह से बेहोशी जैसी हालत में हो गई थी. कुछ देर बाद अंकल ने अपना लंड निकाला और अरुणा के मुँह को पकड़कर उस पर सारा माल झड़ा दिया.

यह बात मुझे बहुत बुरी लगी. अंकल मेरी बीवी को सिर्फ एक बार ही चोदकर फ्री हो गए. उन्होंने अरुणा के होंठ दोबारा चूसे और अपने कपड़े पहन के चले गए.

अरुणा बहुत बुरी हालत में थी, पर शायद वो दो से तीन बार झड़ चुकी थी. जब वो उठ कर बाथरूम में गई, तो मैं चुपके से बाहर निकल आया.. और अन्दर रूम में चला गया. मुझे ये सब देखकर बहुत मजा आया था.

अरुणा ने जब मुझे मेरे रूम में देखा तो उसकी आंखें फटी रह गईं, वो बाथरूम से नंगी ही बाहर आ गई थी. उसने डरती सी आवाज में मुझसे पूछा- आप कब आए?
मैंने कहा- जब तुम बाथरूम में थीं, पर तुम बिना कपड़ों के कैसे? बाहर गांड मरवा के आ रही हो क्या?
उसने कहा- नहीं वो बस कोई घर पर नहीं था.. तो मैं ऐसे ही रह लेती हूं.

वो कपड़े पहन के सो गई, पर उसका चेहरा एकदम उतरा हुआ था.

अब मुझे बहुत तकलीफ हो रही थी क्योंकि मैं अरुणा से बहुत प्रेम करता था. उसका इस तरह झूठ बोलना मेरे दिल को लग गया. फिर सोचा कि मैं कौन सा अच्छा हूँ, जो अपनी बीवी को किसी दूसरे से चुदते हुए देखकर खुश हो रहा था.

रात के दस बज गए थे, हमने खाना खाया और सो गए. वो पूरे दिन लगड़ाते हुए चल रही थी, पर मैंने उससे इसका सबब पूछना जरूरी नहीं समझा.

रात को उसने मेरे सीने पर सिर रखा और रोने लगी और मुझे सब बात बता दी. उसने कहा कि मैं बहुत शर्मिंदा हूँ, मैं तुमसे नजरें नहीं मिला सकती. तुम किसी और से शादी कर लेना.

उसकी इस बात से मैं चौंक गया, मैंने ध्यान दिया तो मुझे उसके हाथ में नींद की गोलियां दिखाई दीं.

मैं डर गया, पास में गोलियों का रैपर पड़ा था. उसने शायद 10 से 15 गोलियां खा ली थीं.

मैंने उसे चाय पिलाई और रात को ही डॉक्टर के पास ले के गया. सुबह तक वो बिल्कुल ठीक थी. पर उसके चेहरे से सिर्फ उदासी झलक रही थी. मैंने उससे कहा- तुमने मुझे सच बताया मुझे कोई अफसोस नहीं है. मैं अब भी तुमसे उतना ही प्यार करता हूँ.

पूरे दिन वो घर में गुमसुम ही रही. फिर मैंने सोचा ऐसे तो ये कुछ कर बैठेगी. मैंने उसे पास में बुला कर उसे सब बता दिया कि कल मैंने उसे किस तरह से देखा.
अब तो उसके होश उड़ गए और वो फिर से रोने लगी, पर मैंने उसे गले से लगा लिया और कहा- कल तो तुम मजे से चुदवा रही थीं, फिर अब क्या हुआ?
वो बोली कि अगर आप मेरी जगह होते तो क्या करते.. कोई भी लड़की खुद को रोक नहीं पाती.

इस बात का मेरे पास कोई जवाब नहीं था, मैंने कहा- तुम्हें मेरी कसम है.. सच बताओ, तुम्हें मजा आया या नहीं?
वो बोली- आपने सब देखा तो क्यों पूछ रहे हो.. मुझे मजा आया था, पर अब ऐसा कभी नहीं करूंगी.
मैं हंस कर बोला- एक बार और कर लो.. आज रात अंकल को बुला लो.
अब वो थोड़ी खुल गई थी. उसने कहा- अब कभी नहीं.
मुझे गुस्सा आ गया, मैंने कहा- ठीक है … तो तुम्हारी जगह मैं भी आज किसी रंडी को लाकर चोदूँगा.

इस बात का उसके पास कोई जवाब नहीं था. वो अगले एक घंटे कुछ नहीं बोली. फिर पता नहीं उसने क्या सोचा और उसने मुझसे कहा कि वो आपके सामने मेरे साथ सेक्स कैसे करेंगे?
मैं- मतलब तेरी चूत अंकल का लंड मांग रही है.
अरुणा- हां.. लेकिन मैं आपके सामने नहीं कर सकती.
मैं- नहीं … तुमको ये करना होगा मैं बाथरूम से ही सब देखूंगा. वरना फिर देख लो.

कुछ सोचने के बाद वो राजी हो गई और अंकल के घर चीनी मांगने के बहाने गई. वो थोड़ा झिझक रही थी, पर अंकल ने उसे दबोच लिया. वो बोली- अंकल रात को घर को जाइए.. अभी नहीं.

रात को मेरे बीवी की भयंकर चुदाई हुई. वो सब मैंने अपनी आँखों के सामने देखा.

आपको मेरी बीवी की चुदाई स्टोरी कैसी लगी? आप अपने मेल जरूर भेजिए.
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top