मेरी सास की कामवासना-3

(Meri Saas Ki Kamvasna- Part 3)

This story is part of a series:

अब तक की मेरी सास मोहिनी की सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि मेरी सास मोहिनी मेरे साथ बिस्तर पर चुसाई और चटाई का सुख ले रही थीं.
अब आगे:

मैं उनके ऊपर 69 की पोज़िशन में लेट गया. अब उन्होंने मेरा लंड अपने मुँह में भर लिया और चप्प चप्प करके उसे चूसने लगीं. मैंने भी उनकी जांघें खोल दीं और पेंटी के ऊपर से ही उनकी चूत को रगड़ने लगा.

फिर मैंने उनके पैरों को घुटने से मोड़ कर उनकी जांघें फैला दीं और उनकी पेंटी की साइड से अपनी जीभ उसकी पेंटी के अन्दर डालने लगा. ये देख कर उन्होंने खुद ही पेंटी को अपने हाथों से पकड़ कर साइड में कर लिया.

अब मैंने अपनी दोनों उंगलियों से उनकी चूत की फांकों को खोल दिया. मगर इस तरह से उनकी पूरी चूत नहीं खुल रही थी. फिर मैंने उनकी गांड के नीचे हाथ ले जाकर उनकी पेंटी उतार ही दी.

अब उनकी चूत में से एक तीखी से रस और पसीने की महक आ रही थी. मैंने चुत के ऊपर से ही उनकी रोएंदार चूत को सहलाना शुरू कर दिया और अपनी दोनों उंगलियों से उनकी चूत की फांकों को जितना हो सकता था, खोल दिया.

उनकी गुलाबी चूत मेरे सामने पानी पानी हो चुकी थी और उनका क्लिटोरिस अन्दर बाहर हो रहा था जैसे कि वो सांस ले रहा हो.

मैंने अपनी जीभ चूत में घुसेड़ कर दाने को चूसना चाटना शुरू कर दिया. कभी मैं अपनी नाक अन्दर तक डाल देता और वो बहक उठतीं. इसी के साथ वो भी नीचे से मेरा लंड अपने मुँह में भर भर कर मेरे टट्टों को सहला रही थीं. वो कभी उन्हें मुँह में भर रही थीं. कभी जीभ से चाट रही थीं.

ऐसे ही करीब करीब बीस मिनट तक की चूमाचाटी में वो एकदम से भरभरा कर निढाल हो गईं. उसकी चूत ने फिर से पानी छोड़ दिया था, जिसे मैंने चाट चाट कर पूरा साफ़ कर लिया.
अब उन्होंने मेरा लंड भी अपने मुँह से निकाल दिया था.

वो उठ कर जाने लगीं.
मैंने कहा- कहां जा रही हो सासू माँ?
वो बोलीं- मुझे ज़ोर से टॉयलेट आई है.
मैंने उन्हें वापस पलंग पर गिरा लिया और कहा- देखूँ तो ज़रा … कितने ज़ोरों की आई है.

ये कह कर मैंने उनकी चूत की फांकों को खोल दिया और अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया. वो ‘आहह आअहह..’ करने लगीं.

‘ऊओह दामाद जी क्या कर रहे हो … प्लीज़ मत करो … आहह … यहीं हो जाएगी … दामाद जी ऐसा मत करो जाने दो.’
ऐसा कहते कहते उन्होंने मेरे मुँह में ही अपनी मूत कर दिया. मैं उनकी चूत चाट चाट कर सूसू पी गया.
ऐसा स्वाद मुझे आज तक किसी दारू में नहीं आया था … उउउहमम्म्म.

अब वो उठीं और बोलीं- देखो आपने क्या कर दिया … बिस्तर की चादर भी खराब हो गई.
मैंने कहा- कोई टेंशन नहीं लो सासू माँ … अब अपने को एक हफ्ते तक कोई देखने वाला नहीं है.
यह कहते हुए उन्होंने अपना और मेरा गिलास उठा कर एक एक पैग और बना दिया. इस बार और लार्ज बनाया था.

मैंने कहा- क्या कर रही हो … आप तो बोल रही थीं कि पीती नहीं हो … और आज तो हाहाकार मचा रही हो.
वो बोलीं- अभी रात बची है … बॉटल भी बची है. ऐसे ही वेस्ट थोड़े जाने दूँगी … इसके बिना जोश भी कैसे आएगा.
ये कह करके उन्होंने अपना गिलास एक बार में पूरा ख़त्म कर दिया.

अब मैं और वो आमने सामने एक दूसरे की जाँघों को क्रॉस करके एक दूसरे की कमर में अपने पैर लपेट कर बैठे थे. मैंने उन्हें फिर से सहलाना शुरू कर दिया और अपने गिलास से भी उन्हें पिलाने लगा. वो थोड़ा पीतीं, थोड़ा अपनी चूचियों पर गिरा लेतीं.

मैं उनके चुचे चाट चाट कर बोद्का पीने लगा. तभी उन्हें पता नहीं क्या सूझी कि उन्होंने पूरा गिलास अपने ऊपर गिरा लिया.

मैं उन्हें चाटने लगा. उनके पूरे बदन को, उनकी चुचियों को मसल मसल कर मजा लेने लगा. मैं उसकी बगलों को चाटता हुआ नीचे को बढ़ने लगा. उनकी नाभि में अपनी ज़ीभ डाल कर चूसने लगा. फिर उनकी नाभि के नीचे चूत के ऊपर भी वोड्का गिरा गिरा कर चाटने लगा.

अब वो फिर से गर्म होने लगी थीं. मैंने उन्हें उल्टा लिटा दिया और उनकी कमर और चूतड़ों पर भी वोड्का गिरा कर उसे चाटने लगा.

अब उन्होंने भी गर्म होकर अपने घुटने मोड़ दिए. वो कुतिया की तरह उल्टा लेट गईं. इससे उनकी गांड और थोड़ा उभर कर बाहर को आ गई. मैंने उनकी गांड पर भी वोड्का गिरा दी. मैं अपनी एक उंगली उनकी गांड के छेद पर फिराने लगा. दूसरे हाथ से मैं उनके मम्मों को सहलाने और मसलने लगा. उनकी चुचियों की घुंडियों को मसलने लगा.

फिर मैंने अपनी जीभ से उनकी गांड के छेद को चाटना शुरू कर दिया और अपने हाथ को उनकी गांड से चूत तक फिराना, सहलाना शुरू कर दिया.
वो अपने दोनों हाथों से अपनी गांड को और फैला कर मुझे अपनी जीभ और अन्दर डालने के लिए जगह बना रही थीं.

फिर मैंने उठ कर उनकी गांड में अपना लंड टिकाया और उसके ऊपर से ही वोड्का गिरा दी … ताकि वो और चिकनी हो जाए. फिर धीरे धीरे मैं उनकी गांड पर अपने लंड का दबाव बढ़ाने लगा.

वो ‘उउउन्न्ं उम्म्ह… अहह… हय… याह… आअहह ऊओह.’ की आवाजें निकालने लगी थीं.
हालाँकि वो अपने पति से पहले भी गांड मरवा चुकी थीं … मगर अभी कुछ सालों से बिल्कुल अनछुई सी थीं, इसीलिए उन्हें थोड़ा थोड़ा दर्द हो रहा होगा.

फिर मैंने धीरे धीरे धक्के दे दे कर अपना पूरा लंड उनकी गांड की जड़ तक डाल दिया. फिर मैं पीछे से उनके दूध पकड़ कर उनके निप्पलों को मसलते हुए उसकी गांड में अपना लंड पेल रहा था.

वो उचक उचक कर मज़े में चिल्ला रही थीं- आअहह दामाद जी … आआओ और अन्दर आओ अपनी सास के … अया ऐसा दामाद भगवान सबको दे … ऊऊहहूओ हमम्म उम्म्म्म … जमाई बाबू आ जाओ और ज़ोर से चोदो अपनी सास को!
ये कहते हुए वो अपनी चुत को अपने हाथों से मसलने लगीं और एक उंगली अपनी चुत में पूरी अन्दर तक डाल दी.

उनकी गांड में लंड चलने लगा था, जिससे ‘पच पकच..’ की आवाजें आ रही थीं. कमरे में वोड्का, वीर्य, पसीने की खुशबू आ रही थी.

तभी मेरा लंड अकड़ने लगा और मैंने अपना वीर्य अपनी सास की गांड में भर दिया- आआहह मोहिनी … मेरी सासू माँ … ऊओह मज़ा आ गया आपकी गांड मारने में तो … आह!
यह कहते कहते ही उनकी चुत ने भी पानी छोड़ दिया. फिर एक बार हम दोनों निढाल होकर बिस्तर पर पड़े हुए थे.

अबकी बार वो मेरे ऊपर लेटी हुई थी और अपनी जांघें उन्होंने मेरी जांघों पर चढ़ा दी थीं. ऐसे ही लेटे लेटे हम दोनों की आंख लग गई. जब मेरी नींद खुली, तो मैंने देखा के मेरी सास अपनी चुत मेरी नाक में डाल कर 69 की पोज़िशन ले रही थीं. वो मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ कर मसल रही थीं.

उनकी चुदास देख कर मैंने अपने दोनों हाथों से उनकी चूत फैला दी और उसमें अपनी जीभ डाल दी. मैं सासू की चूत को चाटने लगा और जीभ को अन्दर तक घुसेड़ने लगा. वो भी मेरा लंड मुँह में भर भर के चूस रही थीं.

‘आअहह क्या मज़ा आ रहा था … मेरी सास, जिनको मैं शादी के बाद से ही चोदने के सपने देखता था. उनकी सलवार में मुठ मार मार कर संतुष्ट होता था … आज वो मेरे ऊपर 69 में लेटी थीं और मेरा लंड चूस रही थीं. आआह … उम्म्म्म … की आवाजें कमरे में फिर से गूंजने लगी थीं.

तभी वो एकदम से उठीं और मुझे अपने ऊपर खींचते हुई बोलीं- अब आ जाओ दामाद जी … अब नहीं सहन होता … आ जाओ आज आपके लंड को स्वर्ग का रास्ता दिखाती हूँ.
यह कहते हुए उन्होंने मेरे लंड को अपने हाथों से सैट करके अपनी चुत के दरवाजे पर लगा लिया.

मैंने एक धक्का लगाया, तो उनके मुँह से लम्बी चीख निकल गई- आआह … अहम्म्म … मर गई.
यह कहते हुए उन्होंने अपनी दोनों टांगें मोड़ कर मेरी कमर में लपेट लीं. अब उन्होंने नीचे से अपनी गांड उठाते हुए धक्के लगाने शुरू कर दिए थे.

‘ऊऊऊहह दामाद जी … चोदो … अपनी सास की चुत मार लो … आअहह उहम्म्म … क्या … मस्त चोदते हो यार … नशा भी करवाते हो और नशा उतरवा भी देते हो … आओह … उऊह.’

ऐसे ही ताबड़तोड़ धक्के मार मार के करीब बीस मिनट में ही मोहिनी को ज़ोर से अकड़ने पर मजबूर कर दिया. उन्होंने नीचे से अपने धक्कों की स्पीड और बढ़ा दी थी. पकचा पकच … की आवाज़ से साथ एक बार वो फिर से झड़ गईं.

अब मैंने उन्हें उल्टा लिटा कर कुतिया बनाया और उनकी चुत में पीछे से लंड डाल दिया. फिर अपने हाथों से उनके निप्पलों को मसलते हुए मैं पीछे से धक्के लगाने लगा. उन्हें मैं पीछे से दम से चोदने लगा.

‘अया मोहिनी मेरी जान … आआहह ओह हम्म्म … उम्म्म..’

धकापेल चुदाई के बाद आख़िर मैं भी निकलने वाला हो गया था, मैंने कहा- कहां निकालूँ?
मेरी सास बोलीं- सब तुम्हारा ही है बेटा … जहां मन करे, निकाल दो … अब कोई रिस्क नहीं है.

मैंने दो तीन ताबड़तोड़ धक्के मारे और उनकी चुत को अपने वीर्य से भर दिया. मैं थक कर उनके ऊपर गिर पड़ा. वो मेरा वजन ना झेल सकीं, तो वो भी बेड पर गिर गईं. मैं पीछे से उनकी चुत में लंड फंसा कर ही उनके ऊपर आँख मूंद कर लेट गया.

तभी मैंने देखा कि मेरी बीवी उठ गई थी और बेडरूम के दरवाजे पर खड़ी हुई अपनी चूत को सहला रही थी.

मैंने उसे अन्दर आने का इशारा किया, तो वो बोली- नहीं, मैं तो बस फिल्म देख रही थी कि मम्मी कितना एंजाय कर रही हैं. हम दोनों के होते हुए भी … काश मेरी माँ को हम हमेशा ऐसे ही सुखी रखा करें.
तो मैंने कहा- बिल्कुल जानू … आज से मैं तुम्हें और तुम्हारी माँ … दोनों का पूरा ख्याल रखूँगा … देखो कैसे गांड उठा कर पड़ी हुई हैं.

यह कहते हुए मैंने अपनी बीवी को गले से लगा लिया. वो पूरी नंगी ही घूम रही थी. उसने मेरा लंड पकड़ लिया और उसे सहलाने लगी … तो मेरा लंड फिर से मूड में आने लगा.

फिर वो बोली- अरे मैं तो भूल ही गई कि मैं तो टॉयलेट जाने के लिए उठी थी. अन्दर से तुम दोनों की आवाजें सुनी, तो यहीं रुक गई और फिर जा ही नहीं पाई. यहां इतनी अच्छी पिक्चर जो चल रही थी.

मैंने उसे अपनी बांहों में उठा लिया और वहीं बिस्तर पर मोहिनी के पास लेटा दिया.
वो बोली- यहां नहीं जानू, मुझे मम्मी के सामने चुदवाने में शर्म आएगी. अगर मम्मी उठ गईं, तो क्या बोलेंगी.
मैंने कहा- क्यों भूल गईं … क्या जो सोफे पर उचक उचक कर चूत की छूट करी थी … अपनी माँ के सामने … तब शर्म नहीं आ रही थी.
वो बोली कि तब तो मैं नशे में थी.

इतने में मोहिनी उठ कर बोलीं- डरो शरमाओ मत बेटा … मेरे सामने भी तुम जो करना चाहती हो, अब सब कर सकती हो … अच्छा ही है, मैं भी एंजाय करूँगी.
ये कहते हुए मैंने मोहिनी से कहा- देखो आज की रात भी आपकी बेटी टॉयलेट करने के लिए टॉयलेट जा रही थी.
मोहिनी शरमाने लगीं और बोलने लगीं- अरे बेटा देखो दामाद जी ने तो आज बेड को ही टॉयलेट बना दिया है.

यह कहते हुए मोहिनी ने मेरी बीवी की चूत पर अपने होंठ लगा दिए और बोलीं- आज ये शुभ काम में अपने होंठों से करूँगी.

उन्होंने अपनी जीभ मेरी बीवी की चूत में घुसा दी और मेरी बीवी एक लंबी सीयी ‘आआह उम्म्म..’ करने लगी. वो नीचे से अपनी गांड उछालते हुए हिचकोले मारने लगी.

तभी मैंने लपक कर अपनी बीवी के दूध पकड़ लिए और बारी बारी से उन्हें चूसने लगा. वो और ज़्यादा मचल गई … और चिल्लाने लगी- आहंन्न्न … मम्म्मई … क्ककयाअ कर रही हो … अपनी बेटी की ही चूत चाट रही हो यार. … रूको तो … मैं यहीं मूत दूँगी … आअहमम्म.
बस यही कहते हुए उसने मोहिनी के सर को पकड़ा और उनके बाल खींचते हुए अपनी चूत पर उनका सर ज़ोर ज़ोर से दबाने लगी.

उसने नीचे से अपनी गांड उचकाते हुए बहुत सारा मूत निकाल दिया, जिसे मोहिनी ने अच्छे से चाट लिया. वो काफ़ी सारा मूत पी भी गईं.

मूतने के बाद भी मेरी बीवी झड़ी तो नहीं थी … तो उसने फिर से मोहिनी का सिर पकड़ लिया और अपनी चूत पर रख दिया. वो बोलने लगी- मम्मी कैसे आधा अधूरा काम कर रही हो, अब जो शुरू किया है … उसे पूरा तो करो.
मोहिनी बोलीं- हां बेटा क्यों नहीं.

फिर मोहिनी और मेरी वाइफ दोनों 69 की पोज़िशन में आ गए … और मैं मोहिनी के पीछे से उनकी गांड चाटने लगा. नीचे से मेरी बीवी मेरा लंड अपने हाथों से पकड़ कर मसल रही थी, सहला रही थी.

थोड़ी ही देर में फिर से कमरे में मादक सिसकारियां फैलने लगीं, जो थोड़ी ही देर में चीखों में बदल गईं.

मेरी बीवी नशे में गालियां दे रही थी. वो अपनी माँ को नाम से ही बुला रही थी- आआअहह मोहिनी … साली चोदो अपनी बेटी को … आआअहह और ज़ोर से … आअहह और अन्दर डाल दो अच्छे से चाट लो माँआ … आआहह उउम्म्मह उउउफ्फ.

ऊपर से मोहिनी भी अपनी चूत को मेरी बीवी के मुँह पर दबा रही थीं और रगड़ रही थीं. वो अपनी गांड को पीछे करके मेरी जीभ को अपनी गांड में और अन्दर तक घुसड़वाने की कोशिश कर रही थीं.

मैं बीच बीच में अपनी सास मोहिनी की गांड पर चांटे भी मारे जा रहा था, जिससे वो और ज़्यादा तड़प उठ रही थीं- आह दामाद जी … अओर मारो अपनी सास को … अपनी बीवी की माँआ चोद दो आज … उफ्फ़.
यह कहते हुए हम तीनों अब जोश से अपनी अपनी मंज़िल की तरफ बढ़ने लगे और तीनों उटपटांग आवाजें मुँह से बड़बड़ाने लगे.

यूं ही चुदास भरी आवाजों में चिल्लाते चिल्लाते एकदम से हम तीनों के बदन कड़क हो गए और हम तीनों ने अपनी अपनी रस धार छोड़ दी.

मेरे वीर्य को … और वो दोनों माँ बेटी एक दूसरे से साझा करते हुए मलाई के जैसे चाट गईं. मैंने अपना बचा हुआ माल अपनी बीवी के हाथ और मोहिनी की गांड पर गिरा दिया था, जिसको मेरी सास ने अपनी जीभ से चाट लिया.

अब हम तीनों ही एक लंबी चुदाई भरी रात के बाद निढाल होकर ऐसे ही नंगे-पुँगे एक दूसरे के जिस्मों में उलझे हुए वहीं गीले बिस्तर पर ही सो गए.

फिर सुबह 11 बजे हमारी नींद उस वक्त खुली, जब घर की बेल बजी. देखा तो मोहिनी की देवरानी आई थीं, यानि मेरी बीवी की चाची थीं. वो भी उसी मोहल्ले में रहती थीं.

मोहिनी ने हम दोनों को उठाया और जल्दी से ऊपर वाले बेडरूम में भेज दिया. उन्होंने खुद गाउन पहना और दरवाजा खोलने लगीं.

फिर ऊपर हमको उन दोनों की आवाज़ आई. चाची मोहिनी से बोल रही थीं- क्या हुआ भाभी इतनी देर क्यों लगाई दरवाजा खोलने में … और ये घर में अजीब से महक कैसी आ रही है. ऐसा लगता है कि पति गए हैं तो भाभी आपने कल रात भर यहां घमासान युद्ध खेला है. मुझे भी तो बताओ, वो योद्धा कौन है … ज़रा मुझे भी तो मिलवाओ … हमारा भी तो उससे युद्ध करवाओ.

उन चाची सास के साथ युद्ध की कहानी अगली बार भेजूँगा दोस्तो. इस बार के लिए इतना ही. मेरी बीवी तो अभी भी बिस्तर पर अपनी गांड उठा कर पड़ी हुई है … खर्राटे मार रही है, पर मेरे को कहां नींद आने वाली थी. अब तो मुझे एक और युद्ध की तैयारी जो करनी थी.

आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी प्लीज़ मुझे मेल करें.
[email protected]

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top